रविवार, 6 जुलाई 2014

‘बरखा ऋतु आई...’ : राग मेघ मल्हार





स्वरगोष्ठी – 175 में आज

वर्षा ऋतु के राग और रंग – 1 : राग मेघ मल्हार


‘गरजे घटा घन कारे कारे, पावस रुत आई, दुल्हन मन भावे...’







‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर मैं कृष्णमोहन मिश्र, एक बार पुनः आप सभी संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत और अभिनन्दन करता हूँ। मित्रों, आज से हम एक नई लघु श्रृंखला ‘वर्षा ऋतु के राग और रंग’ का शुभारम्भ कर रहे हैं। इस शीर्षक से यह अनुमान आपको हो ही गया होगा कि यह श्रृंखला, वर्षा ऋतु के रस और गन्ध से पगे गीत-संगीत पर केन्द्रित है। इस श्रृंखला के अन्तर्गत हम आपसे वर्षा ऋतु में गाये-बजाए जाने वाले रागों और उनमें निबद्ध कुछ चुनी हुई रचनाओं पर चर्चा करेंगे। इसके साथ ही सम्बन्धित राग के आधार पर रचे गए फिल्मी गीत भी प्रस्तुत करेंगे। भारतीय संगीत के अन्तर्गत मल्हार अंग के सभी राग पावस ऋतु के परिवेश की सार्थक अनुभूति कराने में समर्थ हैं। आम तौर पर इन रागों का गायन-वादन वर्षा ऋतु में अधिक किया जाता है। इसके साथ ही कुछ ऐसे सार्वकालिक राग भी हैं जो स्वतंत्र रूप से अथवा मल्हार अंग के मेल से भी वर्षा ऋतु के अनुकूल परिवेश रचने में सक्षम होते हैं। इस श्रृंखला की पहली कड़ी में हम राग मेघ मल्हार की चर्चा करेंगे। राग मेघ मल्हार एक प्राचीन राग है, जिसके गायन-वादन से संगीतज्ञ वर्षा ऋतु के प्रारम्भिक परिवेश का सृजन करते हैं। इस राग में आज हम आपको सुप्रसिद्ध गायक पण्डित अजय चक्रवर्ती द्वारा प्रस्तुत मध्यलय झपताल की एक खयाल रचना और इसी राग के स्वरों पर आधारित 1942 में प्रदर्शित फिल्म ‘तानसेन’ में खुर्शीद बेगम का गाया गीत भी सुनवा रहे हैं।




स वर्ष कुछ विलम्ब से ही सही आजकल हम सब प्रकृति के अद्भुत वरदान पावस ऋतु का आनन्द ले रहे हैं। हमारे चारो ओर के परिवेश ने हरियाली की चादर ओढ़ने की पूरी तैयारी कर ली है। तप्त-शुष्क भूमि पर वर्षा की फुहारें पड़ने पर चारो ओर जो सुगन्ध फैलती है वह अवर्णनीय है। ऐसे ही मनभावन परिवेश का सृजन करने के लिए और और हमारे उल्लास और उमंग को द्विगुणित करने के लिए आकाश में कारे-कजरारे मेघ उमड़-घुमड़ रहे हैं। भारतीय साहित्य और संगीत को सबसे अधिक प्रभावित करने वाली दो ऋतुएँ, बसन्त और पावस हैं। पावस ऋतु में मल्हार अंग के रागों का गायन-वादन अत्यन्त सुखदायी होता है। वर्षाकालीन सभी रागों में सबसे प्राचीन राग मेघ मल्हार माना जाता है। काफी थाट का यह राग औड़व-औड़व जाति का होता है, अर्थात इसके आरोह और अवरोह में 5-5 स्वरों का प्रयोग होता है। गान्धार और धैवत स्वरों का प्रयोग नहीं होता। समर्थ कलासाधक कभी-कभी परिवर्तन के तौर पर गान्धार स्वर का प्रयोग करते है। भातखण्डे जी ने अपने ‘संगीत-शास्त्र’ ग्रन्थ में भी यह उल्लेख किया है कि कोई-कोई कोमल गान्धार का प्रयोग भी करते हैं। लखनऊ के वरिष्ठ संगीत-शिक्षक और शास्त्र-अध्येता पण्डित मिलन देवनाथ के अनुसार लगभग एक शताब्दी पूर्व राग मेघ में कोमल गान्धार का प्रयोग होता था। आज भी कुछ घरानों की गायकी में यह प्रयोग मिलता है। रामपुर, सहसवान घराने के जाने-माने गायक उस्ताद राशिद खाँ जब राग मेघ गाते हैं तो कोमल गान्धार का प्रयोग करते हैं। ऋषभ का आन्दोलन राग मेघ का प्रमुख गुण होता है। यह पूर्वांग प्रधान राग है। इस राग के माध्यम से आषाढ़ मास के मेघों की प्रतीक्षा, उमड़-घुमड़ कर आकाश पर छा जाने वाले काले मेघों और वर्षा ऋतु के प्रारम्भिक परिवेश का सजीव चित्रण किया जाता है। आइए, अब हम राग मेघ मल्हार में एक भावपूर्ण खयाल सुनते हैं। इसे प्रस्तुत कर रहे है, पटियाला (कसूर) गायकी में सिद्ध गायक पण्डित अजय चक्रवर्ती। यह मध्यलय झपताल की रचना है, जिसके बोल हैं- ‘गरजे घटा घन कारे कारे पावस रुत आई...’।


राग मेघ मल्हार : ‘गरजे घटा घन कारे कारे, पावस रुत आई, दुल्हन मन भावे...’ : गायक - पण्डित अजय चक्रवर्ती 





भारतीय साहित्य में भी राग मेघ मल्हार के परिवेश का भावपूर्ण चित्रण मिलता है। वर्षा ऋतु के आगमन की आहट देने वाले राग मेघ की प्रवृत्ति को महाकवि कालिदास ने ‘मेघदूत’ के प्रारम्भिक श्लोकों में अत्यन्त यथार्थ रूप में किया है-

आषाढस्य प्रथमदिवसे मेघमाश्लिष्टसानुं वप्रक्रीडापरिणतगजप्रेक्षणीयं ददर्श।

अर्थात; रामगिरि पर्वत पर शापित यक्ष विरह-ताप से पीड़ित है। तभी आषाढ़ मास के पहले दिन आकाश में काले-काले मेघ मँडराने लगे। ऐसा प्रतीत होने लगा मानो मदमस्त हाथियों का झुण्ड पर्वत की श्रृंखलाओं के साथ अटखेलियाँ कर रहे हों। ‘मेघदूत’ का यक्ष अपनी प्रियतमा तक सन्देश भेजने के लिए आषाढ़ मास के मेघों को ही अपना दूत बनाता है। इससे थोड़ा भिन्न परिवेश पाँचवें दशक की एक फिल्म से हमने लिया है। आज का गीत हमने 1942 में रणजीत स्टूडियो द्वारा निर्मित और जयन्त देसाई द्वारा निर्देशित फिल्म ‘तानसेन’ से चुना है। फिल्म के प्रसंग के अनुसार अकबर के आग्रह पर तानसेन ने राग ‘दीपक’ गाया, जिसके प्रभाव से उनका शरीर जलने लगा। कोई उपचार काम में नहीं आने पर उनकी शिष्या ने राग ‘मेघ मल्हार’ का आह्वान किया, जिसके प्रभाव से आकाश मेघाच्छन्न हो गया और बरखा की बूँदों ने तानसेन के तप्त शरीर का उपचार किया। इस प्रसंग में राग ‘मेघ मल्हार’ की अवतारणा करने वाली तरुणी को कुछ इतिहासकारों ने तानसेन की प्रेमिका कहा है तो कुछ ने उसे तानसेन की पुत्री तानी बताया है। बहरहाल, इस प्रसंग से यह स्पष्ट हो जाता है कि राग ‘मेघ मल्हार’ मेघों का आह्वान करने में सक्षम है। दूसरे रूप में हम यह भी कह सकते हैं कि इस राग में मेघाच्छन्न आकाश, उमड़ते-घुमड़ते बादलों की गर्जना और वर्षा के प्रारम्भ की अनुभूति कराने की क्षमता है। फिल्म ‘तानसेन’ के संगीतकार खेमचन्द्र प्रकाश और गीतकार पण्डित इन्द्र थे। फिल्म में तानसेन की प्रमुख भूमिका में कुन्दनलाल (के.एल.) सहगल थे। फिल्म के लगभग सभी गीत विभिन्न रागों पर आधारित थे। फिल्म ‘तानसेन’ में राग मेघ मल्हार पर आधारित गीत है- ‘बरसो रे कारे बादरवा हिया में बरसो...’, जिसे उस समय की विख्यात गायिका-अभिनेत्री खुर्शीद बेगम ने गाया और अभिनय भी किया था। तीनताल में निबद्ध इस गीत में पखावज की संगति की गई है। आइए, सुनते हैं वर्षा ऋतु का आह्वान करते राग ‘मेघ मल्हार’ पर आधारित यह गीत। आप इस गीत के माध्यम से पावस का आनन्द लीजिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग मेघ मल्हार : ‘बरसो रे कारे बादरवा हिया में बरसो...’ फिल्म – तानसेन : स्वर – खुर्शीद बेगम : संगीत – खेमचन्द्र प्रकाश 






आज की पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 175वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको नारी-कण्ठ-स्वर में एक खयाल रचना का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 180वें अंक तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला का विजेता घोषित किया जाएगा।




1- खयाल के इस अंश को सुन कर गायिका की आवाज़ को पहचानिए और हमे उनका नाम बताइए।

2 – यह संगीत रचना किस राग में निबद्ध है?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 177वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता 


‘स्वरगोष्ठी’ की 173वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया द्वारा प्रस्तुत बाँसुरी वादन का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग हंसध्वनि और पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल सितारखानी अथवा पंजाबी ठेका अथवा अद्धा त्रिताल। इस अंक की पहेली के दोनों प्रश्नो के सही उत्तर जबलपुर से क्षिति तिवारी, हैदराबाद की डी. हरिणा माधवी और पेंसिलवानिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया ने दिया है। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात 


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इस अंक से हमने ऋतु के अनुकूल रागों अर्थात वर्षा ऋतु में गाये-बजाए जाने वाले रागों पर यह लघु श्रृंखला आरम्भ किया है। अगले अंक में एक और वर्षाकालीन राग पर आपसे चर्चा करेंगे। आप भी यदि भारतीय संगीत के किसी विषय में कोई जानकारी हमारे बीच बाँटना चाहें तो अपना आलेख अपने संक्षिप्त परिचय के साथ ‘स्वरगोष्ठी’ के ई-मेल पते पर भेज दें। अपने पाठको/श्रोताओं की प्रेषित सामग्री प्रकाशित/प्रसारित करने में हमें हर्ष होगा। आगामी श्रृंखलाओं के लिए आप अपनी पसन्द के कलासाधकों, रागों या रचनाओं की फरमाइश भी कर सकते हैं। हम आपके सुझावों और फरमाइशों का स्वागत करेंगे। अगले अंक में रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इस मंच पर आप सभी संगीत-प्रेमियों की हमें प्रतीक्षा रहेगी।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  

शनिवार, 5 जुलाई 2014

"मोरा गोरा अंग ल‍इ ले..." - जानिये किन मुश्किलों से गुज़रते हुए बना था यह गीत


एक गीत सौ कहानियाँ - 35
 

मोरा गोरा अंग ल‍इ ले...’



'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार! दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्युटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारी ज़िन्दगियों से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़ी दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 35-वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म 'बन्दिनी' के गीत "मोरा गोरा अंग ल‍इ ले..." के बारे में। 




गुलज़ार
फ़िल्म 'बन्दिनी' का निर्माण चल रहा था, जिसके निर्देशक थे बिमल राय, संगीतकार थे सचिनदेव बर्मन और बतौर गीतकार शैलेन्द्र फ़िल्म के गाने लिखने वाले थे। अब हुआ यूँ कि दादा बर्मन और शैलेन्द्र के बीच किसी वजह से मनमुटाव हो गया और ग़ुस्से में आकर सचिन दा ने कह दिया कि वो शैलेन्द्र के साथ काम नहीं करेंगे। इसी समय बिमल दा के लिए इस फ़िल्म का पहला गीत शूट करना बेहद ज़रूरी हो गया था। वो मुश्किल में पड़ गये; लाख समझाने पर भी सचिन दा शैलेन्द्र जी के साथ काम करने के लिए तैयार नहीं हुए। जब बिमल दा ने यह बात शैलेन्द्र को बताई तो शैलेन्द्र जी सोच में पड़ गये कि बिमल दा को इस मुश्किल से कैसे निकाला जाये। उन्हीं दिनों शैलेन्द्र Bombay Youth Choir के सदस्य हुआ करते थे जिसके गुलज़ार भी सदस्य थे। यह कॉयर किशोर कुमार की पत्नी रूमा देवी चलाती थीं। गुलज़ार उन दिनों एक गराज में गाड़ियों को रंगने का काम किया करते थे और एक लेखक बनने का ख़्वाब देखा करते। क्योंकि शैलेन्द्र को गुलज़ार के इस लेखन-रुचि का पता था, उन्होंने गुलज़ार से कहा कि जाकर बिमल दा से मिले और बताया कि बिमल दा के लिए एक गीत लिखना है। क्योंकि गुलज़ार को गीत लेखन में कोई रुचि नहीं थी और न ही वो फ़िल्मों के लिए कुछ लिखना चाहते थे, इसलिए उन्होंने शैलेन्द्र जी को मना कर दिया। पर शैलेन्द्र जी कहाँ मानने वाले थे। आख़िरकार शैलेन्द्र की ज़िद के आगे गुलज़ार को झुकना पड़ा। गुलज़ार अपने एक दोस्त देबू के साथ, जो उन दिनों बिमल दा के सहायक थे, पहुँच गये बिमल राय के डेरे पर। बिमल दा ने गुलज़ार को उपर से नीचे तक देखा और देबू की तरफ़ मुड़ कर बांगला में बोले, "भद्रलोक कि बैष्णब कोबिता जाने?" (क्या इस महाशय को वैष्णव कविता पता है?) जब देबू ने बिमल दा को बताया कि गुलज़ार को बांगला समझ आती है, तो बिमल दा को शर्म आ गई। ख़ैर, बिमल दा ने गुलज़ार को सिचुएशन समझाया और सचिन दा के पास भेज दिया धुन सुनने के लिए। दादा बर्मन से धुन लेकर गुलज़ार चले गये घर और एक सप्ताह बाद गीत लेकर वापस पहुँच गये सचिन दा के पास। सचिन को जब गीत सुनाया तो उन्हें पसन्द आया। गुलज़ार ने पूछा कि क्या मैं बिमल दा को जा कर गीत सुना दूँ? सचिन ने पूछा कि क्या तुम्हे गाना आता है? गुलज़ार के ना कहने पर सचिन ने उन्हें बिमल दा को गीत सुनाने से मना करते हुए कहा, "अरे तुम कैसा भी सुनायेगा और हमारा ट्युन रीजेक्ट हो जायेगा"। ख़ैर, बिमल राय को गीत और धुन, दोनों बहुत पसन्द आया और गायिका के रूप में लता मंगेशकर का नाम चुन लिया गया। गुलज़ार को ये सब कुछ सपना जैसा लग रहा था। एक सप्ताह पहले वो एक गराज में मकेनिक थे और एक सप्ताह बाद उनके लिखे पहले फ़िल्मी गीत के साथ सचिनदेव बर्मन और लता मंगेशकर का नाम जुड़ रहा था। वाकई यह किसी सपने से कम नहीं था।

बिमल राय
"मोरा गोरा अंग लै ले" की सिचुएशन कुछ ऐसी थी कि नूतन, यानी कल्याणी, मन ही मन बिकाश, यानी अशोक कुमार को चाहने लगी है। एक रात चुल्हा-चौका समेट कर गुनगुनाती हुई बाहर निकल रही है। इस सिचुएशन पर यह गीत आता है। गीत बनने के बाद बिमल राय और सचिन देव बर्मन के बीच एक और विवाद खड़ा हो गया। बिमल दा चाहते थे कि गीत घर के अन्दर फ़िल्माया जाये, जबकि सचिन देव बर्मन आउटडोर के लिए इन्टरल्युड बना चुके थे। बिमल राय ने तर्क दिया, यह कहते हुए कि ऐसा करेक्टर घर से बाहर जाकर नहीं गा सकती। सचिन दा ने कहा कि बाहर नहीं जायेगी तो बाप के सामने गायेगी कैसे? दादा बर्मन के सवाल पर बिमल राय ने दलील दी कि बाप से हमेशा वैष्णव कवितायें सुना करती हैं तो गा क्यों नहीं सकती? सचिन दा बोले, "यह कविता पाठ नहीं है दादा, यह गाना है"। इस बात पर बिमल दा बोले कि तो फिर कविता लिखो, वो कविता गायेगी। अब सचिन देव बर्मन को झल्लाहट होने लगी। फिर भी उन्होंने अपनी दलील दी कि गाना घर में घुट जायेगा। उनके इस बात पर बिमल दा ने कहा कि तो फिर आंगन में ले जाओ, लेकिन बाहर नहीं जायेगी। सचिन देव अब इस बात पर अड़ गये कि अगर वो बाहर नहीं जायेगी तो हम भी गाना नहीं बनायेगा। इस तरह थोड़ी देर बहस चलती रही। और बाद में दोनों ने डिसाइड किया कि चलो कल्याणी यानी नूतन को घर के आंगन में ले जाते हैं और तय हो गया कि यह गाना कल्याणी आंगन में ही गायेगी। बिमल राय और दादा बर्मन ने अब गुलज़ार से बोला कि अब तुम इस गाने को आंगन का गाना बनाओ। गुलज़ार फिर देबू के पास गये। उससे वैष्णव कवितायें ली, जो कल्याणी अपने पिता से सुना करती थी। बिमल दा ने गुलज़ार से कहा कि सिचुएशन कुछ ऐसी होगी कि रात का वक़्त है, कल्याणी को यह डर है कि चाँदनी रात में उसे कोई देख न ले। इसलिए वो घर से बाहर नहीं जा रही है। वो आंगन से आगे नहीं जा पाती। इस पर सचिन देव बर्मन ने भी अपनी बात ऐड कर दी, चांदनी रात में भी वो डरती तो है, मगर बाहर चली आयी है। अब मुड़-मुड़ कर आंगन की तरफ़ देखती है, ऐसा कुछ भी होगा, इस पर भी कुछ लिखो। तो गुलज़ार साहब ने बिमल राय और सचिन देव बर्मन, दोनों की बातों को मिला कर, कल्याणी की हालत समझ कर जो गीत लिखा, वह गीत था "मोरा गोरा अंग लै ले, मोहे श्याम रंग दै दे"। क्या मास्टरपीस गीत लिखा गुलज़ार ने। इस गीत को सुनने के बाद शैलेन्द्र ने भी स्वीकार किया कि इतना अच्छा शायद वो भी नहीं लिख पाते इस सिचुएशन पर। बिमल दा और शैलेन्द्र, दोनो यह चाहते थे कि 'बन्दिनी' के बाकी के गीत भी गुलज़ार ही लिखे। पर सचिन देव बर्मन ने गुलज़ार जैसे नये गीतकार के साथ काम करने से मना कर दिया। जल्द ही उनकी शैलेन्द्र से दोस्ती हो गई और उन्होंने ऐलान किया कि इस फ़िल्म के बाकी गीत शैलेन्द्र ही लिखेंगे। सचिन दा का मिज़ाज कुछ ऐसा हुआ करता था कि उनकी बात को टालना किसी के बस की बात नहीं होती। इस बात पर बिमल दा और शैलेन्द्र, दोनों को गुलज़ार के लिए बुरा लगा, पर गुलज़ार ने कुछ भी नहीं कहा और शैलेन्द्र जी को उनकी कुर्सी वापस देते हुए कहा कि यह आप ही की कुर्सी है, आप ही सम्भालिये। बस, इतनी सी है इस गीत के पीछे की कहानी। लीजिए, अब आप भी उस गीत को सुनिए।

फिल्म - बंदिनी : 'मोरा गोरा अंग लइले मोहे श्याम रंग दइदे...' : लता मंगेशकर : संगीत - सचिनदेव बर्मन : गीत - गुलजार 




अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

रविवार, 29 जून 2014

सुरीली बाँसुरी के पर्याय पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया




स्वरगोष्ठी – 174 में आज

व्यक्तित्व – 4 : पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया


‘देखा एक ख्वाब तो ये सिलसिले हुए...’ 




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला ‘व्यक्तित्व’ की चौथी कड़ी में, मैं कृष्णमोहन मिश्र, एक बार पुनः आप सभी संगीत-प्रेमियों का हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ। मित्रों, जारी लघु श्रृंखला ‘व्यक्तित्व’ के अन्तर्गत हम आपसे संगीत के कुछ असाधारण संगीत-साधकों के व्यक्तित्व और कृतित्व पर चर्चा कर रहे हैं, जिन्होंने मंच, विभिन्न प्रसारण माध्यमों अथवा फिल्म संगीत के क्षेत्र में लीक से हट कर उल्लेखनीय योगदान किया है। हमारी आज की कड़ी के व्यक्तित्व हैं, विश्वविख्यात बाँसुरी वादक पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया, जिन्होने एक साधारण सी दिखने वाली बाँस की बाँसुरी के मोहक सुरों के बल पर पूरे विश्व में भारतीय संगीत की विजय-पताका को फहराया है। चौरसिया जी की बाँसुरी ने शास्त्रीय मंचों पर तो संगीत प्रेमियों को सम्मोहित किया ही है, फिल्म संगीत के प्रति भी उनका लगाव बना रहा। उन्होने सुप्रसिद्ध सन्तूर वादक पण्डित शिवकुमार शर्मा के साथ मिलकर शिव-हरि नाम से कई फिल्मों में संगीत निर्देशन भी किया है। आज के अंक में हम आपके लिए चौरसिया जी द्वारा प्रस्तुत राग हंसध्वनि की एक रचना, बंगाल की एक चर्चित लोक धुन और शिव-हरि के रूप में रचे बेहद सफल फिल्म ‘सिलसिला’ का एक गीत भी प्रस्तुत करेंगे। यह भी उल्लेखनीय है कि इसी सप्ताह 1 जुलाई को पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया अपनी आयु के 77 वर्ष पूर्ण कर 78वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ परिवार इस महान संगीत-साधक को जन्मदिवस के उपलक्ष्य में शत-शत मंगलकामनाएँ अर्पित करता है।
 



भारतीय संगीत के अनेक साधकों ने विश्व-संगीत के मंच पर अपने संगीत की उत्कृष्ठता को सिद्ध किया है। इन्हीं में एक नाम बाँसुरी वादक पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया का भी शामिल है। बाँसुरी वादक पण्डित पन्नालाल घोष (1911-1960) ने इस वाद्य को लोकमंच से शास्त्रीय संगीत के मंच पर प्रतिष्ठित करने का जो प्रयास किया था, पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया ने उसे पूर्णता दी। यह भी आश्चर्यजनक है कि ऐसी महान प्रतिभा का जन्म संगीतज्ञ या संगीत-प्रेमी परिवार में नहीं हुआ था। हरिप्रसाद जी का जन्म 1 जुलाई, 1938 को इलाहाबाद के एक ऐसे परिवार में हुआ था, जहाँ सभी सदस्य कुश्ती के शौकीन थे। उनके पिता स्वयं कुशल पहलवान थे और चाहते थे कि उनका पुत्र भी कुश्ती के दाँव-पेंच सीखे। बालक हरिप्रसाद पिता के साथ अखाड़ा जाते तो थे किन्तु उनका मन इस कार्य में कभी नहीं लगा। उनका बाल-मन तो सुरीली ध्वनियों की ओर आकर्षित होता था। ईश्वर ने उन्हें सांगीतिक प्रतिभा प्रतिभा से युक्त कर इस धरा पर भेजा था। कुश्ती के अखाड़े के बजाय उनका मन पड़ोस के संगीत शिक्षक पण्डित राजाराम के पास अधिक लगता था। बालक हरिप्रसाद को पण्डित राजाराम ने संगीत की प्रारम्भिक शिक्षा दी। इसके बाद वाराणसी के सुविख्यात गुरु पण्डित भोलानाथ जी से बाँसुरी वादन की विधिवत शिक्षा प्राप्त की और 19 वर्ष की आयु के होने तक बाँसुरी-वादन में इतने कुशल हो गए कि उनकी नियुक्ति रेडियो में हो गई। 1957 में उनकी पहली तैनाती ओडिसा स्थित कटक केन्द्र पर बाँसुरी-वादक के रूप में हुई। यहाँ वे लगभग तीन वर्ष तक रहे। इस दौरान उन्होने अनेक संगीतज्ञों को सुना और क्षेत्रीय संगीत का अध्ययन भी किया। आइए, यहाँ थोड़ा विराम लेकर पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया का बजाया राग हंसध्वनि में दो रचनाएँ सुनवाते हैं। राग हंसध्वनि अत्यन्त मधुर राग है, जो उत्तर और दक्षिण, दोनों संगीत पद्यतियों में समान रूप से लोकप्रिय है। इस राग में पण्डित जी द्वारा प्रस्तुत पहली मध्य लय की रचना सितारखानी ताल में और दूसरी द्रुत तीनताल में निबद्ध है।


राग हंसध्वनि : मध्यलय सितारखानी और द्रुतलय तीनताल की रचनाएँ : पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया




वर्ष 1960 में हरिप्रसाद जी का स्थानान्तरण रेडियो कटक केन्द्र से मुम्बई केन्द्र पर हो गया। मुम्बई आ जाने के बाद उन्हें अपने संगीत को अभिव्यक्ति देने के लिए और अधिक विस्तृत फ़लक मिल गया और यहाँ आ जाने के बाद संगीत के क्षेत्र में उनकी प्रतिभा को एक नई पहचान मिली। अब उन्हें प्रतिष्ठित संगीत सभाओं में मंच-प्रदर्शन के लिए आमंत्रित किया जाने लगा था। यहीं रहते हुए उनका सम्पर्क मैहर घराने के संस्थापक और सन्त-संगीतज्ञ उस्ताद अलाउद्दीन खाँ की सुपुत्री विदुषी अन्नपूर्णा देवी से हुआ। इनका मार्गदर्शन पाकर हरिप्रसाद जी के वादन में भरपूर निखार आया। उन्होने रागों के साथ-साथ विभिन्न क्षेत्रों के लोक-संगीत का भी गहन अध्ययन किया था। आज भी विभिन्न संगीत-समारोहों में अपने बाँसुरी-वादन को विराम देने से पहले वे कोई लोकधुन अवश्य प्रस्तुत करते हैं। आइए, अब हम आपको बाँसुरी पर पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया द्वारा प्रस्तुत बंगाल की अत्यन्त लोकप्रिय भटियाली धुन सुनवाते हैं। पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया द्वारा प्रस्तुत इस भटियाली धुन के साथ तबला संगति पण्डित योगेश समसी ने की है।


भटियाली धुन : पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया : तबला संगति – योगेश समसी




बाँस से बनी बाँसुरी सम्भवतः सबसे प्राचीन स्वर-वाद्य है। महाभारत काल से पहले भी बाँसुरी का उल्लेख मिलता है। विष्णु के कृष्णावतार को तो ‘मुरलीधर’, ‘बंशीधर’, ‘वेणु के बजइया’ आदि नामों से सम्बोधित भी किया गया है। श्रीकृष्ण से जुड़ी तमाम पौराणिक कथाएँ बाँसुरी के गुणगान से भरी पड़ी हैं। यह एक ऐसा सुषिर वाद्य है जो लोक, सुगम से लेकर शास्त्रीय मंचों पर भी सुशोभित है। भारतीय संगीत के क्षेत्र में अनेक बाँसुरी के साधक हुए हैं, जिन्होने इस साधारण से दिखने वाले सुषिर वाद्य को असाधारन गरिमा प्रदान की है। वर्तमान में पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया बाँसुरी के ऐसे साधक हैं जिन्होने देश-विदेश में इस वाद्य को प्रतिष्ठित किया है। देश-विदेश के अनेकानेक सम्मान और पुरस्कारों से अलंकृत पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया ने सुप्रसिद्ध संतूर-वादक पण्डित शिवकुमार शर्मा के साथ जोड़ी बना कर वर्ष 1989 से फिल्मों में भी संगीत देना आरम्भ किया। शिव-हरि के नाम से इन दिग्गज संगीतज्ञों ने चाँदनी, विजय, सिलसिला, लम्हे, डर, फासले आदि फिल्मों में अनेक लोकप्रिय गीत दिये हैं। आज के इस अंक में हम आपको पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया और पण्डित शिवकुमार शर्मा के साथ मिल कर बनी संगीतकार जोड़ी द्वारा चर्चित हिन्दी फिल्म ‘सिलसिला’ का बेहद लोकप्रिय गीत- ‘देखा एक ख्वाब तो ये सिलसिले हुए...’ सुनवाते हैं। गीतकार जावेद अख्तर के लिखे इस गीत को लता मंगेशकर और किशोर कुमार ने स्वर दिया है। इस गीत से रेखांकित करने योग्य एक तथ्य यह भी जुड़ा है कि गीत में मध्यम और निषाद स्वर रहित राग भूपाली के स्वर तो मौजूद हैं, किन्तु राग के स्वरों का चलन राग भूपाली अथवा देशकार के अनुसार नहीं है। लीजिए, अब आप यह गीत सुनिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


फिल्म – सिलसिला : ‘देखा एक ख्वाब तो ये सिलसिले हुए...’ : लता मंगेशकर और किशोर कुमार : गीतकार – जावेद अख्तर





आज की पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 174वें अंक की पहेली में आज हम आपको कण्ठ संगीत में एक रागबद्ध खयाल रचना का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। 180वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।



1 – खयाल का यह अंश सुन कर राग पहचाइए और हमे राग का नाम बताइए।

2 – गीत का यह अंश सुन कर गायक कलाकार को पहचानिए और हमे उनका नाम बताइए।

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 176वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ की 172वीं कड़ी की पहेली में हमने आपको 1959 में प्रदर्शित फिल्म ‘चाचा ज़िन्दाबाद’ के एक गीत का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग ललित और पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- गायक मन्ना डे और लता मंगेशकर। इस अंक के दोनों प्रश्नों के सही उत्तर पेंसिलवानिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, चण्डीगढ़ के हरकीरत सिंह, जबलपुर से क्षिति तिवारी और हैदराबाद की डी. हरिणा माधवी ने दिया है। चारो प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात



मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी श्रृंखला ‘व्यक्तित्व’ के अन्तर्गत आज के अंक में हमने आपसे सुप्रसिद्ध बाँसुरी वादक पण्डित हरिप्रसाद चौरसिया के व्यक्तित्व और कृतित्व पर चर्चा की। इसके साथ ही हमने शास्त्रीय, लोक और फिल्म संगीत के क्षेत्र में किए गए कार्यों को रेखांकित किया। अगले अंक से हम कुछ ऋतु प्रधान रागों का की चर्चा करेंगे। यह अंक आपको कैसा लगा, हमें अवश्य बताइए। आप भी अपनी पसन्द के विषय और गीत-संगीत की फरमाइश हमें भेज सकते हैं। हमारी अगली श्रृंखलाओं के लिए आप किसी नए विषय का सुझाव भी दे सकते हैं। अगले रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर सभी संगीतानुरागियों की प्रतीक्षा करेंगे।
 




एक आवश्यक सूचना

अपने संगीत-प्रेमी पाठकों और श्रोताओ को कुछ नयेपन का अनुभव कराने के लिए ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के कुछ कार्यक्रमों को हम yourlisten के सहयोग से आडियो रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं। हमारा यह प्रयोग आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव हमें swargoshthi@gmail.com , radioplaybackindia@live.com अथवा cine.paheli@yahoo.com पर अवश्य लिखें। आपके सुझाव के आधार पर हम अपने कार्यक्रमों को और अधिक बेहतर रूप दे सकेंगे।



प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ