Showing posts with label short film series. Show all posts
Showing posts with label short film series. Show all posts

Wednesday, June 6, 2012

लघु फिल्म "इन्बोक्स" में संगीत है बालमुरली बालू का

दोस्तों कल विश्व पर्यावरण दिवस था, और हमारे प्लेबैक इंडिया संगीतकार बालमुरली बालू ने कुछ समय पहले इसी मुहीम का समर्थन करते हुए एक गीत रचा था "Go Green", जिसे आप यहाँ सुन सकते हैं. वैसे बालमुरली प्लेबैक इंडिया के लिए इससे पहले "बुलबुला" गीत भी रच चुके हैं. आप सोच रहे होंगें कि आज हम बालमुरली का जिक्र क्यों यहाँ कर रहे हैं. दरअसल हमें खुशी और फक्र दोनों है इस बात का कि हमारे ये सभी संगीतकार आजकल कुछ नया, कुछ अलग और कुछ बड़ा कर रहे हैं जिसमें उनकी काबलियत और भी खुल के निखर रही है. अभी हाल ही में बाला ने एक लघु फिल्म के लिए पार्श्व संगीत दिया है. आज हम येही लघुफिल्म आपके साथ बांटना चाहते हैं. इस फिल्म की एक और खासियत है कि इसमें कोई संवाद नहीं है.

'Inbox' is a Fantasy / Love story made for Naalaya Iyakunar Season 3, winning the Best short film of the week and Best actor awards in the Fantasy round. Sometimes silence speaks more than words. 'Inbox' is a short film with no dialogues at all.

Cast
Karthik Yogi
Shwetha Gupta

Written and Directed by Madonne Ashwin
Cinematography by Ravi Varma
Editing & Sound Design by Abhinav Sunder Nayak
Music by Balamurali Balu
Post Production at Nayak Cinema (www.facebook.com/nayakcinema) 

लीजिए आनंद लें इस छोटी सी फिल्म का आज रेडियो प्लेबैक इंडिया पर, प्लेबैक इंडिया परिवार बधाईयां प्रेषित कर रहा है अपने टेलेंट बालमुरली बालू को और इस फिल्म की सम्पूर्ण टीम को.


Saturday, April 28, 2012

tERRORISM - एक लघु फिल्म

"बीट ऑफ इंडियन यूथ" एक संगीतमय प्रोजेक्ट है जिसे रेडियो प्लेबैक और उसकी टीम का समर्थन हासिल है, ये दृश्य और श्रवण माध्यमों से आज के युवा वर्ग को प्रेरित करने, उनमें इमानदारी इंसानियत और राष्ट्प्रेम जैसी मूल भावानाओं को जागृत करने और आतंकवाद के खिलाफ एक जुट होने के लिए तैयार करने की एक पहल है जिसे पूर्व राष्ट्पति श्री ए पी जे अब्दुल कलाम का भी आशीर्वाद प्राप्त है. इसी श्रृंखला में एक और कड़ी जोड़ती है ये लघु फिल्म.

t"ERRORISM"
A Short Film completely shot using 12.1 MP digital cam (Canon Powershot X220hs )
Major portion of this film was shot in Kochi.

J KABS in association with BEAT OF INDIAN YOUTH

PRESENTS

tERRORISM

STORY.DOP.DIRECTION: BASIL BK

SOUND DESIGN N MIX: JIBIN GEORGE SEBASTIAN

EDITING: DEEPU JOSEPH

CAST: JEAN TOMS SANKAR GANESH ASWAS BABU KRISHNAN C PAI

Sincer thanks

Shenoys theater
KERALA POLICE
Maharajas college
Mr. Rajeesh (naval base)
ADDHOC Team   


Tuesday, May 17, 2011

सजीव सारथी के काव्य संग्रह "एक पल की उम्र लेकर" का ऑनलाइन विमोचन और लघु फिल्म "नौ महीने" का प्रीमियर

सजीव सारथी हिंद युग्म से २००७ में जुड़े थे बतौर कवि. युग्म की स्थायी सदस्यता मिलने के बाद वो लगातार १ साल तक निरंतर कविताओं के माध्यम से पाठकों से जुड़े रहे. २००७ के अंतिम महीनों में अल्बम "पहला सुर" पर उन्होंने काम शुरू किया जो इन्टरनेट पर संगीत को नए सिरे से प्रस्तुत करने की दिशा में एक अहम कदम साबित हुआ. २००८ में रीलिस हुई अल्बम "पहला सुर" संगीत के एक नए युग की शुरुआत लेकर आया. बहुत से नए संगीत कर्मियों ने हिंद युग्म से जुड़ने की इच्छा जाहिर की और यहीं जरुरत महसूस हुई एक नए घटक "आवाज़" के शुभारंभ की. जुलाई २००८ में शुरू हुए आवाज़ ने कुछ ऐसे काम कर दिखाए जिन्हें बड़ी बड़ी संगीत कम्पनियाँ भी अपने बैनर पर करते हिचकते हैं. सजीव ने सुजॉय, अनुराग शर्मा, विश्व दीपक तन्हा, सुमित और रश्मि प्रभा जैसे कार्यकर्ताओं के दम पर आवाज़ का एक बड़ा कुनबा तैयार किया. इसी बीच सजीव का रचना कर्म भी निरंतर जारी रहा. एक गीतकार के रूप में भी और कविता के माध्यम से भी. उनके रेडियो साक्षात्कारों को सुनने के बाद केरल के एक प्रकाशक ने उनकी कविताओं का संग्रह निकालने की पेशकश की. २०११ अप्रैल में इस संग्रह की पहली प्रति उनके हाथ आई. प्रथम संस्करण में इस पुस्तक की ५००० प्रतियाँ छपी जा रही है, आवाज़ पर आज इसी पुस्तक का ऑनलाइन विमोचन है. आपने नीचे दिए गए चित्र जहाँ "फीता काटें" लिखा है वहाँ खटका लगाना है और करना है इस कविता संग्रह "एक पल की उम्र लेकर" का विधिवत विमोचन.



धन्येवाद

इस संग्रह की अधिकतर कविताओं में सजीव का शहर दिल्ली एक अहम किरदार के रूप में मौजूद दिखाई देता है. तो विचार हुआ कि क्यों न जन साधारण को समर्पित ये कवितायें दिल्ली के कुछ एतिहासिक स्थानों पर आम लोगों के हाथों भी विमोचित की जाए. नीचे के स्लाईड शो में इसी विमोचन की कुछ तस्वीरें हैं, देखिये...



आम तौर पर आवाज़ पर हुए सभी पुस्तक विमोचनों में हम प्रस्तुत पुस्तक की कविताओं को विभिन्न आवाजों में पेश करते आये हैं. पर चूँकि सजीव विविधता में विश्वास रखते हैं तो हमने सोचा कि क्यों न यहाँ भी कुछ नया किया जाए. इसलिए हमने पुस्तक की कुछ कविताओं को एक लघु फिल्म के माध्यम से पेश करने की योजना बनायीं जिसे नाम दिया है "द अवेकनिंग सीरिस" का, इस शृंखला की पहली कड़ी के रूप में एक लघु फिल्म "दोहराव" हम पेश कर चुके हैं. आज पुस्तक के इस विधिवत विमोचन के साथ हम पेश कर रहे हैं इस कड़ी की दूसरी पेशकश - "नौ महीने". सजीव की इस कविता को स्वर दिया है जाने माने आर जे प्रदीप शर्मा जी ने, वीडियो को सम्पादित किया है आधारशिला फिल्म्स के लिए जॉय कुमार ने, संगीत है ऋषि एस का और पब्लिशिंग पार्टनर हैं हेवन्ली बेबी बुक्स, कोच्ची, जिनके माध्यम से ये पुस्तक बाज़ार में आज उपलब्ध हो पायी है.



आपकी राय और सुझावों का हमें इंतज़ार रहेगा. इस ऑनलाइन विमोचन में शामिल होने के लिए धन्येवाद.

Friday, May 8, 2009

"छोटे से पंख" - सार्थक लघु फिल्म निर्माण के क्षेत्र में युग्म का पहला प्रयास.

आपकी रचनात्मकता तभी सार्थक है जब आप खुद की जिम्मेदारी से ऐसा कुछ करते हैं जिससे समाज में एक सकारात्मक बदलाव आये। भारत में दृश्य और श्रव्य, जन साधारण तक अपनी बात पहुँचाने का सबसे सशक्त माध्यम है। कविता के भावों को सुरों में सजाकर सरल रूप में लोगों तक पहुँचने के लिए जुलाई २००८ में आवाज़ की शुरूआत की थी हिंद युग्म ने। आज इस कड़ी में एक और नयी पहल जुड़ रही है। नए संगीत का दूसरा कामियाब महासत्र पूरा करने के बाद अब युग्म ने दृश्य माध्यम से भी जन चेतना जगाने का बीडा उठाया है। ये शुरुआत मनुज मेहता, जगदीप सिंह, दिव्य प्रकाश दुबे और अकबर-आज़म जैसे युवा फिल्मकारों के दम पर हो रही है। इसी शृंखला की पहली फिल्म का आज विमोचन हो रहा है। हिंद युग्म के दिव्य प्रकाश दुबे जिन्हें हम DPD के नाम से भी संबोधित करते हैं, ने अपनी खुद की प्रोडक्शन "मास्टरस्ट्रोक प्रोडक्शन" के बैनर तले बनायी है ये लघु फिल्म। अधिक जानते हैं खुद दिव्य से-


"मुझे हमेशा से लगा है कि कुछ लोग हमारी दुनिया को बेहतर बनाने की दिशा में सतत प्रयासरत हैं और बहुत ही शांति से, धीरे-धीरे अपने मकसद की तरफ कदम बढ़ा रहे हैं ...

मुझे लगता है कि ऐसी हर बात हर कोशिश ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुंचनी चाहिए| इस बार जैसे ही मुझे फुर्सत मिली तो मैंने सोचा कि एक शोर्ट मूवी बनाने की हिम्मत की जाये ..क्योंकि कई बार कविता बहुत अधूरी बात ही कह पाती है और उसमें वो सब नहीं आ पाता जो आप कहना चाहते हैं ..तो बस मैंने अपने कॉलेज (http://sibm.edu/) के मित्र (समर्थ) के साथ मिल के एक मूवी बना डाली ...दिक्कतें आयीं थोडी बहुत और उन थोड़ी बहुत दिक्कतों की वजह से ही हम बहुत सी बातें सीख भी पाए |"

Behind the scenes जानने के लिए यहाँ क्लिक करें )

Movie (छोटे से पंख ) के बारे में थोड़ा सा

हम सब में से कईयों के घर में पुरानी साइकिल पड़ी होती है। किसी-किसी के घर में एक से ज्यादा होती है जो बेकार पड़ी रहती है कई बार .... एक NGO इस दिशा में काम कर रहा है जो शहरों से ऐसी ही साइकिल लेते हैं ... और गाँव में वो साईकिल बाँट देते हैं ताकि कोई बच्चा स्कूल जा पाए, उसको स्कूल के लिए मीलों पैदल न चलना पड़े!!

इस विचार ने मुझे बहुत प्रभावित किया और तब हमने एक ऐसी मूवी बनाने की सोची जो इस विचार को आगे बढा पाए ...

कलाकार

रूबी - हमारे मोहल्ले में काम करने वाले माली की बिटिया है जो की अपनी क्लास में सेकंड आयी है, इसलिए उसको साईकिल चाहिए।

गौरांग- कॉन्वेंट में पढ़ने वाला मध्यमवर्गीय परिवार का लड़का है, जिसको साईकिल नहीं स्कूटी चलाना बहुत पसंद है।

(ये वो पात्र हैं जो आप सभी को अपने घर के आस पास मिल जायेंगे, गौरांग शायद आपके घर में हो, पड़ोस में हो ...और रूबी घर के बाहर खेलते हुए, पैदल स्कूल जाते हुए जरूर दिखती होगी आपको)



हो सकता कुछ लोग जानना चाहें कि Master Stroke क्या है ? कैसे बना, वो सब जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

आग्रह -अपने ईमानदार, बेबाक सुझाव दें ...इससे हमारी अगली कोशिश को बेहतर होने में मदद मिलेगी !!

- दिव्य प्रकाश दुबे


हमारे अन्य फिल्मकार भी कुछ इसी तरह के सार्थक विषयों पर अपनी बात कहेंगे जिन्हें हम समय समय पर अपने मंच के माध्यम से आप तक पहुंचाते भी रहेंगे. यदि आप भी कुछ ऐसी बात "विसुअल" माध्यम से जन जन तक पहुंचाना चाहें तो हमसे संपर्क करें. हिंद युग्म के फिल्मकार मनुज मेहता ने दिल्ली के रेड लाइट इलाके को केंद्र कर जो डॉक्युमेंटरी फिल्म बनायीं थी उसका प्रीमियर भी हमने पिछले साल आवाज़ पर किया था, यदि अब तक आपने नहीं देखी तो इसे भी अवश्य देखें.
एक संवेदनशील फिल्म जी बी रोड की सच्चाईयों पर...

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ