रविवार, 3 अक्तूबर 2010

गुमनाम है कोई....जब पर्दों में छुपा हो रहस्य, और भय के माहौल में सुरीली आवाज़ गूंजे लता की

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 496/2010/196

When there is nothing to lose, there is nothing to fear. डर मन-मस्तिष्क का एक ऐसा भाव है जो उत्पन्न होता है अज्ञानता से या फिर किसी दुष्चिंता से। 'ओल्ड इस गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार! 'रस माधुरी' शृंखला की छठी कड़ी में आज बातें भयानक रस की। भयानक रस का अर्थ है डर या बुरे की आशंका। ज़ाहिर है कि हमें जितना हो सके इस रस से दूर ही रहना चाहिए। भयानक रस से बचने के लिए ज़रूरी है कि हम अपने आप को सशक्त करें, सच्चाई की तलाश करें और सब से प्यार सौहार्द का रिश्ता रखें। अक्सर देखा गया है कि डर का कारण होता है अज्ञानता। जिसके बारे में हम नहीं जानते, उससे हमें डर लगता है। भूत प्रेत से हमें डर क्यों लगता है? क्योंकि हमने भूत प्रेत को देखा नहीं है। जिसे किसी ने नहीं देखा, उसकी हम भयानक कल्पना कर लेते हैं और उससे डर लगने लगता है। भय या डर हमारे दिमाग़ की उपज है जो किसी अनजाने अनदेखे चीज़ के बारे में ज़रूरत से ज़्यादा ही बुरी कल्पना कर बैठता है, जिसका ना तो कोई अंत होता है और ना ही कोई वैज्ञानिक युक्ति। वैसे कुछ ऐसे भय भी होते हैं जो हमारे लिए अच्छा है, जैसे कि भगवान से डर। भगवान से अगर डर ना हो तो आदमी बुराई के मार्ग पर चल निकलने के लिए प्रोत्साहित हो जाएगा जो समाज के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है। भय से बचने के लिए हमें चाहिए कि अच्छे मित्र बनाएँ, आत्मीय जनों से प्रेम का रिश्ता रखें ताकि ज़रूरत के वक़्त वे हमारे साथ खड़े हों। और आख़िर में बस यही कहेंगे कि भय से कुछ हासिल नहीं होता, सिवाय ब्लड प्रेशर बढ़ाने के। भविष्य में जो होना है वह तो होकर रहेगा, इसलिए आज ही ख़ामख़ा डर कैसा! वह उस गीत में कहा गया है न कि "सोचना क्या जो भी होगा देखा जाएगा, कल के लिए तू आज को ना खोना, आज ये ना कल आएगा"। बस यही बात है।

भयानक रस पर आधारित फ़िल्मी गीतों की बात करें तो इस तरह के गानें भी हमारी फ़िल्मों में ख़ूब चले हैं। अलग अलग तरह से भय को गीतों में उतारा है हमारे गीतकारों नें। फ़िल्म 'एक पल' में लता जी का गाया एक गाना था "जाने क्या है जी डरता है, रो देने को जी करता है, अपने आप से डर लगता है, डर लगता है क्या होगा"। बादलों के गरजने से भी जो डर लगता है उसका वर्णन भरत व्यास जी के गीत "डर लागे गरजे बदरिया कारी" में मिलता है। किसी को ब्लैकमेल करते हुए "मेरा नाम है शबनम.... लेकिन डरो नहीं, राज़ राज़ ही रहेगी" में भी भय का आभास है। लेकिन इस रस का सब से अच्छा इस्तेमाल भूत प्रेत या सस्पेन्स थ्रिलर वाली फ़िल्मों के गीतों में सब से अच्छा हुआ है। 'महल', 'बीस साल बाद', 'वो कौन थी', 'सन्नाटा', 'जनम जनम' आदि फ़िल्मों में एक गीत ऐसा ज़रूर था जिसमें सस्पेन्स वाली बात थी। लेकिन इन गीतों में सस्पेन्स को उजागर किया गया उसके फ़िल्मांकन के ज़रिए और संगीत संयोजन के ज़रिए, जब कि बोलों में जुदाई या विरह की ही प्रचूरता थी। शब्दों में भय का इतना रोल नहीं था। लेकिन एक फ़िल्म आई थी 'गुमनाम' जिसके शीर्षक गीत में वह सारी बातें थीं जो एक भयानक रस के गीत में होनी चाहिए। फ़िल्मांकन हो या संगीत संयोजन, गायक़ी हो या गाने के बोल, हर पक्ष में भय का प्रकोप था। "गुमनाम है कोई, बदनाम है कोई, किसको ख़बर, कौन है वो, अंजान है कोई"। हसरत जयपुरी का लिखा गीत और संगीत शंकर जयकिशन का। १९६५ की इस सुपरहिट सस्पेन्स थ्रिलर को निर्देशित किया था राजा नवाथे ने और फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे मनोज कुमार, नंदा, हेलेन, प्राण, महमूद प्रमुख। जहाँ तक इस गीत की धुन का सवाल है, तो शंकर जयकिशन को इसकी प्रेरणा हेनरी मैनसिनि के 'शैरेड' (Charade) फ़िल्म के थीम से मिली थी। तो आइए सुना जाए यह गीत, हम इस गीत के बोल लिखना चाहेंगे ताक़ि आप महसूस कर सकें कि किस तरह से इस गीत की हर पंक्ति से भय टपक रहा है।

गुमनाम है कोई, बदनाम है कोई,
किसको ख़बर कौन है वो, अंजान है कोई।

किसको समझें हम अपना, कल का नाम है एक सपना,
आज अगर तुम ज़िंदा हो तो कल के लिए माला जपना।

पल दो पल की मस्ती है, बस दो दिन की बस्ती है,
चैन यहाँ पर महँगा है और मौत यहाँ पर सस्ती है।

कौन बला तूफ़ानी है, मौत तो ख़ुद हैरानी है,
आये सदा वीरानों से जो पैदा हुआ वो फ़ानी है।

दोस्तों, जब मैं यह आलेख लिख रहा हूँ, इस वक़्त रात के डेढ़ बज रहे हैं, एक डरावना माहौल सा पैदा हो गया है मेरी आसपास और शायद मेरे अंदर, इसलिए यह आलेख अब यहीं पे ख़त्म करता हूँ, फिर मिलेगे गर ख़ुदा लाया तो। नमस्कार!



क्या आप जानते हैं...
कि फ़िल्म 'गुमनाम' के लिए महमूद और हेलेन, दोनों को ही उस साल के फ़िल्मफ़ेयर के सर्वश्रेष्ठ सह-अभिनेता के पुरस्कार के लिए नमोनीत किया गया था, लेकिन ये पुरस्कार दोनों में से किसी को भी नहीं मिल पाया।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. वीर रस पर आधारित तमाम देशभक्ति गीतों में एक ख़ास मुकाम रखता है यह गीत जिसे तीन मुख्य गायकों ने गाया है। एक हैं मुकेश, आपको बताने हैं बाक़ी दो गायकों के नाम। ३ अंक।
२. एक बेहद मशहूर स्वाधीनता सेनानी के जीवन पर बनी थी यह फ़िल्म। उस सेनानी का नाम बताएँ। २ अंक।
३. फ़िल्म में गीत और संगीत एक ही शख़्स ने दिया है। उनका नाम बताएँ। ४ अंक।
४. इसी फ़िल्म के एक अन्य गीत का मुखड़ा शुरु होता है "जोगी" शब्द से। कल बजने वाले गीत के बोल बताएँ। १ अंक।

पिछली पहेली का परिणाम -
पवन जी एक बार फिर जल्दबाजी कर गए, मगर शरद जी ने संयम से काम लिया. लगता है प्रतिभा जी के मन में भी कोई भय समां गया था जवाब देते समय :)खैर श्याम कान्त जी शायद नए जुड़े है, जवाब सही है जनाब. सभी को बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

शनिवार, 2 अक्तूबर 2010

ई मेल के बहाने यादों के खजाने (१०) - ऐसीच हूँ मैं कहकर इंदु जी जीत लेती हैं सबका दिल

'ओल्ड इज़ गोल्ड शनिवार विशेष' में आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है। "आज है २ अक्तुबर का दिन, आज का दिन है बड़ा महान, आज के दिन दो फूल खिले हैं, जिनसे महका हिंदुस्तान, नाम एक का बापू गांधी और एक लाल बहादुर है, एक का नारा अमन एक का जय जवान जय किसान"। समूचे 'आवाज़' परिवार की तरफ़ से हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और महान नेता लाल बहादुर शास्त्री को उनकी जयंती पर स्नेह नमन अर्पित करते हुए आज का यह अंक शुरु कर रहे हैं। 'ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ाने', दोस्तों, यह 'आवाज़' का एक ऐसा साप्ताहिक स्तंभ है जिसमें हम आप ही की बातें करते हैं जो आप ने हमें ईमेल के माध्यम से लिख भेजा है। यह सिलसिला पिछले १० हफ़्तों से जारी है और हर हफ़्ते हम आप ही में से किसी दोस्त के ईमेल को शामिल कर आपके भेजे हुए यादों को पूरी दुनिया के साथ बाँट रहे हैं। आज के अंक के लिए हम चुन लाये हैं हमारी प्यारी इंदु जी का ईमेल और उनकी पसंद का एक निहायती ख़ूबसूरत गीत। आइए अब आगे का हाल इंदु जी से ही जानें।

**********************************************************
कुछ बड़े प्यारे गाने हैं, जिनको भी सुनाया, आश्चर्य! सबने कहा 'हमने इन्हें पहले नही सुने'। उस खजाने मे से अभी सिर्फ एक गीत आपको भेज रही हूँ। आप सुनिए और ओनेस्टली बताइए कि क्या आपने या सुजॉय ने इस गाने को पहले कभी सुना है? यह गाना है फ़िल्म 'दूज का चाँद' का, "चाँद तकता है इधर", मोहम्मद रफ़ी और सुमन कल्याणपुर ने गाया है। अगर मुझसे पूछोगे कि ये गाना मुझे क्यों पसंद है? क्यों बताऊँ जी? ये कोई बात हुई? वृन्दावन गई थी, सोचा बरसाना भी हो आये 'वियोगिनी राधाजी' के दर्शन ही हो जाये? यूँ अपनी कल्पना और बनाई छवि के विपरीत पाया वहाँ सब। सिवाय प्रत्येक पेड़ पर लिखे 'राधे रानी' के नाम के। वर्तमान ब्रज से आँखें मूँद मैं 'उस' ब्रज में घूमती रही। कालिंदी के तट पर जा कर हम बैठ गए। तभी बड़े बेटे ने कहा -'मम्मी ! देखो कितना प्यारा गाना बज रहा है!' वो यही गाना था। "चाँद तकता है इधर आओ कही छुप जाए, कहीं लागे ना नजर आओ कही छुप जाएँ"। गाना मधुर था। प्रेम रस में डूबा हुआ। कहीं ऐसा कुछ नही था कि कोई गम्भीर हो जाये। मैं आँखें बंद कर कालिंदी के तट पर ये गीत सुनती रही। सुन रही थी, फिल्म या नायक नायिका के नाम से तक परिचित नही थी। इसलिए आँखों के सामने कोई नही आया। आया तो सिर्फ कृष्ण....... और मैं??? जैसे राधा थी उस पल। ऐसीच हूं मैं। जाने किस दुनिया की अजीब 'प्राणी'............ इस साधारण से प्रेम गीत ने मुझे भाव विभोर कर दिया और आज भी कर देता है। और मेरे आँसू तब भी नही रुके....आज भी नही रुकते। मैं नही रहती तब आपकी इस दुनिया का हिस्सा। इसीलिए मुझे पसंद है ये गाना, मुझे एकाकार कर देता है 'उससे', फिर मुझे किसी भजन या भक्ति गीत की आवश्यकता नही रहती बाबा! ऐसिच हूं मैं।

इंदु।

*********************************************
वाह इंदु जी, आपके अंदाज़-ए-बयाँ के तो कहने ही क्या! एक बेहद सुमधुर गीत की तरफ़ आपने हमारा ध्यान आकृष्ट करवाया है। सिर्फ़ हम ही नहीं, इस गीत को बहुत लोगों ने एक लम्बे अरसे से नहीं सुना होगा। यह हमारी बदक़िस्मती ही है कि ऐसे और इस तरह के न जाने कितने सुरीले गीतों पर वक़्त का धूल चढ़ चुकी है। आइए हम सब मिल कर इस तरह के गीतों पर जमी मैल को साफ़ करें और उन्हें 'ओल्ड इज़ गोल्ड' का हिस्सा बनायें। साहिर लुधियानवी के बोल, रोशन की तर्ज़, और आवाज़ को बता ही चुके हैं, रफ़ी और सुमन की। सुनते हैं फ़िल्म 'दूज का चाँद' का यह बेहद सुरीला नग़मा।

गीत - चाँद तकता है इधर (दूज का चाँद)


दोस्तों, इंदु जी की तरह अगर आप भी ऐसे ही किसी गीत की तरफ़ हमारा ध्यान आकृष्ट करवाना चाहते हैं तो हमें ईमेल करें oig@hindyugm.com के पते पर। इसके अलावा आप अपने जीवन की कोई यादगार घटना, कोई संस्मरण, या कोई ऐसा गीत जिसके साथ आपकी यादें जुड़ी हुई हैं, हमें लिख भेजें इस स्तंभ के लिए। ख़ास कर हमारे उन दोस्तों से, जिन्होंने अभी तक हमें ईमेल नहीं किया है, उनसे तो हमारा ख़ास निवेदन है कि इस स्तंभ में भाग लेकर 'ओल्ड इज़ गोल्ड' परिवार का हिस्सा बन जायें। साथ ही 'ओल्ड इज़ गोल्ड' को और भी बेहतर बनाने के लिए अगर आपके पास कोई सुझाव हो, तो उसे भी आप oig@hindyugm.com पर लिख सकते हैं। तो इसी उम्मीद के साथ कि आप अपना साथ युंही बनाये रखेंगे, आज के लिए हम विदा लेते हैं, 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की नियमीत कड़ी के साथ हम फिर हाज़िर होंगे कल शाम भारतीय समयानुसार ६:३० बजे। नमस्कार!

प्रस्तुति: सुजॊय

ज्योतिषी का नसीब - आर के नारायण

सुनो कहानी: आर के नारायण की "ज्योतिषी का नसीब"

'सुनो कहानी' इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ।

पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में कृश्न चन्दर की कहानी एक गधा नेफा में का पॉडकास्ट सुना था।

आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं अंग्रेज़ी के प्रसिद्ध लेखक श्री रासीपुरम कृष्णास्वामी अय्यर नारायणस्वामी (आर. के. नारायण) की एक प्रसिद्ध कहानी (An Astrologer's Day) का हिन्दी अनुवाद "ज्योतिषी का नसीब" जिसको स्वर दिया है कविता वर्मा ने। आशा है आपको पसंद आयेगी।

कहानी का कुल प्रसारण समय 14 मिनट 18 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।



पद्म भूषण आर के नारायण (1906-2001)

हर शनिवार को आवाज़ पर सुनिए एक नयी कहानी
आर के नारायण ने दक्षिण भारत के काल्पनिक शहर मालगुड़ी को आधार बनाकर अपनी रचनाएं की।

" पूरी जगह दुकानों की रोशनी से ही प्रकाशित थी।"
(आर के नारायण की "ज्योतिषी का नसीब" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)
VBR MP3

#One hundred fifth Story, Jyotishi Ka Naseeb (An Astrologer's Day): R K Narayan/Hindi Audio Book/2010/37. Voice: Kavita Verma

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ