Showing posts with label fir subah hogi. Show all posts
Showing posts with label fir subah hogi. Show all posts

Sunday, May 17, 2009

आसमां पे है खुदा और जमीं पे हम...आजकल वो इस तरफ देखता है कम...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 83

साहिर लुधियानवी एक ऐसे गीतकार रहे हैं कि उन्होने जो भी गाने लिखे वो आम जनता के होठों की शान बन गये। उन्होने अपनी शायरी और नग़मों में ऐसे ऐसे ख़यालात पेश किये हैं कि जिसने भी इन्हे पढ़ा या सुना इनके असर से बच न सके। असंतुलित बचपन और जवानी के असफल प्रेम ने उन्हे ऐसे झटके दिये थे कि उनकी ये तमाम दर्द उनकी शायरी में फूट पड़े थे और वो बन बैठे थे एक विद्रोही शायर। लेकिन सिर्फ़ प्रेम और प्रेम की नाकामियाँ लिखने तक ही उनकी शायरी सीमित नहीं रही, बल्कि समाज में चल रही समस्यायों पर भी उनकी कलम के बाण चलाये है उसी असरदार तरीक़े से। प्रेम और विरह जैसी विषयों से परे उठकर आम जनता की दैनन्दिन समस्यायों को अपना निशाना बनाया है साहिर ने एक बार नहीं बल्कि कई कई बार। भूख, बेरोज़गारी, नारी की इज़्ज़त और ग़रीबों की तमाम दुख तकलीफ़ों पर सीधा वार उनके कलम ने बहुत बार किये हैं। एक फ़िल्मी गीतकार के दायरे सीमाओं से घिरे होते हैं और बहुत ज़्यादा अलग तरह का कुछ लिखना मुमकिन नहीं होता। लेकिन जब भी मौका हाथ लगा साहिर ने ज़िन्दगी के किसी न किसी ज्वलन्त मुद्दे को व्यक्त किया है। उदाहरण के तौर पर फ़िल्म 'फिर सुबह होगी' में मुकेश की आवाज़ में उनका लिखा गीत "आसमाँ पे है ख़ुदा और ज़मीं पे हम, आजकल वो इस तरफ़ देखता है कम" एक व्यंग-बाण है आज की सामाजिक व्यवस्था की तरफ़। चारों तरफ़ अन्याय, अत्याचार, शोषण पनप रहा है, क्या भगवान की नज़र इस दुनिया से उठ चुकी है! आख़िर आज भगवान इतना उदासीन क्यों है! आज 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में यही चिंतन पेश हो रहा है इस गीत के ज़रिए।

फ़िल्म 'फिर सुबह होगी' बनी थी १९५८ में 'पारिजात पिक्चर्स' के बैनर तले, जिसका निर्देशन किया था रमेश सहगल ने। राज कपूर, माला सिन्हा और रहमान अभिनीत यह फ़िल्म फ़िल्मी इतिहास का एक महत्वपूर्ण अध्याय रहा है। संगीतकार ख़य्याम ने इस फ़िल्म में पहली बार साहिर लुधियानवी के साथ काम किया था। उन दिनों राज कपूर की फ़िल्मों में संगीत दिया करते थे शंकर जयकिशन। पर इस फ़िल्म में मौका मिला ख़य्याम को और उन्होने यह चुनौती बड़ी ही कामयाबी से निभायी। ख़य्याम के संगीतकार चुने जाने के पीछे भी एक कहानी है। कहा जाता है कि साहिर साहब ने फ़िल्म के निर्माता को पूछा कि इस फ़िल्म के संगीतकार कौन बनने वाले हैं। जब निर्माता महोदय ने बताया कि क्योंकि यह राज कपूर की फ़िल्म है तो यक़ीनन शंकर जयकिशन ही संगीत तैयार करेंगे, तो इस पर साहिर बोले कि क्योंकि यह फ़िल्म फ्योडोर डोस्तोएव्स्की की मशहूर रूसी उपन्यास 'क्राइम ऐंड पनिशमेंट' पर आधारित है, इसलिए इस फ़िल्म के संगीत के लिए एक ऐसे संगीतकार को चुना जाए जिसने यह उपन्यास पढ़ रखा हो। बस, फिर क्या था, ख़य्याम साहब ने यह उपन्यास पढ़ रखा था और उन्हे यह फ़िल्म मिल गयी। यह बात ख़ुद ख़य्याम साहब ने विविध भारती के 'उजाले उनकी यादों के' कार्यक्रम में कहा था। तो दोस्तों, लीजिए पेश है मुकेश, साहिर और ख़य्याम साहब को समर्पित आज का यह 'ओल्ड इज़ गोल्ड'।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. गीता दत्त और लता की आवाजों में छेड़ छाड़ और मस्ती से भरा ये गीत.
२. इस फिल्म का एक दोगाना पहले भी ओल्ड इस गोल्ड में आ चुका है.
३. मुखड़े में है -"जादू टोना".

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
मनु जी लौटे हैं एक बार फिर विजेता बन कर...बधाई...

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ