Showing posts with label musician. Show all posts
Showing posts with label musician. Show all posts

Wednesday, August 6, 2008

हमेशा लगता है, कि यह गीत और बेहतर हो सकता था....

दोस्तो,
आवाज़ पर इस हफ्ते के "फीचर्ड कलाकार" है, युग्म के संगीत खजाने को पाँच गीतों से सजाने वाले ऋषि एस. संगीतकार ए आर रहमान के मुरीद, ऋषि हमेशा ये कोशिश करते हैं कि वो हर बार पहले से कुछ अलग करें. उनके हर गीत को अब तक युग्म के श्रोताओं ने सर आँखों पे बिठाया है, कभी मात्र शौकिया तौर पर वोइलिन बजाने वाले ऋषि, अब बतौर संगीतकार भी ख़ुद को महत्त्व देने लगे हैं, युग्म ने की ऋषि एस से एक ख़ास बातचीत.


(ऋषि मूल रूप से हिन्दी भाषी नही हैं, पर उन्होंने हिन्दी में अपने जवाब लिखने की कोशिश की है, तो हमने उनकी भाषा में बहुत अधिक संशोधन न करते हुए, यहाँ रखा है, ऋषि हिन्दी को शिखर पर देखने की, हिंद युग्म की मुहीम के पुरजोर समर्थक है, और युग्म के लिए वार्षिक अंशदान भी देते हैं)


हिंद युग्म - स्वागत है ऋषि, "मैं नदी..." आपका ५ वां गीत है, कैसे रहा अब तक का सफर युग्म के संगीत के साथ ?

ऋषि -सबसे पहले मैं हिंद युग्म को शुक्रिया अदा करना चाहूँगा, मेरे जैसे "amateur" संगीतकारों को अपना "talent" प्रदर्शन करने का मौका दिया है. हर गाने का "feedback" पढ़कर न सिर्फ़ प्रोत्साहन मिलता है बल्कि यह भी पता चलता है की गाने मे क्या कमियां है. इन गानों का एल्बम बनाकर उसे एक "larger audience" तक पहुंचने का कष्ट जो हिंद युग्म उठता है, मैं इसके लिये बहुत शुक्रगुजार हूँ. इस अवसर पर मे सजीव जी और अलोक जी और मेरे सभी सिंगेर्स, सुबोध साठे, मानसी पिम्पले और जयेश शिम्पी का शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ. "They have added soul to my songs".

हिंद युग्म -कुछ अपने बारे में बताईये, हमारे श्रोता आपके बारे में बहुत कम जानते हैं ?

ऋषि द्वारा कम्पोज्ड गीत
मैं नदी
बढ़े चलो
सुबह की ताज़गी (पहला सुर)
वो नर्म सी (पहला सुर)
झलक (पहला सुर)
ऋषि - मै हैदराबाद से हूं और "by profession software engineer" का काम करता हूँ.संगीत रात मे और weekends पे इस दुनिया से कुछ समय दूर रहने के लिये compose करता हूँ. मैने वोइलिन पे कार्नाटिक शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लिया है. western हार्मोनी, orchestration/अर्रंजेमेंट , audio mixing की शिक्षा मैने " self study" करके सिखा हैं.अभी सीखना जारी है. मुझे नही लगता कभी ख़तम होगी ये प्रक्रिया. Music compose करते समय थोड़ा सा कीबोर्ड बजा लेता हूँ.Guitar सीखने के कोशिश किया था एक समय, लेकिन software profession के कारण continue नही कर पाया.

हिंद युग्म - संगीत किस तरह का पसंद है आपको सुनना, अगर आप अपनी एल्बम प्लान करेंगे तो वो किस तरह की होगी ?

ऋषि -मै अपने mood और महौल के हिसाब से अलग अलग style का संगीत सुनना पसंद करता हूँ. खासकर इन्डियन classical, western classical, इंडियन film music, कुछ तरह के fusion, world music, सुनना पसंद करता हूँ.कभी कभी पॉप, रॉक, R&बी, रैप, Jazz जैसे western फोरम्स भी सुन लेता हूँ.
मेरे एल्बम का संगीत के बारे में कुछ नही जानता, क्यों की मै प्लान कर compose नही करता. I compose what ever comes to me from my heart. लेकिन एक सपना है ज़रूर है कि कुछ ऐसा एल्बम बनाऊं जिसमे सिर्फ़ संगीत का मज़ा ही नही बल्कि समाज के लिए कोई स्ट्रोंग मेसेज हो.फिलहाल ऐसे कोई थीम की खोज में हूँ.

हिंद युग्म - आप एक बड़ी कंपनी में कार्यरत हैं, कैसे समय निकाल पाते हैं अपने संगीत कार्यों के लिए ?


ऋषि -If someone asks you how you make time for having breakfast, lunch, dinner, sleep everyday when you have to work for a company, what would you say? I don't make any special efforts to make time for music. I compose only when it comes naturally to me.It has become a daily habit now.

हिंद युग्म - अब तक आपके रचे गए गीतों में आपका सबसे पसंदीदा गीत कौन सा है ?

ऋषि - अब तक के मेरे compose किये हुए गीतों से मैं संतुष्ट नही हूँ. मै गाना पुरा ख़तम कर जब प्रोजेक्ट बंद कर देता हूँ तो उसके बाद् उस गाने को बहुत कम सुनता हूँ. इसका कारण यह है की मुझे उस गाने की कमियां नज़र आती हैं और गाने का मज़ा नही ले पाता. यही लगता है कि यह गाना इससे भी अच्छा हो सकता है. लेकिन समय की पाबन्दी और गाने को ज्यादा manipulate करने से उसकी natural flow ख़राब होने के डर से अगले गाने में कुछ बेहतर करने का उम्मीद लेकर आगे बढता हूँ.

हिंद युग्म - "बढ़े चलो..." में आपको सबसे अधिक समय लगा, उस गीत के बारे में कुछ बताईये ?

ऋषि -"बढ़े चलो..." ख़तम करने में हमे करीब ५ मैने लग गये. कोम्पोसिशन में मुझे ज्यादा वक्त नही लगा लेकिन delay के कई कारण थे. जब इस गाने का concept सजीव जी ने मुझे बताया था तब मै official काम पर विदेश में था. गाना record कर mix करने के लिये मुझे India वापिस आने तक इंतज़ार करना पड़ा. India आकर मुझे अपने होम स्टूडियो मै कुछ changes करने थे. इसमे कुछ वक्त निकल गया. गाने में तीन आवाजों की जरुरत थी. हमे गायकों को खोज कर उनके availability के हिसाब से record करने में और वक्त लग गया. हमे दूसरा मेल गायक नही मिल रहा था, गाना का काफ़ी delay हो जाने के कारण मुझे ख़ुद आवाज़ देनी पड़ी.

हिंद युग्म - अक्सर पहले गीत लिखा जाता है या फ़िर धुन पर बोल पिरोये जाते हैं, आप को कौन सी प्रक्रिया बेहतर लगती है ?


ऋषि - मै गाना बनाना या तो धुन से शुरू कर सकता हूँ या फिर कविता से. मै यह मानता हूँ कि दोनों तरीकों में अपनी अपनी pros and cons है. मेरे "सुबह की ताजगी", "झलक" और "बढ़े चलो" गाने पहले लिखे गये. उनका धुन बाद मे बनाया गया. "मैं नदी .." और "वो नर्म सी मदहोशी" गानों का धुन पहले बनाए थे. It is challenging for the poet to write meaningfully to the tune.


हिंद युग्म - इस इन्टरनेट jamming के माध्यम से संगीत रचना कठिन काम है, मगर आप इस आईडिया के मूल बीज कहे जा सकते हैं युग्म के लिए, इस पर कुछ कहें ?

ऋषि- IT industry मे होने के कारण मुझे internet के द्वारा गाने बनाने मे ऐसा नही लगा की कुछ नई चीज़ कर रहा हूँ. हम दफ्तर मे दुनिया के opposite कोने के लोगों के साथ रोज़ काम करते हैं. गायकों के साथ आमने सामने बात नही होने के कारण गाने के vocals पे बहुत असर पड़ा है. मेरे गानों मे vocals हमेशा ही weak रहे हैं और इसका कारण गायक और संगीतकार remote है.मुझे इस बात का अफ़सोस है और आशा करता हूँ की मुझे गायकों को face-to-face record करने का मौका मिले और उनके singing abilities का फ़ायदा उठा सकूं .

हिंद युग्म - साल में लगभग ४-५ महीने आप विदेश यात्रा पर होते हैं, उस दौरान क्या आप संगीत से अलगाव महसूस करते हैं ? इस वक्त भी आप शिकागो में हैं.


ऋषि -I make use of of my time outside India to listen to new music and to learn about the new developments in music technology. In India, the resources are less on one hand and I m too busy composing so I don't find time to sit and read books. I also record tunes when I get the inspiration. I work on some song concepts as well.

हिंद युग्म - शुक्रिया ऋषि आप जल्दी से स्वदेश वापस आयें और नए गीतों पर काम शुरू करें, युग्म के श्रोता आपके अगले गीत का बेसब्री से इन्तेज़ार करेंगे.

ऋषि - Thanks once again to Hind Yugm for giving me the opportunity to compose for it. I look forward to do better music for yugm audience.

दोस्तों एक बार फ़िर ढेर सारी शुभकामनायें देते हुए, बतौर संगीतकार उनके उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए, सुनते हैं, ऋषि एस का स्वरबद्ध किया, ये ताज़ा और मधुर गीत.


Thursday, July 10, 2008

यादों के बदल छाए, उमड़ घुमड़ घिर आए....

दोस्तो,
हमें यह बताते हुए बेहद खुशी हो रही है, की हिंद युग्म के संगीत-सफर के सबसे पहले गायक सुबोध साठे (नागपुर) ने अपनी वेब साईट http://www.subodhsathe.com/ पर अपनी पहली मराठी एल्बम " मेघा दातले " का भव्य विमोचन किया है, जहाँ से आप इनके गीतों को डाउनलोड कर सकते हैं, साथ ही उन्होंने इसी एल्बम के एक गीत "ती जताना" का एक विडियो भी बनाया है जिसे आप यहाँ भी देख सकते हैं -



हमने की इसी बाबत सुबोध से बातचीत की, पेश है कुछ अंश -



Hind Yugm - Hi Subodh, finally a full marathi album, tell us what this "megha datle" is all about, the theme behind the album ?

'पहला सुर' में सुबोध के गीत
सुबह की ताज़गी
वो नर्म सी
झलक
Subodh - Yeah, finally! After starting all my compositions in Hindi, I thought I should do something in Marathi as well and started searching for meaningful poems. I found very tallented people through orkut who penned these songs for me (some of them on demand and some were already written) Lyricists are..Tushar Joshi, Renuka Khatavkar, Arun Nandan, Prasanna Shembekar, Kshipra and Shilpa Deshpande.

"Megh Datle, Aathvaninche..." in hindi, it means "Ghir aaye Badra....yadon ke"............ i think :)


All songs are composed and sung by me and music is arranged by my friend from Pune, Chaitanya Aadkar (who plays Keyboard with Sunidhi Chavan's group)

Hind Yugm - You made a video also, why you choose this perticular song for the video ?

Subodh - I think, this song relates to anyone or atleast it relates to me unknowingly, + lyrics and composition both are very close to my heart. This song is special!

Hind Yugm - How was the response ? What can we expect next, an Hindi album ?

Subodh - Response has been very very good, Thanks to all!! Haven't think about Hindi album (my 1st 3 albums are in Hindi only). But if I find meaningful lyrics will definitely do one Hindi album as well. I am going to launch my 2nd Marathi album in 2009.

Thank you Subodh, all the very best....Hind Yugm is eagly waiting to hear your first self composed song for Awaaz ( for the new season ) " khushmizaaz mitti ".

सुबोध को तलाश है अर्थपूर्ण गीतों की, जो भी गीतकार सुबोध के साथ जुड़ कर अपने गीत रचना चाहें संपर्क करें "subodh sathe" , पर.

हमने इस गीत ( ती जताना ), के गीतकार तुषार जोशी जी, जो कि हिंद युग्म के वरिष्ट कवियों में से एक हैं, उनसे भी पूछे कुछ सवाल, पेश है कुछ अंश -

हिंद युग्म - तुषार जी, सुबोध के साथ आपकी पहली मराठी एल्बम " मेघा दाटले " आ चुकी है, कैसा रहा ये अनुभव आपके लिए ?

तुषार जोशी - बड़ा ही सुखद अनुभव रहा। सुबोध ने गीत बडा़ ही दिल लगाकर गाया है। यूँ गीत में जान आ गई है। इसके पहले भी सुबोध ने मेरे कई हिन्दी और मराठी कविताओं को धुन देकर गाया है मगर इस गीत की बात ही कुछ और है क्योंकि ये गीत और गीतों के साथ अल्बम के रूप में प्रकाशित किया गया है।

हिद युग्म - आपका पहला हिन्दी गीत " भूल गए हो " हिंद युग्म पर आया था सुबोध का बनाया और गाया हुआ, जिसे बहुत अधिक सराहा गया था, आज की इस सफलता पर आप क्या श्रेय देना चाहेंगे हिंद युग्म को ?

तुषार जोशी - हिंद युग्म हमेशा से लोगों को जोडने का माध्यम रहा है। मुझे खुशी है कि हिन्दयुग्म के माध्यम से मेरी कविता और सुबोध ने गाया हुआ गीत लाखों लोगों तक पहुँचा। यूँ हिन्दयुग्म हमारे लिये सारी दुनिया के साथ जोडने वाला दरवाज़ा बन गया है।

हिंद युग्म - तुषार जी, अगला कदम क्या होगा, क्या हम उम्मीद करें की जल्द ही आपकी और सुबोध की जोड़ी एक हिन्दी एल्बम देगी, हिंद युग्म , आवाज़ के श्रोताओं के लिए ?

तुषार जोशी - ये खयाल मुझे पसंद आया। मै कहूँगा जरूर, क्यों नहीं?

हिंद युग्म आवाज़ की पूरी टीम की तरफ़ से सुबोध और तुषार जी को बधाइयाँ और शुभकामनाएं आने वाली समस्त योजनाओं के लिए.

Friday, February 1, 2008

आवाज़ के वाहक

हिन्द-युग्म ने इंटरनेट की जुगलबंदी से दुनिया भर में फैले युवा संगीतकारों, गीतकारों, गायकों, संगीत आलेखकों, संगीत समीक्षकों और वाचकों इत्यादि को एक मंच पर लाकर खड़ा कर दिया है। संगीत के हर पहलू का युग्म (जोड़) है हमारा यह प्रयास आवाज।

संगीतकार

हिन्द-युग्म ने १७ संगीतकारों की मदद से कुल ३७ गीत तैयार कर लिये हैं। वर्तमान में १५ संगीतकार अलग-अलग गीतों पर काम कर रहे हैं।

14. शिशिर पारखी,
15. कुमार आदित्य विक्रम


The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ