Showing posts with label r.c. boral. Show all posts
Showing posts with label r.c. boral. Show all posts

Saturday, March 5, 2016

"मैं ख़ुश होना चाहूँ, ख़ुश हो ना सकूँ....", इसी गीत से हुई थी पार्श्वगायन की शुरुआत!


एक गीत सौ कहानियाँ - 77
 

'मैं ख़ुश होना चाहूँ, ख़ुश हो ना सकूँ...' 



रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'।  इसकी 77-वीं कड़ी में आज जानिए हिन्दी सिनेमा के पहले पार्श्वगायन-युक्त गीत के बारे में। यह गीत है 1935 की फ़िल्म ’धूप छाँव’ का, "मैं ख़ुश होना चाहूँ...", जिसे के. सी. डे, पारुल घोष, सुप्रभा सरकार और हरिमति दुआ ने गाया था। बोल पंडित सुदर्शन के और संगीत राय चन्द बोराल का। 


R C Boral, K. C. Dey, Suprova Sarkar
पार्श्वगायन या ’प्लेबैक’ भारतीय सिनेमा का एक बहुत आम पक्ष है। यह सर्वविदित है कि फ़िल्मी गीतों में अभिनेताओं के लिए गायकों की आवाज़ों के प्रयोग को प्लेबैक या पार्श्वगायन कहते हैं। लेकिन आज की पीढ़ी के बहुत से संगीत रसिकों को शायद यह पता ना हो कि किस तरह से इस पार्श्वगायन की शुरुआत हुई थी। कहाँ से यह विचार किसी के मन में आया था? आज ’एक गीत सौ कहानियाँ’ में पार्श्वगायक के शुरुआत की कहानी पहले पार्श्वगायन-युक्त गीत के साथ प्रस्तुत है। भारतीय सिनेमा में पार्श्वगायन की शुरुआत का श्रेय जाता है संगीतकार राय चन्द बोराल को जो उन दिनों न्यू थिएटर्स से जुड़े हुए थे। उन्होंने ही वर्ष 1935 की फ़िल्म ’धूप छाँव’ में एक समूह गीत में पार्श्वगायन का प्रयोग किया था। नितिन बोस निर्देशित यह ऐतिहासिक फ़िल्म दरसल बंगला में इसी वर्ष निर्मित ’भाग्य चक्र’ फ़िल्म का रीमेक था। इस तरह से भले ’धूप छाँव’ को प्लेबैक-युक्त पहली हिन्दी फ़िल्म मानी जाती है, पर ’भाग्य चक्र’ इस दिशा में पहली भारतीय फ़िल्म थी। ’धूप छाँव’ फ़िल्म के लोकप्रिय गीतों में "अंधे की लाठी तू ही है...", "बाबा मन की आँखें खोल...", "तेरी गठरी में लागा चोर मुसाफ़िर जाग ज़रा..." और "प्रेम की नैया चली जल में..." शामिल हैं। पर जिस गीत ने पार्श्वगायन की नीव रखी वह था "मैं ख़ुश होना चाहूँ, ख़ुश हो ना सकूँ..." जिसे चार गायक-गायिकाओं ने गाया था - के. सी. डे (मन्ना डे के चाचा), पारुल घोष (अनिल बिस्वास की बहन), सुप्रभा सरकार (उस समय शान्तिनिकेतन की छात्रा) और हरिमति दुआ। इस गीत में नायिका के लिए पार्श्वगायन किया था सुप्रभा सरकार ने, जबकि के. सी. डे ने अपने लिए और अभिनेता अहि सान्याल के लिए गाया था। पारुल और हरिमति ने अपने-अपने लिए गाए। इस तरह से के. सी. डे और सुप्रभा सरकार बने पहले पार्श्वगायक व पहली पार्श्वगायिका।


Nitin Bose & Pankaj Mullick
पंकज राग लिखित महत्वपूर्ण पुस्तक ’धुनों की यात्रा’ में यह बताया गया है कि किस तरह से निर्देशक नितिन बोस के मन में पार्श्वगायन का ख़याल आया था। हुआ यूं कि एक दिन नितिन बोस संगीतकार/गायक पंकज मल्लिक के घर के बाहर अपनी गाड़ी में बैठे-बैठे मल्लिक बाबू का इन्तज़ार कर रहे थे। दोनों को साथ में स्टुडियो जाना था। वो गाड़ी में बैठे हुए हॉर्ण बजा कर पंकज मल्लिक को बुलाए जा रहे थे पर मल्लिक बाबू के कानों में जूं तक नहीं रेंगी क्योंकि वो उस समय अपने एक पसन्दीदा अंग्रेज़ी गीत को ग्रामोफ़ोन प्लेयर पर बजा कर उसके साथ-साथ ज़ोर ज़ोर से गाते जा रहे थे। कुछ समय बाद गीत ख़त्म होने पर जब पंकज मल्लिक ने हॉर्ण की आवाज़ सुनी और भाग कर बाहर गाड़ी में पहुँचे तो गुस्से से तिलमिलाए हुए नितिन बोस ने उनसे इस देरी की वजह पूछी। पूरी बात सुनने पर नितिन बोस के मन यह बात घर कर गई कि पंकज मल्लिक किसी गीत के "साथ-साथ" गा रहे थे। उन्हें यह विचार आया कि क्यों न अभिनेता सिर्फ़ होंठ हिलाए और पीछे से कोई अच्छा गायक गीत को गाए? उस दौरान बन रही बंगला फ़िल्म ’भाग्य चक्र’ के संगीतकार बोराल बाबू को जब उन्होंने यह बात बताई तो बोराल बाबू ने बहुत ही दक्षता के साथ इसको अंजाम दिया, न केवल ’भाग्य चक्र’ में, बल्कि ’धूप छाँव’ में भी। इसमें ध्वनि-मुद्रक (sound recordist) मुकुल बोस (नितिन बोस के भाई) का भी उल्लेखनीय योगदान था। इस तरह से पार्श्वगायन की शुरुआत के लिए केवल राय चन्द बोराल को ही नहीं, बल्कि नितिन बोस, पंकज मल्लिक और मुकुल बोस को भी श्रेय जाता है।



अब सवाल यह है कि पार्श्वगायन की शुरुआत के लिए इसी गीत को क्यों चुना गया? भारतीय सिनेमा के 100 वर्ष पूर्ति पर फ़िल्म इतिहासकार विजय बालाकृष्णन ने एक साक्षात्कार में बताया था कि इस फ़िल्म में एक लम्बा ’स्टेज सीन’ फ़िल्माया जाना था जो एक गीत था। उस ज़माने में किसी एक सीन को एक ही कैमरे से और एक ही शॉट में फ़िल्माया जाता था। इसलिए इस गीत के लिए यह मुश्किल आन पड़ी कि एक तो बहुत लम्बा सीन है, उस पर गीत है। अलग अलग शॉट में फ़िल्माने का मतलब होगा कि अभिनेताओं को यह गीत छोटे-छोटे टुकड़ों में गाना पड़ेगा जिसका असर गीत के प्रवाह में पड़ेगा। इसका एक ही उपाय था कि गाने को पहले रेकॉर्ड कर लिया जाए और फ़िल्मांकन अलग अलग सीन के रूप में हो। तो जब पंकज मल्लिक वाली घटना से नितिन बोस के मन में प्लेबैक का ख़याल आया तब उन्होंने इसका प्रयोग इसी गीत में करने का फ़ैसला किया। हरमन्दिर सिंह ’हमराज़’ द्वारा संकलित ’हिन्दी फ़िल्म गीत कोश’ के अनुसार प्रस्तुत गीत से पार्श्वगायन की शुरुआत हुई थी। इस गीत को एक ड्रामा कंपनी के स्टेज परफ़ॉरमैन्स गीत के रूप में फ़िल्माया गया था। गीत कोश में इसे फ़िल्म के तीसरे गीत के रूप में चिन्हित किया गया था। यह भी उल्लेखनीय तथ्य है कि इस फ़िल्म के गीत क्रमांक-4 "आज मेरो घर मोहन आयो..." का एक भाग इस "मैं ख़ुश होना चाहूँ..." के साथ ही जुड़ा हुआ है जो अहि सान्याल की आवाज़ में है। बाद में गीत क्रमांक-4 को पूर्णत: फ़िल्माया गया है के. सी. डे व अन्य कलाकारों की आवाज़ों में। इस तरह से "मैं ख़ुश होना चाहूँ..." दरअसल दो गीतों का संगम है। 

फिल्म - धूप-छांव : "मैं खुश होना चाहूँ..." : के.सी. डे, पारुल घोष, सुप्रभा सरकार और हरिमति दुआ



अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर। 


आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 




Saturday, August 8, 2015

तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी - 05 - कानन देवी


तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी - 05

 
कानन देवी


’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार। दोस्तों, किसी ने सच ही कहा है कि यह ज़िन्दगी एक पहेली है जिसे समझ पाना नामुमकिन है। कब किसकी ज़िन्दगी में क्या घट जाए कोई नहीं कह सकता। लेकिन कभी-कभी कुछ लोगों के जीवन में ऐसी दुर्घटना घट जाती है या कोई ऐसी विपदा आन पड़ती है कि एक पल के लिए ऐसा लगता है कि जैसे सब कुछ ख़त्म हो गया। पर निरन्तर चलते रहना ही जीवन-धर्म का निचोड़ है। और जिसने इस बात को समझ लिया, उसी ने ज़िन्दगी का सही अर्थ समझा, और उसी के लिए ज़िन्दगी ख़ुद कहती है कि 'तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी'। इसी शीर्षक के अन्तर्गत इस नई श्रृंखला में हम ज़िक्र करेंगे उन फ़नकारों का जिन्होंने ज़िन्दगी के क्रूर प्रहारों को झेलते हुए जीवन में सफलता प्राप्त किये हैं, और हर किसी के लिए मिसाल बन गए हैं। आज का यह अंक समर्पित है फ़िल्म जगत के प्रथम दौर की मशहूर गायिका-अभिनेत्री कानन देवी को।  
 
22 अप्रैल 1916 को कोलकाता के पास हावड़ा में एक छोटी बच्ची का जन्म हुआ। माँ ने नाम रखा कानन। पूरा नाम कानन बाला। बेहद ख़ूबसूरत दिखने वाली इस प्यारी बच्ची को क्या पता था कि इस दुनिया में उसका आना समाज के बनाए हुए कानूनों के ख़िलाफ़ था। बिन ब्याही लड़की की बेटी बन कर जन्म लेना ही उस बच्ची का अपराध था।  कानन की माँ राजोबाला का जिस लड़के के साथ प्रेम था, वह राजोबाला के गर्भवती होते ही रिश्ता ख़त्म कर भाग खड़ा हुआ। साहसी राजोबाला ने कोख में पल रहे संतान को जन्म देने का कठिन निर्णय तो लिया पर समाज का मुंह बन्द कर पाना उनके बस में नहीं था। इसलिए "अवैध" शब्द कानन के साथ जुड़ गया। माँ और बेटी की सामाजिक ज़िन्दगी आसान नहीं थी। फिर भी राजोबाला ने हिम्मत नहीं हारी और कानन को पालने लगी। कुछ समय बाद एक बार फिर राजोबाला की ज़िन्दगी में प्रेम का संचार हुआ और रतन चन्द्र दास नामक एक युवक से उनकी आत्मीयता बढ़ी। राजोबाला और रतन ने विवाह कर ली। रतन अच्छा लड़का था और कानन को पिता का प्यार देने लगा। राजोबाला और कानन की ज़िन्दगी संभली ही थी कि एक दिन अचानक जैसे फिर एक बार बिजली गिर पड़ी। रतन का अकस्मात निधन हो गया। माँ-बेटी फिर से असहाय हो गई। पिता के घर से राजोबाला को कोई मदद नहीं मिली, हर तरफ़ से दरवाज़े बन्द हो गए। अपना और बेटी का पेट पालने के लिए राजोबाला को लोगों के घरों में बरतन माँजने और पोछा लगाने का काम करना पड़ा। पर बेटी को इस राह पर चलने नहीं दिया। कुछ लोग कहते हैं कि कानन की शिक्षा हावड़ा के St. Agnes' Convent School से हुई थी, पर इस बात की पुष्टि नहीं हो पायी है। रतन की मृत्यु के बाद बहुत ज़्यादा दिनों तक कानन की पढ़ाई नहीं चल सकी और वो स्कूल से बाहर निकल गई।  

क़िस्मत हर किसी को कम से कम एक बार मौक़ा ज़रूर देती है। कानन को भी यह मौका मिला जब तुलसी बनर्जी नामक एक सज्जन, जिन्हें कानन काका बाबू (चाचा जी) कह कर बुलाती थी, ने उन्हें ’मादन थिएटर्स’ और ’ज्योति स्टुडियोज़’ में ले गए। कानन उस समय मात्र 10 वर्ष की थीं पर बहुत ही सुन्दर युवती के रूप में परिणित हो रही थीं। यह 1926 की बात थी। उस ज़माने में अच्छे घर की लड़कियों का फ़िल्मों में अभिनय करना ख़राब माना जाता था। पर जिस लड़की को जन्म से लेकर कभी समाज ने उचित सम्मान ही नहीं दिया, उस समाज के इस एक और पाबन्दी से कैसा डर? कानन के सौन्दर्य को देख उन्हें 1926 की मूक फ़िल्म ’जयदेव’ में एक छोटे रोल के लिए चुन लिया गया। इसके अगले ही साल ’शंकराचार्य’ फ़िल्म में भी उन्होंने अभिनय किया। 1932 की फ़िल्म ’विष्णु माया’ और ’प्रह्लाद’ में तो उन्होंने नायक की भूमिका निभाई। 1933 से 1936 तक ’राधा फ़िल्म्स’ में काम करने के बाद 1937 में वो जुड़ीं ’न्यु थिएटर्स’ से और वहीं पर उन्हें सबसे अधिक प्रसिद्धि मिली। गायक-अभिनेताओं में अगर कुन्दलाल सहगल शीर्ष पर थे तो गायिका-अभिनेत्रियों में कानन देवी चोटी पर थीं। राय चन्द बोराल ने उनकी गायकी को सँवारा, निखारा और उन्हें एक बेहतरीन गायिका बनने की तमाम बारिकियाँ सिखाई। बचपन से समाज की अशोभनीय टिप्पणियों को झेलने वाली कानन अब फ़िल्म जगत की नामचीन स्टार बन चुकी थीं। जैसे जैसे समय बीतता गया, अच्छे घरों की लड़कियों का आगमन फ़िल्मों में होने लगा, और कानन देवी को भी उसके समाज ने स्वीकार कर लिया। कानन देवी की कहानी से हमें यह सीख ज़रूर लेनी चाहिए कि अगर मन में विश्वास है, मेहनत करने की नियत है, तो कोई उसे रोक नहीं सकता। उपलब्धियाँ समाज को झुकने पर मजबूर कर ही देती हैं। अवैध संतान के रूप में जन्म लेने वाली, और बचपन में समाज के कटाक्ष झेलने वाली कानन की अपार सफलता को देख कर हम यही कह सकते हैं कि कानन, तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी!

आपको हमारी यह प्रस्तुति कैसी लगी, हमे अवश्य लिखिए। हमारा यह स्तम्भ प्रत्येक माह के दूसरे शनिवार को प्रकाशित होता है। यदि आपके पास भी इस प्रकार की किसी घटना की जानकारी हो तो हमें पर अपने पूरे परिचय के साथ cine.paheli@yahoo.com मेल कर दें। हम उसे आपके नाम के साथ प्रकाशित करने का प्रयास करेंगे। आप अपने सुझाव भी ऊपर दिये गए ई-मेल पर भेज सकते हैं। आज बस इतना ही। अगले शनिवार को फिर आपसे भेंट होगी। तब तक के लिए नमस्कार। 


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी  



The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ