Showing posts with label poets of hind yugm. Show all posts
Showing posts with label poets of hind yugm. Show all posts

Wednesday, May 6, 2009

आदित्य प्रकाश की भाषा साधना, कवितांजलि तीसरे वर्ष में

हिन्दी भाषा तथा साहित्य की जितनी सेवा हिन्दी को उच्च-शिक्षा के दरम्यान विषय न रखने वाले हिन्दी-प्रेमियों ने की है, उतनी शायद हिन्दी साहित्य में शोध तक करने वाले हिन्दीविदों ने भी नहीं की। कई हिन्दी प्रेमियों के लिए उनकी भाषा ही खाना-पीना व ओढ़ना-बिछाना है। ऐसे ही एक हिन्दी प्रेमी हैं आदित्य प्रकाश

आदित्य प्रकाश से इंटरनेट पर विचरने वाले ज्यादातर हिन्दी प्रेमी परिचित हैं। डैलास, अमेरिका से और इंटरनेट से चौबीसों घंटे चलने वाले एफ एम चैनल 'रेडियो सलाम नमस्ते' पर हर रविवार स्थानीय समय अनुसार रात्रि 9 बजे उनकी आवाज़ सुनाई देती है। आदित्य प्रकाश अंतराष्ट्रीय हिन्दी समिति की ओर से संकल्पित हिन्दी कविता के विशेष कार्यक्रम 'कवितांजलि' को प्रस्तुत करते हैं। यह कार्यक्रम अपने तीसरे वर्ष में प्रवेश कर चुका है।

'कवितांजलि' की सराहना कई कारणों से ज़रूरी है। भारत में, जहाँ कि हिन्दी बहुत बड़े भूभाग पर बोली जाती है, वहाँ के रेडियो चैनलों या अन्य मीडिया माध्यमों में कवितांजलि जैसे कार्यक्रम नहीं होते। यदि होते भी हैं तो बहुत ही स्थानीय स्तर पर। राष्ट्रीय रेडियो चैनलों में 1-2 कवियों का एकल-पाठ, सुनने वालों को कोई खास आकर्षित नहीं करता, इसलिए कोई सुनता भी नहीं। लेकिन आदित्य प्रकाश ने अपने प्रयासों से हिन्दी कविता के कार्यक्रम को बहुत रोचक और सुनने लायक बना रखा है।

हिन्दी, संस्कृत, नेपाली और अंग्रेजी जैसी भाषाओं पर पकड़ रखने वाले आदित्य प्रकाश प्राणि विज्ञान में एम एस सी करने के बाद भारत और नेपाल में जीव विज्ञान पढ़ाते रहे। पटना में इन्होंने शैरोन पब्लिक स्कूल की स्थापना की और उसके प्रिसिंपल भी रहे। 1998 में ये अमेरिका आ गये और डलास शहर में बस गये। यहाँ एक डिफेन्स फम्पनी के माइक्रोवेब इंजीनियरिंग विभाग में काम करते हुए भी साहित्यिक-सांस्कृतिक गतिविधियों में सक्रिय हैं। शायद हिन्दी भाषा का कोई कर्ज था या स्व-भाषाप्रेम जो विदेश में भी इन्होंने भाषा सेवा नहीं छोड़ी।

कवितांजलि कार्यक्रम को बहुत शुरू से ही आदित्य प्रकाश प्रस्तुत कर रहे हैं और वो भी पूर्णतया बिना किसी धनार्जन के। अपने घर से रेडियो सलाम नमस्ते आने और लौटने तक की यात्रा में जो पेट्रोल उड़ता है, वो खर्च भी नहीं लेते आदित्य प्रकाश। इतना होने के बाद भी इनके समर्पण में कभी कोई कमी नहीं आई। पिछले 2 साल से अनवरत हर रविवार नियत समय पर यह कार्यक्रम होता रहा। कितना सुखद है कि यह कार्यक्रम जीवंत प्रस्तुत होता है। जिसने भी इस कार्यक्रम को सुना आदित्य प्रकाश की आवाज़ में इतना ज़रुर याद रख गया- मंगल कामनाओं का अनवरत राग- यानी कवितांजलि।

इस कार्यक्रम के लिए आदित्य केवल इतना ही नहीं करते। बल्कि अपने खर्चे से दुनिया भर से हिन्दी कवियों को खोजना और उन्हें फोन करने के साथ-साथ उनसे लगातार संपर्क बनाए रखना ताकि इन नवांकुरों लगातार लिखने और भाषा की सेवा करने का प्रोत्साहन मिलता रहे। आदित्य प्रकाश हम हिन्दी कर्मियों के लिए एक प्रेरणा हैं। इनके इस समर्पण का सम्मान अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी समिती ने इस वर्ष 'भाषा सेवा सम्मान' देकर किया। इससे पहले भी छत्तीसगढ़ की संस्था सृजन-सम्मान द्वारा इन्हें प्रवासी सम्मान दिया जा चुका है। लेकिन ये सारे सम्मान फीके पड़ जाते हैं जब हम कभी कवितांजलि सुनते हैं और उस कार्यक्रम के श्रोताओं का प्रेम आदित्य प्रकाश के प्रति महसूस करते हैं।

आदित्य प्रकाश के प्रयासों से हमारे भूगोल के अलग-अलग भाग से कवितांजलि में 60 से अधिक कवियों ने अपना राग सुनाया है। कुछ महत्वपूर्ण नामों को गिनाना भी ज़रूरी समझता हूँ-

भारत से- मनीषा कुलश्रेष्ठ (हिन्दी नेस्ट डॉट कॉम की संपादिका), कुमार विश्वास, दीपक गुप्ता, राजेश चेतन, गजेन्द्र सोलंकी, सुरेन्द्र दुबे, सुनील जोगी, पवन दीक्षित, ओम व्यास ओम, उदय भानू हंस, कविता वाचकनवी, दिनेश रघुवंशी, मनोज कुमार मनोज, नलिनी पुरोहित, जयप्रकाश मानस (सृजनगाथा डॉट कॉम के संपादक), मधुमोहिनी मिश्रा, अर्जुन सिसोदिया, सुरेन्द्र अवस्थी, गौरव सोलंकी, विपुल शुक्ला, अनुपमा चौहान, निखिल आनंद गिरि, सुनीता चोटिया, रंजना भाटिया, आलोक शंकर, अनुराग शर्मा, मनीष वंदेमातरम् इत्यादि।

भारत के बाहर से- लावण्या शाह, डॉ॰ अंजना संधीर, अभिनव शुक्ला, सुधा ओम धींगरा, रेखा मैत्रा, प्रो॰ महाकवि हरिशंकर आदेश, डॉ॰ ज्ञान प्रकाश, देवेन्द्र सिंह, अर्चना पाण्डा, शशि पाधा, रेनुका भटनागर, राहुल उपाध्याय, डॉ॰ चमन लाल रैना, दॉ॰ सुषम बेदी, डॉ॰ बिन्देश्वरी अग्रवाल, इला प्रसाद, कुसुम सिन्हा, रेनू राजवंशी, डॉ॰ सुरेन्द्र गम्भीर, प्रो॰ ओलेफन हारमन, सुरेन्द्र तिवारी, रिपुदमन पचौरी, डॉ॰ कमल सिंह, अमरेन्द्र कुमार, सौमित्र सक्सेना, रचना श्रीवास्तवा, वीणा शर्मा, शैलेश मिश्रा इत्यादि।

आज यही आदित्य प्रकाश आवाज़ के श्रोताओं के लिए अपना संदेश लेकर आये हैं। सुनें-



हिन्दी के साथ-साथ आदित्य अमेरिका में भोजपुरी के भी प्रचार-प्रसार में प्रयासरत हैं। सामुदायिक पत्रिकाओं का संपादन भी करते हैं।

हमारा सलाम!!

Wednesday, September 10, 2008

कुछ बातें गौरव सोलंकी से

आवाज़ पर हमारे इस हफ्ते के सितारे गौरव सोलंकी का सपना है - "ऑस्कर"

7 जुलाई, 1986 को उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के 'जिवाना गुलियान' गाँव में जन्मे गौरव के मन में इंजीनियर बनने की लगन के साथ-साथ एक नन्हे से कवि की कोमल कल्पनायें भी बचपन से पलती रहीं। एक दिन हाथों ने लेखनी को थाम ही लिया और लेखन शुरू हो गया। 15 वर्ष की आयु में काव्य-लेखन आरंभ किया।

आई.आई.टी. रुड़की में प्रवेश के बाद शौक अधिक गति से बढ़ने लगा और कवि के शब्दों में अब वे अधिक 'परिपक्व' कविताएँ लिखने लगे हैं। साहित्य पढ़ते समय रुचि अब भी गद्य में ही रही और एक कहानीकार भी भीतर करवट लेने लगा। कहानियाँ लिखनी शुरू की और फिर उपन्यास भी। युग्म के ताज़ा गीत "खुशमिज़ाज मिटटी" के गीतकार गौरव से हमने की एक संक्षिप्त सी बातचीत -


हिंद युग्म- गौरव सोलंकी, पहले एक इंजीनियर या एक कवि?

गौरव- पहले कवि और बाद में भी :)

हिंद युग्म - माँ का स्वेटर, पिता के साथ चाँद तक जाने की तमन्ना, प्रियसी के लिए एक तरफा प्यार, किस कविता ने सबसे ज्यादा संतोष दिया?


गौरव- सभी ने अपने अपने वक़्त पर लगभग उतना ही संतोष दिया। शायद चुनकर नहीं बता सकता कि कब ज्यादा संतोष मिला। जब भी लिखा, इसी उद्देश्य से लिखा कि आत्मसंतुष्टि तो हो ही।

हिंद युग्म- हिन्दी ब्लॉगिंग और हिंद-युग्म, कैसा रहा ये सफर लगभग दो सालों का?

गौरव- बहुत अच्छा सफ़र रहा। हिन्द-युग्म से ही कितने सारे पढ़ने वाले लोग मिले। हिन्दी ब्लॉगिंग फल-फूल रही है, लेकिन इसके अंदाज़ से मैं बहुत ज़्यादा संतुष्ट नहीं हूं। और अच्छा हो सकता है।

हिंद युग्म- खुशमिज़ाज मिटटी, क्या है इस गीत की कहानी?

गौरव- एक दिन पार्क में घूमते घूमते शुरुआती दो पंक्तियाँ दिमाग में आईं और फिर उसी शाम पूरा गीत जुड़ता चला गया। पहली दो पंक्तियाँ अब भी मुझे काफ़ी पसंद हैं। अब भी लगता है कि शायद पूरा गीत उस स्तर का बनता तो कुछ और ही बात होती। सुबोध की आवाज़ बहुत अच्छी है। अब मैं भी गुनगुनाता हूं तो उसी धुन में। जिस धुन को सोच कर लिखा था, वह अब भूल ही गया।

हिंद युग्म - युग्म का पहला गीत जिसका वीडियो भी बना, आप ख़ुद भी फ़िल्म निर्देशन में रूचि रखते हैं, इस वीडियो को आप किस तरफ़ रेट करेंगे?

गौरव -वीडियो मुझे पसंद नहीं आया। किसी गाने का अच्छा वीडियो बनाने के लिए उसमें एक कहानी भी चले तो बेहतर रहता है। नहीं तो बोझिल सा लगने लगता है। हर एक दृश्य के लिए आपके पास एक जवाब होना चाहिए कि कोई इसे क्यों देखे?

हिंद युग्म - अगले ५ सालों में गौरव ख़ुद को क्या करते हुए देखना चाहेगा?

गौरव - ऑस्कर जीतते हुए। कोशिश तो करूंगा ही। :)

हिंद युग्म - और जाते जाते कुछ अपने ही अंदाज़ में "आवाज़" के लिए कुछ ख़ास हो जाए

गौरव - क्या इतना काफ़ी नहीं है? :)

आपको पढ़ना और सुनना कभी काफ़ी नहीं हो सकता गौरव, हिंद-युग्म परिवार को आपसे बहुत सी उम्मीदें हैं, हम सब आपको ओस्कर जीतते हुए देखना चाहेंगे. युग्म पर गौरव का काव्य संग्रह आप यहाँ पढ़ सकते हैं, फिलहाल सुनते हैं एक बार फिर गौरव का लिखा और सुबोध का गाया ये बेहद खूबसूरत सा गीत "खुशमिज़ाज मिटटी"




आप भी इसका इस्तेमाल करें

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ