Showing posts with label G S Kohali. Show all posts
Showing posts with label G S Kohali. Show all posts

Wednesday, July 1, 2009

तुमको पिया दिल दिया कितने नाज़ से- कहा मंगेशकर बहनों ने दगाबाज़ से

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 128

काश की सुंदरता केवल चाँद और सूरज से ही नहीं है। इनके अलावा भी जो असंख्य सितारे हैं, जिनमें से कुछ उज्जवल हैं तो कुछ धुंधले, इन सभी को एक साथ लेकर ही आकाश की सुंदरता पूरी होती है। यही बात फ़िल्म संगीत के आकाश पर भी लागू होती है। भले ही कुछ फ़नकार बहुत ज़्यादा प्रसिद्ध हुए हों, फ़िल्म संगीत जगत पर छाये रहे हों, लेकिन इनके अलावा भी बहुत सारे गीतकार, संगीतकार और गायक-गायिकायें ऐसे भी थे जिनका इनके मुकाबले नाम ज़रा कम हुआ। लेकिन वही बात कि इन सभी को मिलाकर ही फ़िल्म संगीत सागर अनमोल मोतियों से समृद्ध हो सका है। इन कम चर्चित फ़नकारों के योगदान को अगर अलग कर दिया जाये, फ़िल्म संगीत के ख़ज़ाने से निकाल दिया जाये, तो शायद इस ख़ज़ाने की विविधता ख़त्म हो जायेगी, एकरसता का शिकार हो जायेगा फ़िल्म संगीत संसार। इसीलिए 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के ज़रिये समय समय पर 'हिंद-युग्म' सलाम करती है ऐसे कमचर्चित फ़नकारों को। आज का गीत भी एक कमचर्चित संगीतकार द्वारा स्वरबद्ध किया हुआ है, जिन्हें हम और आप जानते हैं जी. एस. कोहली के नाम से। कोहली साहब का पूरा नाम था गुरुशरण सिंह कोहली, और उपलब्ध जानकारी के अनुसार उनका जन्म पंजाब में सन 1928 में हुआ था। धर्म से वो सिख थे लेकिन दाढ़ी-मूँछ उन्होंने नहीं रखी। 1951 में ओ. पी. नय्यर की पहली ही फ़िल्म 'आसमान' से जी. एस. कोहली नय्यर साहब के सहायक बन गये थे, और आगे चलकर उनकी एक से एक 'हिट' फ़िल्मों में उन्होने नय्यर साहब को ऐसिस्ट किया। नय्यर साहब के बहुत से गीतों में कोहली साहब ने शानदार तबला भी बजाये। बतौर स्वतंत्र संगीतकार उनकी पहली फ़िल्म थी 'लम्बे हाथ' (1960)। अपने पूरे कैरीयर में उन्होंने कुछ 10-11 फ़िल्मों में संगीत दिया, लेकिन दो फ़िल्में जिनके संगीत की वजह से लोग उन्हें पहचानते हैं, वो दो फ़िल्में हैं- 'नमस्तेजी' और 'शिकारी', और आज इसी 'शिकारी' से एक सदाबहार नग़मा आप की ख़िदमत में हम लेकर आये हैं।

'शिकारी' 1963 की फ़िल्म थी। 'ईगल फ़िल्म्स' के बैनर तले एफ़. सी. मेहरा ने इस फ़िल्म का निर्माण किया था, कहानी सुरिंदर मेहरा की थी, पटकथा ब्रजेन्द्र गौड़ का, और निर्देशन मोहम्मद हुसैन का। अजीत और रागिनी अभिनीत इस छोटी फ़िल्म को आज अगर याद किया जाता है तो केवल इसके गानों की वजह से। इस फ़िल्म में चार गाने लिखे फ़ारूख़ क़ैसर ने और दो गानें क़मर जलालाबदी ने भी लिखे। इस फ़िल्म का जो सब से मशहूर गीत है वह है लता मंगेशकर और उषा मंगेशकर की आवाज़ों में। क़ैसर साहब के लिखे इस गीत का शुमार सर्वाधिक कामयाब 'फ़ीमेल डुएट्स' में होता है। "तुम को पिया दिल दिया कितने नाज़ से" गीत की कामयाबी का अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि इस गीत के बनने के 40 साल बाद, यानी कि हाल ही में इस गीत का रीमिक्स बना और वह भी ख़ूब चला। लेकिन अफ़्सोस की बात यह है कि इस गीत के मूल संगीतकार को न तो इसका कोई श्रेय मिल सका और न ही उस समय उन्हें किसी फ़िल्मकार ने बड़ी बजट की कोई फ़िल्म दी। हालाँकि इस गीत को परदे पर मैंने कभी देखा नहीं है, लेकिन गीत के बोलों को सुनकर गीत को सुनकर यह कोई मुजरा गीत जान पड़ता है। अगर मैं ग़लत हूँ तो ज़रूर संशोधन कर दीजियेगा। अब बस यह बताते हुए कि लता और उषा, इन दो बहनों ने एक साथ सब से पहले फ़िल्म 'आज़ाद' में गाया था। याद है न आप को वह "अपलम चपलम" वाला गीत! यह गीत भी आगे चलकर हम ज़रूर सुनवाने की कोशिश करेंगे, फ़िल्हाल सुनिये जी. एस कोहली और फ़ारूख़ क़ैसर की याद में फ़िल्म 'शिकारी' का यह दिलकश नग़मा।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा पहला "गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. गीत के गायक ने 'नवरंग' फिल्म में भी गाने गाये हैं।
2. इस गीत को आशा भोसले ने भी गाया है।
।3. गीत के बोल 1999 में आई फिल्म 'सरफरोश' की ग़ज़ल से मिलते-जुलते हैं।

पिछली पहेली का परिणाम-
कल भी काँटे की टक्कर रही। स्वप्न मंजूषा 2 मिनट आगे रहीं। बधाई। स्वप्न मंजूषा बहुत तेज़ी से शरद जी के 30 अंकों के करीब बढ़ रही हैं। आपके 24 अंक हो गये हैं। शरद जी, मंजू और मनु जी, इसी तरह से हमारी महफिल को गुलज़ार करते रहें। पराग जी, आपके उस आलेख का हमें भी इंतज़ार रहेगा।

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ