Showing posts with label kajri. Show all posts
Showing posts with label kajri. Show all posts

Sunday, August 12, 2012

वर्षा ऋतु के रंग : लोक-रस-रंग में भीगी कजरी के संग


स्वरगोष्ठी – ८३ में आज
कजरी का लोक-रंग : ‘कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी...’


भारतीय लोक-संगीत के समृद्ध भण्डार में कुछ ऐसी संगीत शैलियाँ हैं, जिनका विस्तार क्षेत्रीयता की सीमा से बाहर निकल कर, राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर हुआ है। उत्तर प्रदेश के वाराणसी और मीरजापुर जनपद तथा उसके आसपास के पूरे पूर्वाञ्चल क्षेत्र में कजरी गीतों की बहुलता है। वर्षा ऋतु के परिवेश और इस मौसम में उपजने वाली मानवीय संवेदनाओं की अभियक्ति में कजरी गीत पूर्ण समर्थ लोक-शैली है। शास्त्रीय और उपशास्त्रीय संगीत के कलासाधकों द्वारा इस लोक-शैली को अपना लिये जाने से कजरी गीत आज राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर सुशोभित है। ‘स्वरगोष्ठी’ के आज के एक नए अंक में, मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-प्रेमियों का स्वागत करता हूँ और प्रस्तुत करता हूँ कजरी गीतों का लोक-स्वरूप। पिछले अंक में आपने कजरी के आभिजात्य स्वरूप का रस-पान किया था। आज के अंक में हम कजरी के लोक-स्वरूप पर चर्चा करेंगे।

कजरी की उत्पत्ति कब और कैसे हुई, यह कहना कठिन है, परन्तु यह तो निश्चित है कि मानव को जब स्वर और शब्द मिले होंगे और जब लोकजीवन को प्रकृति का कोमल स्पर्श मिला होगा, उसी समय से ये सब लोकगीत हमारे बीच हैं। प्राचीन काल से ही उत्तर प्रदेश का मीरजापुर जनपद माँ विंध्यवासिनी के शक्तिपीठ के रूप में आस्था का केन्द्र रहा है। अधिसंख्य प्राचीन कजरियों में शक्तिस्वरूपा देवी का ही गुणगान मिलता है। आज कजरी के वर्ण्य विषय काफी विस्तृत हैं, परन्तु कजरी गीतों के गायन का आरम्भ देवी गीत से ही होता है। हम भी अपनी आज की इस गोष्ठी का आरम्भ एक पारम्परिक देवी गीत से ही करते हैं। ऐसे गीतों में शक्तिस्वरूपा देवी माँ का लौकिक रूप में प्रस्तुतीकरण होता है। मीरजापुर की सुप्रसिद्ध लोक-गायिका उर्मिला श्रीवास्तव के स्वरों में यह देवी गीत प्रस्तुत है-

कजरी देवी गीत : ‘बरखा की आइल बहार हो, मैया मोरी झूलें झुलनवा...’ : उर्मिला श्रीवास्तव



कजरी गीतों का गायन अधिकतर महिलाएँ करतीं हैं। इसे एकल और समूह में प्रस्तुत किया जाता है। समूह में प्रस्तुत की जाने वाली कजरी को ‘ढुनमुनियाँ कजरी’ कहते हैं। पुरुष वर्ग भी कजरी गायन करते हैं, किन्तु इनके मंच अलग होते हैं। वर्षा ऋतु में पूर्वाञ्चल के अनेक स्थानों पर कजरी के दंगल आयोजित होते है, जिनमें कजरी के विभिन्न अखाड़े दल के रूप में भाग लेते है। ऐसे आयोजनों में पुरुष गायक-वादकों के दो दल परस्पर सवाल-जवाब के रूप में कजरी गीत प्रस्तुत करते हैं। लोक-जीवन में प्रस्तुत की जाने वाली कजरियों के विषय वैविध्यपूर्ण होते हैं, परन्तु वर्षाकालीन परिवेश का चित्रण सभी कजरियों में अनिवार्य रूप से मिलता है। अब हम आपको एक ऐसी पारम्परिक कजरी सुनवाते है, जिसमें वर्षाकालीन परिवेश का मोहक चित्रण किया गया है। भोजपुरी और अवधीभाषी क्षेत्रों में यह कजरी आज भी बेहद लोकप्रिय है।

कजरी : ‘घेरि घेरि आई सावन की बदरिया ना...’ : मालाश्री प्रसाद



पारम्परिक कजरियों की धुनें और उनके टेक निर्धारित होते हैं। आमतौर पर कजरियाँ जैतसार, ढुनमुनियाँ, खेमटा, बनारसी और मीरजापुरी धुनों के नाम से पहचानी जाती हैं। कजरियों की पहचान उनके टेक के शब्दों से भी होती है। कजरी के टेक होते हैं- 'रामा', 'रे हरि', 'बलमू', 'साँवर गोरिया', 'ललना', 'ननदी' आदि। कजरी गीतों के विषय पारम्परिक भी होते हैं और अपने समकालीन लोकजीवन का दर्शन कराने वाले भी। ब्रिटिश शासनकाल में अनेक लोकगीतकारों ने ऐसी राष्ट्रवादी कजरियों की रचना की, जिनसे तत्कालीन ब्रिटिश सरकार भी भयभीत हुई थी। इस प्रकार के अनेक लोकगीतों को प्रतिबन्धित कर दिया गया था। इन लोकगीतों के रचनाकारों और गायकों को ब्रिटिश सरकार ने कठोर यातनाएँ भी दीं। परन्तु प्रतिबन्ध के बावजूद लोक-परम्पराएँ जन-जन तक पहुँचती रहीं। इन विषयों पर रची गईं अनेक कजरियों में बलिदानियों को नमन और महात्मा गाँधी के सिद्धांतों को रेखांकित किया गया। ऐसी ही एक कजरी की पंक्तियाँ देखें- "चरखा कातो, मानो गाँधी जी की बतियाँ, विपतिया कटि जइहें ननदी...”। कुछ कजरियों में अंग्रेजों की दमनकारी नीतियों पर प्रहार किया गया। ऐसी ही एक पारम्परिक कजरी की स्थायी की पंक्तियाँ हैं- “कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी...”। इन पंक्तियों में काले बादलों का घिरना, गुलामी के प्रतीक रूप में चित्रित हुआ है। इसके एक अन्तरे की पंक्तियाँ हैं- “केतनो लाठी गोली खइलें, केतनो डामन (अण्डमान का अपभ्रंस) फाँसी चढ़िले, केतनों पीसत होइहें जेहल (जेल) में चकरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी...”। आजादी के बाद कजरी-गायकों ने इस अंतरे को परिवर्तित कर दिया। अब हम आपको परिवर्तित अंतरे के साथ वही कजरी सुनवाते हैं। इस गीत को तृप्ति शाक्य और साथियों ने स्वर दिया है।

कजरी : ‘कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया...’ : तृप्ति शाक्य और साथी



हिन्दी फिल्मों में कजरी गीतों का प्रयोग प्रायः नहीं हुआ है। कई गीतों में कजरी की धुनों का इस्तेमाल अवश्य हुआ है। परन्तु भोजपुरी फिल्मों में कुछ पारम्परिक कजरियों का प्रयोग अवश्य किया गया है। १९६३ में प्रदर्शित भोजपुरी फिल्म 'बिदेशिया' में कजरी शैली का अत्यन्त मौलिक रूप प्रस्तुत किया गया है। इस कजरी गीत की रचना अपने समय के सुप्रसिद्ध लोकगीतकार राममूर्ति चतुर्वेदी ने की थी और इसे संगीतबद्ध किया था एस.एन. त्रिपाठी ने। इस गीत को गायिका गीतादत्त और कौमुदी मजुमदार ने अपने स्वरों से फिल्मों में कजरी गायन को मौलिक स्वरूप दिया है। आप यह मनभावन कजरी सुनिए और मुझे इस अंक से यहीं विराम लेने की अनुमति दीजिए।

कजरी - फिल्म – बिदेशिया : ‘नीक सइयाँ बिन भवनवा नाहीं लागे सखिया...’ : गीतादत्त और कौमुदी मजुमदार



आज की पहेली

‘स्वरगोष्ठी’ में जारी संगीत-पहेली की चौथी श्रृंखला (सेगमेंट) की तीसरी कड़ी यानी आज के अंक में हम आपको वर्षा ऋतु के ही संगीत का एक अंश सुनवाते है। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों का उत्तर देना है। ९०वें अंक तक सर्वाधिक अंक अर्जित करने वाले प्रतिभागी श्रृंखला के विजेता होंगे।



१ - संगीत के इस अंश को सुन कर पहचानिए कि यह रचना किस राग में निबद्ध है?

२ – इस गीत में किस ताल का प्रयोग हुआ है?


आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com पर शनिवार मध्यरात्रि तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के ८५वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से अथवा radioplaybackindia@live.com पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ के ८१वें अंक में हमने आपको बेहद लोकप्रिय कजरी गीत का एक अंतरा सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- कजरी और दूसरे का उत्तर है- पं. विद्याधर मिश्र। दोनों प्रश्नों के सही उत्तर मीरजापुर (उ.प्र.) के डॉ. पी.के. त्रिपाठी और जबलपुर की क्षिति तिवारी ने दिया है। लखनऊ के प्रकाश गोविन्द ने शैली का नाम तो सही पहचाना किन्तु गायक का नाम पहचानने में भूल की। उन्हें एक अंक से ही सन्तोष करना होगा। सभी विजेताओं को रेडियो प्लेबैक इण्डिया की ओर से हार्दिक बधाई।


झरोखा अगले अंक का


‘स्वरगोष्ठी’ में इन दिनों वर्षा ऋतु के संगीत की रस-वर्षा जारी है। हमारा अगला अंक वर्षाकालीन संगीत का समापन अंक होगा। इस अंक में हम भारतीय संगीत के कुछ मिले-जुले रागों पर चर्चा करेंगे। अगले रविवार को प्रातः ९=३० बजे आप और हम ‘स्वरगोष्ठी’ के एक नये अंक में पुनः मिलेंगे। तब तक के लिए हमें विराम लेने की अनुमति दीजिए।


कृष्णमोहन मिश्र

Sunday, August 5, 2012

वर्षा ऋतु के रंग : उपशास्त्रीय रस-रंग में भीगी कजरी के संग

  
   
स्वरगोष्ठी – ८२ में आज

विदुषी प्रभा अत्रे ने गायी कजरी - ‘घिर के आई बदरिया राम, सइयाँ बिन सूनी नगरिया हमार...’

आज भारतीय पञ्चाङ्ग के अनुसार भाद्रपद मास, कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि है। इस दिन पूरे उत्तर भारत की महिलाएँ कजली तीज नामक पर्व मनातीं हैं। उत्तर प्रदेश के पूर्वाञ्चल और बिहार के तीन चौथाई हिस्से में यह इस पर्व के साथ कजरी गीतों का गायन भी जुड़ा हुआ है। वर्षा ऋतु में गायी जाने वाली लोक संगीत की यह शैली उपशास्त्रीय संगीत से जुड़ कर देश-विदेश में अत्यन्त लोकप्रिय हो चुकी है।

पावस ऋतु ने अनादि काल से ही जनजीवन को प्रभावित किया है। ग्रीष्म ऋतु के प्रकोप से तप्त और शुष्क मिट्टी पर जब वर्षा की रिमझिम फुहारें पड़ती हैं तो मानव-मन ही नहीं पशु-पक्षी और वनस्पतियाँ भी लहलहा उठती है। विगत चार सप्ताह से हमने आपसे वर्षा ऋतु में गाये-बजाये जाने वाले मल्हार अंग के रागों पर चर्चा की है। आज ‘स्वरगोष्ठी’ के एक नए अंक में हम आपसे मल्हार अंग के रागों पर नहीं, बल्कि वर्षा ऋतु के अत्यन्त लोकप्रिय लोक-संगीत- कजरी अथवा कजली पर चर्चा करेंगे। मूल रूप से कजरी लोक-संगीत की विधा है, किन्तु उन्नीसवीं शताब्दी के आरम्भ में जब बनारस (अब वाराणसी) के संगीतकारों ने ठुमरी को एक शैली के रूप में अपनाया, उसके पहले से ही कजरी परम्परागत लोकशैली के रूप विद्यमान रही। उपशास्त्रीय संगीत के रूप में अपना लिये जाने पर कजरी, ठुमरी का एक अटूट हिस्सा बनी। इस प्रकार कजरी का मूल लोक-संगीत का स्वररोप और ठुमरी के साथ रागदारी संगीत का हिस्सा बने स्वरूप का समानान्तर विकास हुआ। अगले अंक में हमारी चर्चा का विषय कजरी का लोक-स्वरूप होगा, किन्तु आज के अंक में हम आपसे कजरी के रागदारी संगीत के कलासाधकों द्वारा अपनाए गए स्वरूप पर चर्चा करेंगे। आज की संगोष्ठी का प्रारम्भ हम देश की सुविख्यात गायिका विदुषी (पद्मभूषण) डॉ. प्रभा अत्रे के स्वर में प्रस्तुत एक मोहक कजरी से करते हैं। इस कजरी में वर्षा ऋतु के चित्रण के साथ विरहिणी नायिका के मनोभावों उकेरा गया है। कजरी में लोक-तत्वों की सार्थक अभिव्यक्ति के साथ राग मिश्र पीलू का अनूठा रंग भी घुला है। इसके बोल हैं- ‘घिर के आई बदरिया राम, सइयाँ बिन सूनी नगरिया हमार...’। दादरा ताल में निबद्ध और कहरवा की लग्गी-लड़ी से अलंकृत इस कजरी का रसास्वादन आप करें-

कजरी : ‘घिर के आई बदरिया राम...’ : स्वर - डॉ. प्रभा अत्रे



मूलतः लोक-परम्परा से विकसित कजरी आज गाँव के चौपाल से लेकर प्रतिष्ठित शास्त्रीय मंचों पर सुशोभित है। कजरी-गायकी को ऊँचाई पर पहुँचाने में अनेक लोक-कवियों, साहित्यकारों और संगीतज्ञों का स्तुत्य योगदान है। कजरी गीतों की प्राचीनता पर विचार करते समय जो सबसे पहला उदाहरण हमें उपलब्ध है, वह है- तेरहवीं शताब्दी में हज़रत अमीर खुसरो रचित कजरी-‘अम्मा मोरे बाबा को भेजो जी कि सावन आया...’। अन्तिम मुगल बादशाह बहादुरशाह जफर की एक रचना- ‘झूला किन डारो रे अमरैया...’, आज भी गायी जाती है। कजरी को समृद्ध करने में कवियों और संगीतज्ञों योगदान रहा है। भोजपुरी के सन्त कवि लक्ष्मीसखि, रसिक किशोरी, शायर सैयद अली मुहम्मद ‘शाद’, हिन्दी के कवि अम्बिकादत्त व्यास, श्रीधर पाठक, द्विज बलदेव, बदरीनारायण उपाध्याय ‘प्रेमधन’ की कजरी रचनाएँ उच्चकोटि की हैं। भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने तो ब्रज, भोजपुरी के अलावा संस्कृत में भी कजरियों की रचना की है। भारतेन्दु की कजरियाँ विदुषी गिरिजा देवी आज भी गाती हैं। कवियों और शायरों के अलावा कजरी को प्रतिष्ठित करने में अनेक संगीतज्ञों की स्तुत्य भूमिका रही है। वाराणसी की संगीत परम्परा में बड़े रामदास जी का नाम पूरे आदर और सम्मान के साथ लिया जाता है। उन्होने भी अनेक कजरियों की रचना की थी। अब हम आपको बड़े रामदास जी द्वारा रचित एक कजरी का रसास्वादन कराते है। इस कजरी को प्रस्तुत कर रहे हैं- उन्हीं के प्रपौत्र और गायक पण्डित विद्याधर मिश्र। दादरा ताल में निबद्ध इस कजरी के बोल है- ‘बरसन लागी बदरिया रूम-झूम के...’

कजरी : ‘बरसन लागी बदरिया रूम-झूम के...’ : स्वर – पण्डित विद्याधर मिश्र



कजरी गीतों के सौन्दर्य से केवल गायक ही नहीं, वादक कलाकार भी प्रभावित रहे हैं। अनेक वादक कलाकार आज भी वर्षा ऋतु में अपनी रागदारी संगीत-प्रस्तुतियों का समापन कजरी धुन से करते हैं। सुषिर वाद्यों पर तो कजरी की धुन इतनी कर्णप्रिय होती है कि श्रोता मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ की शहनाई पर तो कजरी ऐसी बजती थी, मानो कजरी की उत्पत्ति ही शहनाई के लिए हुई हो। आज हम आपको देश के दो दिग्गज कलसाधकों की अनूठी जुगलबन्दी सुनवाते हैं। सुविख्यात गायिका विदुषी गिरिजा देवी के गायन और उस्ताद अमजद अली खाँ के सरोद-वादन की इस अविस्मरणीय जुगलबन्दी एक रसभरी बनारसी कजरी- ‘झिर झिर बरसे सावन बुँदिया अब बरखा बहार आई गइले ना...’ के साथ हुई है। लीजिए, आप भी यह आकर्षक जुगलबन्दी सुनिए।

जुगलबन्दी : कजरी गायन और सरोद वादन : विदुषी गिरिजा देवी और उस्ताद अमजद अली खाँ



भारतीय फिल्मों का संगीत आंशिक रूप से ही सही, अपने समकालीन संगीत से प्रभावित रहा है। कुछेक फिल्मों में ही कजरी गीतों का प्रयोग हुआ है। फिल्म ‘बड़े घर की बेटी’ में पारम्परिक मीरजापुरी कजरी का इस्तेमाल तो किया गया, किन्तु इस ठेठ भोजपुरी कजरी को राजस्थानी कजरी का रूप देने का असफल प्रयास किया गया है। इसे अलका याज्ञिक और मोहम्मद अज़ीज़ ने स्वर दिया है। फिल्म में संगीत लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल का है। अब आप फिल्म ‘बड़े घर की बेटी’ की इसी कजरी गीत का रसास्वादन कीजिए।

फिल्मी कजरी : ‘मने सावन में झूलनी गढ़ाय द s पिया...’ : फिल्म ‘बड़े घर की बेटी’



आज की पहेली

आज की ‘संगीत-पहेली’ में हम आपको भोजपुरी, अवधी, ब्रज और बुन्देलखण्ड क्षेत्रों में बेहद लोकप्रिय एक गीत का अन्तरा सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको हमारे दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के ९०वें अंक तक सर्वाधिक अंक अर्जित करने वाले पाठक-श्रोता हमारी चौथी श्रृंखला (सेगमेंट) के ‘विजेता’ होंगे।


१_ आपने बेहद लोकप्रिय गीत का यह अन्तरा सुना। आपको इस गीत के स्थायी अर्थात मुखड़े की पंक्ति लिख भेजना है।

२_ इस गीत में किस ताल (या किन तालों) का प्रयोग हुआ है? प्रयोग किए गए ताल का नाम बताइए।


आप अपने उत्तर हमें तत्काल swargoshthi@gmail.com पर भेजें। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के ८४ वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं। हमसे सीधे सम्पर्क के लिए swargoshthi@gmail.com पर अपना सन्देश भेज सकते हैं।

पिछली पहेली के उत्तर और तीसरे सेगमेंट के विजेता

‘स्वरगोष्ठी’ के ८०वें अंक की पहेली में हमने आपको १९६७ की फिल्म ‘रामराज्य’ का एक गीत सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग सूर मल्हार और दूसरे का सही उत्तर है- संगीतकार बसन्त देसाई। दोनों प्रश्नों के सही उत्तर लखनऊ के प्रकाश गोविन्द, जबलपुर की क्षिति तिवारी और मीरजापुर (उ.प्र.) के डॉ. पी.के. त्रिपाठी ने दिया है। इन्हें मिलते हैं २-२ अंक। तीनों प्रतिभागियों को रेडियो प्लेबैक इण्डिया की ओर से हार्दिक बधाई। तीसरी श्रृंखला (सेगमेंट) के अन्त में पहेली के प्रतिभागियों के प्राप्तांक इस प्रकार रहे।

१– क्षिति तिवारी, जबलपुर – २०

२- डॉ. पी.के. त्रिपाठी, मीरजापुर – १४

३– अर्चना टण्डन, पटना – ९

४– प्रकाश गोविन्द, लखनऊ – ८

५- अभिषेक मिश्रा, वाराणसी – २

५– अखिलेश दीक्षित, मुम्बई – २

५– दीपक मशाल, बेलफास्ट (यू.के.) – २

इस प्रकार जबलपुर, मध्य प्रदेश की श्रीमती क्षिति तिवारी संगीत-पहेली की तीसरी श्रृंखला (सेगमेंट) में सर्वाधिक २० अंक अर्जित कर विजेता बनीं हैं। १४ अंक प्राप्त कर मीरजापुर, उत्तर प्रदेश के डॉ. पी.के. त्रिपाठी ने दूसरा स्थान और ९ अंक पाकर पटना, बिहार की सुश्री अर्चना टण्डन ने तीसरा स्थान प्राप्त किया है। इस संगीत-पहेली को हमने १०-१० कड़ियों की ५ श्रृंखलाओं में बाँटा था और घोषित किया था कि वर्ष के अन्त में यानी १००वें अंक तक जो प्रतियोगी पाँच में से सर्वाधिक श्रृंखला के विजेता होंगे, उन्हें ‘महाविजेता’ के रूप में पुरस्कृत किया जाएगा। हमारी प्रतियोगी क्षिति तिवारी न केवल तीसरी श्रृंखला, बल्कि पहली और दूसरी श्रृंखला जीत कर ‘महाविजेता’ बन गई हैं। परन्तु हम प्रतियोगिता को यहीं विराम नहीं दे रहे हैं। हमें दूसरे और तीसरे स्थान के उपविजेताओ को भी पुरस्कृत करना है, इसलिए यह प्रतियोगिता पाँचवीं श्रृंखला तक जारी रहेगी। आप सब पूर्ववत संगीत-पहेली में भाग लेते रहिए और उलझनों को सुलझाते रहिए।

झरोखा अगले अंक का

मित्रों, ‘स्वरगोष्ठी’ के आज के अंक में हमने वर्षा ऋतु की अत्यन्त लोकप्रिय शैली ‘कजरी’ के विषय में आपसे चर्चा की है। अगले अंक में इसी शैली के एक अन्य स्वरूप पर आपसे चर्चा करेंगे। ‘स्वरगोष्ठी’ के कई संगीत-प्रेमी और कलासाधक स्वयं अपना और अपनी पसन्द का आडियो हमें निरन्तर भेज रहे है और हम विभिन्न कड़ियों में हम उनका इस्तेमाल भी कर रहे है। यदि आपको कोई संगीत-रचना प्रिय हो और आप उसे सुनना चाहते हों तो आज ही अपनी फरमाइश हमें मेल कर दें। इसके साथ ही यदि आप इनसे सम्बन्धित आडियो ‘स्वरगोष्ठी’ के माध्यम से संगीत-प्रेमियों के बीच साझा करना चाहते हों तो अपना आडियो क्लिप MP3 रूप में भेज दें। हम आपकी फरमाइश को और आपके भेजे आडियो क्लिप को ‘स्वरगोष्ठी’ आगामी किसी अंक में शामिल करने का हर-सम्भव प्रयास करेंगे। अगले रविवार को प्रातः ९-३० पर आयोजित अपनी इस गोष्ठी में आप हमारे सहभागी बनिए। हमें आपकी प्रतीक्षा रहेगी।

कृष्णमोहन मिश्र

Sunday, August 7, 2011

सुर संगम में आज - जारी है लोक संगीत शैली कजरी पे चर्चा

सुर संगम - 32 -लोक संगीत शैली "कजरी" (अंतिम भाग)

कजरी गीतों में प्रकृति का चित्रण, लौकिक सम्बन्ध, श्रृंगार और विरह भाव का वर्णन ही नहीं होता; बल्कि समकालीन सामाजिक, राजनीतिक घटनाओं का चित्रण भी प्रायः मिलता है|
"केतने पीसत होइहें जेहल में चकरिया..." - कजरी गीतों के जरिए स्वतंत्रता का संघर्ष

शास्त्रीय और लोक संगीत के इस साप्ताहिक स्तम्भ "सुर संगम" के आज के अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत प्रेमियों का स्वागत करता हूँ| पिछले अंक में हमने आपसे देश के पूर्वांचल की अत्यन्त लोकप्रिय लोक-संगीत-शैली "कजरी" के बारे में कुछ जानकारी बाँटी थी| आज दूसरे भाग में हम उस चर्चा को आगे बढ़ाते हैं| पिछले अंक में हमने "कजरी" के वर्ण्य विषय और महिलाओं द्वारा प्रस्तुत की जाने वाली कजरियों के विभिन्न प्रकार की जानकारी आपसे बाँटी थी| मूलतः "कजरी" महिला प्रधान गायकी ही है| "कजरी" गीतों में कोमल भावों और लोक-जीवन की जैसी अभिव्यक्ति होती है उससे यह महिला प्रधान गायन शैली के रूप में ही स्थापित है| परन्तु ब्रज के सखि सम्प्रदाय के प्रभाव और उन्नीसवीं शताब्दी में उपशास्त्रीय संगीत का हिस्सा बन जाने के कारण पुरुष वर्ग द्वारा भी अपना लिया गया| बनारस (अब वाराणसी) के जिन संगीतज्ञों का ठुमरी के विकास में योगदान रहा है, उन्होंने "कजरी" को भी उप्शास्त्रीयता का रंग दिया| "कजरी" को प्रतिष्ठित करने में बनारस के उच्चकोटि के संगीतज्ञ बड़े रामदास जी का योगदान अविस्मरणीय है| इन्ही बड़े रामदास जी के प्रपौत्र पण्डित विद्याधर मिश्र ने उपशास्त्रीय अंग में कजरी गायन की परम्परा को जारी रखा है| (बड़े रामदास जी के पौत्र और विद्याधर मिश्र के पिता पं. गणेशप्रसाद मिश्र के स्वरों में आप "सुर संगम" के 28 वें अंक में टप्पा गायन सुन चुके हैं) आइए; यहाँ थोड़ा रुक कर, बड़े रामदास जी की कजरी रचना -"बरसन लागी बदरिया रूमझूम के..." उपशास्त्रीय अन्दाज़ में सुनते हैं; स्वर पण्डित विद्याधर मिश्र का है-

कजरी - "बरसन लागी बदरिया रूमझूम के..." गायक - विद्याधर मिश्र

सुनिए यहाँ

कजरी गीतों में प्रकृति का चित्रण, लौकिक सम्बन्ध, श्रृंगार और विरह भाव का वर्णन ही नहीं होता; बल्कि समकालीन सामाजिक, राजनीतिक घटनाओं का चित्रण भी प्रायः मिलता है| ब्रिटिश शासनकाल में राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत अनेक कजरी गीतों की रचना की गई| बीसवीं शताब्दी के प्रारम्भ में पूरे देश में ब्रिटिश शासन के विरुद्ध जन-चेतना का जो विस्तार हुआ उससे "कजरी" शैली भी अछूती नहीं रही| अनेक लोकगीतकारों ने ऐसी अनेक राष्ट्रवादी कजरियों की रचना की जिनसे तत्कालीन ब्रिटिश सरकार भयभीत हुई और ऐसे अनेक लोक गीतों को प्रतिबन्धित कर दिया| इन लोकगीतों के रचनाकारों और गायकों को ब्रिटिश सरकार ने कठोर यातनाएँ भी दीं| परन्तु प्रतिबन्ध के बावजूद लोक परम्पराएँ जन-जन तक पहुँचती रहीं| इन विषयों पर रची गईं अनेक कजरियों में महात्मा गाँधी के सिद्धांतों को रेखांकित किया गया| ऐसी ही एक कजरी की पंक्तियाँ देखें -"चरखा कातो, मानो गाँधी जी की बतियाँ, विपतिया कटि जइहें ननदी..."| कुछ कजरियों में अंग्रेजों की दमनकारी नीतियों पर प्रहार किया गया| ऐसी ही एक कजरी आज हम आपको सुनवाते हैं| इस कजरी की स्थायी की पंक्तियाँ बिल्कुल सामान्य कजरी की भाँति है, किन्तु एक अन्तरे में लोकगीतकार ने अंगेजों की दमनात्मक नीतियों को रेखांकित किया है| मूल गीत की पंक्तियाँ हैं -"कैसे खेले जईबू सावन में कजरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी..."| इन पंक्तियों में काले बादलों का घिरना, गुलामी के प्रतीक रूप में चित्रित हुआ है| अन्तरे की पंक्तियाँ हैं -

"केतनो लाठी गोली खईलें, केतनो डामन फाँसी चढ़ीलें,
केतनों पीसत होइहें जेहल में चकरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी..."|

कजरी का यह अन्तरा गाते समय बड़ी चतुराई से अन्य सामान्य भाव वाले अन्तरों के बीच जोड़ दिया जाता था| ऐसा माना जाता है कि मूल कजरी की रचना जहाँगीर नामक लोकगीतकार ने की थी; किन्तु इसके प्रतिबन्धित अन्तरे के रचनाकार का नाम अज्ञात ही है| यह कजरी स्वतंत्रता से पूर्व विभिन्न क्षेत्रों में अलग-अलग क्षेरीय बोलियों में प्रचलित थी| हम आपको इस कजरी के दो संस्करण सुनवाते है| पहला संस्करण लोकगायक मोहम्मद कलीम के स्वरों में है| इसे कजरी का पछाहीं संस्करण कहा जाता है| दूसरा संस्करण मीरजापुरी कजरी के रूप में है|

कजरी : "कैसे खेलन जइयो सावन मा कजरिया, बदरिया घिरी आई गोरिया..." : स्वर - मोहम्मद कलीम

कजरी : "कैसे खेलै जाबे सावन में कजरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी..." : समूह स्वर

वर्तमान समय में लोकगीतों का प्रचलन धीरे-धीरे लुप्त हो रहा है| ऐसे में पूर्वांचल की अन्य लोक शैलियों की तुलना में "कजरी" की स्थिति कुछ बेहतर है| नई पीढी को इस सशक्त लोक गायन शैली से परिचित कराने में कुछेक संस्थाएँ और कुछ कलाकार आज भी सलग्न हैं| राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय सांस्कृतिक संगठन संस्कार भारती ने कुछ वर्ष पूर्व मीरजापुर में "कजरी महोत्सव" का आयोजन किया था| यह संगठन समय-समय पर नई पीढी के लिए कजरी प्रशिक्षण की कार्यशालाएँ भी आयोजित करता है| उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी की ओर से भी विदुषी कमला श्रीवास्तव के निर्देशन में कार्यशालाएँ आयोजित होती रहती है| मीरजापुर की सुप्रसिद्ध कजरी गायिका उर्मिला श्रीवास्तव ने गुरु-शिष्य परम्परा के अन्तर्गत नई पीढी के कई गायक-गायिकाओं को तैयार किया है और आज भी इस कार्य में संलग्न हैं| आइए अब हम उर्मिला श्रीवास्तव के स्वरों में सुनते हैं एक परम्परागत कजरी -

कजरी : "हमके सावन में झुलनी गढ़ाई दे पिया..." : स्वर - उर्मिला श्रीवास्तव

पारम्परिक कजरियों की धुनें और उनके टेक निर्धारित होते हैं| आमतौर पर कजरियाँ जैतसार, ढुनमुनियाँ, खेमटा, बनारसी और मीरजापुरी धुनों के नाम से पहचानी जाती हैं| कजरियों की पहचान उनके टेक के शब्दों से भी होती है| कजरी के टेक होते हैं- 'रामा', 'रे हरि', 'बलमू', 'साँवर गोरिया', 'ललना', 'ननदी' आदि| आइए हम एक बार फिर फिल्म संगीत में "कजरी" के प्रयोग पर चर्चा करते हैं| पिछले भाग में हमने आपको भोजपुरी फिल्म "विदेसिया" से महिलाओं द्वारा समूह में गायी जाने वाली मीरजापुरी कजरी का रसास्वादन कराया था| आज की फ़िल्मी कजरी भी भोजपुरी फिल्म से ही है| 1964 में प्रदर्शित फिल्म "नैहर छुटल जाय" में गायक मन्ना डे ने एक परम्परागत बनारसी कजरी का गायन किया था| इसके संगीतकार जयदेव ने कजरी की परम्परागत धुन में बिना कोई काट-छाँट किये प्रस्तुत किया था| आप सुनिए श्रृंगार रस से अभिसिंचित यह फ़िल्मी कजरी और मैं कृष्णमोहन मिश्र आपसे यहीं विराम लेने की अनुमति चाहता हूँ| आपके सुझावों की हमें प्रतीक्षा रहेगी|

कजरी : "अरे रामा रिमझिम बरसेला पनियाँ..." : फिल्म - नैहर छुटल जाए : स्वर : मन्ना डे

सुर-संगम का आगामी अंक होगा ख़ास, इसलिए हमने सोचा है की उस अंक के बारे में कोई पहेली नहीं पूछी जाएगी| आगामी अंक में हम श्रद्धा सुमन अर्पित करेंगे महान कविगुरू श्री रबींद्रनाथ ठाकुर को जिनकी श्रावण माह की २२वीं तिथि यानी कल ८ अगस्त को पुण्यतिथि है|

पिछ्ली पहेली का परिणाम: अमित जी को एक बार फिर से बधाई!!!
अब समय आ चला है आज के 'सुर-संगम' के अंक को यहीं पर विराम देने का। आशा है आपको यह प्रस्तुति पसन्द आई। हमें बताइये कि किस प्रकार हम इस स्तंभ को और रोचक बना सकते हैं!आप अपने विचार व सुझाव हमें लिख भेजिए oig@hindyugm.com के ई-मेल पते पर। शाम ६:३० बजे कृष्णमोहन जी के साथ 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल में पधारना न भूलिएगा, नमस्कार!


प्रस्तुति - सुमित चक्रवर्ती

आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, July 31, 2011

"नीक सैयाँ बिन भवनवा नाहीं लागे सखिया..." - रिमझिम फुहारों के बीच श्रृंगार रस में पगी कजरी

सुर संगम - 31 -लोक संगीत शैली "कजरी" (प्रथम भाग)

महिलाओं द्वारा समूह में प्रस्तुत की जाने वाली कजरी को "ढुनमुनियाँ कजरी" कहा जाता है| भारतीय पञ्चांग के अनुसार भाद्रपद मास, कृष्णपक्ष की तृतीया (इस वर्ष 16 अगस्त) को सम्पूर्ण पूर्वांचल में "कजरी तीज" पर्व धूम-धाम से मनाया जाता है|

शास्त्रीय और लोक संगीत के प्रति समर्पित साप्ताहिक स्तम्भ "सुर संगम" के आज के अंक में हम लोक संगीत की मोहक शैली "कजरी" अथवा "कजली" से अपने मंच को सुशोभित करने जा रहे हैं| पावस ने अनादि काल से ही जनजीवन को प्रभावित किया है| लोकगीतों में तो वर्षा-वर्णन अत्यन्त समृद्ध है| हर प्रान्त के लोकगीतों में वर्षा ऋतु को महत्त्वपूर्ण स्थान प्राप्त है| उत्तर प्रदेश के प्रचलित लोकगीतों में ब्रज का मलार, पटका, अवध की सावनी, बुन्देलखण्ड का राछरा, तथा मीरजापुर और वाराणसी की "कजरी"; लोक संगीत के इन सब प्रकारों में वर्षा ऋतु का मोहक चित्रण मिलता है| इन सब लोक शैलियों में "कजरी" ने देश के व्यापक क्षेत्र को प्रभावित किया है| "कजरी" की उत्पत्ति कब और कैसे हुई; यह कहना कठिन है, परन्तु यह तो निश्चित है कि मानव को जब स्वर और शब्द मिले होंगे और जब लोकजीवन को प्रकृति का कोमल स्पर्श मिला होगा, उसी समय से लोकगीत हमारे बीच हैं| प्राचीन काल से ही उत्तर प्रदेश का मीरजापुर जनपद माँ विंध्यवासिनी के शक्तिपीठ के रूप में आस्था का केन्द्र रहा है| अधिसंख्य प्राचीन कजरियों में शक्तिस्वरूपा देवी का ही गुणगान मिलता है| आज "कजरी" के वर्ण्य-विषय काफी विस्तृत हैं, परन्तु "कजरी" गायन का प्रारम्भ देवी गीत से ही होता है|

"कजरी" के वर्ण्य-विषय ने जहाँ एक ओर भोजपुरी के सन्त कवि लक्ष्मीसखी, रसिक किशोरी आदि को प्रभावित किया, वहीं हजरत अमीर खुसरो, बहादुर शाह ज़फर, सुप्रसिद्ध शायर सैयद अली मुहम्मद 'शाद', हिन्दी के कवि अम्बिकादत्त व्यास, श्रीधर पाठक, द्विज बलदेव, बदरीनारायण उपाध्याय 'प्रेमधन' आदि भी "कजरी" के आकर्षण मुक्त न हो पाए| यहाँ तक कि भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने भी अनेक कजरियों की रचना कर लोक-विधा से हिन्दी साहित्य को सुसज्जित किया| साहित्य के अलावा इस लोकगीत की शैली ने शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में भी अपनी आमद दर्ज कराई| उन्नीसवीं शताब्दी में उपशास्त्रीय शैली के रूप में ठुमरी की विकास-यात्रा के साथ-साथ कजरी भी इससे जुड़ गई| आज भी शास्त्रीय गायक-वादक, वर्षा ऋतु में अपनी प्रस्तुति का समापन प्रायः "कजरी" से ही करते है| कजरी के उपशास्त्रीय रूप का परिचय देने के लिए हमने अपने समय की सुप्रसिद्ध गायिका रसूलन बाई के स्वरों में एक रसभरी "कजरी" -"तरसत जियरा हमार नैहर में..." का चुनाव किया है| यह लोकगीतकार छबीले की रचना है; जिसे रसूलन बाई ने ठुमरी के अन्दाज में प्रस्तुत किया है| इस "कजरी" की नायिका अपने मायके में ही दिन व्यतीत कर रही है, सावन बीतने ही वाला है और वह विरह-व्यथा से व्याकुल होकर अपने पिया के घर जाने को उतावली हो रही है| लीजिए, आप भी सुनिए यह कजरी गीत -

कजरी -"तरसत जियरा हमार नैहर में..." - गायिका : रसूलन बाई


मूलतः "कजरी" महिलाओं द्वारा गाया जाने वाला लोकगीत है| परिवार में किसी मांगलिक अवसर पर महिलाएँ समूह में कजरी-गायन करतीं हैं| महिलाओं द्वारा समूह में प्रस्तुत की जाने वाली कजरी को "ढुनमुनियाँ कजरी" कहा जाता है| भारतीय पञ्चांग के अनुसार भाद्रपद मास, कृष्णपक्ष की तृतीया (इस वर्ष 16 अगस्त) को सम्पूर्ण पूर्वांचल में "कजरी तीज" पर्व धूम-धाम से मनाया जाता है| इस दिन महिलाएँ व्रत करतीं है, शक्तिस्वरूपा माँ विंध्यवासिनी का पूजन-अर्चन करती हैं और "रतजगा" (रात्रि जागरण) करते हुए समूह बना कर पूरी रात कजरी-गायन करती हैं| ऐसे आयोजन में पुरुषों का प्रवेश वर्जित होता है| यद्यपि पुरुष वर्ग भी कजरी गायन करता है; किन्तु उनके आयोजन अलग होते हैं, जिसकी चर्चा हम आगे करेंगे| "कजरी" के विषय परम्परागत भी होते हैं और अपने समकालीन लोकजीवन का दर्शन कराने वाले भी| अधिकतर कजरियों में श्रृंगार रस (संयोग और वियोग) की प्रधानता होती है| कुछ "कजरी" परम्परागत रूप से शक्तिस्वरूपा माँ विंध्यवासिनी के प्रति समर्पित भाव से गायी जाती है| भाई-बहन के प्रेम विषयक कजरी भी सावन मास में बेहद प्रचलित है| परन्तु अधिकतर "कजरी" ननद-भाभी के सम्बन्धों पर केन्द्रित होती हैं| ननद-भाभी के बीच का सम्बन्ध कभी कटुतापूर्ण होता है तो कभी अत्यन्त मधुर भी होता है| दोनों के बीच ऐसे ही मधुर सम्बन्धों से युक्त एक "कजरी" अब हम आपको सुनवाते हैं, जिसे केवल महिलाओं द्वारा समूह में गायी जाने वाली "कजरी" के रूप प्रस्तुत किया गया है| इस "कजरी" को स्वर दिया है- सुप्रसिद्ध शास्त्रीय गायिका विदुषी गिरिजा देवी, प्रभा देवी, डाली राहुत और जयता पाण्डेय ने| आप भी सुनिए; यह मोहक कजरी गीत-

समूह कजरी -"घरवा में से निकली ननद भौजाई ..." - गिरिजा देवी, प्रभा देवी, डाली राहुत व जयता पाण्डेय


"कजरी" गीत का एक प्राचीन उदाहरण तेरहवीं शताब्दी का, आज भी न केवल उपलब्ध है, बल्कि गायक कलाकार इस "कजरी" को अपनी प्रस्तुतियों में प्रमुख स्थान देते हैं| यह "कजरी" हजरत अमीर खुसरो की बहुप्रचलित रचना है, जिसकी पंक्तियाँ हैं -"अम्मा मेरे बाबा को भेजो जी कि सावन आया..." | अन्तिम मुग़ल बादशाह बहादुरशाह ज़फर की एक रचना -"झूला किन डारो रे अमरैयाँ..." भी बेहद प्रचलित है| भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की कई कजरी रचनाओं को विदुषी गिरिजादेवी आज भी गातीं हैं| भारतेन्दु ने ब्रज और भोजपुरी के अलावा संस्कृत में भी कजरी-रचना की है| एक उदाहरण देखें -"वर्षति चपला चारू चमत्कृत सघन सुघन नीरे | गायति निज पद पद्मरेणु रत, कविवर हरिश्चन्द्र धीरे |" लोक संगीत का क्षेत्र बहुत व्यापक होता है| साहित्यकारों द्वारा अपना लिये जाने के कारण कजरी-गायन का क्षेत्र भी अत्यन्त व्यापक हो गया| इसी प्रकार उपशास्त्रीय गायक-गायिकाओं ने भी "कजरी" को अपनाया और इस शैली को रागों का बाना पहना कर क्षेत्रीयता की सीमा से बाहर निकाल कर राष्ट्रीयता का दर्ज़ा प्रदान किया| शास्त्रीय वादक कलाकारों ने "कजरी" को सम्मान के साथ अपने साजों पर स्थान दिया, विशेषतः सुषिर वाद्य के कलाकारों ने| सुषिर वाद्यों; शहनाई, बाँसुरी, क्लेरेनेट आदि पर कजरी की धुनों का वादन अत्यन्त मधुर अनुभूति देता है| "भारतरत्न" सम्मान से अलंकृत उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ की शहनाई पर तो "कजरी" और अधिक मीठी हो जाती थी| यही नहीं मीरजापुर की सुप्रसिद्ध कजरी गायिका उर्मिला श्रीवास्तव आज भी अपने कार्यक्रम में क्लेरेनेट की संगति अवश्य करातीं हैं| आइए अब हम आपको सुषिर वाद्य बाँसुरी पर कजरी धुन सुनवाते हैं, जिसे सुप्रसिद्ध बाँसुरी वादक पण्डित पन्नालाल घोष ने प्रस्तुत किया है-

बाँसुरी पर कजरी धुन : वादक - पन्नालाल घोष


ऋतु प्रधान लोक-गायन की शैली "कजरी" का फिल्मों में भी प्रयोग किया गया है| हिन्दी फिल्मों में "कजरी" का मौलिक रूप कम मिलता है, किन्तु 1963 में प्रदर्शित भोजपुरी फिल्म "बिदेसिया" में इस शैली का अत्यन्त मौलिक रूप प्रयोग किया गया है| इस कजरी गीत की रचना अपने समय के जाने-माने लोकगीतकार राममूर्ति चतुर्वेदी ने और संगीतबद्ध किया है एस.एन. त्रिपाठी ने| यह गीत महिलाओं द्वारा समूह में गायी जाने वाली "ढुनमुनिया कजरी" शैली में मौलिकता को बरक़रार रखते हुए प्रस्तुत किया गया है| इस कजरी गीत को गायिका गीत दत्त और कौमुदी मजुमदार ने अपने स्वरों से फिल्मों में कजरी के प्रयोग को मौलिक स्वरुप दिया है| आप यह मर्मस्पर्शी "कजरी" सुनिए और मैं कृष्णमोहन मिश्र आपसे "कजरी लोक गायन शैली" के प्रथम भाग को यहीं पर विराम देने की अनुमति चाहता हूँ| अगले रविवार को इस श्रृंखला का दूसरा भाग लेकर पुनः उपस्थित रहूँगा|

"नीक सैंयाँ बिन भवनवा नाहीं लागे सखिया..." : फिल्म - बिदेसिया : गीता दत्त, कौमुदी मजुमदार व साथी


और अब बारी है इस कड़ी की पहेली की जिसका आपको देना होगा उत्तर तीन दिनों के अंदर इसी प्रस्तुति की टिप्पणी में। प्रत्येक सही उत्तर के आपको मिलेंगे ५ अंक। 'सुर-संगम' की ५०-वीं कड़ी तक जिस श्रोता-पाठक के हो जायेंगे सब से अधिक अंक, उन्हें मिलेगा एक ख़ास सम्मान हमारी ओर से।

पहेली: सुर-संगम के २८वें अंक में हमने आपको पंडित गणेश प्रसाद मिश्र की आवाज़ में "टप्पा" सुनाया था| आगामी अंक में हम आपको सुनवाएँगे उनके दादा जी की आवाज़ में कजरी| आपको बताना है उनका नाम|

पिछ्ली पहेली का परिणाम: अमित जी को एक बार फिर से बधाई!!!
अब समय आ चला है आज के 'सुर-संगम' के अंक को यहीं पर विराम देने का। आशा है आपको यह प्रस्तुति पसन्द आई। हमें बताइये कि किस प्रकार हम इस स्तंभ को और रोचक बना सकते हैं!आप अपने विचार व सुझाव हमें लिख भेजिए oig@hindyugm.com के ई-मेल पते पर। शाम ६:३० बजे कृष्णमोहन जी के साथ 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल में पधारना न भूलिएगा, नमस्कार!

खोज व आलेख - कृष्णमोहन मिश्र

प्रस्तुति - सुमित चक्रवर्ती


आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Monday, October 20, 2008

पिया मेहंदी लियादा मोती झील से...जाके सायिकील से न...

मिट्टी के गीत में- कजली गीत

मिर्जापुर उत्तर प्रदेश में एक लोक कथा चलती है, कजली की कथा. ये कथा विस्थापन के दर्द की है. रोजगार की तलाश में शहर गए पति की याद में जल रही है कजली. सावन आया और विरह की पीडा असहनीय होती चली गयी. काले बादल उमड़ घुमड़ छाए. कजली के नैना भी बरसे. बिजली चमक चमक जाए तो जैसे कलेजे पर छुरी सी चले. जब सखी सहेलियां सवान में झूम झूम पिया संग झूले, कजली दूर परदेश में बसे अपने साजन को याद कर तड़प तड़प रह जाए. आह ने गीत का रूप लिया. काजमल माई के चरणों में सर रख जो गीत उसने बुने, उन्ही पीडा के तारों से बने कजरी के लोकप्रिय लोक गीत. सावन में गाये जाने वाले ये लोकगीत अमूमन औरतों द्वारा झुंड बना कर गाये जाते हैं (धुनमुनिया कजरी). कजरी गीत गावों देहातों में इतने लोकप्रिय हैं की हर बार सावन के दौरान क्षेत्रीय कलाकारों द्वारा गाये इन गीतों की cd बाज़ार में आती है और बेहद सुनी और सराही जाती है.

आसाम की वादियों और कश्मीर की घाटियों की सैर के बाद आईये चलते हैं विविधताओं से भरे पूरे प्रदेश, उत्तर प्रदेश की तरफ़. कण कण में संगीत समेटे उत्तर प्रदेश में गाये जाने वाले सावन के गीत कजरी का आनंद लीजिये आज मिटटी के गीत श्रंखला में -

बदरा घुमरी घुमरी घन गरजे... स्वर - रश्मि दत्त व् साथी



सोमा घोष कजरी की विख्यात गायिका हैं...उनकी आवाज़ में ये कजरी सुनें. जरूरी नही की सभी कजरी गीत विरहा के हों जैसे ये गीत,लौट आए पिया से की जानी वाली फरमाईशों का है - "पिया मेहंदी लियादा न मोती झील से जाके सायिकील से न...." यहाँ "सैकील" की घंटी का इस्तेमाल संगीतकार ने बहुत खूबी से किया है, सुनिए -



और अंत में सुनिए ये भोजपुरी कजरी भी "झुलाए गए झुलवा..."



क्षेत्रीय गीतों की जानकारी और संकलन के इस कार्य में आप भी हमारी मदद कर सकते हैं. यदि किसी क्षेत्र विशेष के लोक गीत की जानकारी आप रखते हैं तो इस मंच के माध्यम से हम सब के साथ बंट सकते हैं. संपर्क करें podcast.hindyugm@gmail.com.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ