Showing posts with label film ragini. Show all posts
Showing posts with label film ragini. Show all posts

Sunday, December 7, 2014

‘छेड़ दिये मेरे दिल के तार क्यों...’ : SWARGOSHTHI – 197 : RAG KAMOD



स्वरगोष्ठी – 197 में आज

शास्त्रीय संगीतज्ञों के फिल्मी गीत – 6 : राग कामोद


पार्श्वगायक किशोर कुमार के लिए जब उस्ताद अमानत अली खाँ ने स्वर दिया




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी है, हमारी लघु श्रृंखला, ‘शास्त्रीय संगीतज्ञों के फिल्मी गीत’। फिल्म संगीत के क्षेत्र में चौथे से लेकर आठवें दशक के बीच शास्त्रीय संगीत के कई विद्वानों और विदुषियों ने अपना योगदान किया है। छठें दशक के फिल्म संगीत में इस प्रकार के गीतों की संख्या अधिक थी। इस श्रृंखला में हमने कुछ ऐसे ही फिल्मी गीतों का चुनाव किया है, जिन्हें रागदारी संगीत के प्रयोक्ताओं और विशेषज्ञों ने रचा है। इन रचनाओं में राग के स्पष्ट स्वरूप की उपस्थिति मिलती है। श्रृंखला के छठें अंक में आज हम आपसे 1958 में प्रदर्शित नृत्य प्रधान फिल्म ‘रागिनी’ के एक गीत पर चर्चा करेंगे। फिल्म का यह गीत राग कामोद के स्वरों में गूँथा गया है। पटियाला घराने के युगल गायक उस्ताद अमानत अली खाँ और फतेह अली खाँ ने इस गीत को स्वर दिया है। फिल्म के संगीतकार ओ.पी. नैयर ने इस गीत का प्रयोग मंच पर अभिनेत्री-नृत्यांगना पद्मिनी द्वारा प्रदर्शित किये जाने वाले नृत्य के लिए किया था। इस गीत के साथ ही राग कामोद के स्वरूप को स्पष्ट करने के लिए सुप्रसिद्ध युगल गायक पण्डित राजन और साजन मिश्र के स्वरों में इस राग की एक मोहक बन्दिश भी प्रस्तुत कर रहे हैं।



उस्ताद अमानत अली व फतेह अली खाँ
ओ.पी. नैयर 
फिल्म संगीत के क्षेत्र में सफलतम संगीतकारों की सूची ओ.पी. नैयर के नाम के बिना अधूरी रहेगी। उनके सांगीतिक जीवन से जुड़े कई अनोखे तथ्य रहे हैं, जिनकी चर्चा समय-समय पर होती रही है। इनमें सर्वाधिक उल्लेखनीय तथ्य यह है कि नैयर साहब ने अपने लम्बे सांगीतिक जीवन में लता मंगेशकर से कभी भी, कोई भी गीत नहीं गवाया। उनके अधिकतर गीतों को शमशाद बेगम, गीता दत्त और आशा भोसले ने अपना स्वर देकर लोकप्रिय बनाया। नैयर के स्वरबद्ध अधिकतर गीत पंजाब के लोक संगीत की धुनों और तालों पर ही आधारित रहे हैं। ओ.पी. नैयर का जन्म 16 जनवरी 1926 को लाहौर में हुआ था। उन्हें विधिवत संगीत शिक्षा प्राप्त नहीं हुई थी, परन्तु अपनी सीखने-समझने की अनूठी क्षमता के कारण बचपन से ही रेडियो पर बाल कार्यक्रमों में गाने लगे थे। फिल्मों में उनका प्रवेश पंजाबी फिल्म ‘दूल्हा भट्ठी’ से हुआ, जिसमें उन्होने संगीतकार गोविन्दराम के निर्देशन में गीत गाये थे। कुछ समय के लिए उन्होने एच.एम.वी. के लिए गायन भी किया और संगीत भी रचे। इस दौर का सबसे लोकप्रिय गीत प्रसिद्ध गायक सी.एच. आत्मा की आवाज़ मे गैर फिल्मी गीत ‘प्रीतम आन मिलो...’ था। इस गीत की संगीत रचना ओ.पी. नैयर ने की थी। विभाजन के बाद नैयर लाहौर छोड़ कर पहले पटियाला और फिर तत्कालीन बम्बई आ गए। 1952 में प्रदर्शित फिल्म ‘आसमान’ में उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिला। इसी फिल्म के एक गीत को गाने के प्रश्न पर उनका लता मंगेशकर से मतभेद हुआ और आजीवन उन्होने लता से कोई गीत नहीं गवाया।

1958 में नैयर के संगीत निर्देशन में फिल्म ‘रागिनी’ का निर्माण हुआ था। फिल्म में किशोर कुमार शास्त्रीय गायक और अभिनेत्री पद्मिनी शास्त्रीय नृत्यांगना के चरित्र में प्रस्तुत किये गए थे। ऐसे चरित्रों के लिए संगीत में रागों का आधार अनिवार्य था। फिल्म के लिए ओ.पी. नैयर ने लीक से हट कर संगीत तैयार किया। एक प्रसंग में अभिनेत्री पद्मिनी को मंच पर भाव प्रदर्शन के साथ शुद्ध नृत्य के कुछ टुकड़े प्रस्तुत करने थे। गायन संगतकार के रूप में किशोर कुमार अपने एक सहयोगी गायक के साथ थे। नैयर ने इस प्रसंग के लिए राग कामोद का सहारा लेकर गीत रचा था। किशोर कुमार स्वयं एक पार्श्वगायक थे, किन्तु यह गीत उनसे न गवा कर पटियाला घराने के सुप्रसिद्ध गायक उस्ताद अमानत अली खाँ और फतेह अली खाँ से गवाया गया। फिल्म का यह गीत तीनताल में निबद्ध है। लीजिए, पहले आप यह गीत सुनिए।


राग कामोद : ‘छेड़ दिये मेरे दिल के तार क्यों...’ : उस्ताद अमानत अली खाँ और फतेह अली खाँ : फिल्म – रागिनी : संगीत - ओ.पी. नैयर




कल्याणहिं के थाट में दोनों मध्यम लाय,

प-रि वादी-संवादि कर, तब कामोद सुहाय।

पण्डित राजन व साजन मिश्र 
संगीत के विद्यार्थियों को राग के ढाँचे का परिचय देने के उद्देश्य से उपरोक्त दोहे का प्रयोग किया जाता है। इसके साथ ही राग के स्वरों की जानकारी ‘लक्षण गीत’ के माध्यम से भी दी जाती है। आज के अंक में हम आपसे राग कामोद पर चर्चा करेंगे। कल्याण थाट और कल्याण अंग से संचालित होने वाले इस राग को कुछ विद्वान काफी थाट के अन्तर्गत भी मानते हैं। औड़व-सम्पूर्ण जाति के इस राग के आरोह में गान्धार और निषाद स्वर का प्रयोग नहीं किया जाता। अवरोह में दोनों मध्यम का प्रयोग और शेष सभी शुद्ध स्वरों का प्रयोग किया जाता है। इस राग का वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर ऋषभ होता है। राग कामोद के आरोह के स्वर हैं- सा रे प म(तीव्र) प ध प नि ध सां तथा अवरोह के स्वर हैं- सां नि ध प म(तीव्र) प ध प ग म(शुद्ध) रे सा। राग वर्गीकरण के प्राचीन सिद्धान्तों के अनुसार राग कामोद को राग दीपक की पत्नी माना जाता है। इस राग का गायन-वादन पाँचवें प्रहर अर्थात रात्रि के प्रथम प्रहर में किया जाता है। अब आपको इस राग की एक बन्दिश सुप्रसिद्ध युगल गायक पण्डित राजन मिश्र और साजन मिश्र की आवाज़ में प्रस्तुत कर रहे हैं। राग कामोद की यह अत्यन्त प्रचलित परम्परागत रचना है, जिसके बोल हैं- ‘एरी जाने न दूँगी...’। श्रृंगार रस की अभिव्यक्ति के लिए यह आदर्श राग है। इस बन्दिश का उपयोग फिल्म में भी हुआ है। सुप्रसिद्ध साहित्यकार भगवतीचरण वर्मा के चर्चित कथानक ‘चित्रलेखा’ पर आधारित 1964 में इसी नाम से फिल्म बनी थी, जिसमें यह बन्दिश शामिल की गई थी। फिल्म में यह गीत लता मंगेशकर ने रोशन के संगीत निर्देशन में गाया था। यह गीत हम किसी अन्य अवसर पर आपको सुनवाएँगे। अभी आप पण्डित राजन मिश्र और साजन मिश्र के स्वरों में आप राग कामोद की यह खयाल रचना सुनिए और हमे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग – कामोद : ‘एरी जाने न दूँगी...’ : पण्डित राजन मिश्र और साजन मिश्र : तबला संगति – सुधीर पाण्डेय : हारमोनियम संगति – महमूद धौलपुरी





आज की पहेली


 ‘स्वरगोष्ठी’ के 197वें अंक की पहेली में आज हम आपको एक गैर हिन्दी भाषा की भारतीय फिल्म का गीतांश सुनवा रहे हैं। फिल्म में उत्तर भारतीय संगीत शैली में रचे-बसे गीत-संगीत का वर्चस्व था। इस राग रचना को सुन कर आपको निम्नलिखित दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। 200वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला (सेगमेंट) का और सभी पाँच श्रृंखलाओं में सर्वाधिक अंक पाने वाले प्रतिभागी को वर्ष 2014 का विजेता घोषित किया जाएगा।




1 – गीत के इस अंश को सुन कर बताइए कि आपको किस राग का अनुभव हो रहा है?

2 – यह रचना किस ताल में निबद्ध है?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार, 13 दिसम्बर, 2014 को मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 199वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत किये गए गीत-संगीत, राग अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस मंच पर स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ की 195वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको 1955 में प्रदर्शित फिल्म ‘झनक झनक पायल बाजे’ के एक राग आधारित गीत का अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग अड़ाना और पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल द्रुत तीनताल। इस बार की पहेली में पूछे गए दोनों प्रश्नो के सही उत्तर पूर्व की भाँति जबलपुर से क्षिति तिवारी, हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी और पेंसिलवानिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया ने दिया है। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इन दिनों हम भारतीय शास्त्रीय संगीत के विद्वानों द्वारा फिल्मों के लिए गाये गए गीतों पर चर्चा कर रहे हैं। वर्ष 2015 से ‘स्वरगोष्ठी’ की श्रृंखलाओं के बारे में हमे अनेक पाठकों और श्रोताओ के बहुमूल्य सुझाव प्राप्त हो रहे हैं। इन सभी सुझाव पर विचार-विमर्श कर हम नये वर्ष से अपनी प्रस्तुतियों में आवश्यक संशोधन करने जा रहे हैं। यदि आपने अभी तक अपने सुझाव और फरमाइश नहीं भेजी हैं तो आविलम्ब हमें भेज दें। अगले रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के नये अंक के साथ हम उपस्थित होंगे। अगले अंक भी हमें आपकी प्रतीक्षा रहेगी।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र 


The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ