Skip to main content

तू छुपी है कहाँ, मैं तड़पता यहाँ.....अपने आप में अनूठा है नवरंग का ये गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 68

'नवरंग' हिंदी फ़िल्म इतिहास की एक बेहद मशहूर फ़िल्म रही है। वी. शांताराम ने १९५५ में 'म्युज़िकल' फ़िल्म बनाई थी 'झनक झनक पायल बाजे'। गोपीकिशन और संध्या के अभिनय और नृत्य तथा वसंत देसाई के जादूई संगीत ने इस फ़िल्म को एक बहुत ऊँचा मुक़ाम दिलवाया था। 'झनक झनक पायल बाजे' की अपार सफलता के बाद सन् १९५९ में शांतारामजी ने कुछ इसी तरह की एक और नृत्य और संगीतप्रधान फ़िल्म बनाने की सोची। यह फ़िल्म थी 'नवरंग'। महिपाल और संध्या इस फ़िल्म के कलाकार थे और संगीत का भार इस बार दिया गया अन्ना साहब यानी कि सी. रामचन्द्र को। फ़िल्म के गाने लिखे भरत व्यास ने। आशा भोंसले और मन्ना डे के साथ साथ नवोदित गायक महेन्द्र कपूर को भी इस फ़िल्म में गाने का मौका मिला। बल्कि इस फ़िल्म को महेन्द्र कपूर की पहली 'हिट' फ़िल्म भी कहा जा सकता है। लेकिन आज हमने इस फ़िल्म का जो गीत चुना है उसे आशाजी और मन्नादा ने गाया है। यह गीत अपने आप में बिल्कुल अनूठा है। इस गीत को यादगार बनाने में गीतकार भरत व्यास के बोलों का उतना ही हाथ था जितना की सी. रामचन्द्र के संगीत का। ऐसा अकसर देखा गया है कि जब भी कुछ मुश्किल या फिर बहुत ज़्यादा शास्त्रीय रंग वाले गीत बनते थे तो संगीतकार की पहली पसंद होती है मन्नादा की आवाज़। यह गीत भी उन्ही में से एक है। सिर्फ़ मन्ना डे ने ही नहीं बल्कि आशाजी ने भी क्या ख़ूब गाया है इस गीत को।

इस गीत की एक और ख़ासीयत है इसका संगीत संयोजन। इस गीत में शहनाई मुख्य साज़ के रूप में पेश किया गया जिसे बजाया था प्रसिद्ध शहनाई और बाँसुरी वादक रामलाल चौधरी, जिन्हे आप संगीतकार रामलाल के नाम से भी जानते होंगे। इन्होने बहुत सारे फ़िल्मों में शाहनाई और बाँसुरी बजाये हैं जिनमें प्रमुख नाम हैं 'आग', 'मुग़ल-ए-आज़म' और 'नवरंग'। ख़ासकर 'नवरंग' फ़िल्म के इस गाने में उनकी शहनाई का प्रभाव इतना ज़्यादा है कि जब लोग इस गीत को गुनगुनाते हैं तो साथ में शहनाई पर बजाये पीस को भी गुनगुना जाते हैं। इस पीस का असर इस गाने में इतना ज़्यादा है कि अगर इसे गाने से हटा दिया जाये तो शायद गाने की आधी चमक ही चली जाए! अगर आप ने इस गीत को फ़िल्म में देखा है तो आपको याद होगा कि बड़े-बड़े घंटों का इस्तेमाल किया गया था और इस गाने का फ़िल्मांकन भी उस ज़माने की मौजूदा तकनीकी दृष्टि से काफ़ी उन्नत था। कुल ७ मिनट ५२ सेकन्ड्स अवधि का यह गीत अपने आप में अद्वितीय है। तो लीजिये पेश-ए-ख़िदमत है आज के 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में "तू छुपी है कहाँ...."



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. जय राज और उषा किरण थे इस फिल्म के कलाकार.
२. असित सेन का निर्देशन था और सलिल दा का संगीत.
३. गर्मी का मौसम है पर ये गीत बरसते बादलों सी ठंडक लिए हुए है..

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
पराग जी मनु जी एकदम सही जवाब...बहुत बहुत बधाई...शन्नो जी और आचार्य जी गीत पसंद करने के लिए और त्रुटि सुधार के लिए धन्येवाद. भरत पांडया जी दरअसल मेल को पहुँचने में थोडा समय लग ही जाता है, पर आप जवाब दिया कीजिये...बिना इस बात की फ़िक्र किये कि कोई और जवाब दे चुका है, हाँ इस बार आपका जवाब सही नहीं है, फिल्म जरूर सही बता गए आप. आज फिर कोशिश कीजिये.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


Comments

Parag said…
सुजय जी सचमुच यह नवरंग फिल्म का गीत अदभुत हैं. लता जी से अलगाव होने के बाद यह अन्ना साहब की एक ही हिट फिल्म थी.

आज की पहेली का जवाब थोडा कठीन है मगर प्रयास कर रहा हूँ. फिल्म है परिवार जोह १९५६ में बनी थी और गीत के बोल हैं " झिर झिर झिर बदरवा बरसे हो". इसे गाया था लता जी और हेमंत कुमार साहब ने सलील्दा के संगीत निर्देशन में. गीत के बोल लिखे हैं शैलेन्द्र जी ने.

आभारी
पराग सांकला
नवरंग का गीत आनंद दे गया. पहेली के बारे में नहीं जानता.
manu said…
कमाल है पराग जी,,,,
आप तो इन जानकारियों का सागर हैं,,,
हमें तो कभी पता ना चलता इस का जवाब,,,
Parag said…
मनु जी

यह दो वेबसाइट से काफी सारी जानकारी मिल जाती है.


http://earthmusic.net
www.imdb.com

पराग
sumit said…
ये तो सचमुच बहुत मुशकिल पहेली है ये गाना तो मैने सुना ही नही
तू छूपी है कहाँ, ये गाना मैने रेडियो पर कई बार सुना है पर आज सुन नही पा रहा प्लेयर दिख तो रहा है पर चल नही रहा
पराग जी,

मेरे ख्याल से बिना गूगल सर्च किये या किसी वेबसाइट की मदद लिए जवाब देने में अधिक मज़ा आयेगा। यदि आपको ठीक तरह से याद आ रहा हो तो देना चाहिए, नहीं तो बाकी श्रोताओं को कोशिश करने देने चाहिए। जब 10 घंटे में कोई न दे पाये तो आपको दे देना चाहिए।

गूगल से खोजकर जवाब देने का काम कई बार विश्व दीपक 'तन्हा' भी कर चुके हैं

मैंने बस अपना विचार रखा है, बाकी आप निर्णय लें।
पराग जी,
मैं भी शैलेश जी की बात का समर्थन करता हूँ। शुरू-शुरू में मैने भी दो-तीन बार यह काम किया था। और मेरी मानिये गूगल सर्च करना किसी वेबसाईट पर जाने से ज्यादा आसान है,गूगल के पास हर सवाल का जवाब है। इसलिए आप गूगल सर्च की मदद लेंगे तो हर बार अव्वल आएँगे, लेकिन क्या यह सही है?

मैने सजीव जी और मनु जी से बात करने के बाद खुद महसूस किया कि मैं गलत था , इसलिए छोड़ दिया। अब आपसे भी आग्रह करता हूँ कि अगर आपको जवाब पता हो तो तत्क्षण जवाब दे दें , नहीं तो दूसरो को अपने स्वाभाविक ज्ञान का इस्तेमाल करने दें।

शैलेश जी ने लिखा है कि आप दस-ग्यारह घंटों के बाद गूगल से ढूँढा हुआ जवाब डाल सकते है,लेकिन मैं इसके पक्ष में नहीं हूँ,क्योंकि दस घंटों के बाद दिया हुआ जवाब भी आपका हीं जवाब माना जाएगा, जबकि वह आपका जवाब नहीं है, गूगल का है। और अगली कड़ी में शाबाशी देते हुए कहीं भी यह जिक्र नहीं होगा कि फलाने साहब ने गूगल से ढूँढ कर यह जवाब दिया है। वैसे यह मेरा मत है। आप अपने निर्णय को स्वतंत्र हैं :)

-विश्व दीपक
Parag said…
शैलेश जी और विश्व दीपक जी

मैं आप दोनोकी राय से सहमत हूँ. वैसे आज की पहेली के लिए पहली बार मैंने सर्च वेबसाइट्स का उपयोग किया है. आगेसे इस बात का ध्यान जरूर रखूंगा.

आप का आभारी
पराग
BHARAT PANDYA said…
pahli ka javab
jhir jhir jhir jhir badarava barse ho kare kare
Hemant/Lata film parivaar
(actor ka naam P.Jairaj likhana chahiye kyonki jairaj naanka dusara actor bhi tha jisane Ardh Sayta aur dusari filmome chhote role kiyethe)
ndvyas said…
Postings in "Old is gold" are always very intresting. Thanks for providing some unknown information about singers and composers. If possible add details about 'raag' in which song is composed. Also write about some very fine "beuties"(Raag ki lakshanikta) of the raag.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया