Showing posts with label kashmir ki kali. Show all posts
Showing posts with label kashmir ki kali. Show all posts

Wednesday, April 15, 2009

सफल 'हुई' तेरी आराधना...शक्ति सामंत पर विशेष (भाग २)


स्वर्गीय फ़िल्मकार शक्ति सामंत की पुण्य स्मृति को समर्पित इस सिलसिले का पहला भाग आपने पढ़ा और कुछ गाने भी सुने पिछले रविवार को। आइये अब शक्तिदा के फ़िल्मी सफ़र की कहानी को आगे बढ़ाते हैं। पिछले भाग में हमने ज़िक्र किया था उनकी पहले पहले कुछ निर्देशित फ़िल्मों की, जैसे कि 'बहू'(१९५५), 'इंस्पेक्टर'(१९५६), और 'हिल स्टेशन'(१९५७)। १९५७ में ही उन्होने एक और फ़िल्म का निर्देशन किया था, यह फ़िल्म थी एस. पी. पिक्चर्स के बैनर तले बनी 'शेरू'। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे अशोक कुमार और नलिनी जयवन्त। पहले की तीन फ़िल्मों में हेमन्त कुमार का संगीत था, लेकिन अब की बार शेरू में संगीत दिया मदन मोहन ने। सुनते चलिए कैफ़ इर्फ़ानी का लिखा और लता मंगेशकर का गाया "नैनों में प्यार डोले, दिल का क़रार डोले, तुम जब देखो पिया मेरा संसार डोले".

गीत: नैनों में प्यार डोले (शेरू)


'इंस्पेक्टर' की कामयाबी के बाद शक्ति सामंत ने एक गाड़ी खरीदी और ऐक्सीडेन्ट भी कर बैठे। तीन हड्डियाँ तुड़वा कर वो अस्पताल में भर्ती थे। तो वहाँ बिस्तर पर लेटे लेटे वो सोचने लगे कि अब क्या किया जाये! उन्हे ख़याल आया कि क्युँ ना फ़िल्म निर्माता बना जाए! उन दिनो वो ओम प्रकाश के भाई की फ़िल्म 'शेरू' का निर्देशन कर रहे थे। ओम प्रकाश के भाई उन्हे मिलने अस्पताल गये तो एक दिन शक्तिदा ने उनसे कहा कि उन्होने एक कहानी सोची है और वो फ़िल्म बनाना चाहते हैं अशोक कुमार और मधुबाला को लेकर। उनके एक और दोस्त रंजन घोष भी उनसे मिलने आये तो उन्हे उस कहानी को लिखने का ज़िम्मा दे दिया। और इस तरह से शुरु हुई १९५८ की फ़िल्म 'हावड़ा ब्रिज' के बनने की कहानी। क्युंकि यह उनकी निर्मित पहली फ़िल्म थी, शक्तिदा के पास बहुत ज़्यादा पैसे नहीं थे। इसलिए उन्होने दादामुनि अशोक कुमार से निवेदन किया कि वो मधुबाला से कहें कि वो इस फ़िल्म के लिए 'साइनिंग अमाउंट' कम लें। दादामुनि ने मधुबाला को फोन किया और शक्तिदा से बात करवाया। उनकी बात सुनकर मधुबाला ज़ोर ज़ोर से हँसने लगीं जिससे शक्तिदा बेहद 'नर्वस' हो गये। मधुबाला ने फिर कहा कि वो फ़िल्म के लिए १.५० रूपए बतौर 'साइनिंग अमाउंट' लेंगीं और बाद में ५००० हज़ार रूपए जब तारीख़ें निर्धारित हो जायेंगी। फ़िल्म के संगीत के लिए शक्तिदा ने चुना ओ.पी. नय्यर का नाम। नय्यर साहब ने कहा, "मैं फ़्री में तो करूँगा नहीं, आप मुझे १००० रूपए दे दीजिए और मेरा नाम घोषित कर दीजिए"। इस तरह से १००१.५० रूपए में 'हावड़ा ब्रीज' की नींव रखी गयी और एक ही हफ़्ते के अंदर फ़िल्म बिक गयी ५०,००० रूपए में। फ़िल्म के बनने में लगभग ४ लाख रूपए खर्च हुए, अशोक कुमार और मधुबाला ने ७५,००० रूपए लिए। फ़िल्म में लगाए हुए पैसे फ़िल्म के रिलीज़ होने के एक हफ़्ते के अंदर ही वसूल हो गए, और शक्ति सामंत बन गए एक कामयाब निर्माता-निर्देशक। यूँ तो इस फ़िल्म के सभी गीत बेहद मशहूर हुए, जिनमें एक ये भी था - "मेरा नाम चिन चिन चू..." सुनते चले..

गीत: मेरा नाम चिन चिन चू (हावड़ा ब्रिज)


शक्ति सामंत संगीत के बड़े शौकीन थे। और शायद अच्छे जानकार भी, क्युंकि उनके हर फ़िल्म का संगीत कामयाब रहा, जो रिलीज़ होते ही ज़ुबाँ ज़ुबाँ पर चढ़ गये। उन्हे कुंदन लाल सहगल और अशोक कुमार के गाये हुए गीत बहुत पसंद थे। वो दादामुनि के गाये गीतों को याद करके उन्ही के सामने गाया करते थे। एक बार अशोक कुमार ने उनसे कहा था कि "जब मैं मर जाऊँगा तब यह वाला गीत गाना - "रुक ना सको तो जाओ तुम जाओ""। अशोक कुमार और शक्ति सामंत की बहुत अच्छी दोस्ती हो गयी थी और दोनो ने एक साथ बहुत सारे फ़िल्मों में काम भी किया। ऐसा बहुत बार हुआ कि शक्तिदा शाम के वक़्त दादामुनि के घर गये और रात का खाना वहीं से खा कर लौटे। यह सारी बातें दोस्तों हमने संकलित की है विविध भारती के कार्यक्रम 'उजाले उनकी यादों के' से जिसमें शक्तिदा ने शिर्कत की थी। तो हम बात कर रहे थे 'हावड़ा ब्रिज' की। उसी साल, यानी कि १९५८ में शक्तिदा ने अपने बैनर के बाहर भी एक फ़िल्म का निर्देशन किया था और वह फ़िल्म थी 'डिटेकटिव' जो बनी थी अमीय चित्र के बैनर तले और जिसमें मुख्य कलाकार थे प्रदीप कुमार और माला सिन्हा। इस फ़िल्म की ख़ास बात यह थी कि इसमें संगीत था गायिका गीता दत्त के भाई मुकुल राय का। इस फ़िल्म का गीता दत्त और हेमन्त कुमार का गाया यह युगल गीत बेहद लोकप्रिय हुया था, सुनिए।

गीत: मुझको तुम जो मिले ये जहान मिल गया (डिटेकटिव)


शक्ति सामंत का यह मानना था कि फ़िल्म-निर्माण एक 'टीम-वर्क' है और किसी फ़िल्म की कामयाबी या नाकामयाबी के लिए किसी एक व्यक्ति विशेष को ज़िम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। लेखक, कैमरामैन, निर्देशक, सह-निर्देशक, संगीतकार, हर कोई समान रूप से ज़िम्मेदार होता है किसी फ़िल्म के लिए। शक्तिदा ने अपने लम्बे फ़िल्मी सफ़र में मनोरंजन के साथ साथ बहुत सी फ़िल्में ऐसी भी दी हैं जो किसी ना किसी रूप से समाज को कुछ संदेश देता हो। जैसे कि 'इंसान जाग उठा' फ़िल्म में एक जुट होकर लोग कैसे एक बांध बना डालते हैं, यह दिखाया गया है। इसी फ़िल्म में शैलेन्द्र ने एक गीत लिखा था "देखो रे देखो लोग अजूबा बीसवीं सदी का", जो मानव जाति के चाँद पर पदार्पण करने का जश्‍न था। इसी तरह से ७० के दशक की फ़िल्म 'अनुराग' में चक्षुदान का मुद्दा उठाया गया था। इस तरह से शक्तिदा की फ़िल्में किसी ना किसी तरीके से मनोरंजन के साथ साथ शिक्षा भी देती थीं। शक्तिदा अपनी फ़िल्मों की मूल कहानी ख़ुद ही सोचते थे, लेकिन उन्हे विस्तार से लिखवाते थे दूसरे बड़े लेखकों से। उनके लेखक मित्रों में शामिल थे गुलशन नंदा, मधुसुदन करुलकर, ब्रजेश गौड़ और रंजन घोष। आइए अब एक थिरकता हुआ गीत आशा भोंसले और गीता दत्त की आवाज़ों में सुन लिया जाये। १९५९ की फ़िल्म 'इंसान जाग उठा' और संगीतकार सचिन देव बर्मन।

गीत: जानूं जानूं री काहे खनके रे तोरा कंगना (इंसान जाग उठा)


५० के दशक को पार कर अब हम दाख़िल हो रहे हैं ६० के दशक में। १९६० में सामंतदा के निर्देशन में फ़िल्में आयीं 'सिंगापुर' और 'जाली नोट', और १९६२ मे 'नॊटी बॊय', 'इसी का नाम दुनिया है' और 'चायना टाउन'। इनमें से 'नॊटी बॊय' और 'चायना टाउन' का निर्माण भी उन्होने ही किया था। बाक़ी की फ़िल्में बहुत ज़्यादा ना चले हों, लेकिन 'चायना टाउन' ने तो जैसे हंगामा मचा दिया। शम्मी कपूर, शकीला और हेलेन की अदाकारी से सजी यह फ़िल्म अपनी कहानी, बेहतरीन निर्देशन और गीत संगीत की वजह से बेहद सफल रही। इसमें शक्ति सामंत ने एक बार फिर से संगीतकार बदले और इस बार इस फ़िल्म में गूंजा रवि का संगीत। रफ़ी साहब का गाया "बार बार देखो हज़ार बार देखो" इस फ़िल्म का सबसे मशहूर गीत रहा। लेकिन आज हम आपको यहाँ पर एक दूसरा गीत सुनवा रहे हैं इस फ़िल्म का जिसे आपने शायद बहुत दिनों से सुना नहीं होगा, ज़रा सुनिए तो...

गीत: यह रंग ना छूटेगा उल्फ़त की निशानी है (चायना टाउन)


१९६३ में शक्ति सामंत ने बाहर निर्देशित किया फ़िल्म 'एक राज़'। १९६४ उनके फ़िल्मी सफ़र का एक महत्वपूर्ण साल रहा क्युंकि इसी साल आयी थी फ़िल्म 'कश्मीर की कली'। शम्मी कपूर और शर्मिला टैगोर अभिनीत यह फ़िल्म उनके पहले के सभी फ़िल्मों को पीछे छोड़ दिया था कामयाबी की दृष्टि से। इस फ़िल्म में शक्तिदा ने पहली बार शर्मिला टैगोर को हिंदी फ़िल्मों में ले आये थे। हुआ यह था कि शक्तिदा एक बार किसी बंगला पत्रिका में शर्मिला की तस्वीर देख ली थी और वो उन्हे पसंद आ गयी। शक्तिदा ने उनके पिताजी को फोन किया और उनके पिताजी ने यह भी कहा कि अगर कहानी अच्छी है तो उनकी बेटी ज़रूर काम करेगी। बस फिर क्या था, तीन फ़िल्म वितरकों को साथ में लेकर शक्तिदा शर्मिला से मिलने उनके घर जा पहुँचे। उन फ़िल्म वितरकों को शर्मिला कुछ ख़ास नहीं लगी, लेकिन शक्तिदा को अपनी पसंद पर पूरा विश्वास था और उन्हे अपने फ़िल्म के लिए चुन लिया। फ़िल्म की शूटिंग शुरु हुई और पहले ही दिन शर्मिला का शम्मी कपूर और शक्तिदा से अच्छी दोस्ती हो गई। फ़िल्म की पूरी युनिट कश्मीर गयी और उनका डल झील के ७ या ८ 'हाउस बोट्स' में ठहरने का इंतज़ाम हुआ। युनिट के बाक़ी लोगों के लिए शहर के होटलों में व्यवस्था की गई। लेकिन लगातार बारिश होने की वजह से पहले १५ दिनों तक कोई शूटिंग नहीं हो पायी। शक्तिदा के अनुसार उन १५ दिनों में वे लोग डल झील में मछलियाँ पकड़ा करते थे। है ना मज़ेदार बात इस फ़िल्म से जुड़ी हुई! इस फ़िल्म के गीतों के बारे में कुछ कहने की शायद ज़रूरत ही नहीं है, बस इतना कहूँगा कि 'हावड़ा ब्रिज' के बाद ओ.पी. नय्यर एक बार फिर लौटे शक्तिदा के फ़िल्म में और ज़बरदस्त तरीके से लौटे। इस फ़िल्म का एक गीत पंजाबी रंग का था जिसके लिए ख़ास जलंधर से भांगडा कलाकारों को बुलवाया गया था। याद आया वह गीत कौन सा था?

गीत: हाये रे हाये ये मेरे हाथ में तेरा हाथ (कश्मीर की कली)


शक्ति सामंत के फ़िल्मी सफ़र का लेखा-जोखा जारी रहेगा अगले दो और अंकों में। बने रहिए आवाज़ के साथ।

प्रस्तुति: सुजॉय चटर्जी

Monday, January 12, 2009

जब रफी साहब की आवाज़ ढली शम्मी कपूर के मदमस्त अंदाज़ में...


जब दो कलाकार एक दूसरे के प्रर्याय बन जाते हैं तो कई मायनों में एक दुसरे की परछाई की तरह लगने लगते हैं। जिस तरह दो घनिष्ठ दोस्तों की जोडी में से एक को देखते ही दूसरे की ही याद आ जाये, ठीक उसी तरह जब हम शम्मी कपूर के गानों को सुनते हैं तो मोहम्मद रफी बरबस ही याद आते हैं और जब मोहम्मद रफी के चुलबुलेपन से सनी हुई आवाज को सुनते हैं तो सबसे पहले हमें शम्मी कपूर की अदायें ही याद आती हैं। एक अच्छे दोस्त की यही तो पहचान है कि वह अपने दोस्त के अनुसार खुद को ढाल ले। शम्मी के शोख व्यक्तित्व के अनुसार ही उन्हीं की तरह की शोखी मोहम्मद रफी ने अपनी आवाज में भरी और उनके गीतों को अलग अंदाज दिया।

एक समय था जब लगातार चौदह फ्लाप फिल्में दे कर शम्मी कपूर की गिनती एक असफल कलाकार के रुप में की जाने लगी थी। उनकें फिल्मी कैरियर में बेहतरीन मोड उस वक्त आया जब नासिर हुसैन की फिल्म "तुमसा नहीं देखा" आई जिसमें उनका चुलबुला अंदाज और उसमें मोहम्मद रफी के गाये हुये गीत बेहद प्रसिद्द हुए जो आज तक भी संगीत प्रेमियों की पसंद बने हुये हैं, उसके बाद तो मोहम्मद रफी शम्मी कपूर की ही आवाज बन गये थे ।

१९६० का वह दौर दिलीप कुमार, राजकपूर जैसे गंभीर नायको का दौर था। तब एक ऐसा उछलता-कूदता, मस्त नायक हिंदी सिनेमा के दर्शकों को देखने को मिला जो हर हाल में मस्त रहने का हुनर जानता था। जीवन की आपाधापी में उसके गीत दूर तक और देर तक सुकून देते थे। मोहम्मद रफी ने शम्मी कपूर पर फिल्माये गये ये कालजयी गीत - "तुम मुझे यूँ भूला न पाओगे...", "जनम जनम का साथ है...", "एहसान तेरा होगा मुझ पर...", "इस रंग बदलती दुनिया में..." जैसे गंभीर गीत गाये है तो वे गीत भी गाये हैं जो शम्मी कपूर के चुलबुले व्यकितत्व से मेल खाते हुये थे। जरा बानगी देखिये, "लाल छडी मैदान खडी...", "ऐ गुलबदन...", "चाहे कोई मुझे जंगली कहे...","सर पे टोपी लाल हाथ में रेशम का रुमाल...", "ये चाँद सा रोशन चेहरा...", "दीवाना हुआ बादल...", या फिर सुरूर से भरा "है दुनिया उसी की ज़माना उसी का, मोहब्बत में जो हो गया हो किसी का..."

शम्मी कपूर एक आकर्षक व्यक्तित्व के मालिक थे। उनका एक विदोही प्रेमी जैसा साहस और करिश्मा देखते ही बनता था। उनका अंदाज उनके समकालीनों से बिलकुल अलग था। उनका मनमौजी मस्त अंदाज़ युवाओं के अलावा बडों को भी बेहद पसंद आया। वे जीवन से भरे हुये इंसान के रूप में दशकों को बेहद लुभाते थे।शम्मी कपूर ने अपने कैरियर की शुरुआत १९५३ में गंभीर रोल से की पर उनको पहचान मिली १९५७ में तुम सा नहीं देखा के रोमांटिक रोल से। इस फिल्म में ग्यारह गीत हैं और वे सभी गीत मोहम्मद रफी ने गाये हैं। इन्हीं सुमधुर गीतों की बदौलत ही शम्मी लाखों करोडों लोगों के दिलों की धडकन बन गयें। ५० से ६० का दौर शम्मी कपूर का सफल दौर माना जाता है।

उस दौर की फिल्मों में रोमांस को शम्मी कपूर ने नयी परिभाषा दी बिलकुल पश्चिमी अंदाज में, जो हिंदी फिल्मों के लिये बिलकुल नया था। शम्मी कपूर युवा उमंग से भरे हुये एक कलाकार के रूप में उभरे जो फिल्म के निर्जीव परदे को अपनी ऊर्जा से भर देते थे। शम्मी कपूर की जिंदादिली और उन पर मोहम्मद रफी की दिलकश आवाज का जादू दशकों के सिर चढ कर बोला और शम्मी की फिल्में लगातार सफल होती चली गई और इस सफलता का सेहरा उनकें मधुर गीतों के कारण काफी हद तक मोहम्मद रफी के सिर बांधा जा सकता है। मोहम्मद रफी की मदमस्त आवाज और शम्मी का चुलबुलापन दोनों जैसे एक दुसरे के पूरक बन गये थे। शम्मी अपनी अदाओं से जो जादू बिखेर देते थे उसका असर आसानी से छूटने वाला नहीं था। आज भी जब हम परदे पर शम्मी कपूर को परदे पर अभिनय करते हुये देखते हैं और मोहम्मद रफी की मखमली आवाज में अवसाद से भरा हुआ यह गीत सुनते हैं "तुम मुझे यूँ भूला न पाओगे..." तो लगता है कुछ चीजें सचमुच कभी न भूलने के लिये बनी हैं और जब वे ऊछलते कूदते हुये शम्मी के किरदार को आत्मसात करते हुये गाते हैं, "तुमसे अच्छा कौन है..." तो हर सुनने वाले चेहरे पर अनायास ही मुस्कान बिखर जाती है।

शम्मी कपूर अपने गीतों को लेकर बेहद सजग रहते थे, गीत के चुनाव, उसके संगीत से लेकर आखिरी फिल्मांकन तक पूरी तरह उसमें डूबे रहते थे। यहाँ तक कि उनका एक गीत "तारीफ करूँ क्या उसकी..." में उन्होंने रफी साहब की आवाज़ के साथ मिलकर एक अनुठा प्रयोग किया, इस गीत में जितनी बार भी "तारीफ" शब्द का प्रयोग हुआ है उसे उतनी ही बार मोहम्मद रफी ने अपने अलग अंदाज में गाया है और उतनी ही बार शम्मी नें उसमें अपने अभिनय की अलग ही छटा बिखेरी है तभी तो यह गीत इतना लाजवाब बन पडा है।

शम्मी कपूर के कई गीत जैसे, "जवानियाँ ये मस्त मस्त बिन पिये...", "जनम जनम का साथ है निभाने को...", "सवेरे वाली गाडी से...", "बतमीज कहो...", "एन ईवनिगं इन पेरिस...", "दीवाना मुझ सा नहीं...", "खुली पलक में झुठा गुस्सा...", "धड़कने लगता है मेरा दिल...", "दिल देके देखों...", "बार-बार देखों..." जैसे जाने कितने बेमिसाल गीतों को मोहम्मद रफी ने अपनी आवाज दी है।

शम्मी कपूर की मदमस्त अदाओं के कारण ही उन्हें भारत का ऐलविस प्रेस्ली कहा जाता था तो वही मोहम्मद रफी साहब को हर तरह के गीत गानें में कुशलता के कारण हरफनमौला कलाकार कहा जाता है और इन दोनों महान कलाकारों की उपस्थिति और उनकी जुगलबंदी भारतीय फिल्मी संगीत को और अधिक जिजीवंतता प्रदान करती है।

सुनते हैं कुछ लाजवाब नग्में इसी शानदार जोड़ी के -



देखते हैं ये विडियो भी फ़िल्म "काश्मीर की कली" का जिसका जिक्र उपर किया गया है-



प्रस्तुति - विपिन चौधरी



The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ