Showing posts with label gulshan bawara. Show all posts
Showing posts with label gulshan bawara. Show all posts

Monday, April 18, 2011

पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए.....किशोर दा के साथ खूब रंग जमाया गायिका हेमा मालिनी ने इस गीत में

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 637/2010/337

'सितारों की सरगम' लघु शृंखला में कल संगीतकार जोड़ी कल्याणजी-आनंदजी के संगीत निर्देशन में आप नें सुना था अमिताभ बच्चन का गाया फ़िल्म 'लावारिस' का गीत। कल के ही अंक में आप नें जाना कि कल्याणजी-आनंदजी नें कई फ़िल्मी कलाकारों से गीत गवाये हैं। अशोक कुमार और अमिताभ बच्चन के गाये गीतों का ज़िक्र हमनें किया। फ़िल्म 'जब जब फूल खिले' के "एक था गुल और एक थी बुलबुल" में इन्होंने नंदा से संवाद बुलवाये। इसी तरह शंकर जयकिशन नें भी 'संगम' के गीत "बोल राधा बोल" में वैयजंतीमाला, 'मेरा नाम जोकर' के गीत "तीतर के दो आगे तीतर" में सिमी गरेवाल और 'ऐन ईवनिंग् इन पैरिस' के गीत "आसमान से आया फ़रिश्ता" में शर्मीला टैगोर की आवाज़ ली। आइए आज कल्याणजी-आनंदजी के संगीत में आपको सुनवाते हैं ड्रीम-गर्ल की आवाज़। जी हाँ, ड्रीम-गर्ल यानी हेमा मालिनी। हेमा जी नें बेशुमार फ़िल्मों में यादगार अभिनय तो किया ही, लेकिन आज हम उन्हें याद कर रहे हैं एक गायिका के रूप में। हेमा मालिनी के गाये गीतों की अगर बात करें तो कम से कम जो दो गीत एकदम से याद आते हैं, वो हैं गुलज़ार की फ़िल्म 'किनारा' का "एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने"। वैसे इस गीत को मुख्यत: भूपेन्द्र नें गाया है, हेमा मालिनी नें इसमें बस थोड़ा बहुत गुनगुनाया है और संवाद बोले हैं। और जो दूसरा गीत है, वह है 'हाथ की सफ़ाई' फ़िल्म का किशोर कुमार के साथ गाया हुआ "पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए"। १९७४ के इस फ़िल्म में रणधीर कपूर - हेमा मालिनी तथा विनोद खन्ना - सिमि गरेवाल की जोड़ियाँ थीं। फ़िल्म का सब से लोकप्रिय गीत रहा लता-रफ़ी का गाया "वादा कर ले साजना"।

रणधीर कपूर और हेमा मालिनी पर फ़िल्माया आज का प्रस्तुत गीत एक स्टेज सॊंग् है जिसमें रणधीर देवदास के किरदार में और हेमा मालिनी को चंद्रमुखी के किरदार में दिखाया जा रहा है। लेकिन सीन कुछ ऐसा है कि रणधीर कपूर को शराब में डूबे देवदास का किरदार निभाना है, लेकिन किसी कारण से वो सचमुच ही शराब पी कर आउट-ऒफ़ कंट्रोल हो जाते हैं और स्टेज पर जो होता है वह होता है एक लाफ़-रायट। उधर चंद्रमुखी का किरदार निभा रहीं हेमा मालिनी के लिए उन्हें सम्भालना मुश्किल हो जाता है और इस गीत के द्वारा इस हास्य दृश्य को साकार किया गया है। बड़ा ही अनोखा और मज़ेदार गीत है, जिसके लिए बड़ा श्रेय गीतकार गुलशन बावरा को जाता है। वैसे दोस्तों, संगीत और शब्दों के लिहाज़ से इस गीत को उत्कृष्ट गीत तो नहीं कह सकते, लेकिन इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि फ़िल्म के इस सिचुएशन के लिए इससे बेहतर गीत लिख पाना भी आसान काम नहीं था। उस पर किशोर दा का ख़ास हास्य अंदाज़ सोने पे सुहागा। इस "टपोरी" गीत में नारीकंठ के लिए हेमा मालिनी की आवाज़ को चुनना भी एक अनोखा प्रयोग था। जैसा कि कल की कड़ी से आप जान चुके हैं आनंदजी के ही शब्दों में कि कुछ गीत ऐसे होते हैं जिन्हें बड़े से बड़ा गायक वह अंजाम नहीं दे पाता जो अंजाम अभिनेता या संगीतकार दे जाता है। शायद इसमें भी वही बात थी। हेमा जी के सुर तो हिले हुए सुनाई देते हैं, लेकिन यही अनोखापन गीत की खासियत बन गया, और यह गीत एक यादगार गीत बन गया। तो आइए आज भी कल ही की तरह आपको गुदगुदायें इस गीत को सुनवाकर।



क्या आप जानते हैं...
कि हेमा मालिनी का पूरा नाम है हेमा मालिनी आर. चक्रवर्ती। उनकी माँ जया चक्रवर्ती दक्षिण की फ़िल्म निर्मात्री थीं।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 8/शृंखला 14
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - दमदार आवाज़ के मालिक हैं इस गीत के अभिनेता गायक और ये फिल्म है ऋषि दा की.

सवाल १ - इस गीत में गायक -गायिका एक दूसरे को एक रिश्ते से संबोधित कर रहे हैं, कौन सा है ये रिश्ता - २ अंक
सवाल २ - परदे पर अभिनेता के साथ कौन अभिनेत्री दिखाई देती हैं इस गीत में - ३ अंक
सवाल ३ - सह गायिका कौन है - २ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
फिर बराबरी पर है अनजाना और अमित जी, बताते चले कि इस बार प्रतीक जी भी १० अंकों का आंकड़ा छू लिया है बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Tuesday, December 28, 2010

एक मैं और एक तू, दोनों मिले इस तरह....ये था प्यार का नटखट अंदाज़ सत्तर के दशक का

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 558/2010/258

'एक मैं और एक तू' - 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की इस लघु शृंखला की आठवीं कड़ी में आज एक और ७० के दशक का गीत पेश-ए-ख़िदमत है। दोस्तों, फ़िल्म संगीत के सुनहरे दौर की गायक-गायिका जोड़ियों में जिन चार जोड़ियों का नाम लोकप्रियता के पयमाने पर सब से उपर आते हैं, वो हैं लता-किशोर, लता-रफ़ी, आशा-किशोर और आशा-रफ़ी। ७० के दशक में इन चार जोड़ियों ने एक से एक हिट डुएट हमें दिए हैं। कल के लता-रफ़ी के गाये गीत के बाद आज आइए आशा-किशोर की जोड़ी के नाम किया जाये यह अंक। और ऐसे में फ़िल्म 'खेल खेल में' के उस गीत से बेहतर गीत और कौन सा हो सकता है, जिसके मुखड़े के बोलों से ही इस शृंखला का नाम है! "एक मैं और एक तू, दोनों मिले इस तरह, और जो तन मन में हो रहा है, ये तो होना ही था"। नये अंदाज़ में बने इस गीत ने इस क़दर लोकप्रियता हासिल की कि जवाँ दिलों की धड़कन बन गया था यह गीत और आज भी बना हुआ है। उस समय ऋषी कपूर और नीतू सिंह की कामयाब जोड़ी बनी थी और एक के बाद एक कई फ़िल्में इस जोड़ी के बने। 'खेल खेल में' १९७५ में बनी थी जिसका निर्देशन किया था रवि टंडन ने। वैसे तो इस फ़िल्म की कहानी कॊलेज में पढ़ने वाले युवाओं के हँसी मज़ाक से शुरु होती है, लेकिन कहानी तब सीरियस हो जाती है जब वे एक ख़तरनाक मुजरिम से भिड़ जाते हैं, और एक रोमांटिक फ़िल्म थ्रिलर में बदलकर रह जाती है। इस फ़िल्म में राकेश रोशन, अरुणा ईरानी और इफ़्तेखार ने भी अहम भूमिकाएँ अदा की थी। वैसे आपको यह भी बता दें कि इस फ़िल्म की कहानी मूल अंग्रेज़ी उपन्यास 'गूड चिल्ड्रेन डोण्ट किल' से ली गई है जिसके लेखक थे लूई थॊमस, जो नेत्रहीन थे, और यह उपन्यास सन् १९६७ में प्रकाशित हुआ था।

'खेल खेल में' फ़िल्म में संगीत था राहुल देव बर्मन का और गीत लिखे गुल्शन बावरा ने। दोस्तों, एक ज़माने में गुल्शन बावरा ने पंचम के लिए काफ़ी सारे फ़िल्मों में गीत लिखे थे। आज ये दोनों ही इस संसार में मौजूद नहीं हैं, लेकिन कुछ साल पहले 'यूनिवर्सल म्युज़िक' ने पंचम के जयंती पर एक ऐल्बम जारी किआ जिसका शीर्षक था - 'Untold Stories about Pancham - Rare Sessions of Gulshan Bawra'। तो आइए आज इसी ऐल्बम से चुनकर गुल्शन बावरा के कुछ शब्द पढ़ें जो उन्होंने अपने इस मनपसंद संगीतकार के लिए रेकॊर्ड करवाये थे। "संगीत उसकी ज़िंदगी थी, और वो ज़िंदगी का भरपूर मज़ा ले ही रहा था कि मौत के ख़तरनाक हाथों ने उसे अपने शिकंजे में ले लिया। आर. डी. बर्मन, यानी कि पंचम, उसके चाहनेवालों को, उसकी हमनवा, हमप्याला, गुल्शन बावरा का नमस्कार! दोस्तों, यह मेरा सौभाग्य है कि मैं यूनिवर्सल म्युज़िक के सौजन्य से अपने जिगरी दोस्त पंचम की बर्थ ऐनिवर्सरी पे उसको अपनी खट्टी मीठी यादों का गुल्दस्ता पेश कर रहा हूँ, इस आशा के साथ कि स्वग लोक में पंचम को इसकी भीनी भीनी ख़ुशबू आ रही होगी। पंचम देवी सरस्वती का पुजारी था। हर साल अपने घर में सरस्वती पूजा बड़ी धूम धाम से मनाता था। उस दिन अमिताभ बच्चन, जया, जीतेन्द्र, धर्मेन्द्र, ऋषी कपूर, रणधीर कपूर, डिरेक्टर्स में नासिर हुसैन, शक्ति सामंत, प्रमोद चक्रवर्ती, गीतकारों मे आनंद बक्शी, मजरूह सुल्तानपुरी साहब, गुलज़ार और मैं, हम सब इकट्ठा होते। पहले पूजा होती, और उसके बाद लंच होता। लंच बड़ा ही लज़ीज़ होता था और एस्पेशियली बैंगन के जो पकोड़े बनते थे, उनका तो मज़ा ही अलग था। और सोने पे सुहागा, आशा जी बड़े प्यार से सबको सर्व करती थीं। जितने भी पंचम के म्युज़िशियन्स थे, उस दिन ख़ूब एन्जॊय करते थे।" दोस्तों, आगे और भी बहुत बातें बावरा साहब ने कही है जिन्हें हम हौले हौले आप तक पहुँचाते रहेंगे। फिलहाल जवाँ दिलों की धड़कन बना यह गीत आपकी नज़र कर रहे हैं, "एक मैं और एक तू"। बड़ा ही पेपी नंबर है, एक हल्का फुल्का रोमांटिक डुएट, जिसमें किशोर दा की मीठी शरारती अंदाज़ भी है और आशा जी की शोख़ी भी। सुनते हैं...



क्या आप जानते हैं...
कि फ़िल्म 'खेल खेल में' में मिथुन चक्रवर्ती ने एक 'एक्स्ट्रा' के तौर पे अभिनय किया था।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 9/शृंखला 06
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - किसी अन्य सूत्र की दरकार नहीं.

सवाल १ - पुरुष गायक बताएं - २ अंक
सवाल २ - इस सफल फिल्म का नाम बताएं - १ अंक
सवाल ३ - फिल्म की प्रमुख अभिनेत्री का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
इस बार शरद जी ने बढ़त बना ली है, अमित तिवारी जी, सिर्फ एक सवाल का जवाब देना है सभी का नहीं, अंतः अंक शून्य

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Sunday, September 6, 2009

रविवार सुबह की कॉफी और यादें गीतकार गुलशन बावरा की (१५)

सच कहा गया है कि कल्पना की उडान को कोई नहीं रोक सकता. कल्पनाएँ इंसान को सारे जहान की सैर करा देती हैं. ये इंसान की कल्पना ही तो है की वो धरती को माँ कहता है, तो कभी चाँद को नारी सोंदर्य का प्रतीक बना देता है. आसमान को खेल का मैदान, तो तारों को खिलाड़ियों की संज्ञा दे देता है. तभी तो कहते है कल्पना और साहित्य का गहरा सम्बन्ध है. जिस व्यक्ति की सोच साहित्यिक हो वो कहीं भी कोई भी काम करे, पर उसकी रचनात्मकता उसे बार-बार साहित्य के क्षेत्र की और मोड़ने की कोशिश करती है. गुलशन बावरा एक ऐसा ही व्यक्तित्व है जो अपनी साहित्यिक सोच के कारण ही फिल्म संगीत से जुड़े. हालांकि पहले वो रेलवे में कार्यरत थे, लेकिन उनकी कल्पना कि उड़ान ने उन्हें फिल्म उद्योग के आसमान पर स्थापित कर दिया, जहाँ उनका योगदान ध्रुव तारे की तरह अटल और अविस्मर्णीय है.

१२ अप्रैल १९३८ पकिस्तान(अविभाजित भारत के शेखुपुरा) में जन्मे गुलशन बावरा जी का असली नाम गुलशन मेहता है. उनको बावरा उपनाम फिल्म वितरक शांति भाई पटेल ने दिया था. उसके बाद सभी उन्हें इसी नाम से पुकारने लगे. हिंदी फिल्म उद्योग के ४९ वर्ष के सेवाकाल में बावरा जी ने २५० गीत लिखे. गुलशन बावरा ने अपना पहला गीत १९५९ में फिल्म 'चंद्रसेना' के लिए लिखा था. फिल्म 'सट्टा बाजार' के लिए लिखा गीत 'चांदी'के चंद टुकडे के लिए 'उनका हिट गीत था. उन्होनें 'सनम तेरी कसम', 'अगर तुम न होते', सत्ते पे सत्ता' ,'ये वादा रहा', हाथ की सफाई' और 'रफूचक्कर' आदि फिल्मों को अपने गीतों से सजाया है. फिल्म उपकार के गीत 'मेरे देश की धरती सोना उगले' को कौन भूल सकता है. यह गीत भी बावरा जी की ही कलम और कल्पना का अनूठा संगम है. फिल्म 'उपकार' के इस गीत ने उनके कैरियर को नई ऊँचाई दी. अपनी सादी शैली के लिए पहचाने जाने वाले बावरा जी का यह शायद सबसे चर्चित गीत रहा . अगर आज की तारीख में भारतवासी 'जय हो' गीत गाकर अपनी देशभक्ति को अभिव्यक्त करते हैं तो ६० के दशक में ये सम्मान 'मेरे देश की धरती सोना उगले'को प्राप्त था. हम इसे था नहीं कह सकते. देश प्रेम से ओतप्रोत यह गीत आज भी स्वतंत्रता दिवस जैसे आयोजनों पर मुख्य रूप से रेडियो तथा टी.वी. स्टेशनों पर बजाया जाता है. 'मेरे देश की धरती' गीत तथा 'यारी है ईमान मेरा' गीत के लिए उन्हें 'फिल्म फेयर पुरूस्कार' से नवाजा गया था.

बावरा ने जीवन के हर रंग के गीतों को अल्फाज दिए. उनके लिखे गीतों में 'दोस्ती, रोमांस, मस्ती, गम' आदि विभिन्न पहलू देखने को मिलते हैं. 'जंजीर' फिल्म का गीत 'यारी है ईमान मेरा यार मेरी जिन्दगी' दोस्ती की दास्तान बयां करता है, तो 'दुग्गी पे दुग्गी हो या सत्ते पे सत्ता' गीत मस्ती के आलम में डूबा हुआ है. उन्होंने बिंदास प्यार करने वाले जबाँ दिलों के लिए भी 'खुल्ल्म खुल्ला प्यार करेंगे', 'कसमें वादे निभाएंगे हम', आदि गीत लिखे हैं. बावरा के पास हर मौके के लिए गीत था. पाकिस्तान से आकर बसे बावरा ने अपने फ़िल्मी कैरियर की तुलना में यूं तो कम गीत लिखे लेकिन उनके द्वारा लिखे सादे व अर्थपूर्ण गीतों को हमेशा पसंद किया गया. उन्होंने संगीतकार 'कल्याण जी आनंद जी' के संगीत निर्देशन में ६९ गीत लिखे और आर.डी. बर्मन के साथ १५० गीत लिखे. पंचम दा गुलशन बावरा जी के पडोसी थे. पंचम दा के साथ उनकी कई यादें जुडी हुई थीं. इन यादों को गुलशन बावरा जी ने 'अनटोल्ड स्टोरीज' नाम की एक सीडी में संजोया था. इसमें उन्होंने पंचम दा की आवाज रिकार्ड की थी और कुछ गीतों के साथ जुड़े किस्से-कहानियां भी प्रस्तुत किये.

गुलशन बावरा दिखने में दुबले -पतले शरीर के थे. उनका व्यक्तित्व हंसमुख था. हांलाकि बचपन में विभाजन के समय, उन्होंने जो त्रासदी झेली थी, वो अविस्मर्णीय है लेकिन उनके व्यक्तित्व में उसकी छाप कहीं दिखाई नहीं देती थी. वो कवि से ज्यादा कॉमेडियन दिखाई देते थे. इस गुण के कारण कई निर्माताओं ने उनसे अपनी फिल्मों में छोटी-छोटी भूमिकाएं भी अभिनीत करवायीं. विभाजन का दर्द उन्होंने कभी जाहिर नहीं होने दिया. राहुल देव बर्मन उनके करीबी मित्र थे. राहुल जी के संगीत कक्ष में प्राय: सभी मित्रों की बैठक होती थी और खूब ठहाके लगाये जाते थे. गुलशन बावरा उस सर्कस के स्थायी 'जोकर' थे. यहीं से उनकी मित्रता किशोर कुमार जी से हुई.फिर क्या था अब तो दोनों लोग मिलकर हास्य की नई-नई स्तिथियाँ गढ़ते थे. गुलशन बावरा को उनके अंतिम दिनों में जब 'किशोर कुमार' सम्मान के लिए चुना गया तो उनके चहरे पर अद्भुद संतोष के भाव उभरते दिखाई दिए. उनके लिए यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण क्षण था. एक तरफ यह पुरूस्कार उनके लिए विभाजन की त्रासदी से लेकर जीवन पर्यंत किये गए संघर्ष का इनाम था. दूसरी ओर अपने पुराने मित्र की स्मृति में मिलने वाला पुरुस्कार एक अनमोल तोहफे से कम नहीं था. पिछले सात वर्षों से वह 'बोर्ड ऑफ परफार्मिंग राइट सोसायटी' के निदेशक पद पर कार्यरत थे.

विगत ७ अगस्त २००९ को लम्बी बीमारी के चलते गुलशन बावरा जी का देहांत हो गया और गुलशन जी की इच्छानुसार उनके मृतशरीर को जे.जे. अस्पताल को दान कर दिया गया. हिंदी सिनेमा ही नहीं हिंदी साहित्य भी गुलशन बावरा जी के अद्भुद योगदान को कभी नहीं भूल पायेगा. आज गुलशन जी शारीरिक रूप से हमारे बीच उपस्थित नहीं हैं तो क्या हुआ उनके लिखे अनमोल गीत हमेशा फिजाओं में गूँजकर उनके होने का एहसास कराते रहेंगे. एक गीतकार कभी नहीं मरता उसकी कल्पना उसके विचार धरोहर के रूप में लोगों को आनंदित करने के साथ-साथ एक दिशा भी प्रदान करते रहते हैं. आइये हम सभी एक उत्कृष्ट और उम्दा कल्पना के सृजनकार को श्रद्धांजलि दें. आज रविवार सुबह की कॉफी में सुनते हैं गुलशन बावरा के लिखे और किशोर दा के गाये कुछ मस्ती भरे तो कुछ दर्द भरे गीत -

हमें और जीने की चाहत न होती (अगर तुम न होते)


प्यार हमें किस मोड़ पे ले आया (सत्ते पे सत्ता)


दिल में जो मेरे (झूठा कहीं का)


तू मइके मत जईयो (पुकार)


लहरों की तरह यादें (निशाँ)


प्रस्तुति - दीपाली तिवारी "दिशा"


"रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत" एक शृंखला है कुछ बेहद दुर्लभ गीतों के संकलन की. कुछ ऐसे गीत जो अमूमन कहीं सुनने को नहीं मिलते, या फिर ऐसे गीत जिन्हें पर्याप्त प्रचार नहीं मिल पाया और अच्छे होने के बावजूद एक बड़े श्रोता वर्ग तक वो नहीं पहुँच पाया. ये गीत नए भी हो सकते हैं और पुराने भी. आवाज़ के बहुत से ऐसे नियमित श्रोता हैं जो न सिर्फ संगीत प्रेमी हैं बल्कि उनके पास अपने पसंदीदा संगीत का एक विशाल खजाना भी उपलब्ध है. इस स्तम्भ के माध्यम से हम उनका परिचय आप सब से करवाते रहेंगें. और सुनवाते रहेंगें उनके संकलन के वो अनूठे गीत. यदि आपके पास भी हैं कुछ ऐसे अनमोल गीत और उन्हें आप अपने जैसे अन्य संगीत प्रेमियों के साथ बाँटना चाहते हैं, तो हमें लिखिए. यदि कोई ख़ास गीत ऐसा है जिसे आप ढूंढ रहे हैं तो उनकी फरमाईश भी यहाँ रख सकते हैं. हो सकता है किसी रसिक के पास वो गीत हो जिसे आप खोज रहे हों.

Monday, August 17, 2009

मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती...गुलशन बावरा ने लिखा इस असाधारण गीत से इतिहास

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 174

र आज है तिरंगे के तीसरे रंग, यानी कि हरे रंग की बारी। हरा रंग है संपन्नता का, ख़ुशहाली का। "ख़ुशहाली का राज है, सर पे तिरंगा ताज है, ये आज का भारत है ओ साथी आज का भारत है"। जी हाँ दोस्तों, इस बात में कोई शक़ नहीं कि देश प्रगति के पथ पर क्रमश: अग्रसर होता जा रहा है। हरित क्रांति से देश में खाद्यान्न की समस्या बड़े हद तक समाप्त हुई है। लेकिन अब भी देश की आबादी का एक ऐसा हिस्सा भी है जिसे दो वक़्त की रोटी नसीब नहीं। इस तिरंगे का हरा रंग उस दिन सार्थक होगा जिस दिन देश में कोई भी आदमी भूखा न होगा। आज तिरंगे के हरे रंग को सलामी देते हुए हमने जिस गीत को चुना है उस गीत से बेहतर शायद ही कोई और गीत होगा इस मौके के लिए। फ़िल्म 'उपकार' का सदाबहार देश भक्ति गीत "मेरे देश की धरती सोना उगले, उगले हीरे मोती" आप ने हज़ारों बार सुना होगा, आज भी सुनिए, रोज़ सुनिए, क्योंकि इस तरह के गीत रोज़ रोज़ नहीं बनते। यह एक ऐसा देश भक्ति गीत है जिसने एक इतिहास रचा है। शायद ही कोई स्वतंत्रता दिवस या गणतंत्र दिवस का पर्व होगा जो इस गाने के बग़ैर मनाया गया होगा! इस गीत में भारत के एक साधारण गाँव की दैनन्दिन जीवन शैली, किसानों की दिन चर्या को दर्शाया गया है, लेकिन देश भक्ति के रंग में ढाल कर। मनोज कुमार देश भक्ति फ़िल्मों के बादशाह माने जाते हैं। उनका नाम भारत कुमार भी पड़ गया था। फ़िल्म 'शहीद' के बाद 'उपकार', 'पूरब और पश्चिम', और 'क्रांति' जैसी कई कामयाब देश भक्ति फ़िल्मों का उन्होने निर्माण किया। फ़िल्म 'उपकार' के इस गीत को सुनते हुए हमारा दिल इस बात पर गर्व अनुभव करता है कि हम ने इस देश की मिट्टी में जन्म लिया।

फ़िल्म 'उपकार' की बाक़ी बातें हम फिर किसी दिन करेंगे, आज सिर्फ़ इस गीत के बारे में कहने को जी चाह रहा है। इस फ़िल्म में कई गीतकार थे जैसे कि क़मर जलालाबादी, इंदीवर और गुलशन बावरा। प्रस्तुत गीत गुल्शन बावरा का लिखा हुआ है और शायद यह उनके फ़िल्मी सफ़र का सब से ख़ास गीत रहा होगा। गायक महेंद्र कपूर साहब को तो थी ही महारथ हासिल देश भक्ति के गानें गाने की। और संगीतकार कल्यानजी-आनंदजी ने क्या संगीत संयोजन किया है इस गीत में, कमाल है! किसी गाँव का एक पूरा दिन हमारी आँखों के सामने ला खड़ा कर दिया है सिर्फ़ संगीत और ध्वनियों की सहायता से। इस संगीतकार जोड़ी की जितनी तारीफ़ की जाये इस गीत के लिए, कम ही होगी! तभी तो जब आनंदजी विविध भारती पर पधारे थे तो 'उजाले उनकी यादों के' कार्यक्रम में उनसे इस गीत से संबंधित विस्तृत जानकारी ली गयी थी, जो आज हम ख़ास आप के लिए यहाँ पर प्रस्तुत कर रहे हैं।

प्र: आप की फ़िल्म 'उपकार', जो 'हिट', बड़ी 'सुपर डुपर हिट' रही, उसमें एक गाना है "मेरे देश की धरती सोना उगले", उसमें भी बहुत सारे 'साउंड एफ़ेक्ट्स' हैं।

क्या है कि मनोज जी की यह पहली पिक्चर थी। उनका काम हम ने देखा हुआ नहीं था, नहीं तो हम लोग क्या करते हैं कि पहले हम 'डिरेक्टर' का, उसका 'ऐंगल' क्या है, उसकी 'टेकिंग्‍' क्या है, हर 'डिरेक्टर' की एक 'ऐंगल' होती है, इस तरह से इनका कोई काम देखने को नहीं मिला था। 'हिमालय की गोद में' में उनके साथ काम किया था लेकिन ऐसा कुछ देखने को नहीं मिला था कि इनका ये है, ऐसा है। तो वो सेठ जी बुलाते थे हम लोगों को। 'सेठ जी, मैं गाँव का आदमी हूँ और सुबह से शाम तक मुझे ये चाहिए कि एक गाने में सब कुछ आ जाए'। हमने कहा, 'सुबह से शाम, मतलब? समझे नहीं कि क्या चाहिए'। बोले कि 'गाँव में मैं किसान आदमी हूँ, शाम तक खेती में जो काम होता है, उसमें सब कुछ चाहता हूँ और यह वतन की बात है, देश की धरती की बात है'। तो बोले कि 'ठीक है, गाँव में तो आप भी रहे हैं, जो हम देंगे वो कर के लायेंगे क्या आप?' एक दूसरे की छेड़-खानी हम लोग आपस में बहुत करते थे। कोई बुरा नहीं मानता था, एक दूसरे के काम से लिए हम ऐसा बोलते थे। वह गाना जो हुआ, उसमें हम ने सारे 'एफ़ेक्ट्स' डाले। पंछियों की चहचहाहट, फिर वह लहट का चलना, बैलों का चलना, फिर ये, वो, सब कुछ, और ये करने के बाद, काफ़ी 'टाइम' लगा इसमें, क्योंकि 'एफ़ेक्ट्स' में काफ़ी 'टाइम' लग जाता है।

प्र: कितने घंटे लगे थे इस गाने को रिकार्ड करने में?

इस गाने में 'पार्ट्स' भी थे, तो इस गाने को सवेरे से 'स्टार्ट' किए थे, कुछ १६-१८ घंटे लगे होंगे, only in recording, उससे पहले 'रिहर्सल' होता रहा।


प्र: लेकिन 'फ़ाइनल प्रोडक्ट' जो मिला आप को...

क्योंकि सब कुछ चाहिए था उसमें। कोरस में गानेवाले भी चाहिए, बैल की आवाज़ भी चाहिए, लहट की भी आवाज़ आनी चाहिए, उसी 'टाइम' पे 'सिंगर' की भी आवाज़ आनी चाहिए, महेंद्र कपूर जी की आवाज़ थी बड़ी मज़बूत, वो टिके रहे 'लास्ट' तक। इस गाने की रिकार्डिंग्‍ से पहले एक बात बनी थी कि "इस देश की धरती" कि "मेरे देश की धरती"? ये सब छोटी छोटी बातें हैं, पहले यह लिखा गया था कि "इस देश की धरती सोना उगले"। बोले कि एक तो "उगले" शब्द लोग समझेंगे नही, वो बोले कि 'नहीं, यहाँ तो समझते हैं, आप के वहाँ नहीं समझते होंगे'। 'ठीक है, लेकिन "इस देश की धरती" में 'फ़ीलिंग्स्‍' नहीं आती है, "मेरे" में ज़्यादा अपनापन का अहसास होता है'। तो इस पर बहस चल रही थी कि "इस" रखें कि "मेरे" रखें। 'सिटिंग्‍' चलती रही कि "इस" रखें कि "मेरे" रखें, "मेरे" रखें कि "इस" रखें। युं करते करते आख़िर में "मेरे देश की धरती", और इस गाने ने...

प्र: इतिहास रच दिया!

इतिहास रच दिया!!!



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. कल का एपिसोड समर्पित होगा गीतकार गुलज़ार को.
2. सलिल चौधरी है संगीतकार.
3. मुखड़े में एक से नौ के बीच के एक अंक का जिक्र है.

पिछली पहेली का परिणाम -
दिशा जी अब एक बार फिर आप नंबर १ हो गयी हैं, १४ अंकों के लिए बधाई. वाकई इतने आसान गीत को तो यूं झट से पहचान लिया जाना चाहिए थे...खैर हम ये मान के चलें कि हर कोई शरद जी या स्वप्न जी जैसा धुरंधर नहीं हो सकता :)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ