Thursday, August 4, 2016

छल्ला कालियां मर्चां, छल्ला होया बैरी.. छल्ला से अपने दिल का दर्द बताती विरहणी को आवाज़ दी शौक़त अली ने



शौकत अली 
महफ़िल ए कहकशाँ 10


दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित "कहकशां" और "महफिले ग़ज़ल" का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, "महफिल ए कहकशां" के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है पंजाबी लोक-संगीत ’छल्ला’ का एक रूप, गायक शौक़त अली की आवाज़ में।







मुख्य स्वर - पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 

स्क्रिप्ट - विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी




Wednesday, August 3, 2016

"मेरे लिए प्लेबैक सिंगर बनना मतलब रहमान सर के लिए गाना था"-साशा तिरुपति : एक मुलाक़ात ज़रूरी है

एक मुलाकात ज़रूरी है (22)

वैंकोवर से माया नगरी मुंबई तक का सफ़र तय किया, ए आर रहमान के 'गुरु' फिल्म के गीतों को सुनकर प्रेरित हुई बेहद सुरीली आवाज़ की मालकिन गायिका साशा तिरुपति ने. बॉलीवुड में ढेरों हिट गीतों का गाने वाली साशा का ताज़ा गीत अभी हाल ही में रिलीस हुआ है - सरसरिया, बेहद महत्वकांक्षी फिल्म "मोहनजो दारो" की एल्बम से. बेहद दिलचस्प कहानी है साशा की, मिलिए इसी खूबसूरत आवाज़ की धनी गायिका से आज कार्यक्रम "एक मुलाकात ज़रूरी है" में...



एक मुलाकात ज़रूरी है इस एपिसोड को आप यहाँ से डाउनलोड करके भी सुन सकते हैं, लिंक पर राईट क्लीक करें और सेव एस का विकल्प चुनें 

Tuesday, August 2, 2016

प्रेमचंद की कथा बंद दरवाज़ा

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा के स्वर में अशोक भाटिया की लघुकथा पापा जब बच्चे थे का वाचन सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, उषा छाबड़ा के स्वर में मुंशी प्रेमचंद की कथा बंद दरवाज़ा

बंद दरवाज़ा का कुल प्रसारण समय 3 मिनट 40 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


      प्रेमचंद के जन्मदिन 31 जुलाई पर विशेष प्रस्तुति

मैं एक निर्धन अध्यापक हूँ...मेरे जीवन मैं ऐसा क्या ख़ास है जो मैं किसी से कहूं
~ मुंशी प्रेमचंद (१८८०-१९३६)

हर सप्ताह सुनिए हिन्दी में एक नयी कहानी

उसकी शरारतें शुरू हो गईं। कभी कलम पर हाथ बढाया कभी कागज़ पर।
(प्रेमचंद की 'बंद दरवाज़ा' से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
बंद दरवाज़ा MP3

#Fifteenth Story, Band Darwaza: Premchand /Hindi Audio Book/2016/15. Voice: Usha Chhabra

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ