Tuesday, May 1, 2012

दर्शन कौर धनोय लायीं हैं रश्मि जी की महफ़िल में कुछ लाजवाब गीत

आज का दिन दर्शन कौर धनोय जी के नाम , जिसमें हैं उनकी पसंद के गीत हमारे बीच . चलिए देखते हैं वे क्या कहती हैं -



रश्मि जी नमस्कार ,
 मेरे पसंद के गीतों का तो समुंदर भरा पड़ा हैं --इनमें से  5 नायाब मोती निकलना बड़ा मुश्किल काम हैं  --- ये गीत मेरे जीवन की अनमोल पूंजी हैं -- मेरी सांसो में बसे हैं ये गीत --
१. तुम्हे याद करते -करते जाएगी उम्र सारी --तुम ले गए हो अपने संग नींद भी हमारी "--फिल्म --आम्रपाली !
"यह गीत मुझे उस व्यक्ति की याद दिलाता हैं जिसे मैनें खो दिया हैं --और जो मुझे इस जनम में कभी नहीं मिल सकता  ! उसके जाने से जो स्थान रिक्त हैं उसे कोई नहीं भर सकता !"
२."आपकी नजरों ने समझा --प्यार के काबिल मुझे --दिल की ये धडकन संभल जा मिल गई मंजिल मुझे --फिल्म ---अनपढ़  !
"यह गीत मुझे बेहद पसंद हैं --इसका संगीत,धुन,बोल, और लताजी की आवाज का जादू  --सब मिलाकर जादुई असर करते हैं --जब भी सुनती हूँ तो आँखें नम हो जाती हैं !"
३. "लग जा गले के फिर ये हंसी रात हो न हो --शायद  फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो "--फिल्म --वो कौन थी !
"इस गीत में स्वर्गीय मदन मोहन जी ने कमाल का संगीत दिया हैं --लताजी की जादुई आवाज ने कमाल किया हैं --कभी -कभी कुछ पल जिन्दगी की धरोहर होते हैं जो अमिट होते हैं--ये गीत भी कुछ ऐसा ही हैं !"
४."अगर मुझसे मुहब्बत हैं --मुझे सब अपने गम दे दो "-- फिल्म --आपकी  परछाईयाँ ! 
अपने प्यार को व्यक्त करती एक भावपूर्ण अभीव्यक्ति--औरत जिसको प्यार करती हैं उसपर दिलोजान से निछावर होती हैं --पूर्णतया समर्पित यह गीत मुझे बहुत पसंद हैं ...



५. "ऐ दिले नादा--आरजू क्या हैं --जुस्तजू क्या हैं" --फिल्म --रजिया सुल्ताना !
"दिल बड़ी अजीब शे हैं--कब किस पर आ जाए पता नहीं ? न तो ये उम्र के बंधन में बंधा हैं, न इस पर किसी का जौर चला हैं --यह तो जज्बातों में गुंथा हैं   --इस गीत में जो बैचेनी , जो तड़प हैं ,वो मुझे बेहद पसंद हैं !"

8 comments:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन गीत संगीत,

MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

दर्शन कौर धनोय said...

धन्यवाद रश्मिजी आपने मेरे दिल की आवाज जो गीतों के जरिए मैनें व्यक्त की हैं उन्हें सबसे बाटने में मेरी मदद की ....शुक्रियां

Er. सत्यम शिवम said...

waah darshan aunty...ye sare songs mere v fav hai...kya pasand hai.....sadabahar sunder geet....rashmi aunty aur aapke dwara aaj ki mahfil yaadgar ho gayi :)

प्रदीप मानोरिया said...

BAHUT LAZABAAB
COLLECTION

मुकेश कुमार सिन्हा said...

"lag ja gale, fir ye hansi raat ho na ho......:)" mujhe bhi ye gaana bahut pasand hai..!

waise Darshan jee aapki pasand ka jabab nahi... aur di ki behtareen peshkash... lajabab hai:)

सुनीता शानू said...

सारे गीत मेरी पसंद के। वाह मज़ा आ गया सुनकर।

Anita kumar said...

मेरे भी फ़ेवरेट गाने हैं ये

Unknown said...

bahut badhiya hai ek doosre ki pasand jaankar thoda mizaaz ka bhi pata chalta hai saathiyo ka. ab ye paancho gaane kab sunaaoge darshan ji

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ