Showing posts with label new york. Show all posts
Showing posts with label new york. Show all posts

Thursday, August 20, 2009

प्यार में आता नहीं उसको गुंजाइशें करना- हुमैरा रहमान

सुनिए मशहूर ऊर्दू शायरा हुमैरा रहमान का साक्षात्कार

हम समय-समय पर कला, साहित्य और संस्कृति जगत की हस्तियों से आपको रूबरु करवाते रहते हैं। आज मिलिए प्रसिद्ध ऊर्दू शायरा हुमैरा रहमान से, जिनका नाम परवीन शाक़िर की परम्परा को आगे बढ़ाने के तौर पर भी लिया जाता है। हुमैरा रहमान जब दिल्ली में हुए एक अंतर्राष्ट्रीय मुशायरा 'जश्न-ए-बहारा' में भाग लेने भारत आई थीं तो हमारे साथी निखिल आनंद गिरि ने उनसे मुलाक़ात की और इंटरनेट की दुनिया का परिचय दिया। हुमैरा ने पूरे एक घंटे तक कविता (ग़ज़ल), हिन्दुस्तान-पाकिस्तान-अमेरिका, रिश्ते, शिक्षा, राजनीति और अपनी पसंद-नापसंद, अपने बचपन पर खुलकर बात की। कुछ ग़ज़लें भी कहीं, कुछ सलाहें भी दी। सुनिए और बताइए कि आपको यह साक्षात्कार कैसा लगा?




हुमैरा रहमान

हुमैरा रहमान ऊर्दू शायरी का एक चर्चित नाम है और एक अंतर्राष्ट्रीय चेहरा है। हुमैरा की बचपन से ही साहित्य में रुचि थी। स्नातक की पढ़ाई करने के दरम्यान गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ मुल्तान (पाकिस्तान) के स्टूडेंट यूनियन की ये महासचिव रहीं। कॉलेज के दिनों से ही ये ग़ज़लपाठ, कार्यक्रम-प्रबंधन से जुड़ी रहीं। कॉलेज से पहले के दिनों में (1969-70) इन्होंने महिलाओं के लिए 'बज़्म-ए-हरीम-ए-फ़न' नामक साहित्यिक संस्था का गठन किया और इसकी महासचिव रहीं। आगे इनका जुड़ाव रेडियो पाकिस्तान, कराची (1971-76) से हुआ, जहाँ इन्होंने रेडियो उद्‍घोषक और ड्रामा कलाकार के तौर पर अपनी सेवाएँ दीं। हुमैरा का नाम पाकिस्तान की शुरू के तीन महिला उद्‍घोषकों में भी लिया जाता है। सन 1977 में ये बीबीसी, लंदन से जुड़ गयीं, जहाँ इन्होंने एनांउसर, स्क्रिप्ट लेखक के तौर पर काम किया (1988 तक)।

बाद में यह न्यूयॉर्क चली आयीं जहाँ 1990 में न्यूयॉर्क स्थित यॉन्कर्स पब्लिक लाइबरेरी में ये मॉडरेटर हो गईं और पाकिस्तान की सांस्कृतिक विरासत को दुनिया की नज़र करने के लिए अनेक प्रोग्रेम किये। 1999 में न्यूयॉर्क की एशिया सोशायटी के लिए भी मॉडरेटर का काम किया। 2000-2002 तक इन्होंने वेस्टचेस्टर मुस्लिम सेंटर, न्यूयॉर्क में ऊर्दू भाषा अध्यापन का काम किया। पिछले 1 साल से न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय में ऊर्दू भाषा की संयुक्त प्रशिक्षक के तौर पर काम कर रही हैं।

दुनिया भर के लगभग सभी नामी मुशायरों में हुमैरा रहमान काव्यपाठ कर चुकी हैं। देश-विदेश के रेडियो और टीवी कार्यक्रमों में अपनी ग़ज़लों के हवाले से लोगों के दिलों में अपना विशेष स्थान बना चुकीं हुमैरा की तीन पुस्तकें 'ज़ख़्म ज़ख़्म उजाला'(संपादन), 'इंदेमाल', 'इंतेसाब' भी प्रकाशित हैं।

Thursday, June 18, 2009

काला ना कोई हो गोरा...एक रंग सभी का रंग दे - सार्थक गीतों के पहरूवा पंकज अवस्थी

ताजा सुर ताल (५)

नए संगीत में आज हम आपको सुनवाने जा रहे हैं, एक ऐसा गीत जो ऑस्ट्रेलिया में घटी ताज़ी घटनाओं के चलते और भी सार्थक हो गया है. इस गीत को स्वरबद्ध और संगीतबद्ध किया है एक ऐसे फनकार ने जिन्हें मुद्दों से जुड़े गीतों को रचने में महारत है. उनके हर गीत का एक मकसद होता है, या कहें कि वो संगीत को एक माध्यम की तरह इस्तेमाल करते हैं अपनी बात को दुनिया तक पहुँचाने के लिए. जी हाँ हम बात कर रहे हैं उभरते हुए संगीतकार और गायक पंकज अवस्थी की. उनका संगीत सरल और शुद्ध होते हुए भी दिल को छूता है और सबसे बड़ी बात ये कि सुनने वालों को सोचने के लिए भी मजबूर करता है. हैरी बवेजा की फिल्म "करम" के शीर्षक गीत "तेरा ही करम..." से भारतीय श्रोताओं ने उन्हें परखा. "खुदा के वास्ते..." गीत और उसके विडियो से पंकज ने जाहिर कर दिया कि वो किस तरह के संगीत को अपना आधार मानते हैं. उनकी एल्बम "नाइन" में भी उनके सूफी अंदाज़ को बेहद सराहा गया. इस एल्बम ने उन्हें देश विदेश में ख्याति दी. हिट गीत "खुदा के वास्ते..." भी इस एल्बम का हिस्सा था, जिसे बाद में जर्मन संगीतकर्मी फ्रेडल लेनोनेक ने अपने एल्बम रिफ्लेक्शन भाग २ के पहले गीत का हिस्सा बनाया.

बॉलीवुड में उन्हें असल पहचान मिली फिल्म "अनवर" के संगीत निर्देशक के रूप में. पंकज एक अंतर्राष्ट्रीय संगीत गठबंधन "मिली भगत" के अहम् घटक भी हैं. प्रस्तुत गीत "ऐ साये मेरे" में भी पंकज अपने उसी चिर परिचित अंदाज़ में हैं. जुनैद वारसी ने बहुत बढ़िया लिखा है इस गीत को तो पंकज ने भी दिल से आवाज़ दी है उनके शब्दों में छुपी गंभीरता को. हिंद युग्म परिवार के वरिष्ठ सदस्य अवनीश गौतम, पंकज अवस्थी के बेहद करीबी मित्रों में हैं, जब अवनीश जी ने उन्हें इस गीत के लिए फ़ोन कर बधाई दी तो पंकज ने इस बात का खुलासा किया कि गीत का रिदम पक्ष मशहूर संगीतकार तौफीक कुरैशी ने संभाला है, यकीनन ये गीत की गुणवत्ता में चार चाँद लगा रहा है। चूँकि अवनीश जी की पंकज से घनिष्ठता रही है, इसलिए हमने उनसे पंकज से जुड़ी और भी बातें जाननी चाहीं। खुद अवनीश जी के शब्दों में:


"जब मैं पहली बार पंकज अवस्थी जी से मिला तो लगा ही नहीं कि हम पहली बार मिल रहे हैं. तब वो दिल्ली में रहते थे और "तेरा ही करम" तथा "खुदा का वास्ता" गा कर चर्चा में आ चुके थे उन दिनों पंकज कुछ प्रयोग धर्मी गाने बनाना चाहते थे और चाहते थे कि वो गाने मैं लिखूं. पंकज के भीतर जीवन और संगीत को ले कर एक गहरा अनुराग हैं और एक गहरी बेचैनी भी वो हमेशा कुछ अर्थपूर्ण करना चाहते हैं यह बात भी पंकज बहुत अच्छी तरह जानते है कि यह आसान नहीं है. उनका जूनून और उनका काम इस बात की गवाही देता है कि उनके काम में एक सच्ची आवाज़ बची हुई है जिस पर इस खतरनाक दौर में भी भरोसा किया जा सकता है."

चलिए अब "न्यू यार्क" पर वापस आते हैं। यश राज फिल्म के बैनर पर बनी फिल्म "न्यू यार्क" इस शहर में हुए ट्विन टावर हादसे को केंद्र में रख बुनी हुई कहानी है जिसमें जॉन अब्राहिम, नील नितिन मुकेश और कैटरिना कैफ ने अभिनय किया है. फिल्म के प्रोमोस देख कर आभास होता है कि फिल्म युवाओं को पसंद आ सकती है. यूं तो फिल्म के मुख्य संगीतकार प्रीतम हैं, पर पंकज का ये सोलो गीत ऐसा लगता है जैसे फिल्म के मूल थीम के साथ चलता हो, बहरहाल ये सब बातें फिल्म के प्रदर्शन के बाद ही पता लग पायेंगीं फिलहाल तो हमें सुनना है फिल्म "न्यू यार्क" का ये दमदार गीत, मगर उससे पहले डालिए जुनैद वारसी के बोलों पर एक नज़र-

आ आजा ऐ साये मेरे,
आ आजा कहीं और चलें,
हर सोच है एक बंद गली,
हर दिल में यहाँ ताले पड़े,

गर मुमकिन हो पाता मैं अपना नाम मिटा दूं,
बस बन जाऊं इंसान मैं हर पहचान मिटा दूं,
जब बरसे पहली बारिश, सब के घर बरसे,
बस पूछे ये इंसान कि अपना नाम घटा दूं...

माथे पे सभी के लिख दे
हाथों पे सभी के लिख दे
ज्यादा ना कोई कम हो,
एक नाम सभी का रख दे....

आ आजा साये मेरे....

इस एक ज़मीन के यार तू इतने टुकड़े ना कर,
जब हो सारे इंसान फर्क फिर उनमें ना कर,
जितना चाहे उन्स मोहब्बत अपनों से रख,
नफरत तो तू यार मगर यूं मुझसे ना कर..

शक्लों को सभी की रंग दे
जिस्मों को सभी के रंग दे,
काला ना हो कोई गोरा,
एक रंग सभी का रंग दे....

आ आजा ऐ साये मेरे...



क्या आप जानते हैं ?
आप नए संगीत को कितना समझते हैं चलिए इसे ज़रा यूं परखते हैं. उपर हमने फिल्म "अनवर" में पंकज अवस्थी के संगीत की बात की है, एक और नए संगीतकार ने इसी फिल्म से अपनी शुरुआत कर धूम मचाई थी, क्या आप जानते हैं उस संगीतकार का नाम ?



अक्सर हम लोगों को कहते हुए सुनते हैं कि आजकल के गीतों में वो बात नहीं. "ताजा सुर ताल" शृंखला का उद्देश्य इसी भ्रम को तोड़ना है. आज भी बहुत बढ़िया और सार्थक संगीत बन रहा है, और ढेरों युवा संगीत योद्धा तमाम दबाबों में रहकर भी अच्छा संगीत रच रहे हैं, बस ज़रुरत है उन्हें ज़रा खंगालने की. हमारा दावा है कि हमारी इस शृंखला में प्रस्तुत गीतों को सुनकर पुराने संगीत के दीवाने श्रोता भी हमसे सहमत अवश्य होंगें, क्योंकि पुराना अगर "गोल्ड" है तो नए भी किसी कोहिनूर से कम नहीं.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ