Showing posts with label anvita dutt. Show all posts
Showing posts with label anvita dutt. Show all posts

Friday, May 19, 2017

गीत अतीत 13 || हर गीत की एक कहानी होती है || दम दम || फिल्लौरी || शाश्वत सचदेव ||

Geet Ateet 13

Har Geet Kii Ek Kahaani Hoti Hai...
Dum Dum
Phillauri
(Romy, Vivek Hariharan, Anvita Dutt)
Shashwat Sachdev- Composer

आज जिस गीत की कहानी लेकर हम उपस्तिथ हैं उसमें महक है पंजाब के मिटटी की...फिल्म "फिल्लौरी" के इस मधुर और सुरीले गीत को आवाज़ दी है रोमी और विवेक हरिहरन ने, अन्वित्ता दत्त ने इसे कलमबद्ध किया है सुरों से सजाया है हमारे आज के मेहमान संगीतकार शाश्वत सचदेव ने. बहुत ही युवा कलाकार है शाश्वत, और अपनी पहली ही फिल्म में इन्होने अपने काम उम्मीदें जगाई है....मिलिए शाश्वात से और सुनिए "दम दम" गीत के बनने की कहानी, प्ले पर क्लिक करें और आनंद लें  




डाउनलोड कर के सुनें यहाँ से....

सुनिए इन गीतों की कहानियां भी -

Friday, March 21, 2014

'बेबी डौल' की मादक अदाएं और 'गुलछर्रे' उडाती मस्तियाँ

ताज़ा सुर ताल 2014 -10 

ताज़ा सुर ताल में आज चर्चा इस माह के सबसे हिट गीत की. पोर्न स्टार सनी लियोनि अब तक के सबसे बोल्ड अवतार में अवतरित होने वाली हैं फिल्म रागिनी एम् एम् एस २  में. फिल्म में मुक्तलिफ़ संगीतकारों ने योगदान दिया है. सबसे अधिक चर्चा में है बेबी डौल  गीत जो इन दिनों हर पार्टी में धूम मचा रहा है. मीत बंधुओं और अनजान की तिकड़ी ने इस गीत के लिए एक अनूठी रिदम का चयन किया है, जिसे सुनकर कदम बरबस ही थिरक उठते हैं. कुमार के शब्द भी पूरी तरह मेल खाते हैं गीत के थीम से. जैसा कि हम आपको पहले भी बता चुके हैं कि मीत बंधू अपने रचित हर गीत में अपनी आवाज़ का तडका अवश्य लगाते हैं, लेकिन गीत की प्रमुख गायिका है कनिका कपूर जिनकी आवाज़ और अदायगी में एक अंतरास्ट्रीय अपील है, शायद ये बॉलीवुड में उनका पहला गीत है पर उन्होंने बेहद ऊर्जा के साथ गीत को अंजाम दिया है. तो लीजिए सुनिए और झूमिए बेबी डोल  के संग 
आज का दूसरा गीत भी कुछ थिरकता मचलता ही है. नुपुर अस्थाना निर्देशित बेवकूफियां  की कहानी लिखी है हबीब फैज़ल ने. फिल्म के संगीतकार हैं रघु दीक्षित, जो एक बेहद प्रतिभाशाली गायक-संगीतकार हैं जो दक्षिण भारतीय फिल्मों में काफी सफल फ़िल्में कर चुके हैं. हिंदी फिल्म जगत में उन्होंने कदम रखा मुझसे फ्रेंडशिप करोगे  से वर्ष २०११ में, कह सकते हैं कि प्रस्तुत फिल्म उनका दूसरा प्रोजेक्ट है हिंदी में. फिल्म के ये गीत गुल्चर्रे  इन दिनों युवा श्रोताओं को पसंद आ रहा है. बेनी दयाल की जोशीली आवाज़ की मोहर इस गीत पर पूरी तरह हावी है. बेनी दिन बा दिन निखारते जा रहे हैं. लीजिए सुनिए ये गीत भी जिसे लिखा है अन्विता दत्त ने. 
.   

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ