Showing posts with label anand milind. Show all posts
Showing posts with label anand milind. Show all posts

Thursday, July 16, 2009

दिल का दिया जला के गया ये कौन मेरी तन्हाई में...संगीतकार चित्रगुप्त ने रचा था इस मधुर गीत को

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 143

ज 'ओल्ड इस गोल्ड' में संगीतकार चित्रगुप्त के संगीत की बारी। इससे पहले हमने आप को उनके संगीत से सजी भोजपुरी फ़िल्म 'लागी नाही छूटे राम' का लोक रंग में डूबा एक गीत सुनवाया था। आज का गीत लोक संगीत पर तो आधारित नहीं है लेकिन गीत इतना मधुर बन पड़ा है कि बार बार सुनने को जी चाहता है। लता मंगेशकर की आवाज़ में यह गीत है फ़िल्म 'आकाशदीप' का, जिसे लिखा था मजरूह सुल्तानपुरी ने। "दिल का दीया जलाके गया ये कौन मेरी तन्हाई में, सोये नग़में जाग उठे होठों की शहनाई में"; पहला पहला प्यार किस तरह से नायिका के नाज़ुक दिल पर असर करती है, उसका बेहद बेहद ख़ूबसूरत वर्णन हुआ है इस कोमल गीत में। मजरूह साहब ने क्या ख़ूब लिखा है कि "प्यार अरमानों का दर खटकाये, ख़्वाब जागी आँखों से मिलने को आये, कितने साये डोल पड़े सूनी सी अँगनाई में"। बोल, संगीत और गायकी के लिहाज़ से यह गीत उत्कृष्ट है, उत्तम है। 'आकाशदीप' फ़िल्म आयी थी १९६५ में फणी मजुमदार के निर्देशन में। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे धर्मेन्द्र, नंदा, निम्मी, अशोक कुमार, और महमूद। इस फ़िल्म में धर्मेन्द्र पर फ़िल्माया गया रफ़ी साहब का गाया "मुझे दर्द-ए-दिल का पता न था मुझे आप किसलिए मिल गये" गीत भी चित्रगुप्त की बेहतरीन रचनायों में गिना जाता है।

चित्रगुप्त जी के बेटे आनंद और मिलिंद ने भी बतौर संगीतकार जोड़ी अच्छा नाम कमाया है फ़िल्म जगत में। अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए, अपने पिता को याद करते हुए और ख़ासकर 'आकाशदीप' फ़िल्म के गीतों को याद करते हुए मिलिंद जी बताते हैं (सौजन्य: विविध भारती) - "मुझे कई बार याद है, हमारे घर में राईटर्स और म्युज़िक डिरेक्टरस की मीटिंगस हुआ करती थी, खाना वाना भी बनता था। एक दिन स्कूल से आया तो देखा कि बक्शी साहब (आनंद बक्शी) बाहर बैठे हैं, उस समय उन्हे ब्रेक नहीं मिला था। अंदर गया तो देखा कि प्रेम धवन बैठे हैं, दूसरे दिन मजरूह सुल्तानपुरी बैठे थे। लता जी से भी मुलाक़ात हुई, उन्हे हम लता दीदी नहीं बल्कि लता आंटी कहते थे। मेरा नाम 'मिलिंद', जो कि महाराष्ट्रीयन नाम है, लता आंटी ने ही रखा है। पिताजी हमेशा यही कहते थे कि जितना मेलडी पर कन्सेन्ट्रेट करोगे, गाना उतना ही अच्छा बनेगा। हम दोनों ने कुछ बनाकर एक दिन जब उनको सुनाया तो उन्होने कहा कि 'यह आप का कलर है, मेरा नहीं, मैं यही चाहता था कि आप के संगीत में मेरा प्रभाव न पड़े, क्यूंकि समय के हिसाब से आप को चलना है'. उनके बहुत से गानें हम दोनों को पसंद है, लेकिन जो 'फ़र्स्ट थौट' पे याद आ जाते हैं वो हैं "जाग दिल-ए-दीवाना", "मुझे दर्द-ए-दिल का पता न था", और "दिल का दीया जलाके गया"। लताजी के गाये इस गीत के बारे में मिलिंद का कहना है "यह गीत दुर्लभ है क्यूंकि लता आंटी ने इसे 'हस्की टोन' में गाया है, 'हस्की सॊफ़्ट टोन' में। इस तरह से उन्होने बहुत कम गाये हैं, उनके गीत ऊँची 'टोन' में होते हैं। तो यह जो 'हस्की फ़ील' थी, बहुत कमाल की थी।" वाक़ई दोस्तों, लता जी की आवाज़ बड़ा ही अनोखा सुनाई देता है इस गीत में। ख़ास कर जब वो गाती हैं कि "काँपते लबों को मैं खोल रही हूँ" तो सचमुच जैसे काँपते हुए लब हमारी आँखों के सामने आ जाते हैं। लता जी ने अपनी आवाज़ और गायकी के ज़रिए इस गीत में जो अभिनय किया है वो शायद बड़ी बड़ी अभिनेत्रियाँ न कर पाये। सुनिये यह गीत, और इसमे अपनी पसंद के साथ साथ मेरी पसंद भी शामिल कर लीजिए, क्युंकि मुझे यह गीत बेहद बेहद बेहद पसंद है।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा पहला "गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. इस्मत चुगताई की लिखी कहानी पर आधारित थी ये फिल्म.
2. इस गीत के गायक ने इस फिल्म में अभिनय भी किया था. अभिनेत्री थी नूतन.
3. मुखड़े की पहली लाइन में शब्द है -"बस" (कंट्रोल).

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह पराग जी आखिरकार बाज़ी मार ही ली आपने. ८ अंकों के लिए बधाई. कल शरद जी हमारे चूक गए हम तो ये मान बैठे थे कि हमें हमारा पहला विजेता मिल गया, खैर कल नहीं शरद जी आज सही. कल ओल्ड इस गोल्ड की रौनक लौटी बहुत दिनों बाद, हमारा मतलब स्वप्न मंजूषा जी लौटी. ओल्ड इस गोल्ड की पूरी टीम और आवाज़ परिवार उनके पति के शीघ्र स्वस्थ लाभ की दुआ कर रहा है ताकि मोहतरमा जल्दी से वापस एक्टिव हो जाये. मनु जी अब आप भी थोडी फुर्ती दिखाएँ ज़रा...

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Thursday, November 13, 2008

क्या फिर लौटेगा "आशिकी" का दौर


वो १९७२ में मिले थे एक दूजे से। १९८१ में आई फ़िल्म "मैंने जीना सीख लिया" से इस संगीतकार जोड़ी ने कदम रखा फ़िल्म जगत में। "हिसाब खून का", "लश्कर", और "इलाका" जैसी फिल्मों में इनका काम किसी की भी नज़र में नहीं आया, फिर इन्हें मिला संगीत की दुनिया में नई मिसाल बनाने की योजनायें लेकर दिल्ली से मुंबई पहुंचे गुलशन कुमार का साथ। १९९० में आई महेश भट्ट निर्देशित फ़िल्म "आशिकी" ने संगीत की दुनिया को हिला कर रख दिया, और उभर कर आए - नदीम-श्रवण। एक ऐसा दौर जब फ़िल्म संगीत अश्लील शब्दों और भौंडे संगीत की गर्त में जा रहा था, एक साथ कई नए कलकारों ने आकर जैसे संगीत का सुनहरा दौर वापस लौटा दिया। शुरूआत हुई आनंद मिलिंद के संगीत से सजी फ़िल्म "क़यामत से क़यामत तक" से और इसी के साथ वापसी हुई रोमांस के सुनहरे दौर की भी। फ़िल्म "आशिकी" भी इसी कड़ी का एक हिस्सा थी, कमाल की बात यह थी कि इस फ़िल्म के सभी गीत एक से बढ़कर एक थे और बेहद मशहूर हुए। इसके बाद नदीम-श्रवण ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। एक के बाद एक सुपर हिट संगीत से सजी फिल्में -दिल है कि मानता नहीं, साजन, सड़क, फूल और कांटे, दीवाना....और सूची लम्बी होती चली गई। नदीम-श्रवण के साथ साथ गीतकार समीर, गायक कुमार सानू, अलका याग्निक, और साधना सरगम ने भी कमियाबी का स्वाद चखा। लगातार तीन सालों तक वो फ़िल्म फेयर सम्मान के सरताज रहे, १९९६ में "राजा हिन्दुस्तानी" और १९९७ में आई "परदेश" जैसी फिल्मों से उन्होंने अपना एक नया अंदाज़ दुनिया के सामने रखा.

गुलशन कुमार की निर्मम हत्या और नदीम पर लगे आरोपों ने संगीत के इस सुहावने सफर में एक ग्रहण का काम किया। लंबे समय तक इस जोड़ी ने फिल्मों से ख़ुद को दूर रखा, २००५ में लन्दन से फ़ोन कर नदीम ने श्रवण से कहा कि "मैं कुछ समय तक अपने परफ्यूम के काम पर ध्यान देना चाहता हूँ..." इसी के साथ लगा कि यह जोड़ी अब टूट गई। श्रवण की सुनें तो उन्होंने स्वीकार किया कि-"नदीम की इस बात से वो आहत ज़रूर हुए, शुरू में नहीं समझ पाये कि आखिर वो ऐसा क्यों कर रहे हैं, पर अब सोचता हूँ कि यह अन्तराल हम दोनों के लिए ज़रूरी सा था"।

एक समय आया जब यह जोड़ी संगीत-प्रेमियों की नज़र से ओझल हो गई। लेकिन कलाकार काम किये बिने चैन नहीं पाता। श्रवण ने अकेले ही 'सिर्फ़ तुम' में संगीत दिया और बहुत हिट हुए। लेकिन संगीत प्रेमियों को संगीत को वह सुंगंध और ताजगी एकाकी संगीत में नहीं मिली। न्यायिक कारणों ने सिर्फ तुम के एल्बम पर संगीतकार का नाम तक नहीं लिखा गया।

इस जोड़ी ने 'राज़' से दुबारा वापसी की, या यूँ कहिए कि दमदार वापिसी की। वैसे धड़कन फिल्म के संगीत ने ही इस जोड़ी ने लौटने का संकेत दे ही दिया था, लेकिन इनकी संगीत का असली फ्लैवर राज़ में दिखा। इसके बाद कसूर का संगीत हिट हुआ। संगीत प्रेमियों के लिए अब ये खुशी की बात है कि अब ये जोड़ी एक बार फ़िर साथ में काम करेगी, और वो भी फूरे जोर-शोर के साथ। डेविड धवन की "डू नोट डिसटर्ब" और धर्मेश दर्शन की "बावरा" है उनकी आने वाली फिल्में। हो सकता है फ़िर कुछ ऐसे नगमें सुनने को मिलें जो बरसों तक यादों में बसे रहें।
आइए सुनते हैं इसी जोड़ी द्वारा संगीतबद्ध कुछ एवरग्रीन गीत


The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ