Showing posts with label kya kuch na kaha. Show all posts
Showing posts with label kya kuch na kaha. Show all posts

Tuesday, June 16, 2009

आता है तेरा नाम मेरे नाम से पहले..."निकाह" और "तलाक" के बीच उलझी एक फ़नकारा

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #२१

वैसे देखें तो पहेलियाँ महफ़िल-ए-गज़ल की पहचान बन गई हैं, और इन पहेलियों के कारण हीं हम और आप एक दूसरे से इस तरह जुड़ पाते हैं। लेकिन आज मैं "गज़ल से गुमशुदा शब्द पहचानो" वाली पहेली की बात नहीं कर रहा,बल्कि मैं उस पहेली की बात कर रहा हूँ, जो "फ़नकार" की शिनाख्त करने के लिए अमूमन पहले पैराग्राफ़ में पूछी जाती है|उसी पहेली को एक नए अंदाज में मैं अभी पेश करने जा रहा हूँ। पहेली पूछने से पहले यह बता दूँ कि हम आज जिनकी बात कर रहे हैं, वो एक "फ़नकारा" हैं,एक गज़ल गायिका और हिंदी फ़िल्मों से उनका गहरा ताल्लुक है। पहेली यह है कि नीचे दिए गए दो कथनों (उन्हीं के क़ोट्स) से उन फ़नकारा की शिनाख्त करें:

१.मैं जब नई-नई गायिका हुई थी तो बहुत सारे लोग मुझे मोहतरमा नूरजहाँ की बेटी समझते थे।हम दोनों ने हीं क्लासिकल म्युज़िक में तालीम ली हैं और ऐसी आवाज़ें बाकी की आवाज़ों से ज्यादा खुली हुई होती हैं। मेरी आवाज़ की पिच और क्वालिटी उनकी आवाज़ से बहुत ज्यादा मिलती है। शायद यही कारण है कि लोगों द्वारा हमारे बीच यह रिश्ता करार दिया गया था।

२. मेरी बेटी "ज़ाहरा" की म्युजिक एलबम कुछ हीं दिनों में रिलीज होने वाली है और उसे हिंदी फ़िल्मों में काम करने के कई सारे आफ़र भी मिले हैं। मेरी दादी अनवरी बेगम पारो, दादा रफ़ीक़ गज़नवी, अम्मी ज़रिना और खुद मेरा फ़िल्मों से गहरा नाता रहा है और मेरे लिए खुशी की बात है कि मेरी अगली पीढी भी इसी क्षेत्र में भविष्य आजमाने जा रही है।


तो ये रहे आपके लिए दो सुराग, बूझिये और हमें सुझाईये कि हम किनकी बात कर रहे हैं। वैसे आप ईमानदारी बरतेंगे ,इसका मुझे यकीन है, नहीं तो उन फ़नकारा के नाम की जानकारी इस आलेख के शीर्षक में हीं है।

बात तब की है, जब राज कपूर साहब अपने शहजादे "ऋषि कपूर" और "नीतू सिंह" की शादी के अवसर पर लंदन में एक रिसेप्शन की तैयारी कर रहे थे। इस रिसेप्शन में उन्होंने अपनी चचेरी बहन "ज़रिना" को भी न्योता दिया था। रिसेप्शन में कई सारे जानेमाने निर्देशकों की मंडली मौजूद थी, जिनमें "बी० आर० चोपड़ा" भी एक थे। संयोग की बात यह है कि चोपड़ा साहब ने कुछ हीं दिनों पहले "ज़ीनत अमान" को लेकर "इंसाफ़ की तराज़ू" पूरी की थी और अपनी अगली फ़िल्म के लिए उन्हें किसी मुसलमान नायिका की तलाश थी। यूँ तो "ज़ीनत" भी मुसलमान हीं हैं, लेकिन चोपड़ा साहब के अनुसार उनमें एक शहरीपन झलकता है,जिस कारण वो "नीलोफ़र" के किरदार में सही नहीं रहेंगी। उसी दौरान राज कपूर साहब भी "हिना" बनाने की जुगत में थे और उन्हें भी ऐसी हीं किसी मुसलमान नायिका की तलाश थी,जिन्हें वो "पाकिस्तान" का वाशिंदा दिखा सकें। तो उसी महफ़िल में बातों हीं बातों में राज साहब को अपनी बहन "ज़रिना" की बेटी के बारे में पता चला, जो न सिर्फ़ अच्छा गाती थी, बल्कि अच्छी दिखती भी थी। राज साहब ने अपने दिल की बात "ज़रिना" को बता दी। लेकिन "हिना" बनती , उससे पहले हीं राज साहब की नज़र "ज़ेबा बख्तियार" पर गई और उन्होंने "ज़ेबा" को अपने फ़िल्म के लिए साईन कर लिया। वैसे बदकिस्मती देखिए कि "राज" साहब "हिना" को अपने जीते-जी पूरा भी नहीं कर पाए और फिल्म की बागडोर "रणधीर कपूर" को संभालनी पड़ी। वैसे राज साहब और हिना की बातें आने से पहले हीं देव आनंद साहब ने इन फ़नकारा को लेकर फ़िल्म बनाने की योजना बना डाली थी,लेकिन जैसे हीं उन्हें यह पता चला कि इनकी माँ "ज़रिना" और "राज कपूर" भाई-बहन हैं और राज कपूर इन्हें लेकर "हिना" बनाने वाले हैं तो देव आनंद साहब पीछे हट गए। नियति का यह खेल देखिए कि "हिना" बनी लेकिन इन्हें लेकर नहीं। राज साहब जब इन्हें "हिना" में ले न सके तो उन्होंने "बी० आर० चोपड़ा" पर दवाब डालना शुरू कर दिया ताकि चोपड़ा साहब अपनी आने वाली फ़िल्म "तलाक तलाक तलाक" में इन्हें साईन कर लें। आखिरकार हुआ यही और फ़िल्म उद्योग को मिला एक नया चेहरा । इस फ़िल्म के रीलिज होने से पहले हीं इसके गाने खासे चर्चित हो गए। फ़िल्म अपने नाम के कारण समय पर रीलिज़ न हो सकी और इसके रीलिज की अनुमति तभी मिली जब इसका नाम बदलकर "निकाह" कर दिया गया। "निकाह" सुनने के बाद तो आपको पता चल हीं गया होगा कि हम किनकी बात कर रहे हैं।

"निकाह" बनने से पहले हीं "सलमा आग़ा" जी ने अपनी बहन "सबीना" के साथ मिलकर "एबीबीए एंड आग़ा" नाम से अपनी म्युज़िक एलबम रीलिज की थी। आपकी जानकारी के लिये यह बता दें कि "एबीबीए" एक स्वीडिश पौप म्युज़िक ग्रुप है, जो १९७८ में अपने वजूद में आया था। यूँ तो यह एक ग्रुप का नाम है,लेकिन यह ग्रुप इतना मकबूल हो गया कि आजकल इसे एक संगीत की एक विधा(ज़ौनर) के रूप में स्वीकार कर लिया गया है। "एबीबीए" की खासियत यह है कि इसमें सीधे-सादे बोल और लुभावने और लोकप्रिय संगीत तो होते हीं है,साथ हीं साथ अलग-अलग हार्मोनी में गायिकाओं की आवाज़ की ओवरडबिंग की जाती है,जिसे "वाल औफ़ साउंड" भी कहा जाता है। तो हाँ जब संगीतकारों ने उस एलबम में "सलमा आग़ा" की आवाज़ को सुना तो उन्होंने "निकाह" के गानों को उनसे हीं गवाने का फ़ैसला कर लिया। वैसे एक इंटरव्यू में "चोपड़ा" साहब ने कहा था कि उस फ़िल्म का सबस मशहूर गाना "दिल के अरमां" किसी और गायिका की आवाज़ में रिकार्ड होने वाला था। लेकिन इस बात से "आग़ा" बेहद नाराज़ हो गईं। उनका मानना था कि लोग इस बात को स्वीकार नहीं करेंगे कि मैं एक गायिका होकर भी अपने गाने को नहीं गा रही। आखिरकार "चोपड़ा" साहब को "आग़ा" की जिद्द के आगे झुकना पड़ा और आगे क्या हुआ यह कहने की कोई जरूरत नहीं है। "सलमा आग़ा" के बारे में और भी बहुत सारी बातें कहने की हैं,लेकिन आलेख की लंबाई इज़ाज़त नहीं दे रही,इसलिए बाकी बातें किसी अगले आलेख में। अब हम आज की गज़ल की ओर रूख करते हैं। "वीनस रिकार्ड्स एंड टेप्स" ने १९९८ में "हुस्न" नाम की एक एलबम रीलिज की थी, जिसमें कुल मिलाकर नौ गज़लें थी। संयोग देखिए कि आज की गज़ल को छोड़कर बाकी सारी गज़लों के गज़लगो के नाम की जानकारी मुझे मिल गई, बस यही गज़ल है,जिसे किसने लिखा है मुझे नहीं पता। हाँ संगीत किसका है, यह मुझे पता है। इस गज़ल में संगीत दिया है "बौबी एम०" ने।

तो चलिए हम और आप मिलकर आनंद लेते हैं इस गज़ल का।कहने की ज़रूरत नहीं है कि इस गज़ल में पाश्चात्य वाद्ययंत्रों का भरपूर प्रयोग हुआ है।वैसे जिसने भी बोल लिखे हैं,उसने बड़ा हीं उम्दा काम किया है। हाँ अगर आपको उस शायर की जानकारी है तो हमें इत्तेला ज़रूर कीजिएगा।:

क्या कुछ न कहा था दिल-ए-नाकाम से पहले,
वाकिफ़ थे मोहब्बत के हम अंजाम से पहले।

काटी हैं मोहब्बत में तो हर तरह की रातें,
दिल आज धड़कने लगा क्यों शाम से पहले।

अफ़साना किसी तरह मुकम्मल नहीं होता,
आता है तेरा नाम मेरे नाम से पहले।

नाकामि-ए-उल्फ़त हमें जीने नहीं देगी,
मरना भी नहीं है तेरे पैगाम से पहले।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

कहकहा ___ का बरताव बदल देता है,
हंसने वाले तुझे आंसू नज़र आये कैसे...

आपके विकल्प हैं -
a) चेहरे, b) बात, c) शख्स, d) आँख

इरशाद ....

पिछली महफ़िल के साथी-
पिछली महफिल का सही शब्द था -"लकीरों" और सही शेर कुछ यूं था -

मेरे इन हाथों की चाहो तो तलाशी ले लो,
मेरे इन हाथों में लकीरों के सिवा कुछ भी नहीं....

सबसे पहले सही जवाब दिया शरद तैलंग जी ने एक बार फिर साथ में अर्ज किया ये शेर भी -

हाथों की लकीरों का भी विश्वास क्य़ा करें
जो खुद उलझ रहीं हैं उनसे आस क्य़ा करें

वाह...
कुलदीप अंजुम जी ने फरमाया -

कहीं मुझसे जुदा न कर दे उसे कोई लकीर,
इस वजह से वो हाथ मेरा देखता न था..

क्या बात है...
सुमित जी भी कूद पड़े महफ़िल में -

जिन के हाथो मे लकीर नही होती,
जरूरी तो नही उनकी तकदीर नही होती ?

सही बात सुमित जी...
मंजू जी, शमिख फ़राज़ जी, मनु जी , तपन जी आप सभी का भी आभार, शोभा जी पीनाज़ की और भी ग़ज़लें आपको ज़रूर सुन्वएंगें, बने रहिये आवाज़ के साथ.

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा



ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर सोमवार और गुरूवार दो अनमोल रचनाओं के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ