Showing posts with label Usha Mangeshkar. Show all posts
Showing posts with label Usha Mangeshkar. Show all posts

Saturday, June 4, 2011

ओल्ड इज़ गोल्ड - शनिवार विशेष - 44 - 'उषा मंगेशकर से ट्विटर पर छोटी सी मुलाक़ात और उनके गाये चंद असमीया फ़िल्मी गीत'

नमस्कार! 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, शनिवार विशेषांक के साथ मैं, आपका दोस्त सुजॉय, हाज़िर हूँ। पिछले दिनों 'हिंद-युग्म' नें मुझे 'लोकप्रिय गोपीनाथ बार्दोलोई हिंदी सेवी सम्मान' से जब सम्मानित किया था, तो मेरी ख़ुशी की सीमा न थी। यह ख़ुशी सिर्फ़ इस बात की नहीं थी कि मैं पुरस्कृत हो रहा था, बल्कि इस बात की भी थी कि यह पुरस्कार उस महान शख़्स के नाम पर था जो उसी जगह से ताल्लुख़ रखते थे जहाँ से मैं हूँ। जी हाँ, आसाम की सरज़मीं। आसाम, जहाँ मेरा जन्म हुआ, जहाँ से मैंने अपनी पढ़ाई पूरी की, और जहाँ से मेरी नौकरी जीवन की शुरुआत हुई। उस रोज़ मैं उस पुरस्कार को ग्रहण करते हुए यह सोच रहा था कि 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के लिये मुझे यह पुरस्कार दिया गया है, तो क्यों न 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में एक विशेषांक असमीया फ़िल्म संगीत को लेकर की जाये! तभी मुझे याद आया कि पिछले साल, जून के महीने में, जब तीनों मंगेशकर बहनों का ट्विटर पर आगमन हुआ, उस वक़्त मैंने लता जी और उषा जी से कुछ सवाल पूछे थे, जिनमें से कुछ के उन दोनों ने जवाब भी दिये थे। आपको याद होगा लता जी से की हुई बातचीत को हमनें इसी साप्ताहिक स्तंभ में प्रस्तुत किया था। आइए आज उषा जी से की हुई बातचीत की चर्चा करते हैं।

दोस्तों, फ़िल्म संगीत के सुनहरे दौर में लता जी और आशा जी सूरज और चांद की तरह चमक रहे थे। ऐसे में दूसरी प्रतिभा-सम्पन्न गायिकाओं की आवाज़ें भी टिमटिमाते तारों की तरह कहीं खो सी जा रही थी। जो गायिकाएँ इसी राह पर संघर्ष करती रहीं, उनकी यात्रा ज़्यादा दूर तक नहीं तय हो सकी। और जिन गायिकाओं नें अपने रुख़ को प्रादेशिक फ़िल्म संगीत की तरफ़ मोड़ लिया, उनमें से कई आवाज़ें प्रादेशिक जगत में चमक उठीं। और इन्हीं आवाज़ों में एक आवाज़ लता और आशा की ही बहन उषा की थी। जी हाँ, उषा मंगेशकर नें मराठी फ़िल्मों में तो बेशुमार सफल गीत गाये ही, साथ ही नेपाली और असमीया गीतों की भी लिस्ट काफ़ी लम्बी है। आइए आज उषा जी के गाये कुछ बेहद लोकप्रिय असमीया गीतों की चर्चा करें और उन्हें सुनें।

गीत - सिनाकी मूर मोनोर मानूह (फ़िल्म: खोज)


फ़िल्म 'खोज' का यह एक हॉंटिंग् नंबर था, जिसमें संगीत था डॉ. भूपेन हज़ारिका का। इस गीत के लिये उषा जी को आसाम सरकार प्रदत्त पुरस्कार भी मिला था। उषा जी के गाये असमीया गीतों की सफलता का राज़ है उनका असमीया उच्चारण जो आसाम के लोगों तक को भी हैरत में डाल देता था। भूपेन दा ही वो संगीतकार थे जिन्होंने उषा जी से ही नहीं, बल्कि लता जी और आशा जी से भी असमीया फ़िल्मों के गीत गवाये। लता जी से फ़िल्म 'एरा बाटोर सुर' में तथा आशा जी से 'चिकमिक बिजुली' में गवाये गीत बेहद लोकप्रिय रहे। उषा जी पर वापस आते हैं, ये रहा मेरा पहला ट्वीट उषा जी के नाम:

soojoi_india@ushamangeshkar उषा जी, नमस्कार! आपको ट्विटर में देख कर बहुत अच्छा लग रहा है। मैं आसाम का रहने वाला हूँ, और आपनें असमीया में बहुत सारे गीत गाये हैं। मुझे आपके तमाम असमीया गीत बहुत पसंद हैं, जैसे कि "सिनाकी मूर मोनोर मानूह", "पौलाखोरे रौंग", और 'चमेली मेमसाब', 'अपरुपा' और 'मोन प्रोजापोती' के गानें भी।

इसके जवाब में उषा जी नें लिखा:

ushamangeshkar@soojoi_india I love Assam, the Assamese people & Assamese music tremendously! Bhupen da is one of my all-time favourite composers! (मैं आसाम से प्यार करती हूँ, मुझे आसाम के लोगों से बहुत प्यार है और असमीया संगीत मेरे दिल के बहुत करीब है! भूपेन दा मेरे पसंदीदा संगीतकारों में से हैं।)

तो दोस्तों, इसी बात पर आइए उषा जी और भूपेन दा के संगम से उत्पन्न एक और असमीया गीत सुनते हैं। यह है सुपरहिट फ़िल्म 'चमेली मेमसाब' का सुपरहिट गीत जो आधारित है आसाम के चाय-बागानों के लोक-संगीत पर।

गीत - औख़ोम देख़ौर बागीसार सोवाली (फ़िल्म: चमेली मेमसाब)


फ़िल्म 'चमेली मेमसाब' को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था और भूपेन हज़ारिका को सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था। इस फ़िल्म में दो और गीत उषा जी के ख़ूब मशहूर हुए थे - "जौबोनेर अंगनाय उड़े गेन्दाफूल गो", जिसे उन्होंने भूपेन हज़ारिका के साथ मिल कर गाया था और दूसरा गीत उनका एकल था "सुटु हौये ओ नगर..."। ख़ैर, आगे मैंने उषा जी को यह ट्वीट किया:

soojoi_india@ushamangeshkar उषा जी, 'चमेली मेमसाब' और 'खोज' फ़िल्मों के अलावा आपनें भूपेन दा के साथ और भूपेन दा के लिये फ़िल्म 'पौलाखोरे रौंग' में भी गाया था। मैं आपको बताना चाहूँगा कि इस फ़िल्म का शीर्षक गीत आज भी आकाशवाणी के गुवाहाटी केन्द्र से प्रसारित फ़रमाइशी गीतों के कार्यक्रम 'कल्पतरु' में आये दिन बजता रहता है, और लोग आज भी बड़ी तादाद में इस गीत की फ़रमाइश भेजते हैं।

उषा जी का जवाब था:

ushamangeshkar@soojoi_india Yes, it's a beautiful song. I sang it under Bhupenda's personal supervision. (हाँ, यह एक सुंदर गीत है। मैंने इसे भूपेन दा की निजी देखरेख में रह कर गाया था।)

दोस्तों, ज़रा आप भी तो सुनिये इस ख़ूबसूरत गीत को।

गीत - पौलाखोरे रौंग (फ़िल्म: पौलाखोरे रौंग)


उषा जी से असमीया गीतों के संदर्भ में और आगे बातचीत तो नहीं हो सकी, और आजकल वो ट्विटर पर ज़्यादा सक्रीय भी नहीं हैं, इसलिये मुझे इतने से ही संतुष्ट होना पड़ा। लेकिन उनके गाये हुए गीतों का ख़ज़ाना तो हमारे पास है न! उषा जी के गाये तीन गीत हमनें सुनें तीन अलग अलग फ़िल्मों से। एक और गीत मैं आपको सुनवाऊँगा, लेकिन उससे पहले उषा जी और भूपेन दा की कुछ बातें हो जाये! भूपेन हज़ारिका नें उषा मंगेशकर को केवल असमीया फ़िल्मों में ही नहीं, अपनी हिंदी फ़िल्म 'एक पल' में भी गवाया था। भूपेन्द्र और उषा जी के साथ भूपेन दा नें इस फ़िल्म के गीत "ज़रा धीरे ज़रा धीमे लेके ज‍इहो डोली" में अपनी आवाज़ मिलायी थी। हिंदी में उनकी संगीतबद्ध पहली फ़िल्म 'आरोप' (१९७४) में उन्होंने आशा भोसले और उषा मंगेशकर से एक डुएट गवाया था "सब कुछ मिला" जो एक क्लब शैली का गीत था। कहा जाता है कि लता मंगेशकर नें ही उषा को भूपेन दा से मिलवाया था जब वो उनके लिये 'एरा बाटोर सुर' फ़िल्म के लिये "जोनाकोरे राती" गीत गा रही थीं। फिर उषा जी से पहली मुलाक़ात में ही भूपेन दा नें उन्हें कुछ असमीया गीत गाने का न्योता दे दिया और उषा जी नें यह मौका हाथों हाथ ग्रहण किया।

अभी कुछ वर्ष पहले, साल २००८ में उषा मंगेशकर को आसाम के नगाँव में आयोजित 'नाट्यप्रबर शिल्पप्राण' के पुरस्कार वितरण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में निमंत्रित किया गया था। आसाम के प्रति उनके अगाध प्रेम की वजह से उन्होंने यह आतिथ्य ग्रहण की, और अपनी भाषण में उन्होंने आसाम और वहाँ के लोगों के साथ उनके "ईमोशनल क्लोज़नेस' का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि असमीय संस्कृति बहुत ही उच्च श्रेणी की है और वो चाहती हैं कि इसका सही तरीके से संरक्षण हो। उन्होंने इस राह में नई पीढ़ी को सामने आने का आहवान किया। उसी भाषण में उन्होंने अपने बीते दिनों को याद किया कि किस तरह से उन दिनों भूपेन दा नें उन्हें और उनकी दीदी लता जी को असमीया गीत सिखाया करते थे। अंत में उन्होंने अपनी मशहूर असमीया गीत "सिनाकी सिनाकी मूर मोनोर मानूह" गा कर उपस्थित जनता को मंत्रमुग्ध कर दिया।

अपनी उस आसाम यात्रा में कार्यक्रम ख़त्म हो जाने के बाद वह रात उन्होंने नगाँव के सर्किट हाउस में बितायी। रात्री भोज में जब उन्हें उनकी पसंदीदा व्यंजन "कालदिलोर तरकारी" परोसा गया तो वो एक बार फिर से बीते समय में पहुँच गईं। उन्होंने कहा कि बिलकुल वही भोजन उन्होंने भूपेन दा के साथ कई साल पहले किया था, जिसमें था टमाटर और नींबू में बनी खट्टी मछली। इसलिए जब अगले दिन वो काज़ीरंगा गईं तो वहाँ पर उनके इसी मनपसंद मछली से उनका स्वागत किया गया। काज़ीरंगा जाते समय वो केलीडेन चाय बागान में भी गईं और चाय-पत्ती निर्माण की समस्त पद्धतिओं से अपने आप को अवगत किया। चाय बागान में सैर करते हुए वो गुनगुना उठीं "औख़ोम देख़ोर बागीसार सोवाली... लोक्स्मी नौहौय मोरे नाम सामेली" ('चमेली मेमसाब' फ़िल्म का यह गीत चायबागान के पार्श्व पर बना था)। वापस जाते समय उन्होंने पत्रकारों को बताया कि उनकी दिली तमन्ना है कि अपने गाये असमीया गीतों को वो एक ऐल्बम के रूप में फिर से रेकॉर्ड करें। और दोस्तों, हम भी उषा जी को इस मिशन के लिये शुभकामनाएँ देते हुए यहाँ पर उनका गाया एक और असमीया फ़िल्मी गीत सुनते हैं। इस बार सुनिये फ़िल्म 'राधापुरोर राधिका' से यह मशहूर गीत।

गीत - राधाचुड़ार फूल (फ़िल्म: राधापुरोर राधिका)


तो ये था आज का 'ओल्ड इज़ गोल्ड शनिवार विशेष', जिसमें हमनें पार्श्व-गायिका उषा मंगेशकर के गाये असमीया गीतों का आनंद लिया और आसाम से उनके जुड़ाव के बारे में जाना। आशा है आपको हमारी यह प्रस्तुति पसंद आई होगी, ज़रूर लिखिएगा, अब आज के लिये अनुमति दीजिये, नमस्कार!

Saturday, April 3, 2010

अपलम चपलम चपलाई रे....गुदगुदाते शब्द मधुर संगीत और मंगेशकर बहनों की जुगलबंदी

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 393/2010/93

ज़ोहराबाई -शमशाद बेग़म और सुरैय्या - उमा देवी की जोड़ियों के बाद 'सखी सहेली' की तीसरी कड़ी में आज हम जिन दो गायिकाओं को लेकर उपस्थित हुए हैं, वो एक ऐसे परिवार से ताल्लुख़ रखती हैं जिस परिवार का नाम फ़िल्म संगीत के आकाश में सूरज की तरह चमक रहा है। जी हाँ, मंगेशकर परिवार। जो परम्परा स्व: दीनानाथ मंगेशकर ने शुरु की थी, उस परम्परा को उनके बेटे बेटियों, लता, आशा, उषा, मीना, हृदयनाथ, आदिनाथ, ने ना केवल आगे बढ़ाया, बल्कि उसे उस मुकाम तक भी पहुँचाया कि फ़िल्म संगीत के इतिहास में उनके परिवार का नाम स्वर्णाक्षरों से दर्ज हो गया। आज इसी मंगेशकर परिवार की दो बहनों, लता और उषा की आवाज़ों में प्रस्तुत है एक बड़ा ही नटखट, चंचल और चुलबुला सा गीत सी. रामचन्द्र के संगीत निर्देशन में। राजेन्द्र कृष्ण का लिखा १९५५ की फ़िल्म 'आज़ाद' का वही सदाबहार गीत "अपलम चपलम"। कहा जाता है कि फ़िल्म 'आज़ाद' के निर्माता एस. एम. एस. नायडू ने पहले संगीतकार नौशाद को इस फ़िल्म के संगीत का भार देना चाहा, पर उन्होने नौशाद साहब के सामने शर्त रख दी कि एक महीने के अंदर सभी ९ गीत तय्यार चाहिए। नौशाद साहब ने यह शर्त मंज़ूर नहीं की। उनके बाद कोई भी संगीतकार इस चैलेंज को स्वीकार करने का साहस नहीं किया। आख़िरकार सी. रामचन्द्र ने चुनौती स्वीकारा और सच में उन्होने एक महीने के अंदर सभी गानें रिकार्ड करके ना केवल सब को चकित किया, बल्कि सारे के सारे गानें लोकप्रियता की बुलंदी तक भी पहुँचे। इस फ़िल्म से जुड़ी हुई एक और दिलचस्प बात भी आपको बताता चलूँ। 'दाग़', 'संगदिल', 'फ़ूटपाथ, और 'देवदास' जैसी दुखांत वाली फ़िल्में करने के बाद दिलीप कुमार मानसिक तौर से बिमार हो चले थे, और मानसिक अवसाद उन्हे घेरने लगी थी। ऐसे में उनके डॊक्टर ने उन्हे इस तरह की फ़िल्में करने से मना किया। जब नायडू साहब ने दिलीप साहब को 'आज़ाद' में एक बहुत ही अलग किस्म का सुपरहीरो का किरदार निभाने का अवसर दिया, तो धीरे धीरे वो फिर एक बार मानसिक तौर से चुस्त दुरुस्त हो गए।

लता जी और उषा जी ने इस फ़िल्म में दो हिट युगल गीत गाए, एक तो आज का प्रस्तुत गीत है, और दूसरा गाना था पंजाबी रंग का "ओ बलिए, चल चलिए, आ चलें वहाँ, दिल मिले जहाँ"। दोस्तों, भले ही लता जी और आशा जी के संबंध को लेकर हमेशा से लोगों में उत्सुकता रही है, लेकिन लता जी और उषा जी के बीच कभी कोई ऐसी वैसी बात नहीं सुनी गई। बल्कि लता जी और साथ उषा जी हमेशा साथ में रहती हैं। हाल के कुछ वर्षों में लता जी जिस किसी भी फ़ंक्शन में जाती हैं, उषा जी उनके साथ ही रहती हैं। उषा जी जब विविध भारती पर 'जयमाला' कार्यक्रम पेश करने आईं थीं, उसमें उन्होने लाता जी और आशा जी के सम्मान में बहुत सी बातें कीं थीं। आइए आज उसी कार्यक्रम के एक अंश को यहाँ पढ़ें, जिसमें उषा जी बता रही हैं लता जी के बारे में। "बचपन से ही मैं लता दीदी के साथ रिकार्डिंग् पर जाया करती थी। उस दौर में फ़िल्म के अलावा रिकार्ड के लिए अलग से दोबारा गाना पड़ता था। 'कठपुतली' फ़िल्म के एक गाने की रिकार्डिंग् दोपहर २ बजे तक चलती रही। बहुत गरमी थी, बजाने वाले भी गरमी से तड़प रहे थे और गाना बार बार रीटेक हो रहा था। लता दीदी २०-२५ बार गाने के बाद बेहोश हो कर गिर पड़ीं। फिर वो ठीक भी हो गईं, लेकिन इस हादसे से इतना ज़रूर अच्छा हुआ कि उस रिकार्डिंग् स्टुडियो में एयर कंडिशनर लगवा दिया गया। लता दीदी के बारे में कोई क्या कह सकता है! दुनिया जानती है कि ऐसी आवाज़ एक बार ही जनम लेती है। ऐसी आवाज़ जिसे सुन कर मन को सुकून और शांति मिलती है!" और अब दोस्तों, लता जी और उषा की शरारती अंदाज़ का नमूना, फ़िल्म 'आज़ाद' के इस मचलते, थिरकते गीत में, आइए सुनते हैं।



क्या आप जानते हैं...
कि उषा मंगेशकर ने शास्त्रीय नृत्य की तालीम भी ली थी, और गायन के अलावा उन्हे चित्रकारी का भी बहुत शौक रहा है।

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. मुखड़े में शब्द है -"धूल", गीतकार बताएं -३ अंक.
2. गीता दत्त के साथ किस गायिका ने इस भजन में अपनी आवाज़ मिलायी है- २ अंक.
3. लीला चिटनिस के साथ कौन सी नायिका ने परदे पर निभाया है इस गीत को-२ अंक.
4. संगीतकार कौन है फिल्म के -२ अंक.

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम-
वाह वाह सब ने जबरदस्त वापसी की है इस बार. इंदु जी आपको ३ अंक और शरद जी, पदम जी और अनीता जी को २- २ अंकों की बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Wednesday, January 27, 2010

बुझा दिए हैं खुद अपने हाथों से....दर्द की कसक खय्याम के सुरों में...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 327/2010/27

-रद तैलंग जी के पसंद का अगला गाना है फ़िल्म 'शगुन' से। सुमन कल्याणपुर की आवाज़ में यह है इस फ़िल्म का एक बड़ा ही मीठा गीत "बुझा दिए हैं ख़ुद अपने हाथों से मोहब्बत के दीये जलाके"। साहिर लुधियानवी की शायरी और ख़य्याम साहब का सुरीला सुकून देनेवाला संगीत। इसी फ़िल्म में सुमन जी ने रफ़ी साहब के साथ "ठहरिए होश में आ लूँ तो चले जाइएगा" और "पर्बतों के पेड़ों पर शाम का बसेरा है" जैसे हिट गीत गाए हैं। आज के प्रस्तुत गीत की बहुत ज़्यादा चर्चा नहीं हुई लेकिन उत्कृष्टता में यह गीत किसी भी दूसरे गीत से कुछ कम नहीं, और यह गीत सुमन कल्याणपुर के गाए बेहतरीन एकल गीतों में से एक है। फ़िल्म 'शगुन' आई थी सन् १९६४ में, जिसका निर्माण हुआ था शाहीन आर्ट के बैनर तले, निर्देशक थे नज़र, और फ़िल्म के कलाकार थे कंवलजीत सिंह, वहीदा रहमान, चांद उस्मानी, नज़िर हुसैन, नीना और अचला सचदेव। दोस्तों, आपको यह बता दें कि यही कंवलजीत असली ज़िंदगी में वहीदा रहमान के पति हैं। 'शगुन' में सुमन कल्याणपुर और मोहम्मद रफ़ी के अलावा जिन गायकों ने गानें गाए वो थे तलत महमूद, मुबारक़ बेग़म और जगजीत कौर। जगजीत जी जो ख़य्याम साहब की धर्मपत्नी हैं, इस फ़िल्म में एक बड़ा ही ख़ूबसूरत गीत गाया था "तुम अपना रंज-ओ-ग़म अपनी परेशानी मुझे दे दो" जो बड़ा ही मक़बूल हुआ था। इस गीत को हम जल्द ही कमचर्चित पार्श्वगायिकाओं को समर्पित शृंखला के दौरान आपको सुनवाएँगे। दोस्तों, फ़िल्म 'शगुन' तो कामयाब नहीं हुई लेकिन ख़य्याम साहब का ठहराव वाला संगीत सुनने वालों के दिलों में कुछ ऐसा जा कर ठहरा कि आज तक उनके दिलों में वो बसा हुआ है।

दोस्तों, आज हम शरद जी के इस पसंदीदा गीत के बहाने चर्चा करेंगे सुमन कल्याणपुर जी का। उनके द्वारा प्रस्तुत 'जयमाला' कार्यक्रम का एक अंश यहाँ प्रस्तुत है - "गीत शुरु करने से पहले मैं एक आपको बात बता देना आवश्यक समझती हूँ, कि मैं पार्श्व गायिका अवश्य हूँ, परंतु मेरा व्यवसाय संगीत नहीं है। संगीत मेरी आस्था है और गीत मेरी आराधना है। नाद शास्त्र में भगवान ने कहा है कि "नाहम् वसामी बैकुंठे, योगीनाम् हृदये न च, मदभक्त यत्र गायंती, तत्र तिष्ठामी नारद"।" दोस्तों, कितने उच्च विचार हैं सुमन जी के अपनी संगीत साधना को लेकर। और दोस्तों, उसी कार्यक्रम में सुमन जी ने आज का यह गीत भी बजाया था, जिसका अर्थ यह है कि यह गीत सुमन जी को भी बेहद पसंद है, और इस गीत को बजाने से ठीक पहले उन्होने ये कहा था - "दर्द के वो पल काटे नहीं कटते, जब कोई ऐसा भी नहीं होता कि उसे दिल का हाल बताकर कुछ जी हल्का किया जा सके। और ना कोई ऐसी राह सूझती है जो मंज़िल की तरफ़ ले जाए।" दोस्तों, हमने सुना है कि सुमन जी के परिवार के लोगों को उनका फ़िल्मों में गाना पसंद नहीं था और उनके गायन को लेकर उनके ससुराल में अशांति रहती थी। इसलिए उन्होने ही एक समय के बाद गाना छोड़ दिया और यहाँ तक कि फ़िल्म जगत से ही किनारा कर लिया। इस गीत के बोल भी कितने मिलते जुलते हैं ना उनकी ज़िंदगी से कि "बुझा दिए हैं ख़ुद अपने हाथों से मोहब्बत के दीये जलाके"। मुलाहिज़ा फ़रमाएँ।



चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम रोज आपको देंगें ४ पंक्तियाँ और हर पंक्ति में कोई एक शब्द होगा जो होगा आपका सूत्र. यानी कुल चार शब्द आपको मिलेंगें जो अगले गीत के किसी एक अंतरे में इस्तेमाल हुए होंगें, जो शब्द बोल्ड दिख रहे हैं वो आपके सूत्र हैं बाकी शब्द बची हुई पंक्तियों में से चुनकर आपने पहेली सुलझानी है, और बूझना है वो अगला गीत. तो लीजिए ये रही आज की पंक्तियाँ-

दुनिया में प्रीत की भी है रीत अजीब,
कोई पास रहकर भी है कितना दूर,
जाने क्या राज़ है उसकी बेरुखी में,
आखिर कोई क्यों है इतना मजबूर...

अतिरिक्त सूत्र -इस युगल गीत में पुरुष स्वर मन्ना दा का है

पिछली पहेली का परिणाम-
अरे इतने शानदार गीत पर भी कोई जवाब देने वाला नहीं...ताज्जुब है

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Tuesday, September 15, 2009

एक कोने में गज़ल की महफ़िल, एक कोने में मैखाना हो..."गोरखपुर" के हर्फ़ों में जाम उठाई "पंकज" ने

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४५

पूरी दो कड़ियों के बाद "सीमा" जी ने अपने पहले हीं प्रयास में सही जवाब दिया है। इसलिए पहली मर्तबा वो ४ अंकों की हक़दार हो गई हैं। "सीमा" जी के बाद हमारी "प्रश्न-पहेली" में भागेदारी की शामिख फ़राज़ ने। हुज़ूर, इस बार आपने सही किया. पिछली बार की तरह ज़ेरोक्स मशीन का सहारा नहीं लिया, इसलिए हम भी आपके अंकों में किसी भी तरह की कटौती नहीं करेंगे। लीजिए, २ अंकों के साथ आपका भी खाता खुल गया। आपके लिए अच्छा अवसर है क्योंकि हमारे नियमित पहेली-बूझक शरद जी तो अब धीरे-धीरे लेट-लतीफ़ होते जा रहे हैं, इसलिए आप उनके अंकों की बराबरी आराम से कर सकते हैं। बस नियमितता बनाए रखिए। "शरद" जी, यह क्या हो गया आपको। एक तो देर से आए और ऊपर से दूसरे जवाब में कड़ी संख्या लिखा हीं नहीं। इसलिए आपका दूसरा जवाब सही नहीं माना जाएगा। इस लिहाज़ से आपको बस .५ अंक मिलते हैं। कुलदीप जी, हमने पिछली महफ़िल में हीं कहा था कि सही जवाब देने वाले को कम से कम १ अंक मिलना तो तय है, इसलिए जवाब न देने का यह कारण तो गलत है। लगता है आपने नियमों को सही से नहीं पढा है। अभी भी देर नहीं हुई, वो कहते हैं ना कि "जब जागो, तभी सवेरा"। ये तो हुई पिछली कड़ी की बातें, अब बारी है आज के प्रश्नों की| तो ये रहे प्रतियोगिता के नियम और उसके आगे दो प्रश्न: ५० वें अंक तक हम हर बार आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब उस दिन के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। अगर आपने पिछली कड़ियों को सही से पढा होगा तो आपको जवाब ढूँढने में मुश्किल नहीं होगी, नहीं तो आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी। और हाँ, हर बार पहला सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। इन १० कड़ियों में जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) ‘रावलपिंडी कांस्पिरेसी केस’ के सिलसिले में गिरफ़्तार किए गए एक शायर जिन्होंने अपने परम मित्र की मौत के बाद उनके एक शेर के जवाब में कहा था "चाँदनी दिल दुखाती रही रात भर"। उस शायर का नाम बताएँ और यह भी बताएँ कि उनके उस मित्र ने किस आँदोलन में हिस्सा लिया था?
२) १९७६ में अपने संगीत-सफ़र की शुरूआत करने वाले एक फ़नकार जिनकी उस गज़ल को हमने सुनवाया था जिसे "हस्ती" ने लिखा था। उस फ़नकार का नाम बताएँ और यह भी बताएँ कि वह गज़ल किस एलबम में शामिल है?


आज हम जिस गज़ल को पेश करने जा रहे हैं उसके शायर और गज़ल-गायक दोनों हमारी महफ़िल में पहले भी आ चुके हैं या यूँ कहिए कि इनकी जोड़ी हमारी महफ़िल में तशरीफ़ ला चुकी है। वह नज़्म थी "एक तरफ़ उसका घर, एक तरफ़ मयकदा"। जी हाँ हम शायर "ज़फ़र गोरखपुरी" और गज़ब के गज़ल-गायक "पंकज उधास" की बातें कर रहे हैं। पंकज उधास का नाम आते हीं लोगों को शराब, साकी, मैखाना की हीं यादें आती हैं और इसलिए उन पर आरोप भी लगाया जाता है कि कच्ची उम्र के श्रोताओं को इनकी ऐसी नज़्में/गज़लें रास्ते से भटकाती हैं। लेकिन इस सिलसिले में पंकज जी के कुछ अलग हीं विचार हैं। "यह मेरे कैरियर से जुड़ी सबसे अहम बात है, जिसका खुलासा आज मैं करना चाहता हूं.....देखिए, मैं गायकी की दुनिया में २८ साल से हूं और पहले एलबम "आहट" से लेकर अब तक ४० से ज्यादा एलबम रिलीज हो चुके हैं और अगर सारी कंपोजीशन को आप देखें, तो पाएंगे कि सिर्फ पच्चीस के आस-पास ऎसी गजलें हैं, जिनमें शराब और साकी वगैरह का जिक्र है। लेकिन बदकिस्मती से म्यूजिक कंपनियों ने इन्हे इस तरह रिलीज किया कि मेरी ऐसी इमेज बन गई कि मैं पीने-पिलाने टाइप की गजलें ही गाता हूं।" जो भी हो, लेकिन संयोग देखिए कि हमारी आज की गज़ल में भी ऐसे हीं किसी "मैखाने" का ज़िक्र है। पंकज उधास साहब जहाँ एक तरफ़ गज़लों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए भी उसकी स्थिति को सामान्य मानते हैं, वहीं दूसरी तरफ़ हिन्दी-फिल्मी संगीत की स्थिति पर कठोर शब्दों में चिंता ज़ाहिर करते हैं। उनका कहना है कि इक्कीसवीं सदी की शुरुआत में फिल्म उद्योग में बूम आया, लेकिन फिल्म संगीत इस बूम से अछूता है। जैसा संगीत फिल्मों के लिए तैयार किया जा रहा है, उसे देखकर महसूस होता है कि म्यूजिक आगे नहीं जा रहा है। पाँच साल बाद फिल्मों में मौसिकी रहेगी ही नहीं। आजकल फिल्मों में दो-तीन आइटम सांग को ही फिल्म संगीत कहा जाने लगा है। कई फिल्में ऐसी भी आई हैं, जिनके मुख्य किरदार पर एक भी गाना नहीं फिल्माया गया। फिल्म संगीत में कहीं गंभीर काम की झलक दिखाई नहीं देती। वैसे जितने लोगों को यह लगता है कि पंकज उधास साहब अपनी गायकी की शुरूआत फिल्म "नाम" के "चिट्ठी आई है" से की थी, तो उनके लिए एक खास जानकारी हम पेश करने जा रहे हैं। १९७१ में बी० आर० इशारा की फिल्म "कामना" के लिए इन्होंने उषा खन्ना के संगीत में "नक्श लायलपुरी" की एक नज़्म गाई थी जिसके बोल कुछ यूँ थे -"-तुम कभी सामने आ जाओ तो पूछूं तुमसे/किस तरह दर्दे मुहब्बत को सहा जाता है"। बदकिस्मती से वह फिल्म रीलिज न हो पाई लेकिन इसके रिकार्ड रीलिज ज़रूर हुए। तो इतने पुराने हैं हमारे पंकज साहब।

आज से ७ साल पहले "खजाना" नाम के एक महोत्सव की शुरूआत करने वाले पंकज साहब इसके बारे में कहते हैं: सात साल पहले हमने ये सिलसिला इसलिए शुरु किया था कि साल में एक बार ग़ज़ल की दुनिया के सभी लोग एक मंच पर इकट्ठा हो सकें और हमें खुशी है कि ये कार्यक्रम हर साल कामयाबी की बुलंदियां छूता जा रहा है। इसमें दो उभरते गजल गायकों को सामने लाया जाता है। इस तरह से हम सारे स्थापित गज़ल गायक मिलकर गजल को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। इस साल यह कार्यक्रम मदन मोहन साहब को समर्पित था। गज़लों की आजकल की स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए ये कहते हैं: 'कौमी आवाज' जैसा अखबार बंद हो गया, लेकिन कहीं से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। मौसिकी और शायरी दोनों का स्तर गिरा है, मगर इसके लिए सिर्फ गायकों को दोष देना सही नहीं है।इसके लिए नगमानिगार (गीत लिखने वाले) भी उतने ही जिम्मेदार हैं, जो बेहतरीन शायरी नहीं लिख रहे। नतीजतन, नई पीढ़ी का शायरी और साहित्य के साथ लगाव कम होता जा रहा है। ऐसा माना जाता है कि शायर को मुफलिसी में जीना पड़ता है, इसीलिए शायर या कवि बनने से बेहतर है कि कुछ और किया जाए, जिसमें पैसा जल्द पैदा होता हो। दाग जैसे नामचीन शायरों को अपने परिवार की चिंता नहीं रहती थी। निजाम से उन्हें घर चलाने के लिए धन मिलता था। श्रोता भी अपना दामन बचा नहीं सकते। नई पीढ़ी के शायरों को न तो बढ़ावा मिलता है, न दाद। नए शायरों को प्रोत्साहन करने से तस्वीर बदल सकती है। आज केवल गंभीर काम पर जिंदा नहीं रहा जा सकता। आगे बढ़ना तो नामुमकिन है। आवाम को नए शायरों और गजल गायकों की हौसला अफजाई करना चाहिए। इतना होने के बावजूद पंकज उधास को इस बात की खुशी है कि गज़ल सुनने वाले आज भी उसी उत्साह के साथ महफ़िलों में आते हैं। इस बाबत इनका कहना है कि: गजल का साथ कभी नहीं छूट सकता और मेरा तो मानना है कि लोग आज भी उसी कशिश के साथ गजल सुनना पसंद करते हैं। आज भी जब कहीं हमारा कंसर्ट होता है, तो उसमें बेशुमार संगीत प्रेमी शिरकत करते हैं। अगर गजलों का दौर खत्म हो गया होता, तो इतने सारे लोग कहां से आते हैं। इतना जरूर है कि बीच में जब पॉप म्यूजिक का हंगामा था, तब थोड़े वक्त के लिए गजल पिछड़ गई थी, लेकिन जल्द ही पॉप हाशिए पर चला गया और गजल को फिर पहले वाला मुकाम हासिल हो गया। पंकज उधास के बारे में इतनी बातें करने के बाद यूँ तो हमें अब आज की गज़ल के शायर की तरफ़ रूख करना चाहिए, लेकिन समयाभाव(पढें: स्थानाभाव) के कारण हमें अपने इस आलेख को यहीं विराम देना होगा। "ज़फ़र" साहब की बातें कभी अगली कड़ी में करेंगे। आज हम उनके इस शेर से हीं काम चला लेते हैं:

वो बदगुमां हो तो शेर सूझे न शायरी
वो महर-बां हो ’ज़फ़र’ तो समझो ग़ज़ल हुई।


क्या आपको यह मालूम है कि "दिलवाले दुल्हनिया ले जाएँगे" के दो गीतों "न जाने मेरे दिल को क्या हो गया" और "तुझे देखा तो ये जाना सनम" की रचना "ज़फ़र" साहब ने हीं की थी। नहीं मालूम था ना। कोई बात नहीं, आज तो जान गए। तो चलिए शायर की उसी रूमानियत को महसूस करते हुए इस गज़ल का आनंद उठाते है:

एक ऐसा घर चाहिए मुझको, जिसकी फ़ज़ा मस्ताना हो,
एक कोने में गज़ल की महफ़िल, एक कोने में मैखाना हो।

ऐसा घर जिसके दरवाज़े बंद न हों इंसानों पर,
शेखो-बरहमन, रिंदो-शराबी सबका आना जाना हो।

एक तख्ती अंगूर के पानी से लिखकर दर पर रख दो,
इस घर में वो आये जिसको सुबह तलक न जाना हो।

जो मैखार यहाँ आता है अपना महमां होता है,
वो बाज़ार में जाके पीले जिसको दाम चुकाना हो।

प्यासे हैं होठों से कहना कितना है आसान "ज़फ़र"
मुश्किल उस दम आती है जब आँखों से समझाना हो।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

मैं बहुत जल्दी ही घर लौट के आ जाऊँगा,
मेरी ____ यहाँ कुछ दिनों पहरा दे दे...


आपके विकल्प हैं -
a) बेज़ारी, b) परछाई, c) तन्हाई, d) बेकरारी

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -
पिछली महफिल का सही शब्द था "बच्चा" और शेर कुछ यूं था -

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है ...

बशीर बद्र साहब के इस शेर को सबसे पहले सही पहचाना "सीमा जी" ने। ये रहे आपके पेश किए हुए कुछ शेर:

ज़िन्दगी की पाठशाला में यहाँ पर उम्र भर
वृद्ध होकर भी हमेशा आदमी बच्चा रहा। (कमलेश भट्ट 'कमल' )

मेरी ख़्वाहिश है कि फिर से मैं फ़रिश्ता हो जाऊं
माँ से इस तरह लिपट जाऊं कि बच्चा हो जाऊं| (मुनव्वर राना ) ..वाह! क्या बात है!

पाल-पोसकर बड़ा किया था फिर भी इक दिन बिछड़ गए
ख़्वाबों को इक बच्चा समझा मैं भी कैसा पागल हूँ (देवमणि पांडेय )

घर में वो अपनी ज़िद्द से सताता किसे नहीं
ऐ दोस्त ज़िद्दी बच्चा रुलाता किसे नहीं (प्राण शर्मा )

सीमा जी के बाद महफ़िल में नज़र आए शामिख साहब। आपने भी कुछ मनोहारी शेर पेश किए। ये रही बानगी:

आओ बच्चो तुम्हें दिखाएं झाँकी हिंदुस्तान की
इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान की

घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाये

सुमित जी ने निदा फ़ाज़ली साहब का एक शेर महफ़िल के सुपूर्द किया:

बच्चो के छोटे हाथो को चाँद सितारे छूने दो,
चार किताबे पढ़कर वो भी हम जैसे हो जायेंगे।

मंजु जी और शन्नो जी भी अपने-अपने स्वरचित शेरों के साथ महफ़िल में तशरीफ़ लाईं। ये रहे इनके कहे हुए शेर(क्रम से):

बच्चा हूँ तो क्या,नहीं अक्ल से कच्चा,
आग -पानी सा हूँ सच्चा,इसलिए हूँ ईश्वर-सा।

एक बच्चे की तरह खाली झोली लेकर ही आते रहे
और एक कोने में दुबक तमाशाई बन हम बैठ जाते थे.

अंत में कुलदीप जी का हमारी महफ़िल में आना हुआ। आपने भी कुछ बेहतरीन शेर पेश किए:

दिल भी जिद पर अदा है किसी बच्चे की तरह
या तो सब कुछ ही इसे चाहिए या कुछ भी नहीं (राजेश रेड्डी)

गुडियों से खेलती हुई बच्ची की आंख में
आंसू भी आ गया तो समंदर लगा हमे (इफ्तिखार आरिफ)

मनु जी, क्या कहें आपको। छोड़िए..जाने दीजिए...कहने का कोई फ़ायदा नहीं।

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए विदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा



ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Wednesday, July 1, 2009

तुमको पिया दिल दिया कितने नाज़ से- कहा मंगेशकर बहनों ने दगाबाज़ से

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 128

काश की सुंदरता केवल चाँद और सूरज से ही नहीं है। इनके अलावा भी जो असंख्य सितारे हैं, जिनमें से कुछ उज्जवल हैं तो कुछ धुंधले, इन सभी को एक साथ लेकर ही आकाश की सुंदरता पूरी होती है। यही बात फ़िल्म संगीत के आकाश पर भी लागू होती है। भले ही कुछ फ़नकार बहुत ज़्यादा प्रसिद्ध हुए हों, फ़िल्म संगीत जगत पर छाये रहे हों, लेकिन इनके अलावा भी बहुत सारे गीतकार, संगीतकार और गायक-गायिकायें ऐसे भी थे जिनका इनके मुकाबले नाम ज़रा कम हुआ। लेकिन वही बात कि इन सभी को मिलाकर ही फ़िल्म संगीत सागर अनमोल मोतियों से समृद्ध हो सका है। इन कम चर्चित फ़नकारों के योगदान को अगर अलग कर दिया जाये, फ़िल्म संगीत के ख़ज़ाने से निकाल दिया जाये, तो शायद इस ख़ज़ाने की विविधता ख़त्म हो जायेगी, एकरसता का शिकार हो जायेगा फ़िल्म संगीत संसार। इसीलिए 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के ज़रिये समय समय पर 'हिंद-युग्म' सलाम करती है ऐसे कमचर्चित फ़नकारों को। आज का गीत भी एक कमचर्चित संगीतकार द्वारा स्वरबद्ध किया हुआ है, जिन्हें हम और आप जानते हैं जी. एस. कोहली के नाम से। कोहली साहब का पूरा नाम था गुरुशरण सिंह कोहली, और उपलब्ध जानकारी के अनुसार उनका जन्म पंजाब में सन 1928 में हुआ था। धर्म से वो सिख थे लेकिन दाढ़ी-मूँछ उन्होंने नहीं रखी। 1951 में ओ. पी. नय्यर की पहली ही फ़िल्म 'आसमान' से जी. एस. कोहली नय्यर साहब के सहायक बन गये थे, और आगे चलकर उनकी एक से एक 'हिट' फ़िल्मों में उन्होने नय्यर साहब को ऐसिस्ट किया। नय्यर साहब के बहुत से गीतों में कोहली साहब ने शानदार तबला भी बजाये। बतौर स्वतंत्र संगीतकार उनकी पहली फ़िल्म थी 'लम्बे हाथ' (1960)। अपने पूरे कैरीयर में उन्होंने कुछ 10-11 फ़िल्मों में संगीत दिया, लेकिन दो फ़िल्में जिनके संगीत की वजह से लोग उन्हें पहचानते हैं, वो दो फ़िल्में हैं- 'नमस्तेजी' और 'शिकारी', और आज इसी 'शिकारी' से एक सदाबहार नग़मा आप की ख़िदमत में हम लेकर आये हैं।

'शिकारी' 1963 की फ़िल्म थी। 'ईगल फ़िल्म्स' के बैनर तले एफ़. सी. मेहरा ने इस फ़िल्म का निर्माण किया था, कहानी सुरिंदर मेहरा की थी, पटकथा ब्रजेन्द्र गौड़ का, और निर्देशन मोहम्मद हुसैन का। अजीत और रागिनी अभिनीत इस छोटी फ़िल्म को आज अगर याद किया जाता है तो केवल इसके गानों की वजह से। इस फ़िल्म में चार गाने लिखे फ़ारूख़ क़ैसर ने और दो गानें क़मर जलालाबदी ने भी लिखे। इस फ़िल्म का जो सब से मशहूर गीत है वह है लता मंगेशकर और उषा मंगेशकर की आवाज़ों में। क़ैसर साहब के लिखे इस गीत का शुमार सर्वाधिक कामयाब 'फ़ीमेल डुएट्स' में होता है। "तुम को पिया दिल दिया कितने नाज़ से" गीत की कामयाबी का अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि इस गीत के बनने के 40 साल बाद, यानी कि हाल ही में इस गीत का रीमिक्स बना और वह भी ख़ूब चला। लेकिन अफ़्सोस की बात यह है कि इस गीत के मूल संगीतकार को न तो इसका कोई श्रेय मिल सका और न ही उस समय उन्हें किसी फ़िल्मकार ने बड़ी बजट की कोई फ़िल्म दी। हालाँकि इस गीत को परदे पर मैंने कभी देखा नहीं है, लेकिन गीत के बोलों को सुनकर गीत को सुनकर यह कोई मुजरा गीत जान पड़ता है। अगर मैं ग़लत हूँ तो ज़रूर संशोधन कर दीजियेगा। अब बस यह बताते हुए कि लता और उषा, इन दो बहनों ने एक साथ सब से पहले फ़िल्म 'आज़ाद' में गाया था। याद है न आप को वह "अपलम चपलम" वाला गीत! यह गीत भी आगे चलकर हम ज़रूर सुनवाने की कोशिश करेंगे, फ़िल्हाल सुनिये जी. एस कोहली और फ़ारूख़ क़ैसर की याद में फ़िल्म 'शिकारी' का यह दिलकश नग़मा।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा पहला "गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. गीत के गायक ने 'नवरंग' फिल्म में भी गाने गाये हैं।
2. इस गीत को आशा भोसले ने भी गाया है।
।3. गीत के बोल 1999 में आई फिल्म 'सरफरोश' की ग़ज़ल से मिलते-जुलते हैं।

पिछली पहेली का परिणाम-
कल भी काँटे की टक्कर रही। स्वप्न मंजूषा 2 मिनट आगे रहीं। बधाई। स्वप्न मंजूषा बहुत तेज़ी से शरद जी के 30 अंकों के करीब बढ़ रही हैं। आपके 24 अंक हो गये हैं। शरद जी, मंजू और मनु जी, इसी तरह से हमारी महफिल को गुलज़ार करते रहें। पराग जी, आपके उस आलेख का हमें भी इंतज़ार रहेगा।

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ