Showing posts with label b r films. Show all posts
Showing posts with label b r films. Show all posts

Tuesday, November 11, 2008

आपके पीछे चलेंगी आपकी परछाईयाँ....

निर्देशक बी आर चोपडा पर विशेष

व्यावसायिक दृष्टि से कहानियाँ चुनकर फिल्में बनाने वाले निर्देशकों से अलग सामाजिक सरोकारों को संबोधित करती हुई फिल्मों के माध्यम से समाज को एक संदेश मनोरंजनात्मक तरीके से कहने की कला बहुत कम निर्देशकों में देखने को मिली है. वी शांताराम ने अपनी फिल्मों से सामाजिक आंदोलनों की शुरुआत की थी, आज के दौर में मधुर भंडारकर को हम इस श्रेणी में रख सकते हैं, पर एक नाम ऐसा भी है जिन्होंने जितनी भी फिल्में बनाई, उनकी हर फ़िल्म समाज में व्याप्त किसी समस्या पर न सिर्फ़ एक प्रश्न उठाती है, बल्कि उस समस्या का कोई न कोई समाधान भी पेश करती है. निर्देशक बी आर चोपडा ने अपनी हर फ़िल्म को भरपूर रिसर्च के बाद बनाया और कहानी को इतने दिलचस्प अंदाज़ में बयां किया हर बार, कि एक पल के लिए देखने वालों के लिए फ़िल्म का कसाव नही टूटता. चाहे बात हो अवैध रिश्तों की (गुमराह), या बलात्कार की शिकार हुई औरत की (इन्साफ का तराजू), मुस्लिम वैवाहिक नियमों पर टिपण्णी हो (निकाह), या वैश्यावृति में फंसी औरतों का मानसिक चित्रण (साधना), या हो एक विधवा के पुनर्विवाह जैसा संवेदनशील विषय (एक ही रास्ता),अपनी फिल्मों से बी आर ने हमेशा ही समाज में एक सकारात्मक हलचल मचाई है, कई ऐसे विषय जिन पर तब तक परदों में रह कर चर्चा होता थी, उन्हें समाज के सामने बेनकाब किया, यही उनकी फिल्मों की वास्तविक कमियाबी रही है, पर जैसा कि हमने बताया गंभीर विषयों पर आधारित होने के बावजूद उनमें मनोरंजन भी भरपूर होता था, जिस कारण बॉक्स ऑफिस पर भी उनकी फिल्में सफलता के नए कीर्तिमान लिखती थी.


बीते बुधवार सुबह बी आर ने हमेशा के लिए संसार को अलविदा कह दिया, और पीछे छोड़ गए कुछ ऐसी फिल्मों की विरासत जिन से वर्तमान और आने वाली फिल्मकारों की पीढी को हमेशा गर्व रहेगा. आज हम उनकी जिस फ़िल्म का यहाँ जिक्र करेंगे वो है १९५७ में आई गोल्डन जुबली हिट फ़िल्म "नया दौर". आज के निर्देशक सईद मिर्जा और अज़ीज़ मिर्जा के वालिद अख्तर मिर्जा की लिखी इस बेहद "हट के" कहानी को महबूब खान, एस मुख़र्जी और एस एस वासन जैसे निर्देशकों ने सिरे से नकार दिया. कहा गया कि यह एक बढ़िया डोक्यूमेंट्री फ़िल्म तो बन सकती है पर एक फीचर फ़िल्म...कभी नही. बी आर ने इसी कहानी पर काम करने का फैसला किया. पर जब उन्होंने दिलीप कुमार के साथ इस फ़िल्म की चर्चा की तो उन्होंने कहानी सुनने से ही इनकार कर दिया. बी आर अगली पसंद, अशोक कुमार के पास पहुंचे. अशोक कुमार का मानना था कि उनका लुक शहरी है और वो इस गाँव के किरदार के लिए वो नही जमेंगें, पर उन्होंने बी आर की तरफ़ से दिलीप कुमार से एक बार फ़िर बात की. इस बार दिलीप साहब राजी हो गए. आधुनिकता की दौड़ में पिसने वाले एक आम ग्रामीण की कहानी को फ़िल्म के परदे पर लेकर आना आसान नही था. कुछ हफ्तों तक कारदार स्टूडियो में शूट करने के बाद लगभग १०० लोगों की टीम को कूच करना था आउट डोर लोकेशन के लिए जो की भोपाल के आस पास था. उन दिनों मधुबाला और दिलीप साहब के प्रेम के चर्चे इंडस्ट्री में मशहूर थे. तो फ़िल्म की नायिका मधुबाला के पिता ने मधुबाला को शूट पर भेजने से इनकार कर दिया, यूँ भी उन दिनों आउट डोर शूट जैसी बातों का चलन नही था. बी आर ने कोर्ट में मुकदमा लड़ा, अपील में तर्क दिया कि फ़िल्म की कहानी के लिए यह आउट डोर बहुत ज़रूरी है. दिलीप ने बी आर के पक्ष में गवाही दी जहाँ उन्होंने मधुबाला से अपने प्यार की बात भी कबूली. मुकदमा तो जीत लिया पर मधुबाला को कानूनी दांव पेचों से बचने के खातिर केस को वापस लेना पड़ा, और इस तरह फ़िल्म में मधुबाला के स्थान पर वैजंतीमाला का आगमन हुआ. महबूब खान की "मदर इंडिया" के लिए लिबर्टी सिनेमा १० हफ्तों के लिए बुक था. पर फ़िल्म तैयार न हो पाने के कारण उन्होंने बी आर की "नया दौर" को अपने बुक किए हुए १० हफ्ते दे दिए, साथ में हिदायत भी दी कि चाहो तो ५ हफ्तों के लिए ले लो, तुम्हारी इस "ताँगे वाले की कहानी" को पता नही दर्शक मिले या न मिले. और यही महबूब खान थे जिन्होनें, जब फ़िल्म "नया दौर" ने अपनी सिल्वर जुबली मनाई तो बी आर को उनकी फ़िल्म के प्रीमियर के लिए मुख्य अतिथि होने का आग्रह किया. चढ़ते सूरज को दुनिया सलाम करती है पर बी आर उन निर्देशकों में थे जिन्हें अपने चुनाव और अपने फैसलों पर हमेशा पूरा विश्वास रहा. उनकी हर फ़िल्म का संगीत पक्ष भी बहुत मजबूत रहा. नया दौर के गीतों को याद कीजिये ज़रा- मांग के साथ तुम्हारा (पार्श्व में चल रही ताँगे की आवाज़ पर गौर कीजिये), आना है तो आ, साथी हाथ बटाना, उडे जब जब जुल्फें तेरी, रेशमी सलवार या फ़िर आज भी हर राष्ट्रीय त्योहारों पर बजने वाला गीत -"ये देश है वीर जवानों का...",हर गीत कहानी से जुडा हुआ, हर गीत में शब्द और संगीत का परफेक्ट तालमेल.

आज की पीढी उन्हें महान धारावाहिक "महाभारत" के निर्देशक के रूप में अधिक जानती है. पर बहुत कम लोग जानते हैं कि बी आर ने फिल्मों में अनूठे प्रयोग किए हैं जिनकी मिसाल आज भी दी जाती है, फ़िल्म "कानून" हिंदुस्तान की अब तक की एक मात्र मुक्कमल उर्दू फ़िल्म मानी जाती है, चूँकि इस फ़िल्म में एक भी शब्द संवाद का हिन्दी में नही था, बी आर ने सेंसर बोर्ड से अपील भी की थी कि इस फ़िल्म को उर्दू में सर्टिफिकेशन दिया जाए. एक और बड़ी खासियत इस फ़िल्म के ये थी कि ये शायद हिंदुस्तान की पहली बिना गीतों की फ़िल्म थी. गुरुदत्त भी इस फ़िल्म के दीवाने थे क्योंकि जो बरसों से गुरुदत्त करना चाहते थे पर अपने जीवन काल में कभी कर नही पाये वो बी आर इस फ़िल्म के माध्यम से कर दिखाया था. आज भी कितने निर्देशक होंगें जो बिना गीतों के कोई हिन्दी फ़िल्म बनने का खतरा उठा सके. बी आर को फिल्मों में उनके अमूल्य योगदान के लिए हमेशा याद किया जाएगा...फ़िल्म इंडस्ट्री ने फिल्मों के माध्यम समाज को आईना दिखने वाला एक बेहतरीन निर्देशक को खो दिया है. हिंद युग्म,आवाज़ दे रहा है बी आर चोपडा को यह संगीतमय श्रद्धाजंली.




The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ