Showing posts with label bombay ka babu. Show all posts
Showing posts with label bombay ka babu. Show all posts

Saturday, September 12, 2009

दीवाना मस्ताना हुआ दिल, जाने कहाँ होके बहार आई...ओल्ड इस गोल्ड की ऐतिहासिक 200वीं कड़ी पर सभी श्रोताओं का आभार

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 200

र दोस्तों, देखते ही देखते आ गयी 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की दूसरी हीरक जयंती, यानी कि 'डबल डायमंड जुबिली'। जी हाँ, आज है 'ओल्ड इज़ गोल्ड' का कड़ी नंबर २००। भगवान के आशिर्वाद से, आप सभी की दुआओं से हम इस पड़ाव तक आ पहुँचे हैं। लेकिन ये अभी हमारी मंज़िल नहीं है। अगर इसी तरह से आप का साथ रहा और उपरवाले की मेहरबानी बनी रही, तो हम ऐसे कई और शतक लगाने की कोशिश करते रहेंगे। जब तक आप सुनते व पढ़ते रहेंगे, हम भी सुनाते व लिखते रहेंगे। और हाँ, अगर आप में से कोई 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के लिए पुराने गीतों पर आलेख लिखने के शौकीन हों तो हमें ज़रूर बताएँ। हमें बेहद ख़ुशी हो रही है कि आशा जी पर केन्द्रित शृंखला को हम अपनी २००-वीं कड़ी के साथ सम्पन्न कर रहे हैं। क्योंकि आज का एपिसोड बहुत महत्व रखता है 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के इस सफ़र के लिए, तो हमने सोचा कि क्यों न उस गायक के साथ आशा जी का गाया हुआ कोई गीत सुनवाया जाए जिनके साथ आशा जी के करीयर के सब से ज़्यादा युगल गीत हैं। जी हाँ, बिल्कुल ठीक समझे आप! मोहम्मद रफ़ी के साथ आशा जी के सब से ज़्यादा गानें हैं। '१० गायक और एक आपकी आशा' की इस अंतिम कड़ी में आशा-रफ़ी डुएट की बारी। इन दोनों के गाए इतने सारे मशहूर युगल गीत हैं कि उनमें से किसी एक गीत को छाँटना बहुत ज़्यादा मुश्किल काम हो जाता है। तभी हमें याद आया कि जब हम ने फ़िल्म 'बंबई का बाबू' से मुकेश का गाया "चल री सजनी अब क्या सोचे" सुनवाया था तो टिप्पणी में कई श्रोताओं ने इस फ़िल्म से "दीवाना मस्ताना हुआ दिल" सुनवाने का अनुरोध किया था। तो चलिए, आज वह दिन आ गया, पूरी हो रही है आप की पसंद इस ख़ास मौके पर, यानी कि 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के २०० वे दिन की पूर्ती के अवसर पर।

'बंबई का बाबू' फ़िल्म के बारे में तो हम आप को उसी मुकेश के गाए गीत के दौरान बता चुके थे, आज बस इतना याद दिला दें कि इस फ़िल्म के गीतों को लिखा था मजरूह सुल्तानपुरी ने और संगीतकार थे सचिन देव बर्मन। आशा जी के लिए सचिन देव बर्मन के उद्‍गार आप ने पढ़े होंगे 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की ४२-वीं कड़ी में जिसमें हमने फ़िल्म 'तलाश' से "कर ले प्यार करने के दिन है ये ही" सुनवाया था। तो आज आशा जी हमें बता रहीं हैं अपने पिता समान सचिन देव बर्मन के बारे में, "उनकी ख़ास बात यह थी कि रिहर्सल में बुलाते थे, और गाना बनाते थे। जैसे एक मुखड़ा बन गया, तो उस मुखड़े को वो दो तीन तरीके से गाते थे। फिर मुझे कहते थे कि 'तुम्हे कुछ सूझता है तो तुम अपने तरीके से गाओ'। तो हम अपने तरीके से गाते थे, या कुछ हरकत लगाते थे, या कुछ 'एक्स्प्रेशन' देते थे। उनको अच्छा लगता था, उमर में बड़े थे, तो अच्छा नहीं लगता तो कहते 'धत, ये क्या गा रही है तू!' और अगर अच्छा लगता तो 'वाह! ये इसको लिख के रखो आशा'। इस तरह अगर उनके साथ ४/५ दिन हम निकालते थे तो बहुत कुछ सीखने को मिलता था। और मेरे गाने में हर गाना आप सुनिए तो आप को लगेगा कि जब मैने कोई लाइन खतम करती हूँ, तो हमेशा उसमें अलग तरीके से हरकत देके ख़तम करती हूँ। कोई एक ऐसा मैने गाना छोड़ा नहीं है। ये उन्ही की देन है कि उन्होने कहा कि 'सोचो, तुम क्या कर सकती हो', तो वही आदत कि हम कोई हरकत सोचें तो 'म्युज़िक डिरेक्टर्स' लेंगे, 'ऐक्सेप्ट' करेंगे, ये जब पता लगा तो हम ने वो शुरु किया।" तो दोस्तों, अब बारी आती है गीत सुनने की, सुनिए आशा जी और रफ़ी साहब की आवाज़, और साथ ही हमें यह ज़रूर लिख भेजिए कि आशा जी के युगल गीतों पर केन्द्रित यह शृंखला आप को कैसी लगी। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की दूसरी शतक पर सभी श्रोताओं को हमारा अशेष धन्यवाद!



गीत के बोल:
आशा: आआ आ आ ...
प म ग म रे ग प म ग म, आआ आ ...
सा नी ध प म ग रे सा नी नी नी ...
दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई

तन को छुए, छुए घटा काली
छेड़े लहर, लहर मतवाली
तन को छुए ...
ओ हो तन को छुए, छुए घटा काली
छेड़े लहर, लहर मतवाली
बात कोई अन्जाना
दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई

ओ हो हो कुछ अनकही, कहे, मेरी चितवन
बोले जिया, लिखे मेरी धड़कन, कुछ अनकही ...
ओ हो हो कुछ अनकही, कहे, मेरे चितवन
बोले जिया, लिखे मेरी धड़कन
एक नया अफ़साना ...
रफ़ी: दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई
ओ ओ ओओ
जाने कहाँ होके बहार आई

रफ़ी: ओ हो ओ सावन लगा, मचल गए बादल
आशा: देखूँ जिसे, हुआ वही पागल
रफ़ी: सावन लगा, मचल गए बादल
आशा: देखूँ जिसे, हुआ वही पागल
रफ़ी: कौन हुआ दीवाना ...
आशा: दीवाना, मस्ताना हुआ दिल
रफ़ी: दीवाना मस्ताना हुआ दिल
आशा: जाने कहाँ होके बहार आई आ आ आ ...
रफ़ी: जाने कहाँ होके बहार आई
हो ओओ, जाने कहाँ होके बहार आई
आशा: आ आ आ, जाने कहाँ होके बहार आई


और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. इस फिल्म के लिए संगीतकार को राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया था.
२. इस फिल्म का एक अन्य गीत ओल्ड इस गोल्ड के शुरूआती एपिसोडों में खुद संगीतकार की आवाज़ में बजा था.
३. मुखड़े में शब्द है -"निगाह".

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी इस एतिहासिक मौके पर आपको बधाई देते हुए बहुत अच्छा लग रहा है. २६ अंक हुए आपके. मनु जी, पराग जी, शरद जी, स्वप्न जी, तनहा जी, तपन जी, नीरज जी, राज भाटिया जी, राज सिंह जी, सागर नाहर जी, मंजू गुप्ता जी, पाबला जी, नीलम जी, रोहित राजपूत जी, सुमित जी, दिलीप जी, दिशा जी, जैसे ढेरों ढेरों श्रोताओं को जिन्होंने हमें इतना प्रोत्साहन दिया उन सब का आज विशेष आभार.....ख़ुशी होगी यदि आप सब की हाजरी आज लगे यहाँ तो...:)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Saturday, April 25, 2009

चल री सजनी अब क्या सोचें...सुनकर मुकेश के इस गीत कौन न रो पड़े...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 61

'ओल्ड इज़ गोल्ड' की ६१-वीं कड़ी में आप सभी का हार्दिक स्वागत है। हिंदी फ़िल्मों में विदाई गीतों की बात करें तो सब से पहले "बाबुल की दुआयें लेती जा" ज़्यादातर लोगों को याद आती है। लेकिन इस विषय पर कुछ और भी बहुत ही ख़ूबसूरत गीत बने हैं और ऐसा ही एक विदाई गीत आज हम चुन कर ले आये हैं। मुकेश की आवाज़ में यह है फ़िल्म 'बम्बई का बाबू' का गाना "चल री सजनी अब क्या सोचे, कजरा ना बह जाये रोते रोते"। मेरे ख़याल से यह गाना फ़िल्म संगीत का पहला लोकप्रिय विदाई गीत होना चाहिए। 'बम्बई का बाबू' १९६० की फ़िल्म थी। इससे पहले ५० के दशक में कुछ चर्चित विदाई गीत आये तो थे ज़रूर, जैसे कि १९५० में फ़िल्म 'बाबुल' में शमशाद बेग़म ने एक विदाई गीत गाया था "छोड़ बाबुल का घर मोहे पी के नगर आज जाना पड़ा", १९५४ में फ़िल्म 'सुबह का तारा' में लता ने गाया था "चली बाँके दुल्हन उनसे लागी लगन मोरा माइके में जी घबरावत है", और १९५७ में मशहूर फ़िल्म 'मदर इंडिया' में शमशाद बेग़म ने एक बार फिर गाया "पी के घर आज प्यारी दुल्हनिया चली"। लेकिन मुकेश के गाये इस गीत में कुछ ऐसी बात थी कि गीत सीधे लोगों के दिलों को छू गया और आज भी इस गीत को सुनते ही जैसे दिल रो पड़ता है उस बेटी के लिये जो अपने बाबुल का घर छोड़ एक नये संसार में प्रवेश करने जा रही है। "बाबुल पछताए हाथों को मल के, काहे दिया परदेस टुकड़े को दिल के", "ममता का आँचल, गुड़ियों का कंगना, छोटी बड़ी सखियाँ घर गली अँगना, छूट गया रे" जैसे बोलों ने इस गीत को और भी ज़्यादा भावुक बना दिया है। मजरूह सुल्तानपुरी ने इस गीत को लिखा था और संगीतकार थे हमारे बर्मन दादा।

'बम्बई का बाबु' के मुख्य कलाकार थे देव आनंद और सुचित्रा सेन। यूँ तो इस फ़िल्म के दूसरे कई गाने भी मशहूर हुए लेकिन इस गीत को सब से ज़्यादा लोकप्रिय इसलिये कहा जा सकता है क्योंकि अमीन सायानी के बिनाका गीतमाला के वार्षिक कार्यक्रम में इस फ़िल्म के केवल इसी गीत को स्थान मिला था और वह भी पाँचवाँ। फ़िल्म की कहानी के मुताबिक यह गीत फ़िल्म में ख़ास जगह रखता है। सीन ऐसा है कि सुचित्रा सेन की शादी हो जाती है और वो अपने बाबुल का घर छोड़ विदा होती है। यह बात इस गीत को और भी ज़्यादा ग़मगीन बना देती है कि सुचित्रा सेन की शादी फ़िल्म के नायक देव अनंद से नहीं बल्कि किसी और से हो रही होती है। इस फ़िल्म के बाक़ी गीतों में रफ़ी साहब की आवाज़ थी, बस यह एक गीत ही सिर्फ़ मुकेश की आवाज़ में था। इस गीत में बर्मन दादा ने 'कोरस' का इतना बेहतरीन इस्तेमाल किया है कि 'इन्टरल्युड म्युज़िक' केवल शहनाई और कोरल सिंगिंग से ही बनाया गया है। इस गीत के आख़िर में करीब डेढ़ मिनट का संगीत है जो इसी तरह के शहनाई और कोरल सिंगिंग से बना है। यह ऐसा संगीत है जो कानों से सीधे दिल में उतर जाता है। तो लीजिये सुनिये विदा हो रही एक बेटी की व्यथा। हमें उम्मीद है कि गीत को सुनते हुए विदा हो रही किसी बेटी की तस्वीर आपके आँखों के सामने ज़रूर आ जाएगी क्योंकि मजरूह, दादा बर्मन और मुकेश ने मिलकर यही तस्वीर तो बनाई थी!



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. चंदामामा को बुला रही है द्वार आशा की आवाज़.
२. बर्मन दा का संगीत, नर्गिस के अभिनय से सजी फिल्म.
३. मुखड़े में शब्द है - "हार"

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
इस बार बहुत से विजेता रहे. नीरज जी, नीलम जी, मनु जी, सुमित जी, सलिल जी सभी के जवाब सही रहे, नीलम जी और पी एन साहब आपकी पसंद का गीत वाकई बहुत प्यारा है....जल्द ही सुनेंगे बने रहिये ओल्ड इस गोल्ड के साथ. अनिल जी और अवध जी, आपके जानकारी के बाद इन गीतों को सुनना और भी सुखद रहेगा...आभार

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ