Tuesday, April 24, 2012

सब कुछ सीख कर भी अनाड़ी रही रंजना भाटिया

रंजना भाटिया जी .... जब मैंने ब्लॉग पढ़ना शुरू किया तो यह मेरी पहली पसंद बनीं. जो सोचता है ख़ास, लिखता है ख़ास तो उसकी पसंद के गीत....होंगे ही न ख़ास. उनके शब्दों से सुनिए -

नमस्ते रश्मि जी ...गाने सुनना तो बहुत पसंद है और उस में से पांच गाने चुनना बहुत मुश्किल काम है ...पर कोशिश करती हूँ ....

अजीब दास्तां है ये
कहाँ शुरू कहाँ खतम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम
अजीब दास्तां...
फ़िल्म - दिल अपना और प्रीत पराई
गायिका - लता मंगेशकर
पसंद है इस लिए क्यों कि इस गीत में ज़िन्दगी कि सच्चाई है, एक ऐसी दास्तान जो ज़िन्दगी का सबसे बड़ा सच ब्यान करती है ...और ज़िन्दगी गुजर जाती है समझते समझाते ...

सब कुछ सीखा हमने ना सीखी होशियारी
सच है दुनियावालों कि हम हैं अनाड़ी

दुनिया ने कितना समझाया
कौन है अपना कौन पराया
फिर भी दिल की चोट छुपा कर
हमने आपका दिल बहलाया
खुद पे मर मिटने की ये ज़िद थी हमारी...
सच है दुनियावालों कि हम हैं अनाड़ी

सही में मैं अनाड़ी ही रही ..और दुनिया अपना काम कर गयी ..फिर भी आज तक कोई समझ नहीं पाया ...यह गाना खुद पर लिखा महसूस होता है इस लिए बहुत पसंद है

मेरा कुछ समान
तुम्हारे पास पड़ा है
हो सावन के कुछ भीगे भीगे दिन रखे हैं
और मेरे एक ख़त में लिपटी रात पडी है
वोह रात बुझे दो मेरा वोह सामान लौटा दो

इस गाने के बोल सहज है और बहुत अपने से लगते हैं इस लिए पसंद है


तेरे मेरे सपने अब एक रंग है ..
तू जहाँ भी ले जाए  साथी हम संग है


 
यह भी बहुत पसंद है
तुम को देखा तो यह ख्याल आया ..ज़िन्दगी धूप तुम घना साया ....



पसंद बहुत है गाने ,,गाने ज़िन्दगी का अर्थ बन जाते हैं, ज़िन्दगी की बात बन जाते हैं इस लिए दिल में उतर जाते हैं ...कोई गीत क्यों कितना पसंद है यह वक़्त पर तय है पर कई गाने जब भी सुने जाए तो वह पाने दिल की बात कहते लगे यह चुने गए गीत उन्ही गीतों में से कुछ है ...शुक्रिया
कुछ रंजना जी की कलम से
अमृता प्रीतम को याद करती रंजन भाटिया  

2 comments:

vandan gupta said...

सुन्दर गीत चयन

Suman Dubey said...

sundr giit mere bhi priy hai

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ