Showing posts with label film songs based on rabindra sangeet. Show all posts
Showing posts with label film songs based on rabindra sangeet. Show all posts

Saturday, May 5, 2018

चित्रकथा - 67: हिन्दी फ़िल्मी गीतों में रबीन्द्र संगीत की छाया

अंक - 67

हिन्दी फ़िल्मी गीतों में रबीन्द्र संगीत की छाया

"कोई जैसे मेरे दिल का दर खटकाए..." 




जहाँ एक तरफ़ फ़िल्म-संगीत का अपना अलग अस्तित्व है, वहीं दूसरी तरफ़ फ़िल्म-संगीत अन्य कई तरह के संगीत पर भी आधारित रही है। शास्त्रीय संगीत, लोक संगीत और पाश्चात्य संगीत का प्रभाव फ़िल्म-संगीत पर हमेशा से रहा है। उधर बंगाल की संस्कृति में रबीन्द्र संगीत एक अहम धारा है; गुरुदेव रबीन्द्रनाथ ठाकुर की रचनाओं के बिना बांगला संगीत, नृत्य और साहित्य अधूरा है। समय-समय पर हिन्दी सिने संगीत जगत के संगीतकारों ने भी रबीन्द्र-संगीत को अपने फ़िल्मी गीतों का आधार बनाया है। आगामी 7 मई को कविगुरु रबीन्द्रनाथ ठाकुर के जन्म-जयंती के उपलक्ष्य में आइए आज ’चित्रकथा’ में हम उन हिन्दी फ़िल्मी गीतों पर एक नज़र डालें जो रबीन्द्र संगीत की धुनों से प्रेरित हैं। आज का यह अंक कविगुरु को समर्पित है।



(7 May 1861 – 7 August 1941)

विगुरु रबीन्द्रनाथ ठाकुर के लिखे गीतों का, जिन्हें हम "रबीन्द्र-संगीत" के नाम से जानते हैं, बंगाल के साहित्य, कला और संगीत पर जो प्रभाव पड़ा है, वैसा बहुत कम साहित्यकारों के साथ होता है। ऐसा कहा जाता है कि टैगोर के गीत दरसल बंगाल के 500 वर्ष के साहित्यिक और सांस्कृतिक मंथन का निचोड़ है। धन गोपाल मुखर्जी ने अपनी किताब 'Caste and Outcaste' में लिखा है कि रबीन्द्र-संगीत मानव मन के हर भाव को प्रकट करने में सक्षम हैं। कविगुरु ने छोटे से बड़ा, ग़रीब से धनी, हर किसी के मनोभाव को, हर किसी की जीवन शैली को आवाज़ प्रदान की है। गंगा में विचरण करते ग़रीब से ग़रीब नाविक से लेकर अर्थवान ज़मीनदारों तक, हर किसी को जगह मिली है रबीन्द्र-संगीत में। समय के साथ साथ रबीन्द्र-संगीत एक म्युज़िक स्कूल के रूप में उभरकर सामने आया है। रबीन्द्र-संगीत को एक तरह से हम उपशास्त्रीय संगीत की श्रेणी में डाल सकते हैं। अपने लिखे गीतों को स्वरबद्ध करते समय कविगुरु ने शास्त्रीय संगीत, बांगला लोक-संगीत और कभी-कभी तो पाश्चात्य संगीत का भी सहारा लिया है। रबीन्द्र-संगीत पर रबीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा स्थापित "विश्वभारती विश्वविद्यालय" का एक लम्बे समय तक नियंत्रण था। इस विश्वविद्यालय की अनुमति के बिना कोई रबीन्द्र-संगीत को गा या इस्तमाल नहीं कर सकता था। फ़िल्मों में रबीन्द्र-संगीत की धारा को लाने में पहला क़दम उठाया था संगीतकार-गायक पंकज मल्लिक ने। 1937 की फ़िल्म 'मुक्ति' के बांगला संस्करण में मल्लिक बाबू ने कविगुरु की रचनाओं का व्यापक स्तर पर इस्तमाल किया। अधिकांश धुनें कविगुरु की थीं, पर सर्वाधिक लोकप्रिय गीत "दिनेर शेषे घूमेर देशे" की धुन मल्लिक बाबू ने ख़ुद बनाई थी। इस फ़िल्म के बाद भी पंकज मल्लिक रबीन्द्र-संगीत का इस्तमाल व्यापक रूप से करते रहे और कविगुरु की रचनाओं को बंगाल के बाहर पहुँचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे। 'मुक्ति' के हिंदी संसकरण में कानन देवी के स्वर में "सांवरिया मन भाया रे..." गीत रबीन्द्र-संगीत की छाया लिए हुए था जो न केवल बहुत लोकप्रिय हुआ बल्कि कानन देवी का गाया लोकप्रियतम गीतों में से एक है। 1949 की फ़िल्म 'अंजानगढ़' में पंकज मल्लिक और उत्पला सेन का गाया एक गीत था "संसार के आधार पर दया हम पे दिखाओ..." जो रबीन्द्रनाथ रचित ""सर्बा खर्बा तार दाहे" गीत पर आधारित था। यूं तो इस फ़िल्म के संगीतकार थे रायचन्द बोराल, पर इस गीत का संगीत-संयोजन पंकज मल्लिक ने किया था। फ़िल्म के बांगला संस्करण में इस गीत को हेमन्त मुखर्जी और उत्पला सेन ने गाया है। रायचन्द बोराल ने 1945 की फ़िल्म 'हमराही' (जो बिमल राय निर्देशित प्रथम हिन्दी फ़िल्म थी) में रबीन्द्रनाथ रचित "मधुगंधे भरा मधु स्निग्ध छाया" को उसके मूल बांगला रूप में प्रस्तुत कर सुनने वालों को चमत्कृत कर दिया था। 

न्यू थिएटर्स के संगीतकार पंकज मल्लिक और रायचन्द बोराल की जब बात चल ही रही है, तो वहाँ के तीसरे संगीतकार अर्थात्‍ तिमिर बरन का उल्लेख भी आवश्यक हो जाता है। पंकज मल्लिक की तरह तिमिर बरन ने रबीन्द्र संगीत का प्रयोग ज़्यादा तो नहीं किया पर 1954 की 'बादबान' (एस. के. पाल के साथ) फ़िल्म में "कैसे कोई जिए, ज़हर है ज़िन्दगी... आया तूफ़ान" (हेमन्त कुमार - गीता दत्त) को रबीन्द्र-संगीत ("तारे ना जानी...") पर आधारित कर ऐसा कम्पोज़ किया कि जिसे ख़ूब सराहना मिली। यह गीत तिमिर बरन के यादगार गीतों में से एक है जो आज भी रेडियो पर सुनाई दे जाता है। रबीन्द्र-संगीत का इस्तमाल करने वाले न्यू थिएटर्स के बाहर के संगीतकारों में पहला नाम है अनिल बिस्वास का। अनिल दा ने मूल गीत के शब्दों को नहीं, बल्कि उनकी धुनों का प्रयोग किया। और उनके बाद भी तमाम संगीतकारों ने केवल रबीन्द्र-संगीत के धुनों का ही सहारा लिया। उपर्युक्त "मधुगंधे भरा..." गीत की धुन का प्रयोग अनिल बिस्वास ने अपनी 1960 की फ़िल्म 'अंगुलिमाल' में किया था मीना कपूर और साथियों के गाये "मेरे चंचल नैना मधुरस के भरे..." गीत में। अनिल बिस्वास द्वारा स्वरबद्ध रबीन्द्र-संगीत पर आधारित सबसे लोकप्रिय रचना है 1954 की फ़िल्म 'वारिस' का "राही मतवाले, तू छेड़ एक बार मन का सितार..." गीत। तलत महमूद और सुरैया की आवाज़ों में यह गीत बहुत ज़्यादा लोकप्रिय तो हुआ पर बंगाल के बाहर जनसाधारण को यह पता भी नहीं चला कि दरसल इस गीत की धुन कविगुरु रचित "ओ रे गृहोबाशी..." पर आधारित है जो मूलत: एक होली गीत है। यहाँ यह कहना ज़रूरी है कि कविगुरु होली के त्योहार को एक विशेष उत्सव की तरह गीत-संगीत-नृत्य के माध्यमों से मनाते थे और आज भी यह परम्परा ’विश्वभारती’ में जारी है। 

संगीतकार सचिन देव बर्मन ने रबीन्द्र-संगीत का हू-ब-हू प्रयोग ज़्यादा गीतों में नहीं किया। यह ज़रूर है कि उनके द्वारा स्वरबद्ध कई गीतों में रबीन्द्र-संगीत की छाया मिलती है। रबीन्द्र-संगीत पर आधारित दादा बर्मन का सर्वाधिक लोकप्रिय गीत है 1973 की फ़िल्म 'अभिमान' का "तेरे मेरे मिलन की ये रैना..." जो रबीन्द्रनाथ रचित "जोदी तारे नाइ चिनी गो..." गीत पर आधारित है। 1950 की देव आनन्द-सुरैया अभिनीत फ़िल्म 'अफ़सर' में सुरैया का गाया लोकप्रिय गीत "नैन दीवाने एक नहीं माने..." भी एक रबीन्द्र-रचना "शेदिन दुजोने दुलेछिलो बोने..." पर आधारित है जिसकी धुन दादा बर्मन ने बनाई है। रबीन्द्र-संगीत की छाया लिए दादा बर्मन द्वारा स्वरबद्ध कुछ और गीत हैं "जायें तो जायें कहाँ" (टैक्सी ड्राइवर), "मेरा सुंदर सपना बीत गया" (दो भाई), "मेघा छाये आधी रात बैरन बन गई निन्दिया" (शर्मीली)। सचिन दा के बेटे राहुल देव बर्मन ने बंगाल और नेपाल के लोक-संगीत का ख़ूब प्रयोग किया है अपने गीतों में, पर एक-आध बार रबीन्द्र-संगीत की तरफ़ भी झुके हैं। फ़िल्म 'जुर्माना' का लता के गाये "छोटी सी एक कली खिली थी एक दिन बाग़ में..." गीत के लिए पंचम ने जिस रबीन्द्र-रचना को आधार बनाया, उसके बोल हैं "बसन्ते फूल गांथलो आमार जयेर माला..."। इस मूल रबीन्द्र-रचना को 1944 की बांगला फ़िल्म 'उदयेर पथे' में शामिल किया गया था। 'उदयेर पथे' दरसल बांगला-हिन्दी द्विभाषी फ़िल्म थी, जिसका हिन्दी में 'हमराही' के नाम से निर्माण हुआ था। इस फ़िल्म के एक गीत की चर्चा हम उपर कर चुके हैं। राहुल देव बर्मन ने 1982 की फ़िल्म 'शौकीन' में आशा-किशोर से "जब भी कोई कंगना बोले..." गीत गवाया था जो रबीन्द्रनाथ रचित "ग्राम छाड़ा ओइ रांगा माटीर पथ..." की धुन पर आधारित था। '1942 - A Love Story' में कविता कृष्णमूर्ति का गाया "क्यों नए लग रहे हैं ये धरती गगन..." को भी रबीन्द्र-संगीत से प्रेरित पंचम ने ही एक साक्षात्कार में बताया था पर मूल रबीन्द्र-रचना की पहचान नहीं हो पायी है। इसी अंश का प्रयोग पंचम ने बरसों पहले 'हीरा-पन्ना' के शीर्षक गीत "पन्ना की तमन्ना..." के अंतरे की पंक्ति "हीरा तो पहले ही किसी और का हो गया" में किया था। हेमन्त कुमार की आवाज़ में एक अत्यन्त लोकप्रिय रबीन्द्र-रचना है "मोन मोर मेघेरो शोंगी उड़े चोले दिग दिगन्तेरो पाने..."। हेमन्त कुमार ने ही इस गीत की धुन पर 1964 की हिन्दी फ़िल्म 'माँ बेटा' में एक गीत कम्पोज़ किया था "मन मेरा उड़ता जाए बादल के संग दूर गगन में, आज नशे में गाता गीत मिलन के रे, रिमझिम रिमझिम रिमझिम..."। लता मंगेशकर का गाया यह गीत ज़्यादा सुनाई तो नहीं दिया पर यह एक अत्यन्त कर्णप्रिय रचना है जिसे जितनी बार भी सुनें, अच्छा ही लगता है। इस गीत के फ़िल्मांकन में निरुपा रॉय सितार हाथ में लिए गीत गाती हैं और एक नर्तकी इस पर नृत्य कर रही हैं। इस बात का उल्लेख हम इसलिए कर रहे हैं क्योंकि इस नृत्य शैली को "रबीन्द्र-नृत्य" के नाम से जाना जाता है (रबीन्द्र संगीत पर किए जाने वाले नृत्य की विशेष शैली को रबीन्द्र-नृत्य कहते हैं)। 

बंगाल से ताल्लुख रखने वाले संगीतकारों में एक नाम बप्पी लाहिड़ी का भी है। यूं तो बप्पी दा 'डिस्को किंग्‍' के नाम से जाने जाते हैं, पर उन्होंने भी कई शास्त्रीय और लोक संगीत आधारित गीत रचे हैं। रबीन्द्र-संगीत का प्रयोग उन्होंने कम से कम दो बार किया है। 1985 की फ़िल्म 'झूठी' में उन्होंने "चंदा देखे चंदा तो वो चंदा शर्माये..." को उसी "जोदी तारे नाइ गो चीनी..." पर आधारित किया जिस पर सचिन दा ने "तेरे मेरे मिलन की यह रैना" को कम्पोज़ किया था। दोनों ही गीत लता-किशोर के गाए हुए हैं, और दोनों ही फ़िल्मों के निर्देशक हैं ॠषीकेश मुखर्जी। क्या पता वो 'झूठी' के गीत में 'अभिमान' के उस गीत को पुनर्जीवित करना चाहते होंगे! 1984 की फ़िल्म 'हम रहे न हम' में बप्पी दा ने एक अत्यन्त लोकप्रिय रबीन्द्र-रचना "पुरानो शेइ दिनेर कथा भूलबो की रे..." के शुरुआती अंश का प्रयोग कर एक सुन्दर गीत कम्पोज़ किया "रोशन रोशन रातें अपनी, दिन भी रोशन, जब से जीवन में तुम आये, तब से ऐसा जीवन..."। आशा-किशोर की युगल आवाज़ों में यह गीत था। वैसे यह भी एक रोचक तथ्य है कि मूल रबीन्द्रनाथ रचित "पुरानो शेइ दिनेर कथा" भी अपने आप में कविगुरु की मौलिक रचना नहीं है। इसकी धुन प्रेरित है स्कॉटलैण्ड की एक धुन "Auld Lang Syne" से। बप्पी लाहिड़ी के संगीत में 1986 की फ़िल्म 'अधिकार' में किशोर कुमार का गाया "मैं दिल तू धड़कन, तुझसे मेरा जीवन..." गीत भी रबीन्द्र-संगीत शैली में ही स्वरबद्ध एक रचना है। 

अब तक हिन्दी फ़िल्म-संगीत में रबीन्द्र-संगीत के प्रयोग की जितनी चर्चा हमने की है, उसमें जितने भी संगीतकारों का नाम आया है, वो सब बंगाल से ताल्लुख रखने वाले थे। बंगाल के बाहर केवल राजेश रोशन ही एक ऐसे संगीतकार हुए जिन्होंने रबीन्द्र-संगीत का प्रयोग कई बार अपने गीतों में किया। वैसे राजेश रोशन का बंगाल से रिश्ता तो ज़रूर है। उनकी माँ इरा रोशन बंगाली थीं। 1981 की फ़िल्म 'याराना' में राजेश रोशन द्वारा स्वरबद्ध गीत "छू कर मेरे मन को, किया तूने क्या इशारा" का मुखड़ा रबीन्द्रनाथ रचित "तोमार होलो शुरू, आमार होलो शाड़ा..." से प्रेरित था। यूं तो इस रबीन्द्र-रचना को कई गायकों ने गाया, पर किशोर कुमार का गाया संस्करण सर्वाधिक लोकप्रिय हुआ था, और राजेश रोशन ने भी अपने गीत को किशोर दा से ही गवाया। भले राजेश रोशन ने केवल मुखड़े की धुन को ही प्रयोग में लाया, पर कलकत्ते की जनता को क्रोधित करने में यही काफ़ी था। दरसल राजेश रोशन ने इस धुन के इस्तमाल के लिए विश्वभारती से अनुमति नहीं ली थी, जिस वजह से बंगाल में यह हंगामा हुआ। पर बंगाल के बाहर इस गीत ने इतनी लोकप्रियता हासिल की कि राजेश रोशन को कोई फ़र्क नहीं पड़ा। इतना ही नहीं, उन्होंने 1984 की फ़िल्म 'इंतहा' में फिर एक बार इसी धुन की छाया तले कम्पोज़ किया एक और गीत "तू ही मेरा सपना, तू ही मेरी मंज़िल...", और इसे भी किशोर कुमार से ही गवाया। 1997 की फ़िल्म 'युगपुरूष' में राजेश रोशन ने दो गीतों में रबीन्द्र-संगीत की छटा बिखेरी। इनमें एक था आशा भोसले का गाया "कोई जैसे मेरे दिल का दर खटकाए..." (मूल रबीन्द्र रचना - "तुमि केमोन कोरे गान कोरो हे गुणी...") और दूसरा गीत था प्रीति उत्तम का गाया "बंधन खुला पंछी उड़ा, आगे सुनो अजी फिर क्या हुआ" (मूल रबीन्द्र रचना - "पागला हावा बादल दिने पागोल आमार मोन नेचे ओठे...")। "पगला हावार..." एक अत्यन्त लोकप्रिय रबीन्द्र-रचना है और बंगाल के बहुत सारे कलाकारों ने समय समय पर इसे गाया है। 

कहते हैं कि नौशाद द्वारा स्वरबद्ध लता-शमशाद का गाया "बचपन के दिन भुला न देना" भी किसी रबीन्द्र-संगीत से प्रेरित है, ऐसा विश्वभारती दावा करते हैं, पर वह कौन सा गीत है इसकी पुष्टि नहीं हो पायी है। ऐसे कई गानें हैं जिन्हें रबीन्द्र-संगीत शैली में कम्पोज़ किया गया है, पर सही-सही कहा नहीं जा सकता कि मूल रचना कौन सी है। फ़िल्म 'सुजाता' का "जलते हैं जिसके लिए, मेरी आँखों के दिये" को भी रबीन्द्र-संगीत पर आधारित होने का दावा विश्वभारती ने किया है। इस तरह से हिन्दी फ़िल्मी गीतों में रबीन्द्र-संगीत की महक हमें बार बार मिली है। इस बात से शायद ही कोई इंकार करे कि जब जब रबीन्द्र-संगीत की धुनें हिन्दी फ़िल्मी गीतों में सुनाई दी है, वो सभी गीत बेहद मधुर व कर्णप्रिय बने हैं। रबीन्द्र-संगीत इस देश की अनमोल धरोहर है जिसे हमें सहेज कर रखना है। जिन जिन संगीतकारों ने रबीन्द्र-संगीत का प्रयोग अपने गीतों में प्रयोग कर इसे बंगाल के बाहर पहुँचाने का महत्वपूर्ण काम किया है, उन्हें हमारा सलाम।



आख़िरी बात

’चित्रकथा’ स्तंभ का आज का अंक आपको कैसा लगा, हमें ज़रूर बताएँ नीचे टिप्पणी में या soojoi_india@yahoo.co.in के ईमेल पते पर पत्र लिख कर। इस स्तंभ में आप किस तरह के लेख पढ़ना चाहते हैं, यह हम आपसे जानना चाहेंगे। आप अपने विचार, सुझाव और शिकायतें हमें निस्संकोच लिख भेज सकते हैं। साथ ही अगर आप अपना लेख इस स्तंभ में प्रकाशित करवाना चाहें तो इसी ईमेल पते पर हमसे सम्पर्क कर सकते हैं। सिनेमा और सिनेमा-संगीत से जुड़े किसी भी विषय पर लेख हम प्रकाशित करेंगे। आज बस इतना ही, अगले सप्ताह एक नए अंक के साथ इसी मंच पर आपकी और मेरी मुलाक़ात होगी। तब तक के लिए अपने इस दोस्त सुजॉय चटर्जी को अनुमति दीजिए, नमस्कार, आपका आज का दिन और आने वाला सप्ताह शुभ हो!




शोध,आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 



रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

Sunday, April 22, 2012

हिन्दी फिल्मी गीतों में रवीद्र संगीत - एक शोध

स्वरगोष्ठी – ६७ में आज
रवीन्द्र-सार्द्धशती वर्ष में विशेष

‘पुरानो शेइ दिनेर कथा...’


हाँ एक ओर फ़िल्म-संगीत का अपना अलग अस्तित्व है, वहीं दूसरी ओर फ़िल्म-संगीत अन्य कई तरह के संगीत पर भी आधारित रही है। शास्त्रीय, लोक और पाश्चात्य संगीत का प्रभाव फ़िल्म-संगीत पर हमेशा रहा है और आज भी है। उधर बंगाल की संस्कृति में रवीन्द्र संगीत एक मुख्य धारा है, जिसके बिना बांग्ला संगीत, नृत्य और साहित्य अधूरा है। समय-समय पर हिन्दी सिने-संगीत-जगत के कलाकारों ने रवीन्द्र-संगीत को भी फ़िल्मी गीतों का आधार बनाया है। इस वर्ष पूरे देश मेँ रवीन्द्रनाथ ठाकुर की १५०वीं जयन्ती मनायी जा रही है। इस उपलक्ष्य मेँ हम भी उन्हें श्रद्धापूर्वक स्मरण करते हैं।

‘स्वरगोष्ठी’ के सभी संगीत रसिकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार! इस स्तम्भ के वाहक कृष्णमोहन जी की पारिवारिक व्यस्तता के कारण आज का यह अंक मैं सुजॉय चटर्जी प्रस्तुत कर रहा हूँ। कविगुरु रवीन्द्रनाथ ठाकुर के लिखे गीतों का, जिन्हें हम "रवीन्द्र-संगीत" के नाम से जानते हैं, बंगाल के साहित्य, कला और संगीत पर जो प्रभाव पड़ा है, वैसा प्रभाव शायद शेक्सपीयर का अंग्रेज़ी जगत में भी नहीं पड़ा होगा। ऐसा कहा जाता है कि टैगोर के गीत दरअसल बंगाल के ५०० वर्ष के साहित्यिक और सांस्कृतिक मंथन का निचोड़ है। धनगोपाल मुखर्जी ने अपनी किताब 'Caste and Outcaste' में लिखा है कि रवीन्द्र-संगीत मानव-मन के हर भाव को प्रकट करने में सक्षम हैं। कविगुरु में छोटे से बड़ा, गरीब से धनी, हर किसी के मनोभाव को, हर किसी की जीवन-शैली को आवाज़ प्रदान की है। गंगा में विचरण करते गरीब से गरीब नाविक से लेकर अर्थवान ज़मिंदारों तक, हर किसी को जगह मिली है रवीन्द्र-संगीत में। समय के साथ-साथ रवीन्द्र-संगीत एक म्युज़िक स्कूल के रूप में उभरकर सामने आता है। रवीन्द्र-संगीत को एक तरह से हम उपशास्त्रीय संगीत की श्रेणी में डाल सकते हैं। अपने लिखे गीतों को स्वरबद्ध करते समय कविगुरु ने शास्त्रीय संगीत, बांग्ला लोक-संगीत और कभी-कभी तो पाश्चात्य संगीत का भी सहारा लिया है।

पंकज मलिक 
रवीन्द्र-संगीत पर रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा स्थापित "विश्वभारती विश्वविद्यालय" का नियंत्रण था। इस विश्वविद्यालय की अनुमति के बिना कोई रवीन्द्र-संगीत का गायन अथवा अन्य रूप में इस्तेमाल नहीं कर सकता था। फ़िल्मों में रवीन्द्र-संगीत की धारा को लाने में पहला क़दम उठाया था संगीतकार-गायक पंकज मल्लिक ने। १९३७ की फ़िल्म 'मुक्ति' के बांग्ला संस्करण में मल्लिक बाबू नें कविगुरु की रचनाओं का बृहद्‍ स्तर पर इस्तेमाल किया। अधिकांश धुनें कविगुरु की थीं, पर सर्वाधिक लोकप्रिय गीत "दिनेर शेषे घूमेर देशे..." की धुन मल्लिक बाबू नें ख़ुद बनाई थी। इस फ़िल्म के बाद भी पंकज मल्लिक रवीन्द्र-संगीत का इस्तेमाल व्यापक रूप से करते रहे और कविगुरु की रचनाओं को बंगाल के बाहर पहुँचाया। 'मुक्ति' के हिन्दी संस्करण में कानन देवी के स्वर में "साँवरिया मन भाया रे..." गीत रवीन्द्र-संगीत की छाया लिए हुए था जो न केवल बहुत लोकप्रिय हुआ बल्कि कानन देवी के गाये अति लोकप्रिय गीतों में से एक है। १९४८ की फ़िल्म 'अंजानगढ़' में पंकज मल्लिक और उत्पला सेन का गाया एक गीत था "संसार के आधार पर दया हम पे दिखाओ..." जो रवीन्द्रनाथ रचित "सर्बा खर्बा तार दाहे..." गीत पर आधारित था। यूँ तो इस फ़िल्म के संगीतकार थे रायचन्द बोराल, पर इस गीत का संगीत-संयोजन पंकज मल्लिक ने किया था। फ़िल्म के बांग्ला संस्करण में इस गीत को हेमन्त मुखर्जी और उत्पला सेन नें गाया है। रायचन्द बोराल ने १९४५ की फ़िल्म 'हमराही' (जो विमल राय निर्देशित प्रथम हिन्दी फ़िल्म थी) में रवीन्द्रनाथ रचित " मधुगन्धे भरा मधु स्निग्ध छाया..." को उसके मूल बांग्ला रूप में प्रस्तुत कर सुनने वालों को चमत्कृत कर दिया था।

फिल्म – हमराही : "मधुगन्धे भरा मधु स्निग्ध छाया..." : स्वर - हेमन्त मुखर्जी, बिनोता राय


अनिल विश्वास
न्यू थिएटर्स के संगीतकार पंकज मल्लिक और रायचन्द बोराल की जब बात चल ही रही है, तो वहाँ के तीसरे संगीतकार अर्थात्‍ तिमिर बरन का उल्लेख भी आवश्यक हो जाता है। पंकज बाबू की तरह तिमिर बरन ने संगीत का प्रयोग ज़्यादा तो नहीं किया पर १९५४ की 'बादबान' (एस.के. पाल के साथ) फ़िल्म में "कैसे कोई जिए, ज़हर है ज़िन्दगी आया तूफ़ान" (हेमन्त कुमार-गीता दत्त) को रवीन्द्र-संगीत ("तारे ना जानी...") पर आधारित कर ऐसा कम्पोज़ किया कि जिसे ख़ूब सराहना मिली। रबीन्द्र-संगीत का इस्तेमाल करने वाले न्यू थिएटर्स के बाहर के संगीतकारों में पहला नाम है अनिल बिस्वास का। बिस्वास ने मूल गीत के शब्दों को नहीं, बल्कि उनकी धुनों का प्रयोग किया। और उनके बाद भी तमाम संगीतकारों ने केवल रबीन्द्र-संगीत के धुनों का ही सहारा लिया। उपर्युक्त "मधुगंधे भरा..." गीत की धुन का प्रयोग अनिल बिस्वास ने अपनी १९६० की फ़िल्म 'अंगुलिमाल' में किया था, मीना कपूर और साथियों के गाये "मेरे चंचल नैना मधुरस के भरे..." गीत में। अनिल बिस्वास द्वारा स्वरबद्ध रवीन्द्र-संगीत पर आधारित सबसे लोकप्रिय रचना है, १९५४ की फ़िल्म 'वारिस' का "राही मतवाले, तू छेड़ एक बार मन का सितार..." गीत। तलत महमूद और सुरैया की आवाज़ों में यह गीत बहुत ज़्यादा लोकप्रिय तो हुआ पर बंगाल के बाहर जनसाधारण को यह पता भी नहीं चला कि दरसल इस गीत की धुन कविगुरु रचित "ओ रे गृहबाशी..." पर आधारित थी जो एक होली गीत है। यहाँ यह कहना ज़रूरी है कि कविगुरु होली के त्योहार को एक विशेष उत्सव की तरह गीत-संगीत-नृत्य के माध्यमों से मनाते थे और आज भी यह परम्परा विश्वभारती में कायम है।

रवीन्द्र-गीत : "ओ रे गृहबाशी..." : स्वर – श्रावणी सेन



संगीतकार सचिनदेव बर्मन ने रवीन्द्र-संगीत का हू-ब-हू प्रयोग ज़्यादा गीतों में नहीं किया। यह ज़रूर है कि उनके द्वारा स्वरबद्ध कई गीतों में रवीन्द्र-संगीत की छाया मिलती है। रवीन्द्र-संगीत पर आधारित दादा बर्मन का सर्वाधिक लोकप्रिय गीत है १९७३ की फ़िल्म 'अभिमान' का "तेरे मेरे मिलन की यह रैना..." जो रवीन्द्रनाथ रचित "जोदी तारे नाइ चिनी गो..." गीत पर आधारित है। इसे सुनिए और याद कीजिए "तेरे मेरे मिलन की यह रैना..." गीत को।

रवीन्द्र-गीत : "जोदी तारे नाइ चिनी गो..." : स्वर – राघव चट्टोपाध्याय



१९५० की देव आनन्द-सुरैया अभिनीत फ़िल्म 'अफ़सर' में सुरैया का गाया लोकप्रिय गीत "नैन दीवाने एक नहीं माने..." भी एक रवीन्द्र-रचना "शेदिन दुजोने दुलेछिलो बोने..." पर आधारित है। रवीन्द्र-संगीत की छाया लिये दादा बर्मन द्वारा स्वरबद्ध कुछ और गीत हैं "जायें तो जायें कहाँ..." (टैक्सी ड्राइवर), "मेरा सुन्दर सपना बीत गया..." (दो भाई), "मेघा छाये आधी रात..." (शर्मीली)। सचिन दा के बेटे राहुलदेव बर्मन ने बंगाल और नेपाल के लोक-संगीत का ख़ूब प्रयोग किया है, अपने गीतों में, पर एक-आध बार रवीन्द्र-संगीत की तरफ़ भी झुके हैं। फ़िल्म 'जुर्माना' में लता के गाये "छोटी सी एक कली खिली थी एक दिन बाग़ में..." गीत के लिए पंचम ने जिस रवीन्द्र-रचना को आधार बनाया, उसके बोल हैं "बसन्ते फूल गान्थलो आमार जयेर माला..."। इस मूल रवीन्द्र-रचना को १९४४ की बांग्ला फ़िल्म 'उदयेर पथे' में शामिल किया गया था। 'उदयेर पथे' दरसल बांग्ला-हिन्दी द्विभाषी फ़िल्म थी, जिसका हिन्दी में 'हमराही' के नाम से निर्माण हुआ था। इस फ़िल्म के एक गीत की चर्चा हम उपर कर चुके हैं।

राहुलदेव बर्मन ने १९८२ की फ़िल्म 'शौकीन' में आशा-किशोर से "जब भी कोई कंगना बोले..." गीत गवाया था जो रवीन्द्रनाथ रचित "ग्राम छाड़ा ओइ रांगा माटीर पथ..." की धुन पर आधारित था। '१९४२ ए लव स्टोरी' में कविता कृष्णमूर्ति का गाया "क्यों नए लग रहे हैं ये धरती गगन..." को भी रवीन्द्र-संगीत से प्रेरित पंचम ने ही एक साक्षात्कार में बताया था पर मूल रवीन्द्र-रचना की पहचान नहीं हो पायी है। इसी अंश का प्रयोग पंचम ने बरसों पहले 'हीरा-पन्ना' के शीर्षक गीत "पन्ना की तमन्ना..." के अन्तरे की पंक्ति "हीरा तो पहले ही किसी और का हो गया..." में किया था।

हेमन्त कुमार 
हेमन्त कुमार की आवाज़ में एक अत्यन्त लोकप्रिय रवीन्द्र-रचना है "मोन मोर मेघेरो शोंगी उड़े चोले दिग दिगन्तेरो पाने..."। हेमन्त कुमार ने ही इस गीत की धुन पर १९६४ की हिन्दी फ़िल्म 'माँ बेटा' में एक गीत कम्पोज़ किया था "मन मेरा उड़ता जाए बादल के संग दूर गगन में, आज नशे में गाता गीत मिलन के रे, रिमझिम रिमझिम रिमझिम..."। लता मंगेशकर का गाया यह गीत ज़्यादा सुनाई तो नहीं दिया पर इसे सुनने का अनुभव एक बहुत ही सुकूनदायक अनुभव है। इस गीत के फ़िल्मांकन में निरुपा रॉय सितार हाथ में लिए गीत गाती हैं और एक नर्तकी इस पर नृत्य कर रही हैं। इस बात का उल्लेख हम इसलिए कर रहे हैं क्योंकि इस नृत्य शैली को "रबीन्द्र-नृत्य" के नाम से जाना जाता है।

रवीन्द्र-गीत : "मोन मोर मेघेरो शोंगी..." : स्वर – हेमन्त मुखोपाध्याय


फिल्म – माँ बेटा : "मन मेरा उड़ता जाये...” : स्वर – लता मंगेशकर



बंगाल से ताल्लुक रखने वाले संगीतकारों में एक नाम बप्पी लाहिड़ी का भी है। यूँ तो बप्पी दा 'डिस्को किंग' के नाम से जाने जाते हैं, पर उन्होंने भी कई शास्त्रीय और लोक संगीत पर आधारित गीत रचे हैं। रवीन्द्र-संगीत का प्रयोग उन्होंने कम से कम दो बार किया है। १९८५ की फ़िल्म 'झूठी' में उन्होंने "चन्दा देखे चन्दा तो वो चन्दा शर्माये..." को उसी "जोदी तारे नाइ गो चीनी..." पर आधारित किया जिस पर सचिन दा ने "तेरे मेरे मिलन की यह रैना..." को कम्पोज़ किया था। दोनों ही गीत लता-किशोर के गाए हुए हैं, और दोनों ही फ़िल्मों के निर्देशक हैं ऋषिकेश मुखर्जी। क्या पता वो 'झूठी' के गीत में 'अभिमान' के उस गीत को पुनर्जीवित करना चाहते होंगे! १९८४ की फ़िल्म 'हम रहे न हम' में बप्पी दा ने एक अत्यन्त लोकप्रिय रवीन्द्र-रचना "पुरानो शेइ दिनेर कथा भूलबो की रे..." के शुरुआती अंश का प्रयोग कर एक सुन्दर गीत कम्पोज़ किया "रोशन रोशन रातें अपनी, दिन भी रोशन, जब से जीवन में तुम आये, तब से ऐसा जीवन..."। आशा-किशोर की युगल आवाज़ों में यह गीत था। वैसे यह भी एक रोचक तथ्य है कि मूल रवीन्द्रनाथ रचित "पुरानो शेइ दिनेर कथा..." की संगीत-रचना स्कॉटलैण्ड की एक धुन ‘Auld Lang Syne’ से मिलती-जुलती है। यह शोध का विषय होगा कि इन दोनों में से किस रचना ने पहले जन्म लिया।

मूल स्कॉटीश गीत : ‘Auld Lang Syne’



रबीन्द्रनाथ रचित "पुरानो शेइ दिनेर कथा" –



फ़िल्म - हम रहे न हम : "रोशन रोशन रातें अपनी...” : संगीत - बप्पी लाहिड़ी



बप्पी लाहिड़ी के संगीत में १९८६ की फ़िल्म 'अधिकार' में किशोर कुमार का गाया "मैं दिल तू धड़कन, तुझसे मेरा जीवन..." गीत भी रवीन्द्र-संगीत शैली में ही स्वरबद्ध एक रचना थी। दोस्तों, अब तक हिन्दी फ़िल्म-संगीत में रवीन्द्र-संगीत के प्रयोग की जितनी चर्चा हमने की है, उसमें जितने भी संगीतकारों का नाम आया है, वो सब बंगाल से ताल्लुक रखने वाले थे। बंगाल के बाहर केवल राजेश रोशन ही एक ऐसे संगीतकार हुए जिन्होंने रवीन्द्र-संगीत का प्रयोग कई बार अपने गीतों में किया। वैसे राजेश रोशन का बंगाल से रिश्ता तो ज़रूर है। उनकी माँ इरा रोशन बंगाली थीं। १९८१ की फ़िल्म 'याराना' में राजेश रोशन द्वारा स्वरबद्ध गीत "छू कर मेरे मन को, किया तूने क्या इशारा..." का मुखड़ा रवीन्द्रनाथ रचित "तोमार होलो शुरू, आमार होलो शाड़ा..." से प्रेरित था। यूँ तो इस रवीन्द्र-रचना को कई गायकों ने गाया, पर किशोर कुमार का गाया संस्करण सर्वाधिक लोकप्रिय हुआ था, और राजेश रोशन ने भी अपने गीत को किशोर दा से ही गवाया। भले राजेश रोशन ने केवल मुखड़े की धुन को ही प्रयोग किया था, पर कलकत्ते की जनता को क्रोधित करने में यही काफ़ी था। दरअसल राजेश रोशन ने इस धुन के इस्तेमाल के लिए विश्वभारती से अनुमति नहीं ली थी, जिस वजह से बंगाल में यह हंगामा हुआ। पर बंगाल के बाहर इस गीत ने इतनी लोकप्रियता हासिल की कि राजेश रोशन को कोई फ़र्क नहीं पड़ा। इतना ही नहीं, उन्होंने १९८४ की फ़िल्म 'इन्तहा' में फिर एक बार इसी धुन की छाया तले कम्पोज़ किया एक और गीत "तू ही मेरा सपना, तू ही मेरी मंज़िल...", और इसे भी किशोर कुमार से ही गवाया। १९९७ की फ़िल्म 'युगपुरूष' में राजेश रोशन ने दो गीतों में रवीन्द्र-संगीत की छटा बिखेरी। इनमें एक था आशा भोसले का गाया "कोई जैसे मेरे दिल का दर खटकाए..." (मूल रवीन्द्र रचना - "तुमि केमोन कोरे गान कोरो हे गुणी...") और दूसरा गीत था प्रीति उत्तम का गाया "बन्धन खुला पंछी उड़ा..." (मूल रवीन्द्र-रचना - "पागला हावा बादल दिने पागोल आमार मोन नेचे ओठे...")। "पगला हावार..." एक अत्यन्त लोकप्रिय रवीन्द्र-रचना है और बंगाल के बहुत सारे कलाकारों ने समय-समय पर इसे गाया है।

रवीन्द्र संगीत : "पागला हावार बादल दिने..." : स्वर - किशोर कुमार



फिल्म – युगपुरुष : "बन्धन खुला पंछी उड़ा..." : स्वर – प्रीति उत्तम


कहते हैं कि नौशाद द्वारा स्वरबद्ध लता-शमशाद का गाया "बचपन के दिन भुला न देना..." भी किसी रवीन्द्र-संगीत से प्रेरित है, ऐसा विश्वभारती का दावा है, पर वह कौन सा गीत है इसकी पुष्टि नहीं हो पायी है। ऐसे कई गानें हैं जिन्हें रवीन्द्र-संगीत शैली में कम्पोज़ किया गया है, पर सही-सही कहा नहीं जा सकता कि मूल रचना कौन सी है। फ़िल्म 'सुजाता' का "जलते हैं जिसके लिए, मेरी आँखों के दिये..." को भी रवीन्द्र-संगीत पर आधारित होने का दावा विश्वभारती ने किया है। इस तरह से हमने देखा कि हिन्दी फ़िल्मी गीतों में रवीन्द्र-संगीत की महक हमें कई बार मिली हैं। इसके लिए हिन्दी के संगीतकारों को श्रेय तो नहीं मिला, पर इस बात से कोई भी इंकार नहीं कर सकता कि जब-जब रवीन्द्र-संगीत हिन्दी फ़िल्मी गीतों में सुनाई दिया है, वो सभी गीत बेहद मधुर व कर्णप्रिय बने हैं। रवीन्द्र-संगीत इस देश की अनमोल धरोहर है जिसे हमें सहेज कर रखना है। जिन-जिन संगीतकारों ने रवीन्द्र-संगीत का प्रयोग अपने गीतों में किया है, और इस तरह से इसे बंगाल के बाहर पहुँचाने में योगदान दिया है, उन्हें हमारा सलाम।

आज की पहेली

आज की ‘संगीत-पहेली’ में हम आपको सुनवा रहे हैं, १९५९ की एक हिन्दी फिल्म के गीत का अंश। इस अंश को सुन कर आपको हमारे दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ७०वें अंक तक सर्वाधिक अंक अर्जित करने वाले पाठक-श्रोता हमारी दूसरी श्रृंखला के ‘विजेता’ होंगे।


१ – यह गीत किस राग पर आधारित है? आपको राग का नाम बताना है।

२ – गीत का ताल पहचानिए और हमें ताल का नाम भी बताइए।


आप अपने उत्तर हमें तत्काल swargoshthi@gmail.com पर भेजें। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के ६९वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं। हमसे सीधे सम्पर्क के लिए swargoshthi@gmail.com अथवा admin@radioplaybackindia.com पर भी अपना सन्देश भेज सकते हैं।

आपकी बात

‘स्वरगोष्ठी’ के ६५वें अंक में हमने आपको १९६६ मेँ प्रदर्शित फिल्म ‘साज और आवाज़’ के एक गीत का अंश सुनवाकर दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग मारवा और दूसरे का उत्तर है- संगीतकार नौशाद। इस बार दोनों प्रश्नों के सही उत्तर हमारे तीन नियमित पाठकों- पटना की अर्चना टण्डन, इंदौर की क्षिति तिवारी और मीरजापुर (उ.प्र.) के डा. पी.के. त्रिपाठी ने दिया है। इनके अलावा हमारे एक और नियमित पाठक बैंगलुरु के पंकज मुकेश ने संगीतकार को तो सही पहचाना किन्तु राग पहचानने में भूल कर दी। इन सभी प्रतिभागियों को रेडियो प्लेबैक इण्डिया की ओर हार्दिक बधाई। इनके साथ ही उन सभी संगीत-प्रेमियों का हम आभार व्यक्त करते हैं, जिन्होने ‘स्वरगोष्ठी’ के इस अंक को पसन्द किया।

झरोखा अगले अंक का

मित्रों, आगामी १ मई को हिन्दी, बांग्ला सहित अनेक भारतीय भाषाओं और बोलियों के पार्श्वगायक मन्ना डे का ९४वाँ जन्मदिवस है। उन्होने हिन्दी फिल्मों में सर्वाधिक राग-आधारित गीत गाये हैं। उनके जन्मदिवस के उपलक्ष्य में आगामी रविवार की सुबह ९-३० बजे आप और हम ‘स्वरगोष्ठी’ के अगले अंक में पुनः मिलेंगे और मन्ना डे के व्यक्तित्व और कृतित्व पर चर्चा करेंगे। तब तक के लिए हमें विराम लेने की अनुमति दीजिए।

सुजॉय चटर्जी

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ