Showing posts with label ajnabi. Show all posts
Showing posts with label ajnabi. Show all posts

Friday, May 15, 2009

सफल "हुई" तेरी आराधना (भाग ४), शक्ति सामंता का मुक्कमल फ़िल्मी सफ़र

अब तक आपने पढ़ा -

आनंद आश्रम से शुरू हुआ सफ़र....

हावड़ाब्रिज से कश्मीर की कली तक...

रोमांटिक फिल्मों के दौर में आराधना की धूम...

अब आगे...

दोस्तों, शक्ति सामंत की सुरीली फ़िल्म यात्रा की एक और कड़ी के साथ हम हाज़िर हुए हैं आज। शक्तिदा के इस सुरीले सफ़र के हमसफ़र बनकर पिछली कड़ी तक हम पाँव रख चुके थे ७० के दशक में। इससे पहले कि हम शक्तिदा और राजेश खन्ना की दूसरी फ़िल्म का ज़िक्र शुरु करें, 'आराधना' के एक और गाने की शूटिंग से संबधित बात हम आपको बताना चाहेंगे। यह बात शक्तिदा ने विविध भारती के जयमाला कार्यक्रम में फ़ौजी भाइयों को बताया था - "मुझे याद है कि कुल्लू मनाली में राजेश खन्ना और शर्मीला टैगोर के साथ मुझे एक गाना फ़िल्माना था। वो लोग तैयार होके १० बजे के करीब लोकेशन पर पहुँचते थे और ११ बजे पूरी वादी पर अंधेरा छा जाता था। बहुत कोशिशों के बाद भी जब वो लोग ७ बजे लोकेशन पर नहीं पहुँचे तो एक दिन मैनें दोनो को सोने ही नहीं दिया और ५ बजे 'मेक-अप' कराके ७ बजे लोकेशन पर ले गया। और उसके बाद ११ - ११:३० बजे तक हम लोग शूटिंग करते रहे। उसके बाद 'पैक-अप' करके उनको छोड़ दिया। उस दिन तो वो लोग मुझसे बहुत नाराज़ हुए, दो दिन तक मुझसे बात तक नहीं की, लेकिन जब उसका रेज़ल्ट उन्होने स्क्रीन पर देखा तो दोनो ही ख़ुशी से झूम उठे। वह गीत मैं आप लोगों के सामने पेश करता हूँ।"

गीत: कोरा क़ाग़ज़ था यह मन मेरा (आराधना)


१९७० में शक्तिदा के निर्माण व निर्देशन में राजेश खन्ना एक बार फिर नज़र आये' फ़िल्म 'कटी पतंग' में। 'आराधना' की व्यापक सफलता के बाद राजेश खन्ना एक 'स्टार' बन चुके थे। 'कटी पतंग' में राजेश खन्ना की नायिका बनीं आशा पारिख। इस फ़िल्म के ज़रिए एक बार फिर शक्तिदा और राजेश खन्ना ने सफलता की ऊँचाइयों को छूआ। आनंद बक्शी और राहूल देव बर्मन की नयी नयी जोड़ी ने जैसे चारों ओर तहलका मचा दिया इस फ़िल्म के गीतों के ज़रिये। किशोर कुमार की आवाज़ भी शक्तिदा के फ़िल्मों के संपर्क में आकर एक नयी ताज़गी और जवानी के साथ सामने आयी। "प्यार दीवाना होता है मस्ताना होता है", "यह जो मोहब्बत है यह उनका है काम" और "आज न छोड़ेंगे बस हमझोली" जैसे गाने किशोरदा के सदाबहार गीतों के एल्बम मे अक्सर जगह पाते हैं। इसी फ़िल्म में एक अनोखा गीत था जो फ़िल्म की खलनायिका बिंदु पर फ़िल्माया गया था। आशा भोंसले की आवाज़ में "मेरा नाम है शबनम, प्यार से लोग मुझे शब्बो कहते हैं" अपने आप में अनूठा है, अपने जैसा एकमात्र गीत है। गीत संवाद की शक्ल में है, जिसमें बिंदु आशा पारिख को 'ब्लैक-मेल' करते हुए डराती है। सुनिए यह गीत आज बहुत दिनो के बाद!

गीत: मेरा नाम है शबनम (कटी पतंग)


'कटी पतंग' की सफलता के जश्न अभी खत्म भी नहीं हुआ था कि शक्तिदा की अगली फ़िल्म 'अमर प्रेम' आ गयी १९७१ में और एक बार फिर से वही कामयाबी की कहानी दोहरायी गई। इस बार 'आराधना' की जोड़ी यानी राजेश और शर्मीला साथ आये। 'अमर प्रेम' की कहानी आधारित थी विभुति भुशण बंदोपाध्याय की उपन्यास पर। यह फ़िल्म १९७० की अरबिंदो मुखर्जी की बंगला फ़िल्म 'निशिपद्म' का हिंदी रीमेक था। एक अच्छे घर के नौजवान लड़के की एक वेश्या के प्रति पवित्र प्रेम की कहानी है 'अमर प्रेम' जो मानवीय मूल्यों और संबंधों का एक बार फिर से मूल्यांकन करने पर हमें मजबूर कर देता है। आनंद बक्शी, राहूल देव बर्मन और किशोर कुमार की अच्छी-ख़ासी तिकड़ी बन चुकी थी और इस फ़िल्म के गाने भी ऐसे गूंजे कि अब तक उनकी गूंज सुनाई देती है। तो यहाँ पर भी वही गुंजन पेश-ए-ख़िदमत है।

गीत: चिंगारी कोई भड़के तो सावन उसे बुझाये (अमर प्रेम)


'अमर प्रेम' के साथ १९७१ में शक्ति सामंत के निर्माण व निर्देशन में दूसरी फ़िल्म आयी 'जाने अंजाने'। शम्मी कपूर, विनोद खन्ना और लीना चंदावरकर अभिनीत इस फ़िल्म के संगीतकार थे शंकर जयकिशन एवं गीतकार थे हसरत जयपुरी। रंजन घोष की कहानी और व्रजेन्द्र गौड़ के संवाद थे इस फ़िल्म में। हम आपको पहले बता चुके हैं कि ये दोनो शक्तिदा के अच्छे दोस्तों में से थे। फ़िल्म की एक और ख़ास बात यह है कि इस फ़िल्म में गीतकार गुलशन बावरा और संगीतकार कानु राय ने अभिनय किया था। फ़िल्म के कम से कम तीन गाने ख़ूब चर्चित हुए थे - किशोर कुमार का गाया शीर्षक गीत "जाने अंजाने लोग मिले मिला ना कोई अपना", मन्ना डे का गाया शास्त्रीय राग पर आधारित "छम छम बाजे रे पायलिया", और लता मंगेशकर और मोहम्मद रफ़ी का गाया एक लोकप्रिय युगल गीत भी था इस फ़िल्म में, क्यों ना आज यहाँ पर सुने वही युगल गीत!

गीत: तेरी नीली नीली आँखों के दिल पे तीर चल गए (जाने अंजाने)


१९७२ में शक्ति सामंत ने बनाई फ़िल्म 'अनुराग'। विनोद मेहरा, मौसमी चटर्जी, राजेश खन्ना, नूतन और अशोक कुमार के जानदार और भावुक अभिनय से यह फ़िल्म सजी थी। फ़िल्म की कहानी दिल को छू लेनेवाली थी। नेत्रदान के विषय को बहुत ही सुंदर और असरदार तरीके से प्रस्तुत किया है शक्तिदा ने इस फ़िल्म के ज़रिए। सचिन देव बर्मन के संगीत की मिठास इस फ़िल्म के गीतों में महसूस किया जा सकता है। इनमें उन्होने बंगाल की भटियाली लोक संगीत का ऐसा मधुर फ़िल्मीकरण किया है कि लोक संगीत की मिठास भी बरकरार है और हल्के फुल्के फ़िल्मी गीत का भी रंग मौजूद है इन गानों में। ऐसा ही एक गीत लताजी की आवाज़ में पेश है यहाँ। गीतकार हैं आनंद बक्शी।

गीत: नींद चुराये चैन चुराये डाका डाले तेरी बंसी (अनुराग)


शरतचंद्र चट्टोपाध्याय की एक मशहूर बंगला उपन्यास रही है 'चरित्रहीन'। १९७४ में जब निर्माता देवेश घोष ने इस कहानी पर फ़िल्म बनाने की सोची तो फ़िल्म के निर्देशक के रूप में शक्तिदा को चुना गया। संजीव कुमार, शर्मीला टैगोर एवं योगिता बाली अभिनीत इस फ़िल्म को काफ़ी सराहना मिली थी। कहानी कुछ ऐसी थी कि शर्मीला एक सीधी सादी लड़की है जो संजीव कुमार से मिलती है और दोनो को एक दूसरे से प्यार हो जाता है। लेकिन संजीव कुमार की शादी एक दूसरी लड़की योगिता बाली से हो जाती है। एक लम्बे अरसे के बाद जब संजीव शर्मीला से मिलता है तो तब तक शर्मीला एक वेश्या बन चुकी होती है। संजीव कुमार के बुरे दिनों में शर्मीला ही उसकी मदद करती है। फ़िल्म बौक्स औफ़िस पर ठीक ठाक रही। फ़िल्म के गाने लिखे आनंद बक्शी साहब ने और संगीत था राहुल देव बर्मन का। इसी साल शक्तिदा ने राजेश खन्ना और ज़ीनत अमान को लेकर अपने बैनर तले बनाई फ़िल्म 'अजनबी'। इस फ़िल्म में भी बक्शी साहब और पंचम के गीत संगीत गूंजे और बस आज तक गूंजते ही जा रहे हैं। इस फ़िल्म के एक गीत के बारे में और बक्शी-पंचम की जोड़ी के बारे में शक्तिदा ने उसी जयमाला में कहा था - "जो गीत आप लोग सुनते हैं, पसंद करते हैं, उसके पीछे कितनी मेहनत होती है वह शायद आप लोग नहीं जानते! लोग अकसर मुझसे पूछते हैं कि आप हमेशा आनंद बक्शी और आर.डी. बर्मन को ही क्यों लेते हैं? ये दोनो 'सिचुएशन' सुनने के बाद इतने घुलमिल जाते हैं कि वह गीत तैयार होकर जब हमारे सामने आता है तो सिर्फ़ गीत ही नहीं रहता, बल्कि फ़िल्म की कहानी का एक अंग बन जाता है। 'अजनबी' फ़िल्म में ज़ीनत अमान और राजेश खन्ना पर फ़िल्माये गए इस गीत में भी कुछ ऐसी ही बात है।"

गीत: हम दोनो दो प्रेमी दुनिया छोड़ चले (अजनबी)


दोस्तों, शक्ति सामंत की फ़िल्मी यात्रा इतनी लम्बी है कि हम उनके फ़िल्मों और उनके मधुर गीत संगीत में ग़ोते लगाते हुए बस बहते ही चले जा रहे हैं पिछले कुछ हफ़्तों से। शक्तिदा के फ़िल्मी सफ़र की कहानी जारी रहेगी अगले अंक में भी। बने रहिए 'हिंदयुग्म' पर 'आवाज़' के साथ!

प्रस्तुति: सुजॉय चटर्जी

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ