Showing posts with label aggay. Show all posts
Showing posts with label aggay. Show all posts

Friday, October 19, 2012

शब्दों में संसार - कवि और कविता


शब्दों में संसार - एपिसोड 02 - कवि और कविता  

कवि, कुछ ऐसी तान सुनाओ,
जिससे उथल-पुथल मच जाए,
एक हिलोर इधर से आए,
एक हिलोर उधर से आए,

चकनाचूर करो जग को, गूँजे
ब्रह्मांड नाश के स्वर से,
रुद्ध गीत की क्रुद्ध तान है
निकली मेरे अंतरतर से!

नाश! नाश!! हा महानाश!!! की
प्रलयंकारी आँख खुल जाए,
कवि, कुछ ऐसी तान सुनाओ
जिससे उथल-पुथल मच जाए।


"
विप्लव गान" करता यह कवि अपने दौर और आने वाले हर दौर के कवि को अंदर छुपी हिम्मत से वाकिफ करा रहा है। वह कह रहा है कि वक़्त ऐसे समय का आ चुका है जब शब्दों से ब्रह्मांड चूर-चूर करने होंगे, जब तानों में क्रोध जगाना होगा। कवि महानाश का आह्वान कर रहा है ताकि उस "प्रलयंकर" की तीसरी आँख खुल जाए और चहुं ओर उथल-पुथल मच जाए। कवि अपने शब्दों से क्रांति को जगा रहा है। 

शब्दों में संसार की इस दूसरी कड़ी में आज विश्व दीपक लाये हैं, कवि की कविता और उसकी स्वयं की जिंदगी से जुड़े कुछ सवाल. इस अनूठी स्क्रिप्ट को आवाज़ से सजा रहे हैं अनुराग शर्मा और संज्ञा टंडन. आज की कड़ी में आप सुनेगें हरिवंश राय बच्चन, रघुवीर सहाय, अज्ञय, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, नीरज, मीना कुमारी, सुमित्रा नन्दन पंत, और निदा फाजली की कुछ अद्भुत कविताओं के साथ फणीश्वर नाथ रेणु लिखित एक दुर्लभ कविता भी, जिन्हें आवाजें दी है देश विदेश से हमसे जुड़े हमारे कुछ युवा तो कुछ अनुभवी पॉडकास्टरों ने. प्रस्तुति है सजीव सारथी की. तो दोस्तों एक बार फिर तैयार हो जाईये मधुर काव्य की इस बरखा में भीगने को.     

लीजिए सुनिए रेडियो प्लेबैक का ये अनूठा पोडकास्ट -



आप इस पूरे पोडकास्ट को यहाँ से डाउनलोड भी कर सकते हैं


आज की कड़ी में प्रस्तुत कवितायें और उनसे जुडी जानकारी इस प्रकार हैं -

 कविता ०१ - गूँजेगा गूँजेगा : कवि - नूना मांझी (फणीश्वर नाथ रेणु) : स्वर -रितेश खरे 



 कविता ०२ - क्रांतिबीज  : कवि -सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : स्वर - अनुप्रिया वार्ष्णेय 



 कविता ०३ - जोतो, है कवि : कवि -सुमित्रा नंदन पंत : स्वर - सुनीता यादव 



 कविता ०४ : नयी नयी कोपलें : कवि -रघुवीर सहाय  : स्वर -गार्गी  खर्धेडकर 



 कविता ०५ : तब मानव कवि बन जाता है : कवि - नीरज : स्वर -शैफाली गुप्ता  



 कविता ०६ : पूछते हो तो सुनो (ग़ज़ल) : कवि -मीना कुमारी : स्वर -अनुराग यश 



 कविता ०७ : कवि : कवि - अज्ञेय  : स्वर - राजीव रंजन प्रसाद 



 कविता ०८ : शब्द में मौन : कवि -हरिवंश राय बच्चन : स्वर -अर्चना चाव्जी 



 कविता ०९ : नज़्म  : कवि -निदा फाजली : स्वर -रश्मि प्रभा 



कविता १० : लिख रहा हूँ : कवि - नागार्जुन  : स्वर -पूजा यादव 



कोंसेप्ट और स्क्रिप्ट - विश्व दीपक 
कविता-चयन - विश्व दीपक और रश्मि प्रभा
स्वर - अनुराग शर्मा और संज्ञा टंडन  

शीर्षक गीत - सजीव सारथी 
स्वर - संज्ञा टंडन, कृष्ण राजकुमार 
संगीत - कृष्ण राजकुमार 

निर्माण सहयोग - अनुराग शर्मा, रश्मि प्रभा, सुनीता यादव, संज्ञा टंडन, राजीव रंजन प्रसाद, अमित तिवारी 
संयोजन एवं प्रस्तुति - सजीव सारथी 

हिंदी साहित्य के इन अनमोल रत्नों को इस सरलीकृत रूप में आपके सामने लाने का ये हमारा प्रयास आपको कैसा लगा, हमें अपनी राय के माध्यम से अवश्य अवगत करवाएं. यदि आप भी आगामी एपिसोडों में कविताओं को अपनी आवाज़ से सजाना चाहें तो हमसे संपर्क करें.

Friday, September 21, 2012

शब्दों में संसार - हरा सोना

शब्दों में संसार - एपिसोड ०१ - हरा सोना 

शब्दों में संसार की पहली कड़ी में आप सबका स्वागत है। यह श्रॄंखला "शब्दों के चाक पे" की तरह हीं "कविताओं" पर आधारित है। बस फर्क यह है कि जहाँ "चाक" पर हम आजकल की ताज़ातरीन कविताओं की मिट्टी डालते थे, वहीं "संसार" में हम उन कविताओं को खोदकर ला रहे हैं जो मिट्टी तले कई सालों से दबी हैं यानि कि श्रेष्ठ एवं नामी कवियों की पुरानी कविताएँ। आज की कड़ी में हमने "निराला", "पंत" से लेकर "त्रिलोचन" एवं "नागार्जुन" तक की कविताएँ शामिल की हैं और आज का विषय है "हरा सोना"। "हरा सोना" नाम से हीं साफ हो जाता है कि हम खेतों में लहलहाते फसलों एवं जंगलों में शान से सीना ताने खड़े पेड़ों की बातें कर रहे हैं। हम प्रकृति यानि कि कुदरत की बातें कर रहे हैं। 

लीजिए सुनिए रेडियो प्लेबैक का ये अनूठा पोडकास्ट -



आप इस पूरे पोडकास्ट को यहाँ से डाउनलोड भी कर सकते हैं


आज की कड़ी में प्रस्तुत कवितायें और उनसे जुडी जानकारी इस प्रकार हैं -

 कविता ०१ - फिर बेले में कलियाँ आई : कवि - निराला : स्वर -गार्गी कुलकर्णी



 कविता ०२ - नयी नयी कोंपलें : कवि -माखनलाल चतुर्वेदी : स्वर - अनुराग शर्मा



 कविता ०३ - उठ किसान : कवि -त्रिलोचन : स्वर -संज्ञा टंडन



 कविता ०४ : गोरी गोरी सौंधी धरती : कवि -धर्मवीर भारती : स्वर -सुनीता यादव



 कविता ०५ : कृषक संवरिया : कवि - केदारनाथ अग्रवाल : स्वर -अर्चना चावजी 



 कविता ०६ : नारियल के पेड : कवि -केदारनाथ अग्रवाल : स्वर -राजीव रंजन प्रसाद



 कविता ०७ : महुआ : कवि - शमशेर बहादुर सिंह : स्वर - संज्ञा टंडन



 कविता ०८ : जंगल की याद : कवि -सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : स्वर -वरद देशमुख



 कविता ०९ : शाल के जंगल : कवि -नागार्जुन : स्वर -पूजा यादव

 

कविता १० : हरी बिछली घास : कवि - अज्ञेय : स्वर -राजीव रंजन प्रसाद



कोंसेप्ट, कविता-चयन और स्क्रिप्ट - विश्व दीपक 
स्वर - अभिषेक ओझा और शैफाली गुप्ता 

शीर्षक गीत - सजीव सारथी 
स्वर - अनुराग यश, कृष्ण राजकुमार 
संगीत - कृष्ण राजकुमार 

निर्माण सहयोग - अनुराग शर्मा, रश्मि प्रभा, सुनीता यादव, संज्ञा टंडन, राजीव रंजन प्रसाद, अमित तिवारी 
संयोजन एवं प्रस्तुति - सजीव सारथी 

हिंदी साहित्य के इन अनमोल रत्नों को इस सरलीकृत रूप में आपके सामने लाने का ये हमारा प्रयास आपको कैसा लगा, हमें अपनी राय के माध्यम से अवश्य अवगत करवाएं. यदि आप भी आगामी एपिसोडों में कविताओं को अपनी आवाज़ से सजाना चाहें तो हमसे संपर्क करें.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ